इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने दोनों देशों की दोस्ती को स्वर्ग में बनी जोड़ी बताते हुए कहा

भारत यात्रा पर आए इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने दोनों देशों की दोस्ती को स्वर्ग में बनी जोड़ी बताते हुए कहा कि यह मानवता के प्रति प्यार, लोकतंत्र और आजादी के साझे मूल्यों पर टिकी हुई है। नेतन्याहू के मुताबिक, खस्ताहाल अर्थव्यवस्था मिलने के बाद जिस तरह इजरायल में उन्होंने भारी बदलाव किया, उसी तरह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी काम कर रहे हैं। वे योजना बनाकर काम करते हैं और नई खोज का महत्व समझते हैं।
गुरुवार को भारत-इजरायल व्यापार सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ उनकी गहरी व्यक्तिगत दोस्ती है। उन्होंने कहा कि बहुत ज्यादा नियम-कानून होने से प्रतिस्पर्द्धा में बाधा आती है। निजी क्षेत्र को बढ़ावा देने से विकास को तत्काल गति मिलती है। इससे पहले नेतन्याहू ताज होटल में सुबह के नाश्ते पर कॉरपोरेट दिग्गजों से मिले। उद्योगपतियों से अनुसंधान कार्यों की तरफ ध्यान देने का अनुरोध करते हुए उन्होंने कहा कि आने वाला समय उनका है, जो नई खोज करेंगे। उन्होंने कहा कि भारतीय और इजरायली उद्योगपतियों का आपस में मिलते रहना बहुत जरूरी है, क्योंकि मिलकर आप लोग बहुत कुछ हासिल कर सकते हैं। दोनों देशों की साझेदारी आश्चर्यजनक नतीजे दे रही है।
नेतन्याहू ने कहा कि नई खोज खुद-ब-खुद नहीं हो जाती है, बल्कि इसके लिए माहौल बनाना पड़ता है। इसे प्रोत्साहित करना पड़ता है। आदि पिरामल, राहुल बजाज, आदि गोदरेज, हर्ष गोयनका, आनंद महिद्रा और अशोक हिदुजा जैसे उद्योगपति इस मौके पर मौजूद थे।
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने अपने देश में तकनीकी दक्षता का श्रेय वहां की अनिवार्य सैनिक सेवा को दिया है। भारत-इजरायल व्यापार सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा, आपको लग रहा होगा कि हमारी प्रतिभा बेहतर शिक्षा व्यवस्था का नतीजा है। लेकिन, मुझे नहीं लगता कि हमारी शिक्षा व्यवस्था सर्वश्रेष्ठ है। हमारे यहां तो असली शिक्षा सेना में मिलती है। हमारे यहां हर आदमी को कुछ दिनों के लिए सेना में भर्ती होना पड़ता है। हम उनका परीक्षण करते रहते हैं। 21 या 22 साल का होने के बाद ही उनको तकनीकी विद्यालय जाने दिया जाता है।
महाराष्ट्र का एक भाग मराठवाड़ा हमेशा जल संकट से जूझता रहता है। लेकिन अब महाराष्ट्र सरकार इजरायल के सहयोग से वाटर ग्रिड बनाकर इससे निजात दिलाने की योजना तैयार कर रही है। गुरुवार को इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस की उपस्थिति में मराठवाड़ा में वाटर ग्रिड तैयार करने का करार हुआ। फड़नवीस का कहना है कि इजरायली तकनीक और अनुभव से इस क्षेत्र में राज्य के सबसे बड़े वाटर ग्रिड की स्थापना की जाएगी। इस प्रक्रिया में राज्य के सभी छोटे-बड़े जलाशयों एवं जलस्त्रोतों को एक-दूसरे से जोड़ा जाएगा।
फड़नवीस ने भरोसा जताया कि इजरायल के सहयोग से राज्य में किसानों की आमदनी दोगुनी करने का लक्ष्य आसानी से पूरा किया जा सकेगा। बता दें कि मराठवाड़ा में ही दो साल पहले गर्मियों के दिनों में पेयजल के लिए हजारों टैंकरों के साथ-साथ ट्रेन से पानी का आपूर्ति करनी पड़ी थी। फड़नवीस सरकार द्वारा शुरू की गई जलयुक्त शिवार योजना के फलस्वरूप फिलहाल मराठवाड़ा में एक भी टैंकर की जरूरत नहीं पड़ रही है। वाटर ग्रिड का काम पूरा हो जाने के बाद मराठवाड़ा का जलसंकट हमेशा के लिए दूर हो सकता है।
फड़नवीस ने नेतन्याहू की उपस्थिति में हुई इंडिया-इजरायल बिजनेस समिट-2018 को संबोधित करते हुए कहा कि मैं अपनी यात्रा के दौरान वहां की कृषि व्यवस्था देखकर काफी प्रभावित हुआ था। फड़नवीस ने याद दिलाया कि महाराष्ट्र में पिछले 2000 साल से यहूदी आकर बसते रहे हैं। वे यहां के इतिहास एवं संस्कृति का हिस्सा हैं। उन्होंने हमारे राज्य और समाज को बनाने में भी मदद की है।

