PM मोदी ने अनुपम खेर को दिया बड़ा तोहफा, बन गए यहाँ के प्रमुख

भाजपा के साथ तमाम मुद्दों पर साथ खड़े अभिनेता और नेता अनुपम खेर को समय-समय पर मोदी सरकार तो सम्मानित करती रही है। आपको बता दें की उन्हें 2004 में पद्मश्री और 2016 में पद्म भूषण का सम्मान से नवाजा गया था। लेकिन इस बार मोदी सरकार ने इन्हे कोई सम्मान नहीं दिया है बल्कि एक ऐसे संस्थान का प्रमुख बना दिया है जिसके चलते पिछले दिनों बहुत बड़ा बबल हुआ था। गौरतलब है की जिस संस्थान का प्रमुख इन्हे बनाया गया है वो पहले गजेंद्र चौहान के जिम्मे था और उनके कुछ कड़े फैसलों की बजह से जमकर बबाल हुआ था।

आपको बता दें की फिल्म एंड टीवी इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (FTII) पुणे के चेयरमैन गजेंद्र चौहान का कार्यकाल खत्म हो गया है और अब आज इस पद के लिए नए चेयरमैन के रूप में अभिनेता अनुपम खेर को चुना गया है जो लगातार भाजपा और मोदी के पक्षधर रहे है। इस पद के लिए अनुपम खेर के नाम की घोषणा होते ही विपक्ष ने इस इस बात के कयास लगाने शुरू कर दिए की ये प्रधानमंत्री मोदी ने अनुपम खेर को चाटुकारिता का इनाम दिया है।

गौरतलब है की पिछले साल जब गजेंद्र चौहान के नियुक्ति पर सवाल उठा था तो अनुपम खेर ने कहा था की “गजेंद्र चौहान के बारे में कोई व्यक्तिगत टिप्पणी नहीं करेंगे क्योंकि वह उन्हें व्यक्तिगत तौर पर नहीं जानते हैं।लेकिन अगर FTII जैसे संस्थान के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति के लिए जरूरी योग्यता की बात की जाए तो गजेंद्र निश्चय ही इस नियुक्ति के लिए योग्य उम्मीदवार नहीं माने जा सकते हैं ”

FTII के अध्यक्ष चुने जाने पर चंडीगढ़ से भाजपा सांसद अनुपम खेर की पत्नी किरण खेर ने ट्वीटर पर बधाई देते हुए कहा की “FTII चेरयरमैन बनने के लिए आपको बहु‍त-बहुत बधाई, मैं जानती हूं कि आप शानदार काम करेंगे।” आपको बता दें की अनुपम खेर एक्टर्स प्रिपेयर्स इंस्टीट्यूट के चेयरमैन भी है। अनुपम खेर मूल रूप से कश्मीरी है और वर्ष 1982 में फिल्म “आगमन” से बॉलीवुड में अपने अभिनय करियर की शुरुआत की।

पीएम मोदी और प्रधानमंत्री शिंजो आबे गुजरात में करेंगे रोड शो

नई दिल्ली। दो दिवसीय दौरे पर जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे 13 सितंबर को भारत आ रहे है। इस दौरान जापानी पीएम और पीएम मोदी गुजरात के अहमदाबाद में एक रोड शो करेंगे। बीजेपी के मुताबिक पीएम मोदी अहमदाबाद हवाई अड्डे से साबरमती आश्रम तक 8 किमी लंबा रोड शो करेंगे।

इसके बाद 14 सितंबर को दोनों नेता भारत में शुरू होने वाली बुलेट ट्रेन परियोजना का शिलान्यास करेंगे। इसी बीच दोनों दिग्गज नेता बाइलेटरल मीटिंग भी करेंगे। गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष जीतूभाई वाघानी के मुताबिक देश में पहली बार हमारे पीएम दूसरे देश के पीएम के साथ संयुक्त रूप से रोड शो करेंगे। पीएम शिंजो आबे 13 सितंबर को सीधे यहां पहुंचेंगे। ये अवसर और भी महत्वपूर्ण है क्योंकि भारत दौरे के पहले दिन वह राज्य के दौरे पर होंगे।

रोड शो के दौरान दोनों नेताओं का रास्ते में स्वागत किया जाएगा। साथ ही 28 राज्य के 28 अलग-अलग नर्तक पारंपरिक वेश भूषा में अपनी कला का प्रदर्शन करेंगे।

