मध्यप्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश का दौर शुरू

मध्यप्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश का दौर शुरू हो गया है। खरगोन जिले सहित आस-पास के इलाकों में देर रात से मूसलाधार बारिश हो रही है। जिससे कुंदा और उसकी सहायक नदियां उफान पर आ गई हैं। बारिश से कुंदा नदी के पास बने प्राचीन किले की दीवार भी ढह गई है। उधर रीवा में भी 48 घंटों से बारिश जारी है। यहां नेहरू नगर, बिछिया, दुआरी और निपानिया इलाके में लोगों का बुरा हाल है। तेज बारिश से कई घरों के अंदर पानी भर गया है।
खरगोन में कुंदा नदी का पानी कई जगहों पर पुल के ऊपर से बह रहा है, जिससे आवागनम ठप हो गया और दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई है। खंडवा-बड़ौदा स्टेट हाइवे पर दीवाली और बंधानी नदी की पुलियाओं पर पानी होने से आवागमन रुक गया था। यहां जाम में एक एंबुलेंस भी फंस गई। करीब 4 घंटे बाद नौ बजे पुलिया पर पानी कम हुआ, जिसके बाद वाहनों का आवागमन शुरू हो सका।
मौसम विज्ञानियों ने अगले 24 घंटों के दौरान कटनी, रीवा, दमोह, छतरपुर, उमरिया, सतना, सागर, विदिशा, रायसेन, नरसिंहपुर और में भारी वर्षा की चेतावनी दी है। साथ ही पश्चिमी मप्र में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है।
मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक अगले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के पश्चिमी हिस्से में भी जोरदार बौछारें पड़ने की संभावना है। दरअसल, दक्षिण-पूर्व उत्तरप्रदेश और उत्तर-पूर्वी मप्र पर एक शक्तिशाली लो-प्रेशर क्षेत्र बना है,जो पूर्वी मप्र पर सक्रिय है।
इसका मूवमेंट धीरे-धीरे पश्चिमी मप्र की तरफ हो रहा है। इसके असर से पूरे प्रदेश में अगले 24 घंटे के दौरान तेज बौछारों का सिलसिला शुरू होने के आसार बढ़ गए हैं।

क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और विराट कोहली के बाद सम्मान पाने वाले शख्स बने शमिंदर

खेल के मैदान में खिलाड़ियों का हुनर तो हर कोई देखता है, लेकिन कई ऐसी प्रतिभाएं भी होती हैं जो मैदान के बाहर बैठकर भी लोगों का दिल जीत लेती हैं। ऐसी ही एक प्रतिभा हैं पंजाब के फगवाड़ा जिले के गांव धानोकी के शमिंदर सिंह, जिन्होंने 12000 टूथपिक्स से विम्बल्डन के सेंटर कोर्ट का हूबहू मॉडल तैयार किया है।
जब विम्बल्डन के आयोजकों ने यह देखा तो वे भी अभिभूत हुए बिना नहीं रह सके। उन्होंने 15 जुलाई को सेंटर कोर्ट पर खेले जाने वाला महिला फाइनल मैच देखने के लिए शमिंदर को खास न्योता दिया। इससे पहले सिर्फ क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर और विराट कोहली को ही आयोजकों ने मेहमान के तौर पर बुलाया था। शमिंदर यह सम्मान पाने वाले पहले गैर खिलाड़ी भारतीय हैं।
31 वर्षीय शमिंदर को यह मॉडल तैयार करने में करीब दस माह का समय लगा। उन्होंने इस पर पिछले साल सितंबर में काम शुरू किया था और यह तीन जुलाई को बनकर तैयार हुआ। इस स्टेडियम का डिजाइन बहुत अनोखा है। फेमस टेनिस कोर्ट के इस मॉडल में खुलने और बंद होने वाली छत, बाल्कनी, सीढ़ियां और सबसे अहम रॉयल बॉक्स भी है। पेशे से ट्रक ड्राइवर शमिंदर का टूथपिक से मॉडल तैयार करना जुनून बन गया है।
उन्होंने लंदन से फोन पर बताया कि मैंने दस माह पहले इस पर काम शुरू किया था। हर हफ्ते, 40 घंटे इस पर काम किया। मैं कुछ अलग बनाना चाहता था, कुछ खास। वह इसे बच्चों की मदद के लिए नीलाम करना चाहते हैं। नीलामी से जो भी रकम मिलेगी उसे यूनिसेफ के सेव चिल्ड्रेन में दान करूंगा।
ओल्ड ट्रैफर्ड स्टेडियम का मॉडल भी बना चुके हैं : शमिंदर इससे पहले ओल्ड ट्रैफर्ड और मैनचेस्टर फुटबॉल स्टेडियम का भी मॉडल बना चुके हैं, जो टूथपिक से बनाया गया दुनिया का सबसे छोटा मॉडल है। मैनचेस्टर फुटबॉल स्टेडियम के लिए नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज है।