गंदगी, डॉक्टरों की लेटलतीफी सहित कई समस्याओं से मरीज परेशान

इंदौर के सरकारी अस्पतालों में जहां गंदगी, डॉक्टरों की लेटलतीफी सहित कई समस्याओं से मरीज परेशान हैं, वहीं शहर से 30 किलोमीटर दूर कंपेल के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को बेहतर प्रबंधन के लिए 2017 में कायाकल्प पुरस्कार से नवाजा गया। यही नहीं, इसे स्वास्थ्य विभाग मॉडल बनाने की तैयारी में है। 10 बिस्तरों वाले कंपेल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में सरकार की गाइड लाइन के अनुसार सारी व्यवस्था है।
सरकार ने जो कमियां बताई थीं, उन्हें यहां दूर कर उसे उत्कृष्ट बना दिया गया। प्रभारी आयुष चिकित्सक जाकिया सैयद, दो स्टाफ नर्स, 1 फोकल पॉइंट इंचार्ज, 1 ड्रेसर, 2 अस्थायी सफाईकर्मी ने बेहतर तालमेल से काम कर उसे प्रथम स्थान दिलाया। वहीं इसी माह यूनिसेफ की रैंकिंग में भी केंद्र को 5 स्टार रेटिंग दी गई है। स्वास्थ्य विभाग कंपेल केंद्र को मॉडल बनाकर अन्य केंद्रों को तैयार करने की योजना बना रहा है। सबसे पहले सिमरोल व हातौद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को नया स्वरूप दिए जाने की तैयारी है।
यहां बनाए वैक्सीन वितरण केंद्र में तापमान नियंत्रण, मांग के अनुसार आपूर्ति, ऑनलाइन इंट्री व अन्य सुविधाएं हैं। केंद्र इंचार्ज ने ही एक सिस्टम डेवलप किया है। इसमें पूरे क्षेत्र में किस कार्यकर्ता की ड्यूटी लगाई है, कब वैक्सीन लिया, कब वापस लाया गया, इसकी जानकारी रहती है। दिसंबर-2017 इसे राज्य में बेस्ट वैक्सीन वितरण केंद्र का अवार्ड दिया गया है।
लेबर रूम व ऑपरेशन थिएटर का तीन माह में कल्चर होता है। सभी उपकरण मेडिकल कॉलेज लेबोरेटरी भेजे जाते हैं। वहां कल्चर ट्यूब के बैक्टीरिया की जांच होती है। अभी तक यहां कोई बैक्टीरिया नहीं निकला, क्योंकि हर डिलिवरी के बाद क्लोरिन सॉल्यूशन से सफाई की जाती है। मेडिकल वेस्ट डिस्पोज के लिए ऑपरेशन थिएटर, लेबर रूम, जनरल वार्ड व लैब के पास चार कलर के डस्टबिन रखे हैं।
पांच बिस्तरों के प्रसूति वार्ड को एसी सहित सभी सुविधाओं से पूर्ण किया गया है। यहां एक स्क्रीन लगाई गई है। इसमें नवजात बच्चों के रखरखाव से लेकर माताओं को खाने-पीने की सावधानी, टीकाकरण, सहित अन्य जानकारी दी जाती है। वार्ड में एक बेड कंगारू मदर केयर के लिए भी रखा गया है। लेबर रूम में गाइडलाइन के अनुसार 18 बिंदुओं पर काम किया गया हैं। इसमें फ्रिज, पीपी कॉर्नर, बायो मेडिकल वेस्ट डस्टबिन, एक्टिव मैनेजमेंट ऑफ थर्ड स्टेज, इमरजेंसी ट्रे किट, 24 घंटे बिजली बेकअप, न्यू बोर्न बेबी कॉर्नर, नेबोलाइजर, अंबु बैग की सुविधा है।