बता दें कि यह रोड शो साबरमती फ्रंट से भी गुजरेगा और फिर साबरमती आश्रम का दौरा करने के बाद दोनों नेता शाम तक आराम करेंगे। साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी 1917 से 1930 तक रहे थे। पटेल ने कहा कि, शाम के वक्त, दोनों नेता शहर के पूर्वी हिस्से में प्रतिष्ठित सिदी सैय्यद मस्जिद का भी दौरा करेंगे। मस्जिद दुनिया भर में पत्थर की जाली के काम के लिए जानी जाती है। देर रात दोनों नेता यहां के अगाशिए रेस्त्रां में डिनर करेंगे।

दिग्विजय की पीएम पर अभद्र टिप्पणी के लिए कांग्रेस क्षमा मांगे : भाजपा

नई दिल्ली। दिग्विजय की पीएम को लेकर सोशल मीडिया पर अभद्र टिप्पणी को लेकर भाजपा ने कहा कि ऐसी टिप्पणी देश के सवा सौ करोड़ देशवासियों का अपमान करना है। भाजपा के प्रवक्ता जी वी एल नरसिंह राव ने संवाददाताओं से कहा कि ऐसी टिप्पणी देश के सवा सौ करोड़ देशवासियों का अपमान है जिन्होंने मोदी को प्रधानमंत्री चुना है। सिंह की ऐसी टिप्पणियां दर्शाती हैं कि एक ऐसी पार्टी का कितना पतन हो चुका है जो अपनी समृद्ध विरासत पर गर्व करती है।

दिग्विजय सिंह ने ट्विटर पर किसी की बेहूदा टिप्पणी को रीट्वीट किया और कहा कि यह उनकी टिप्पणी नहीं है लेकिन वह इसे शेयर करने से खुद को रोक नहीं सकते। बाद में इस पर विवाद खड़ा होने पर उन्होंने अनेक ट्वीट किए और कहा कि उन्हें बिना मतलक में इस विवाद में घसीटा जा रहा है। उन्होंने इस टिप्पणी को अस्वीकार किया है और ऐसे शब्दों को खुद इस्तेमाल नहीं किया है।

भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेस से मांग की कि वह अपने अग्रणी नेता द्वारा अभद्र भाषा में की गयी टिप्पणी के लिये सार्वजनिक रूप से माफी मांगे। भाजपा प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन ने कहा कि कांग्रेस पार्टी और दिग्विजय सिंह ने सार्वजनिक जीवन में गरिमा के सभी मर्यादाओं को तोड़ दिया है।

‘नोटबंदी से किसानों को हुआ घाटा, देश के लिए ‘काला दिवस’ था 8 नवंबर’

नई दिल्ली। जनता दल (युनाइटेड) के पूर्व अध्यक्ष व राज्यसभा सदस्य शरद यादव ने पिछले साल आठ नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले को अपरिपक्व बताते हुए सोमवार को कहा कि वह यह बात पहले से कहते रहे हैं, भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की हालिया रिपोर्ट से भी यह सही साबित हुआ। यादव ने पत्रकारों से कहा कि, आरबीआई की ओर से जारी रिपोर्ट के बाद, मेरा नोटबंदी को लेकर दिया गया बयान सही साबित होता है, जो मैंने तब और
समय-समय पर दिया था। नोटबंदी से कुछ भी हासिल नहीं हुआ, जैसा सरकार ने इसे लागू करते समय अपना लक्ष्य बनाया था।

 

यादव ने सरकार पर नोटबंदी के नाम पर लोगों को धोखा देने और देशवासियों की कठिनाइयों को हल्के में लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि, 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को अमान्य किए जाने के सरकार के फैसले के बाद किसानों की आमदनी 50 से 60 प्रतिशत तक घट गई, क्योंकि उन्हें अपने अनाज औने-पौने दाम में बेचने पड़े।

यादव ने कहा कि, सरकार द्वारा लिया गया नोटबंदी का निर्णय अपरिपक्व, जल्दबाजी और जमीनी स्तर पर पड़ने वाले प्रभाव को जाने-समझे बिना लिया गया फैसला था। इस वजह से लोगों को कष्ट, अपमान सहना पड़ा। दुनिया के इतने बड़े लोकतांत्रिक सरकार के लिए ऐसा फैसला लेना मूर्खतापूर्ण था।

उन्होंने कहा कि, आठ नवंबर, 2016 देश के लिए ‘काला दिवस’ था। हमारी अर्थव्यवस्था का नोटबंदी के प्रभाव से उबरना अभी भी बाकी है। सरकार को इस बात का अहसास नहीं है कि हमारे ज्यादातर मजदूर असंगठित क्षेत्र में काम करते हैं और उनके साथ क्या हुआ होगा। सरकार के इस एक फैसले का तीन करोड़ दिहाड़ी मजदूरों की जिंदगी पर बुरा असर पड़ा।