पेंसिल से बना राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का एक चित्र 27,04,148 रुपये में नीलाम हुआ

पेंसिल से बना राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का एक चित्र अपनी अनुमानित कीमत से करीब चार गुना अधिक 32,500 पाउंड (करीब 27,04,148 रुपये) में नीलाम हुआ है। यह चित्र गांधीजी के जीवन काल में 1931 में बनाया गया था।
इस फोटो में गांधीजी को फर्श पर बैठकर तल्लीनता से कुछ लिखते दिखाया गया है। चित्र के नीचे लिखा है, ‘सत्य ही ईश्वर है/ एमके गांधी/ 4.12.31’। माना जा रहा था कि यह चित्र 6.72 लाख से 10.09 लाख रुपये के बीच नीलाम हो सकता है। चित्र को तब बनाया गया था, जब गांधीजी लंदन में गोलमेज सम्मेलन में भाग लेने आए थे। इसे चित्रकार जॉन हैनरी एम्शवित्ज ने बनाया था।
मंगलवार को यहां सूथबे नीलामीघर में इस चित्र के अलावा गांधीजी के हस्त-लिखित पत्रों के संग्रह की भी नीलामी हुई। ये पत्र उन्होंने सुभाष चंद्र बोस के बड़े भाई और स्वतंत्रता संग्राम सेनानी शरत चंद्र बोस के परिवार को लिखे थे। इनमें से एक पत्र गांधीजी ने अपनी हत्या के महीने भर पहले लिखा था, जिसमें उन्होंने बंगाल विभाजन पर टिप्पणी की है। ये पत्र 37,500 पाउंड (करीब 31 लाख रुपये) में बिके, जबकि इनके 10.09 लाख से 15.14 लाख रुपये में नीलाम होने की उम्मीद थी।
नीलामी घर की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘गांधीजी आमतौर पर तस्वीरें खिंचवाने के लिए बैठने से इन्कार कर देते थे। ऐसे में इस राजनेता का काम करते समय बनाया गया यह चित्र अनोखा है।’

जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ तीन हिजबुल आतंकियों को मार गिराया

जम्मू-कश्मीर के बड़गाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ हुई है। इस मुठभेड़ में सेना ने तीन हिजबुल आतंकियों को मार गिराया है। इन आतंकियों में से दो की पहचान दाऊद और जावेद शेख के रूप में हुई है। यह मुठभेड़ बडगाम के रडबुग में हुई है। खबरों के अनुसार इन आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार बरामद हुए हैं साथ ही जिस घर में आतंकी छिपे थे वो पूरी तरह से बर्बाद हो चुका है।
फिलहाल सेना का सर्च ऑपरेशन जारी है। दोनों तरफ से रुक-रुक कर गोलीबारी हो रही है। एहतियात के तौर पर प्रशासन ने बड़गाम में इंटरनेट सेवाओं को भी बंद कर दिया। संबंधित अधिकारियों ने हालांकि आतंकियों की संख्या की पुष्टि नहीं की है।
बताया जा रहा है कि शाम साढ़े सात बजे बडगाम जिले में मागाम के पास मक्हामा रडबुग में तीन आतंकियों के छिपे होने की सूचना मिलते ही एसओजी श्रीनगर, एसओजी बडगाम और सेना की 2 आरआर के जवानों के संयुक्त कार्यदल ने उन्हें जिंदा अथवा मुर्दा पकड़ने के लिए तलाशी अभियान चलाया।
रात साढ़े आठ बजे सुरक्षाबलों घेराबंदी करते हुए जैसे ही आतंकियों के ठिकाने की तरफ बढ़ना चाहा, स्थानीय लोगों ने पथराव शुरू कर दिया, लेकिन सुरक्षाबलों ने घेराबंदी नहीं हटाई और पथराव कर रही भीड़ पर जल्द ही काबू पा लिया। रात दस बजे आतंकियों की तरफ से पहली गोली चली। जवानों ने भी अपनी पोजीशन ली और जवाबी फायर किया। सुरक्षाबलों ने आतंकियों के भागने के सभी रास्ते बंद करने व उन्हें मार गिराने का अभियान जारी रखा हुआ था।

मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन ने की एक नई पहल चीनी माल खरीदने से गुरेज की अपील

डोकलाम में चीन से चल रहे विवाद के बीच मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन ने एक नई पहल की है। चीन की हठधर्मिता का जवाब देने के लिए छात्रों से अपील की जा रही है कि वह चीनी माल खरीदने से गुरेज करें। एसोसिएशन का कहना है कि अपने नेताओं के हाथ मजबूत करने के लिए ऐसा किया जा रहा है।
मुंबई स्कूल प्रिंसिपल एसोसिएशन के अधिकार क्षेत्र में तकरीबन 15 सौ स्कूल हैं। छात्रों को 1962 के भारत-चीन युद्ध का इतिहास पढ़ाया जा रहा है। शिक्षक उन्हें बता रहे हैं कि कैसे चीन ने पीठ में छुरा मारकर हमारी जमीन हथिया ली। फिर उनसे अपील की जा रही है कि वह अपने परिवार को भी इस बारे में जागरूक करें और चीनी सामान खरीदने से गुरेज करें। इस बाबत ड्राफ्ट तैयार कर लिया गया है। इसे और प्रभावी बनाने के लिए एसोसिएशन अपनी बैठक में विचार करेगी। सर्वसम्मति से यह पारित हो जाएगा तो कुछ और भी प्रावधान इस दिशा में किए जा सकते हैं।
फिलहाल उद्देश्य मुंबई महानगर के सभी विद्यार्थियों को जागरूक करना है। हालांकि एसोसिएशन केवल अपील कर रही है। छात्रों के लिए ऐसी कोई अनिवार्यता घोषित नहीं की गई है। एसोसिएशन के सचिव प्रशांत रेडिज का कहना है कि कानूनी बाध्यता व अंतरराष्ट्रीय व्यापार समझौते को ध्यान में रखते हुए वह केवल अपील कर रहे हैं। छात्रों को जागरूक करके बताने की कोशिश है कि चीनी माल का बहिष्कार करने से भारत के हाथ मजबूत होंगे। उनका कहना है कि बच्चे कल देश के नागरिक बनेंगे, उन्हें पता होना चाहिए कि चीन किस तरह का खतरा है।