छह बार के चैंपियन सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने दर्ज की शानदार जीत

छह बार के चैंपियन सर्बिया के नोवाक जोकोविच ने चोट के बाद वापसी करते हुए यहां मंगलवार को ऑस्ट्रेलियन ओपन के पहले दौर में शानदार जीत दर्ज की। मौजूदा चैंपियन स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर ने भी साल के पहले ग्रैंड स्लैम की शुरुआत शानदार तरीके से की।
12 बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन जोकोविच ने अमेरिका के डोनाल्ड यंग को 6-1, 6-2, 6-4 से शिकस्त देकर दूसरे दौर में जगह बनाई। यंग को एक घंटे और 51 मिनट में हराने वाले जोकोविच कोहनी की चोट के कारण छह महीने तक कोर्ट से बाहर रहे थे। दूसरे दौर में अब जोकोविच का मुकाबला फ्रांस के गाएल मोंफिल्स से होगा, जिन्होंने एक अन्य मुकाबले में स्पेन के जौमे मुनर को 6-3, 7-6, 6-4 से हराया। जीत के बाद जोकोविच ने कहा कि ऑस्टे्रलिया से अच्छी शुरुआत करने का मौका और नहीं मिल सकता था।
वहीं, फेडरर ने पहले दौर में स्लोवाकिया के एल्जाज बेडेने को हराकर दूसरे दौर में जगह बनाई। 20वें ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने की ओर अग्रसर फेडरर ने एक घंटे 39 मिनट तक चले मुकाबले में बेडेने को 6-3, 6-4, 6-3 से हराया। 36 वर्षीय फेडरर अब तक ऑस्ट्रेलियन ओपन में 88 मुकाबले जीत चुके हैं, जबकि उन्हें 13 में हार मिली है। दूसरे दौर में फेडरर का मुकाबला जर्मनी के जान लेनार्ड स्ट्रफ से होगा, जिन्होंने एक अन्य मुकाबले में दक्षिण कोरिया के क्वोन सूनवू को 6-1, 6-2, 6-4 से शिकस्त दी।
वावरिका भी दूसरे दौर में : स्विट्जरलैंड के स्टेन वावरिका ने भी ऑस्ट्रेलियन ओपन की शानदार शुरुआत करते हुए लिथुआनिया के रिकार्डिस बेरांकिस को 6-3, 6-4, 2-6, 7-6 से शिकस्त दी। तीन बार के ग्रैंड स्लैम चैंपियन वावरिका घुटने की चोट के बाद ऑस्ट्रेलियन ओपन में वापसी कर रहे थे। स्विस स्टार वावरिका ने 2014 में फाइनल में राफेल नडाल को हराकर ऑस्ट्रेलियन ओपन का खिताब जीता था। वावरिंका का सामना अब दूसरे दौर में अमेरिका के टेन्नीस सेंडग्रीन से होगा, जिन्होंने एक अन्य मुकाबले में फ्रांस के जेरेमी चार्डी को 6-4, 7-6, 6-2 से मात दी।
शारापोवा और कर्बर दूसरे दौर में : पूर्व चैंपियन रूस की मारिया शारापोवा और जर्मनी की एंजेलिक कर्बर ने ऑस्ट्रेलियन ओपन में शानदार शुरुआत करते हुए महिला सिंगल्स के दूसरे दौर में जगह बना ली। हालांकि, 15 महीने का प्रतिबंध झेलने के बाद शारापोवा अभी भी फॉर्म में आने के लिए जद्दोजहद कर रही हैं। 2008 की ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन और विश्व की नंबर 48 खिलाड़ी शारापोवा ने मंगलवार को जर्मनी की तत्जाना मारिया को 6-1, 6-4 से शिकस्त दी। जीत के बाद शारापोवा ने कहा कि मैं इन लम्हों को खुलकर जी रही हूं। कई साल हो गए हैं और मैं इन्हीं लम्हों का इंतजार कर रही थी। अब शारापोवा का दूसरे दौर में मुकाबला लातविया की एनास्तासिजा सेवास्तोवा से होगा, जिन्होंने अमेरिका की वारवरा लेपचेंको को 3-6, 6-3, 6-2 से हराया।
पूर्व नंबर एक खिलाड़ी और 2016 की ऑस्ट्रेलियन ओपन चैंपियन कर्बर ने भी शानदार शुरुआत की। उन्होंने हमवतन अन्ना लेना फ्राइडसैम को सीधे सेटों 6-0, 6-4 से हराकर दूसरे दौर में जगह बनाई। पिछले साल कर्बर का प्रदर्शन खराब रहा था, उन्होंने अपना पहला स्थान भी गंवा दिया था और रैंकिंग में काफी नीचे खिसक गई थी। एक अन्य मुकाबले में ब्रिटेन की जोहाना कोंटा ने अमेरिका की मेडिसन ब्रेंगल को 6-3, 6-1 से हराकर अगले दौर में जगह बनाई।

