नूडल्स और सॉफ्ट ड्रिंक के शौक ने इस बच्चें का किया ये हाल

फ़ास्ट फ़ूड खाने का किसको शौक नहीं है, बस कोई बहाना होना चाहिए। ये बात सबको पता है की फ़ास्ट फ़ूड हमारी सेहत के लिए कितना नुकसानदायक है। फिर भी हम उसको अवॉइड नहीं कर सकते है, क्योंकि हम उन चीज़ों को ज़्यादा अहमियत देते है जो हमें नुकसान पहुंचती है। ऐसे ही एक बच्चे के साथ हुआ.

जहां नूडल्स और कोला का ज्यादा सेवन करने से एक 10 साल के बच्चे का वजन 200 किलो हो गया। तेजी से वजन बढ़ने के कारण बच्चे की सर्जरी करानी पड़ी, हालांकि अन्य बच्चों के मुक़ाबले अभी भी उस बच्चे का वजन उम्र से कहीं ज्यादा है।

दरसल, इंडोनेशिया के रहने वाले 10 साल के आर्य मोसंत्री को खाने में नूडल्स, चावल और मछली ज्यादा पसंद थे। आर्य के माता-पिता पेशे से किसान हैं। उनका कहना है कि दिन भर खाते रहने के बावजूद आर्य मोसंत्री की भूख नहीं मिटती है। परिजन आर्य को डॉक्टर के पास ले गए, जहां डॉक्टर्स ने सलाह दी कि वो नूडल्स और मछ्ली, चावल का सेवन छोड़ दे। डॉक्टरों ने आर्य को कई स्वास्थ्य वर्धन दवाइयां दी, लेकिन फिर भी बच्चे के वजन में कोई बदलाव नहीं हुआ।

आखिर में डॉक्टरों ने आर्य मोसंत्री की सर्जरी की। सर्जरी के बाद भी आर्य का वजन 16 किलो ही कम हो सका। वहीं डॉक्टरों का दावा है कि सर्जरी कर आर्य के पेट का आकार करीब 85 फीसदी तक कम कर दिया गया है। आर्य की मां रकैया कहती हैं कि नाप के कपड़े नहीं मिलने की वजह से उनका बेटा स्कूल नहीं जा पा रहा है। वह घर के एक बाथटब में बैठा रहता है। उसके नाप के कपड़े भी नहीं हैं।

इस टमाटर की लंबाई जानकर आप भी रह जायेंगे हैरान

अब कद्दू की साइज के टमाटर भी आ चुके हैं जिसे काट-काट कर आप कई दिनों तक काम में ले सकते हैं। यूके और यूएस के शोधकर्ताओं ने मिलकर एक ऐसे टमाटर के बीज तैयार किये है जिनके पौधों पर 3 से 4 किलो तक वजनी टमाटर लगते हैं। 20 साल की कड़ी मेहनत के बाद इन बीजों को बनाने में कामयाबी हासिल की है।

दरअसल ब्रिटेन और अमेरिका की एक कंपनी जिन बीजों का तैयार करती है , उनके पौधों से आज तक का सबसे बड़ा टमाटर सामने आया है। इस टमाटर की लंबाई 10 इंच है और यह टमाटर साढे तीन किलो से भी ज्यादा वजन का है। यह टमाटर इतना बड़ा है कि इसे आप काट-काट कर रखते हुए कई दिनों तक काम में ले सकते है।

बता दें कि जिगनमोटो बीज से उगले वाले टमाटर के पौधे की लबांई करीब 6 फुट होती है और उसमें 1.5 से लेकर साढे तीन किलो तक के टमाटर लगते है। इसके एक पौधे के करीब 11 टमाटर लगते हैं। अपनी साइज और वजन के साथ यह दुनिया का सबसे बड़ा टमाटर भी घोषित हो चुका है। इसी कारण इस कंपनी ने इसके बीजों से खेती कर इससे बडा टमाटर उगाने वाले को 5 हजार पाउंड (46 हजार रूपए) का इनाम देने की घोषणा भी की है।

इस आठ फीट सांप का क्यों हुआ सीटी स्कैन

सोशल डेस्क। वैसे आपने अब तक इंसानों का सीटी स्कैन देखा होगा, लेकिन आपने किसी अन्य जीव का सीटी स्कैन नहीं देखा होगा। लेकिन हम आपको एक ऐसी खबर बताने जा रहे है, जिस पर यकिन नहीं किया जा सकता है, लेकिन यह हुआ है, खबर के मुताबिक सीटी स्कैन एक अजगर सांप किया है, यह सांप करीबन आठ फिट का है। आपको बता दें कि यह खबर ओडिशा के भुवनेश्वर से 130 किलोमीटर दूर स्थित आनंदपुर से है।