असम में लगातार जारी बारिश के चलते बाढ़ के हालात

मानसून के चलते असम में लगातार जारी बारिश के चलते बाढ़ के हालात पैदा हो गए हैं। आलम यह है कि असम का मशहूर काजीरंगा नेशनल पार्क भी इसकी चपेट में आ चुका है जिसके बाद यहां वन्य जीवों खासकर एक सींग वाले गेंडे के अस्तीत्व पर खतरा मंडराने लगा है।
असम में बारिश और बाढ़ के चलते अब तक 27 लोग मारे जा चुके हैं। काजीरंगा नेशनल पार्क का आधे से ज्यादा हिस्सा पानी में डूब गया है। कई जानवर जान बचाकर भाग रहे हैं और पास के कार्बी एंगलोंग जिले के पहाड़ी क्षेत्र में शरण ले रहे हैं।
ड्रोन से निगरानी पार्क के निदेशक सत्येंद्र प्रसाद सिंह के मुताबिक, गेंडों की निगरानी और सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए दो ड्रोन लगाए गए हैं। ये 2,000 फीट की ऊंचाई तक उ़़डकर पांच किमी के दायरे में चित्र ले सकते हैं। मालूम हो, काजीरंगा नेशनल पार्क असम के गुलाघाट और नागान जिलों में फैला है।
दुनिया के दो तिहाई एक सींग वाले गेंडे यहीं रहते हैं। असम में इतना नुकसान करीब 1100 गांव पानी में डूबे हुए हैं। 18 हजार लोग 181 राहत शिविरों में शरण लिए हुए हैं। 41 हजार हेक्टेयर की खेती तबाह हो चुकी है। दो लाख मवेशियों के साथ बड़े पैमाने पर मुर्गी पालन पर असर प़़डा है। यहां के लिए अलर्ट राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) ने अलर्ट जारी कर कहा है कि असम, सिक्किम, मेघालय, नगालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा में और भारी बारिश हो सकती है। ब्रह्मपुत्र नदी डिब्रूग़़ढ, निमातिघाट, बरौली और खुशियारा में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।
घाघरा, शारदा उफान पर उप्र के कई क्षेत्रों में भारी वर्षा हो रही है।राज्य की घाघरा, शारदा समेत कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार शारदा नदी शारदानगर (खेरी) में खतरे के निशान से ऊपर व पल्लियां कलां में लाल निशान पर बह रही है। जबकि घाघरा बाराबंकी के एल्गिन ब्रिज, अयोध्या व बलिया में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। अन्य नदियां फतेहगड़ व गुमतिया, इलाहाबाद, मिर्जापुर व बलिया में तथा यमुना इटावा, नैनी में, गोमती लखनऊ, सीतापुर व जौनपुर में उफान पर हैं।
कई हिस्सों में भूस्खलन राज्य के मंडी और कांग़़डा में बारिश के कारण सोमवार को भूस्खलन हुआ। मौसम विभाग ने कांगड़ा, मंडी, सिरमौर, शिमला, सोलन और बिलासपुर में अगले दो दिन तक भारी बारिश की चेतावनी दी है।
जारी रहेगी बारिश बारिश से राज्य के पटना, भागलपुर, गया, मुजफ्फरपुर, पूर्णिया, सुपौल आदि जगह तरबतर हैं। मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों तक बारिश की चेतावनी दी है। स्काईमेट के मुताबिक, पश्चिम बंगाल से बिहार और उप्र तक कम दबाव का क्षेत्र बना हुआ है। इसी से इन क्षेत्रों में लगातार बारिश हो रही है।

10 दिन पहले कीटनाशक पीने वाले किसान की इलाज के दौरान मौत

कथित रूप से कर्ज से परेशान होकर करीब 10 दिन पहले कीटनाशक पीने वाले किसान की इलाज के दौरान मौत हो गई है। मिली जानकारी के मुताबिक खरगोन जिले के अजनगांव में किसान तकेसिंह पिता तोताराम पिपलिया करीब आठ दिन पहले जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास किया था।
तकेसिंह को गंभीर हालत में अस्पतालम में भर्ती किया गया था, जहां उसका बीते कुछ दिनों से इलाज चल रहा था। मंगलवार-बुधवार के दरमियानी रात उसकी हालत बिगड़ने से मौत हो गई।
किसान के परिवार वालों का कहना है कि खेत में लगी मिर्च की फसल खराब हो गई थी। इसके अलावा 10 लाख रुपए के कर्ज से परेशान होकर उसने आत्महत्या कर ली। वहीं आधिकारिक रूप से अभी तक कर्ज की पुष्टि नहीं हुई है।

भारत एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में पहली बार पदक तालिका में पहले स्थान पर