तुर्कमेनिस्तान में सामने आया एक चौंकाने वाला फैसला अश्गाबात के लोग अब काले रंग की कार नहीं खरीद सकेंगे

मध्य एशिया के देश तुर्कमेनिस्तान में एक चौंकाने वाला फैसला सामने आया है। यहां राजधानी अश्गाबात के लोग अब काले रंग की कार नहीं खरीद सकेंगे। इसके पीछे कारण है तुर्क राष्ट्रपति गुरबंगुली बिरडीमुहामेडोव का सफेद कारों को लेकर अंधविश्वास।
राष्ट्रपति गुरबंगुली का यह पसंदीदा रंग हैं। वह सफेद रंग को तुर्कमेनिस्तान के लिए भाग्यशाली मानते हैं। ऐसी स्थिति में वहां के अधिकारी भी सफेद रंग की कार को प्राथमिकता देने लगे हैं।
स्थानीय मीडिया के मुताबिक, राष्ट्रपति गुरबंगुली ने 2015 में काले रंग की कारों के आयात को रोक दिया था। हालांकि, अब उन्होंने राजधानी अश्गाबात में यह प्रतिबंध लगा दिया है। बताया गया कि साल की शुरुआत में अश्गाबात के लोग जब सुबह उठे तो जिनके पास सफेद को छोड़कर दूसरे रंगों की कारें थीं, वह गायब थीं। पता चला कि अधिकारी उनकी कार उठाकर ले गए। बाद में उन्हें इस शर्त पर कार वापस मिली कि वह अपनी कारों को सफेद रंग में रंगा देंगे।
राजधानी में पुलिस वहां मौजूद सफेद कारों को छोड़कर दूसरी कारों की कुर्की कर रही है। इससे पहले अधिकारियों ने फैसला लिया था कि साल 2018 से वहां काले रंग की सभी कारें कुर्क होंगी। हालांकि कोई लिखित आदेश न मिलने के बावजूद पुलिस दूसरे रंग की कारों की भी कुर्की कर रही हैं।
इस फैसले को देखते हुए शहर में कारों को रंगने के बिजनेस में उछाल आ गया और करीब 64 हजार रुपए (एक हजार डॉलर) तक मांगा जाने लगा। पहले कारों की रंगाई करीब 32 हजार रुपए (500 डॉलर) में होती थी।
मलेशिया में पीले कपड़े : 2016 में गृह मंत्री अहमद जाहिद हमीदी ने देश में बढ़ रहे प्रदर्शन को देख पीले कपड़ों पर प्रतिबंध लगाया था। यहां पीले कपड़े पहनकर लोग राष्ट्रपति नजीब रजाक के प्रतिबंध की मांग कर रहे थे।
बुरुंडी में जॉगिंग : राष्ट्रपति पियर कुरुनजीजा ने 2014 में जॉगिंग को विध्वंस से जोड़ते हुए इस पर प्रतिबंध लगाया था।
रोमानिया में पश्चिमी हेयरकट : 2010 में यहां स्पाइक, पोनीटेल आदि जैसी पश्चिमी हेयरकट पर प्रतिबंध लगा। इसके लिए लोगों को निर्धारित हेयरस्टाइल की तस्वीरें भी भेजी गईं। नियम उल्लंघन पर जेल या जुर्माने का प्रावधान।