आपको बता दें कि सांप का सीटी स्कैन सिर में लगी चोट का पता लगाने के लिए किया गया है। वन विभाग के कर्मचारियों ने इस सांप को 4 दिन पहले भुवनेश्वर से 130 किलोमीटर दूर आनंदपुर बरामद किया था। सांप बहुत ही गंभीर हालत में था।

वन विभाग की टीम ने अजगर को गंभीर हालत में देख कर स्नेक हेल्पलाइन को सौंप दिया था । इसके बाद इस सांप को ओडिशा यूनिवर्सिटी ऑफ ऐग्रिकल्चर एंड टेक्नॉलजी में लाया गया स्नेक हेल्पलाइन के मलिक शुभेंदु ने कहा कि कई मेडिकल विशेषज्ञों से सलाह लेने के बाद अजगर के चोट का पता लगाने के लिए सीटी स्कैन का सहारा लिया गया। जिससे सांप की अंदरूनी चोटों का पता चला है। अब सांप की हालत मे सुधार नजर आ रहा है।

पाक ने फिर तोड़ा सीजफायर, रिहाइशी इलाकों को बनाया निशाना

जम्मू। पाकिस्तानी रेंजर्स ने जम्मू के अरनिया सेक्टर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सीजफायर का उल्लंघन किया है, वहीं बीएसएफ के जवानों ने बताया कि आईबी पर पाकिस्तानी रेंजर्स की तरफ से पहले गोलीबारी हुई थी।

दरअसल आपको बता दें कि, पिछले दो दिन की खामोशी के बाद पाकिस्तानी सैनिकों ने आईबी सीजफायर का उल्लंघन करते हुए भारी गोलीबारी की है। वहीं इस मामले में पुलिस की मानें तो “पाकिस्तानी सैनिकों ने अरनिया उपक्षेत्र में भारतीय चौकियों पर 81 एमएम के मोर्टार दागे हैं व स्वचालित और छोटे हथियारों से भी चौकियों पर निशाना साधा है। वहीं बीएसएफ के जवान भी इस गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं।

वहीं इस गोलीबारी में एक स्थानीय नागरिक व एक बीएसएफ जवान शहीद हो गया। इस हमले से स्थानीय लोगों में दहशत का माहौल है और प्रशासन ने आस-पास के क्षेत्रों के स्कूलों को बंद कर दिया है ।

इस चिडिय़ाघर के जानवरों ने भी मनाया श्राद्ध, किया सिर्फ शाकाहारी भोजन

इंदौर। मध्यप्रदेश के इंदौर शहर स्थित कमला नेहरू चिडिय़ाघर में मंगलवार को एक अनोखा नजारा देखने को मिला। मंगलवार को यहां के सभी जानवरों ने भी श्राद्ध मनाया और मांस ना खाकर सिर्फ शाकाहारी भोजन खाया। जानकारी के अनुसार मंगलवार को सर्व पितृमोक्ष अमावस्या पर एक स्थानीय संस्था ने अनूठी पहल करते हुए वन्य प्राणियों को भोजन कराया। चिडिय़ाघर प्रभारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि सामाजिक संस्था करुणा सागर और एक स्थानीय संत ने प्राणी संग्रहालय के प्राणियों को भोजन कराने की अनुमति चाही थी।

इस पर पशु चिकित्सकों के दल ने प्राणियों के अनुकूल शाकाहारी भोजन तैयार करने के संबंध में निर्देश जारी किए थे। उसके अनुसार भोजन तैयार कर मंगलवार को सभी जानवरों को एक साथ परोसा गया। यादव ने बताया कि ऐसे आयोजन से पशु-प्रेमियों के साथ आमजन में प्राणियों के प्रति स्नेह बढ़ता है।

उन्होंने कहा कि ऐसे आयोजन निश्चित ही एक सकारात्मक माहौल तैयार करते हैं। इससे प्राणियों के स्वाभाव को समझने में आमजन को सहायता मिलती है। आयोजक लक्षमण दास महाराज ने बताया कि सनातन धर्म में सर्व पितृमोक्ष अमावस्या पर भूले बिछड़े पुरखों को, पितरों को तर्पण के माध्यम से भोग अर्पित किया जाता है।

उन्होंने बताया कि परोक्ष रूप से इस प्रकार हम प्रकृति को ही भोजन अथवा अन्य खाद्य सामग्री अर्पित करते हैं, जिसके फलस्वरूप वन्य प्राणियों को भोजन कराया गया। समूचे चिडिय़ाघर में लंगर की तरह आयोजित आयोजन देखते ही बनता था। इस मनोरम दृश्य को देखने के लिए बड़ी संख्या में पशु प्रेमी भी एकत्रित हुए।