भारत रविवार को इतिहास रचते हुए एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में चीन को पीछे छोड़ते हुए पहली बार पदक तालिका में पहले स्थान पर रहा।
भारत ने अपना दबदबा बनाकर रविवार को यहां पांच स्वर्ण, एक रजत और तीन कांस्य पदक जीते और इस तरह से पदक तालिका में शीर्ष रहकर इतिहास रचा तथा चीन को दूसरे स्थान पर खिसका दिया। भारत इस तरह से कुल 29 पदकों (12 स्वर्ण, पांच रजत और 12 कांस्य) के साथ वह शीर्ष पर रहा। भारत का इससे पहले एशियन चैंपियनशिप में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1985 में जकार्ता में 22 पदक (दस स्वर्ण, पांच रजत और सात कांस्य) था। चीन आठ स्वर्ण, सात रजत और पांच कांस्य पदक लेकर दूसरे स्थान पर रहा। उसने रविवार को तीन स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीता।
हरियाणा के नीरज चोपड़ा ने रविवार को जेवलिन थ्रो में स्वर्ण पदक जीतकर चैंपियनशिप को अपने लिए यादगार बना दिया। पानीपत जिले के खंडरा गांव के 20 वर्षीय नीरज ने 85.23 मीटर की दूरी तक भाला फेंककर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सीनियर वर्ग में पहला स्वर्ण पदक जीता। भारत के देवेंद्र सिंह (83.29 मी.) इस स्पर्धा में तीसरे स्थान पर रहे। नीरज ने पिछले हफ्ते पेरिस में हुई डायमंड लीग में सीनियर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदार्पण किया था, जहां वह पांचवें स्थान पर रहे थे। नीरज पिछले साल पोलैंड में जूनियर विश्व चैंपियनशिप में रिकॉर्ड के साथ स्वर्ण पदक जीतकर सुर्खियों में आए थे।
अर्चना से छिना स्वर्ण पदक: भारत को हालांकि आखिरी दिन एक झटका भी लगा जब अर्चना अधव से श्रीलंका की निमाली वालिवर्षा कोंडा के विरोध के बाद महिलाओं की 800 मीटर दौड़ का स्वर्ण पदक छीन लिया गया और श्रीलंकाई एथलीट को चैंपियन घोषित कर दिया गया। पुणो की 22 वर्षीय अर्चना ने दो मिनट, 02 सेकंड में दौड़ पूरी करके 800 मीटर का स्वर्ण पदक जीता था, लेकिन निमाली ने बाद में विरोध दर्ज कराया कि भारतीय एथलीट ने फिनिश लाइन पर उन्हें पीछे से धक्का दिया था। इसके बाद अर्चना को अयोग्य घोषित कर दिया गया और दो मिनट, 05.23 सेकंड में दौड़ पूरी करने वाली निमाली को स्वर्ण पदक दे दिया गया। रजत श्रीलंका की ही गयंतिका अबेयरत्ने (2:05.27) को और कांस्य पदक जापान की फूमिका ओमारी (2:06.50) को मिला।
स्वप्ना ने खोला स्वर्ण का खाता: इसके बावजूद कलिंग स्टेडियम में भारतीय एथलीटों का दबदबा रहा। हेप्टाथलन में स्वप्ना बर्मन ने भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया। बर्मन सातवीं और अंतिम स्पर्धा (800 मीटर) में चौथे स्थान पर आने के बावजूद स्वर्ण पदक जीतने में सफल रहीं। उनके पास खिताब जीतने के लिए पर्याप्त अंक थे। बंगाल की इस 20 वर्षीय एथलीट ने सात स्पर्धाओं में कुल 5942 अंक बनाए। वह 800 मीटर की दौड़ पूरी करने के तुरंत बाद गिर गयीं और उन्हें तुरंत चिकित्सा मुहैया करायी गयी। जापान की मेग हेंपिल 5883 अंक लेकर दूसरे और पूर्णिमा हेम्ब्रम 5798 अंक के साथ तीसरे स्थान पर रहीं।
लक्ष्मणन का गोल्डन डबल: पुरुषों की दस मीटर दौड़ में गोविंदन लक्ष्मणन (29 मिनट, 55.87 सेकंड) ने स्वर्ण पदक जीतकर गोल्डन डबल पूरा किया। भारत के लिए गोपी थोंकनाल (29 मिनट, 29.89 सेकंड) ने रजत पदक पर कब्जा किया। लक्ष्मणन ने पहले दिन पांच हजार मीटर दौड़ में भी पीला तमगा जीता था। जिनसन जॉनसन ने पुरुषों की 800 मी. दौड़ में एक मिनट, 50.07 सेकंड का समय निकाला और तीसरे स्थान पर रहे।
रिले टीमों ने भी दिखाया दम: इसके बाद महिलाओं की चार गुणा चार सौ मीटर रिले टीम (निर्मला श्योराण, एम पूवम्मा, जिस्ना मैथ्यू और देबाश्री मजूमदार) ने 3:31.34 सेकंड के साथ पहला स्थान हासिल कर देश को चौथा, जबकि पुरुषों ने इसी स्पर्धा में पीला तमगा जीतकर पांचवां स्वर्ण दिलाया। कुन्हू मुहम्मद, मुहम्मद अनस, राजीव अरोकिया और अमोज जैकब की पुरुष टीम ने तीन मिनट, 2.92 सेकेंड का समय निकाला।