भारत ने किया घातक मिसाइल अग्नि 5 का सफल परीक्षण

भारत ने गुरुवार को ओडिशा के तट से अपनी घातक मिसाइल अग्नि 5 का सफल परीक्षण किया है। इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल 5000 किमी की दूर पर मौजूद अपने शिकार को निशाना बनाने में सक्षम है।
खबरों के अनुसार गुरुवार सुबह 9.53 बजे ओडिशा के व्हीलर द्वीप पर सुबह इसे लॉन्च किया गया जो सफल रहा। परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम अग्नि 5 की सफल टेस्टिंग को लेकर रक्षा मंत्री ने कहा है कि हमने अग्नि 5 का सफल परीक्षण किया है। बेहद घातक मानी जाने वाली इस मिसाइल को डीआरडीओ ने विकसित किया है और इसकी जद में चीन के कई शहर आते हैं।
बता दें कि 6 दिसंबर 2016 को भी इसका परीक्षण किया गया था जिसे इसका अंतिम परीक्षण कहा गया था। 17 मीटर लंबी इस मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद भारत दुनिया के उन देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है जिनके पास 5000-5500 किमी की दूरी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल्स हैं। इन दोशों में अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और यूके शामिल हैं।

विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने उठाए पुलिस व सरकार की कार्यशैली पर सवाल

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने पुलिस व सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा नेतृत्व के इशारे पर गुजरात पुलिस उन्हें प्रताड़ित कर रही है
दो दिन पहले 11 घंटे तक लापता रहने के बाद तोगड़िया बेहोशी की हालत में मिले थे। बाद में विहिप व गुजरात पुलिस ने एक-दूसरे पर जमकर आरोप प्रत्यारोप लगाए।
बुधवार को अस्पताल से छुट्टी मिलते ही तोगड़िया ने कहा, फर्जी सीडी बनाने वालों को जानता हूं। उन्हें बेनकाब करूंगा। आरोप लगाया कि क्राइम ब्रांच की टीम पिछली रात दो बजे उनसे पूछताछ करने आई थी। क्या किसी मरीज को रात में इस तरह परेशान किया जाना सही है?
उन्होंने क्राइम ब्रांच के पुलिस उपायुक्त जेके भट्ट की फोन काल डिटेल सार्वजनिक करने की मांग की। तोगड़िया ने कहा कि क्राइम ब्रांच ने उनका फर्जी वीडियो बनाकर टीवी चैनलों को दे दिया। इसी तरह 2005 में संजय जोशी की भी फर्जी सीडी बनाकर उन्हें बदनाम किया गया था।

डोकलाम में चीनी सेना की गतिविधियां खत्म नहीं हुई आ रही हैलीपैड, टॉवर व अन्य निर्माण की खबरें

डोकलाम में भारत और चीन के बीच 72 दिन चले तनाव को खत्म हुए वक्त गुजर चुका है लेकिन वहां चीनी सेना की गतिविधियां खत्म नहीं हुई हैं। ताजा मामले में इस इलाके में चीनी सेना द्वारा हैलीपैड, टॉवर व अन्य निर्माण की खबरें आ रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सेटेलाइट तस्वीरों में खुलासा हुआ है कि चीनी सैना ने उत्तरी डोकलाम इलाके में सात हेलीपैड्स के अलावा कॉन्क्रीट की चौकियां व टॉवर भी बनाए हैं। वहीं सैन्य वाहन भी तैनात कर रखे हैं।
बताया जा रहा है कि हेलीपैड इतने बड़े हैं कि चीनी सेना में शामिल सबसे बड़े हेलीकॉप्टर भी यहां उतारे जा सकते हैं। ये तस्वीरें दिसंबर और जनवरी माह की बताई जा रही हैं।
इन तस्वीरों के सामने आने के बाद भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत का बयान भी आया है जिसमें उन्होंने इन निर्माणों को अस्थाई करार दिया है। आर्मी चीफ ने रायसीना डायलॉग में कहा कि डोकलाम में स्थिति सामान्य है लेकिन हमारी सेना ने वहां नजर बना रखी है। चीनी सेना ने वहां कुछ समय पहले निर्माण कार्य किए हैं जो सभी अस्थाई हैं। उन्होंने कहा कि संभव है कि सर्दियों की वजह से वो अपने उपकरणों को वापिस नहीं ले जा सके हों।
बता दें कि इससे पहले डोकलाम इलाके में चीनी सैनिकों के सड़क निर्माण को 16 जून 2017 भारतीय सैनिकों ने रोक दिया था. उस समय भारतीय जवान और चीन की पीएलए के जवान 72 दिनों तक एक दूसरे आमने-सामने तैनात थे।

ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन के पहले ही दिन चौंकाने वाले परिणाम

साल के पहले ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन के पहले ही दिन चौंकाने वाले परिणाम सामने आए। महिला सिंगल्स में दिग्गज अमेरिकी महिला खिलाड़ी वीनस विलियम्स और यूएस ओपन चैंपियन स्लोएने स्टीफेंस उलटफेर का शिकार होकर बाहर हो गई। पुरुष वर्ग में दुनिया के 11वें नंबर के खिलाड़ी केविन एंडरसन भी पहले दौर में हारकर बाहर हो गए। दूसरी ओर, चोट के बाद वापसी कर रहे स्पेन के राफेल नडाल ने पहली बाधा पार करते हुए दूसरे दौर में जगह बनाई। भारत की एकमात्र उम्मीद युकी भांबरी का भी प्रदर्शन निराशाजनक रहा और वह पहले ही दौर में हारकर बाहर हो गए।
1997 के बाद पहली बार : दिन का सबसे चौंकाने वाला परिणाम रहा वीनस का, जिन्हें स्विट्जरलैंड की टेनिस खिलाड़ी बेलिंडा बेनकिक ने पहले दौर में 6-3, 7-5 से हराकर बाहर कर दिया। यह वीनस की बेनकिक के खिलाफ हुए पांच मुकाबलों में पहली हार है। बेनकिक का मानना है कि पांचवीं विश्व वरीयता प्राप्त वीनस को उन्होंने पिछले मैच में काफी सम्मान दिया था।
मैच के बाद बेनकिक ने कहा कि मैंने काफी सुरक्षित और ध्यानपूर्वक अपना मैच खेला। इस बार मैंने बड़े स्तर पर खेलने का फैसला किया। आपको यहां अपने मैच में अपनी सीमा में रहकर खेलना होता है। वीनस ने कहा कि बेनकिक ने बेहतरीन खेल दिखाया। यह हार निराशाजनक है। मुझे नहीं लगता कि मैंने खराब मैच खेला है, लेकिन हो सकता है कि मैंने कई गलतियां की हों। मुझे लगता है कि उन्होंने अच्छा खेला। मालूम हो कि दिग्गज खिलाड़ी सेरेना विलियम्स ने ऑस्ट्रेलियन ओपन से अपना नाम वापस ले लिया था। वीनस के पहले दौर में ही बाहर होने से 1997 के बाद से ऐसा पहली बार होगा जब विलियम्स बहनों में से कोई भी इस टूर्नामेंट के दूसरे दौर में नहीं होगी।
स्टीफेंस को भी झटका : अमेरिकी ओपन चैंपियन स्लोएने स्टीफेंस की भी साल के पहले ग्रैंड स्लैम में शानदार प्रदर्शन करने की उम्मीदों पर पानी फिर गया। चीन की झांग शुआई ने स्टीफेंस को 2-6, 7-6, 6-2 से हराकर दूसरे दौर में जगह बनाई।
नडाल की एकतरफा जीत : स्पेन ने राफेल नडाल ने एकतरफा मुकाबले को जीतकर पहली बाधा पार की। उन्होंने पहले दौर में विक्टर एस्ट्रेला बुर्गोस को आसानी से 6-1, 6-1, 6-1 से हराकर बाहर कर दिया। हालांकि, यह मुकाबला करीब 94 मिनट तक चला। घुटने की चोट से उबरने के बाद वापसी कर रहे नडाल पहली बार अपने करियर में बिना कोई वार्मअप मैच खेले ग्रैंड स्लैम में उतरे हैं।
एंडरसन बाहर : पुरुष वर्ग में ब्रिटेन के केल एडमंड ने विजयी शुरुआत की। उन्होंने बड़ा उलटफेर करते हुए 12वीं विश्व वरीयता प्राप्त केविन एंडरसन को मात दी। 49वीं विश्व वरीयता प्राप्त एडमंड ने इस जीत के साथ सिंगल्स वर्ग के दूसरे दौर में स्थान बना लिया है। पहले दौर में एडमंड ने केविन को 6-7, 6-3, 3-6, 6-3, 6-4 से मात दी। वह इस टूर्नामेंट में पुरुष सिंगल्स वर्ग में ब्रिटेन का प्रतिनिधित्व करने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं। दूसरे दौर में एडमंड का सामना उज्बेकिस्तान के डेनिस इस्टोमिन से होगा।
महिला सिंगल्स के अन्य परिणामों में फ्रेंच ओपन की चैंपियन जेलेना ओस्तापेंको ने 37 वर्षीय फ्रांसेस्का को 6-1, 6-4 से हराया। टीमिया बाबोस ने वानडेवेगे को 7-6, 6-2 से शिकस्त दी। शीर्ष वरीयता प्राप्त खिलाड़ियों में 2014 ऑस्ट्रेलियन ओपन फाइनलिस्ट डोमिनिक किबुलकोवा को कायरा केनपई से और इकातेरिना माकारोवा को इराना कैमेलिया से हार का सामना करना पड़ा।
पहले दौर की बाधा पार नहीं कर सके युकी : भारत के युकी भांबरी तीसरी बार ऑस्ट्रेलियन ओपन में पहले दौर की चुनौती पार नहीं कर पाए। 122 वीं रैंकिंग के खिलाड़ी युकी के कायप्रियोट के खिलाफ जीतने की उम्मीद थी, लेकिन खुद के द्वारा की गई गलतियों का खामियाजा युकी को भुगतना पड़ा। युकी पहले दौर में 6-7, 4-6, 3-6 से हारकर बाहर हो गए। 2015 में युकी को पहले दौर में एंडी मरे ने और 2016 में थॉमस बर्डिच ने पहले दौर में हराकर बाहर कर दिया था। इस तरह युकी लगातार तीसरी बार पहले दौर की बाधा पार करने में नाकाम रहे।

अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल का नया बयान जजों के बीच विवाद फिलहाल नहीं सुलझा

सुप्रीम कोर्ट जजों के बीच विवाद सुलझने की बात कहने वाले अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल का नया बयान आया है। इस बार उन्होंने अपने पूर्व के बयान से यू-टर्न लेते हुए कहा है कि यह विवाद फिलहाल नहीं सुलझा है और इसे सुलझने में दो-तीन दिन और लग सकते हैं। एक न्यूज चैनल से सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच हुए विवाद पर बात करते हुए वेणुगोपाल ने कहा कि मतभेद अभी बना हुआ है।
इससे पहले सोमवार को अटॉर्नी जनरल और बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने भी मीडिया से बात करते हुए कहा था कि यह एक आतंरिक विवाद था जो अब सुलझ गया है। जैसे की आप देख सकते हैं मुद्दे को खत्म कर दिया गया है और सभी कोर्ट रूम में सामान्य कामकाज हो रहा है।
सोमवार को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने चारों जजों के साथ लाउंज में बैठकर कॉफी पी और अनौपचारिक चर्चा की। इस दौरान कोर्ट के पूरे स्टाफ को बाहर कर दिया गया था। इसके बाद अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि मामला सुलझ गया है।

खुले में शौच करने वाले युवक की वीडियो वायरल

जयपुर में सोशल मीडिया पर एक वीडियो सोमवार सुबह से वायरल हो रहा है जिसमें खुले में शौच करने वाले युवक की निगमकर्मी डंडे से पिटाई करते हुए दिख रहे हैं। यह वीडियो स्वच्छ भारत मिशन के तहत खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) के दावों की पोल खोल रहा है।
वीडियो में साफ नजर आ रहा है कि नगर निगम के कर्मचारी एक युवक को शौच करते समय दौड़ा-दौड़ा कर पीट रहे हैं। वीडियो सामने आने के बाद जयपुर के महापौर अशोक लाहोटी ने माना कि खुले में शौच को रोकने के लिए टीमों का गठन किया गया है, जो लगातार फील्ड में रहती है।
लेकिन, इस बात से इन्कार किया कि शौच करने वालों पर डंडे बरसाए जाते हैं। हालांकि, लाहोटी ने वीडियो की जांच कराने की बात कही। गौरतलब है कि पिछले माह जयपुर जिले को सरकार ने राज्य का पहला ओडीएफ जिला घोषित किया है।