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने दिया बड़ा बयान

इराकी सेना द्वारा मोसुल को आतंकी संगठन आईएस से मुक्त करवाए जाने के बाद अब दुनियाभर से इसे लेकर प्रतिक्रियाएं आ रहीं हैं। ताजा मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसे लेकर एक बड़ा बयान दिया है। डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा है कि मोसुल में आईएस पर इराक की जीत इस बात का संकेत है कि क्षेत्र में आतंकी संगठन के दिन गिन-चुन के रह गए हैं। यानि उनका खात्‍मा बेहद नजदीक है।
ट्रंप ने इस जीत के लिए इराक के प्रधानमंत्री हैदर अल-अबादी, सुरक्षा बलों और सभी नागरिकों को बधाई दी। आइएस के कब्‍जे से मोसुल को आजाद कराने के लिए अमेरिका व वैश्विक गठबंधन द्वारा समर्थित इराकी सुरक्षा बलों की सराहना करते हुए उन्‍होंने कहा कि पिछले छह महीनों में आईएस के खिलाफ जबरदस्‍त प्रगति देखने को मिली है, जो कि सबसे बड़ा खतरा बन चुका था।
ट्रंप ने यह भी कहा कि हमें आईएस द्वारा क्रूर तरीके से मौत के घाट उतार दिए गए हजारों इराकियों और आतंकी संगठन द्वारा प्रताड़ित किए गए लोगों के लिए बेहद खेद है। वहीं ट्रंप ने आगे यह भी कहा कि अमेरिका और वैश्विक गठबंधन गर्व के साथ इराकी सुरक्षा बलों और उन लोगों के साथ खड़ा है जिन्‍होंने यह आजादी दिलवाई।

सुषमा स्वराज देश की सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज देश की सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक हैं। दुनिया में कहीं भी भारतीयों को प्रभावित करने वाले कोई आपदा हो, तो वह सक्रिय हो जाती हैं और आम लोगों की मदद के लिए भी वह हमेशा आगे रहती हैं। उन्होंने खुद को सही मायने में राजनेता के रूप में स्थापित किया है।
वह ट्विटर पर की जाने वाली अपनी खिंचाई (ट्रॉलिंग) का जवाब भी बड़े ही हास्यास्पद तरीके से देती हैं। सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल भी काफी मजाकिया हैं और वह भी ट्विटर पर काफी लोकप्रिय हैं। मिजोरम के पूर्व गवर्नर स्वराज से किसी व्यक्ति ने ट्विटर पर पूछा कि उनकी पत्नी कितना कमाती हैं।
पूरी तरह से अप्रासंगिक सवाल की अनदेखी करने की जगह उन्होंने बड़े ही सहज तरीके से लिखा, देखो-मेरी उमर और मैडम की तनख्वाह नहीं पूछते हैं। यह बैड मैनर (खराब बात) है।
स्वराज कौशल यहीं पर नहीं रुके, उन्होंने इस अजीब सवाल के जवाब में एक और दिल को खुश करने वाली प्रतिक्रिया दी। उन्होंने लिखा- अरे चंदा लेना हो तो सीधा मांग लो, तनख्वाह क्यूं पूछते हो।
यह अकेली घटना नहीं है, जिसमें पूर्व राज्यपाल ने हास्य के साथ ट्विटर के सवालों का जवाब दिया हो। इससे पहले किसी ने पूछा था कि उनसे मिलने का कोई रास्ता बताएं। इसका भी कौशल ने मजेदार जवाब दिया था। उन्होंने लिखा- जैसे ही पुलिस आपको बुलाए, मुझसे संपर्क करें। मैं एक वकील हूं।
स्वराज कौशल ट्विटर पर काफी सक्रिय रहते हैं। और अक्सर लोगों के सवालों के मजाकिया जवाब देते हैं। इससे पहले किसी ने पूछा कि वह ट्विटर पर सुषमा स्वराज को फॉलो करते हैं, जबकि सुषमा स्वराज उन्हें फॉलो नहीं करती हैं। क्या मैं पूरे सम्मान के साथ पूछ सकता हूं कि ऐसा क्यों?
इसका जवाब भी कौशल ने दिया और लिखा- मैं बीते 45 सालों से सुषमा को फॉलो कर रहा हूं और अब चीजें नहीं बदल सकता हूं।