शुरू होने जा रही भारत में फुटबॉल की सबसे बड़ी लीग शुक्रवार से

देश में पहली बार आयोजित हुए फीफा अंडर-17 विश्व कप से पैदा हुए उत्साह को भुनाने की बारी अब इंडियन सुपर लीग (आइएसएल) के चौथे संस्करण पर होगी। भारत में फुटबॉल की सबसे बड़ी लीग शुक्रवार से शुरू होने जा रही है।
टूर्नामेंट का उद्घाटन मुकाबला दिल्ली के जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम में केरला ब्लास्टर्स एफसी और एटलेटिको डि कोलकाता (एटीके) के बीच खेला जाएगा। इस लीग के विजेता को एएफसी कप में सीधे प्रवेश मिलेगा, जिसे एशिया में वही दर्जा हासिल है, जो यूरोप में यूरोपा लीग को है।
इस साल दो नई टीमें, टाटा ग्रुप की जमशेदपुर एफसी और बेहद पेशेवर बेंगलुरू एफसी लीग में पदार्पण कर रही हैं। आइएसएल को एशियाई फुटबॉल परिसंघ से मान्यता मिल चुकी है। जाहिर है, इसके बाद बेंगलुरु एफसी का इसमें शामिल होना तार्किक कदम माना जाएगा।
लीग में इस बार एक बदलाव और हुआ, जिसके मुताबिक अब टीमों के लिए अलेसांद्रो डेल पिएरो, मार्को मेटराजी और रॉबर्टो कार्लोस जैसे विश्व कप विजेता स्टार खिलाडियों से करार करना अनिवार्य नहीं रह गया है। इसके बदले अब देश के युवा खिलाड़ियों को आगे बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है। अब किसी भी मैच में मैदान पर एक समय में कम से कम छह भारतीय खिलाड़ी होना अनिवार्य होगा।
चेन्नइयन एफसी के कोच जॉन ग्रेगरी ने कहा कि आइएसएल के चौथे सत्र से पहले पूर्व अभ्यास सत्र अच्छा रहा है और उनकी टीम का पहला लक्ष्य इसके प्लेऑफ में जगह बनाना है। उनकी टीम का पहला मुकाबला 19 नवंबर को एफसी गोवा से है।
पिछले साल सेमीफाइनल तक पहुंचने वाली मुंबई एफसी चौथे संस्करण में दम भरने को तैयार है। टीम के कोच अलेक्सांद्र गुईमारेस का मानना है कि उनकी टीम में दो शानदार गोलकीपर हैं। मुंबई एफसी का पहला मुकाबला 19 नवंबर को बेंगलुरु एफसी से होगा।

चीन के एक विशेषज्ञ का मानना है डोकलाम और दक्षिण चीन सागर जैसे मुद्दों को सुलझा लेगा

चीन के एक विशेषज्ञ का मानना है कि राष्ट्रपति शी चिनफिंग के दूसरे कार्यकाल में उनका देश भारत के साथ डोकलाम और दक्षिण चीन सागर जैसे मुद्दों को सुलझा लेगा।
अपने वैध हितों की रक्षा के लिए देश इनका सामना करेगा। चीन के समकालिक अंतरराष्ट्रीय संबंध संस्थान के उपाध्यक्ष युआन पेंग ने बुधवार को कहा, ‘पूर्व में हम सोचते थे कि हम विवाद को टाल देंगे।
अब हमें चौतरफा विवादों का सामना करना होगा।’ पेंग चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की हाल ही में संपन्न पांच दिवसीय कांग्रेस के परिणाम पर पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। पांचवीं कांग्रेस में पांच वर्षों के लिए शी को पार्टी के प्रमुख के रूप में मंजूरी दी गई है।
युआन ने कहा कि शी के नेतृत्व में चीन डोकलाम जैसे मुद्दे को निपटा सकता है। भारतीय सीमा पर चीन की सेना सड़क बनाने जा रही थी जिससे विवाद पैदा हुआ। इस क्षेत्र पर भूटान का दावा है।
72 दिनों तक जारी रहने के बाद 28 अगस्त को विवाद समाप्त हुआ। चीन ने सड़क निर्माण रोक दिया। विवाद थमने के बाद दोनों पक्षों ने अपनी सेना वापस बुला ली।
इसे भारत की कूटनीतिक जीत के रूप में देखा जाता है। हिंद-प्रशांत साबित होगा जाल युआन ने यह भी कहा कि अमेरिका ने हिंद-प्रशांत घोषित किया है। इस चतुर्भुज तंत्र में भारत, आस्ट्रेलिया और जापान भी शामिल हैं।
अमेरिका, आस्ट्रेलिया और जापान भारत को आगे कर रहे हैं। आगे चलकर यह एक प्रकार का जाल साबित होगा। उन्होंने कहा कि भारत के लिए यह बुद्धिमानी नहीं है क्योंकि यह अमेरिका और चीन के साथ संतुलित रिश्ते निभाता है।

राष्ट्रपति चुनाव के बाद विकिलीक्स के साथ ट्विटर पर हुए निजी संवादों की एक श्रृंखला जारी

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सबसे बड़े बेटे ट्रंप जूनियर ने 2016 में राष्ट्रपति चुनाव के बाद विकिलीक्स के साथ ट्विटर पर हुए निजी संवादों की एक श्रृंखला जारी की है।
उन्होंने यह श्रृंखला उस रिपोर्ट के सामने आने के बाद जारी की है, जिसमें आरोप लगाया गया था कि वह इस समूह से गोपनीय तरीके से जुड़े हुए थे।
विकिलीक्स ने पिछले साल अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के दौरान हिलेरी क्लिंटन के कई ई-मेल प्रकाशित कर दिए थे। अमेरिकी राष्ट्रपति के बेटे ने बताया कि यह विकिलीक्स के साथ सितंबर 2016 से जुलाई 2017 तक हुए ट्विटर पर हुए सीधे संवादों की एक कड़ी है।
इन संवादों में गोपनीयता विरोधी समूह ने ट्रंप अभियान के लिए सूचना का प्रबंध करने और हिलेरी क्लिंटन पर किए गए रहस्योद्घाटन के प्रभाव को बढ़ाने की पेशकश की थी।
ट्रंप जूनियर ने इन संवादों को ट्विटर पर भी पोस्ट किया है। इसमें विकिलीक्स द्वारा उन्हें भेजे गए दर्जनों संदेश शामिल हैं। हालांकि ट्रंप जूनियर ने सिर्फ तीन संदेशों पर ही प्रतिक्रिया दी थी।
अधिकतर को उन्होंने नजरअंदाज किया था। संवादों से पता चलता है कि विकिलीक्स ने ट्रंप जूनियर को एक नई ट्रंप-विरोधी वेबसाइट की जानकारी दी थी।
विकिलीक्स ने ट्रंप जूनियर से अपने पिता से हिलेरी क्लिंटन के दस्तावेजों पर ट्वीट कराने की अपील की थी।

नासा ने सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति की भेजी तस्वीरें

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के जूनो यान ने सौर मंडल के सबसे बड़े ग्रह बृहस्पति के दक्षिणी गोलार्ध की तस्वीरें भेजी हैं।
इन तस्वीरों में रंग-बिरंगे बादल दिखाई दे रहे हैं जो ग्रह का चक्कर लगा रहे आठ बड़े बादलों का हिस्सा हैं। जूनो ने ये तस्वीरें पिछले माह नौवीं बार बृहस्पति के बेहद करीब जाकर जानकारी इकट्ठा करने के दौरान ली थीं।
इन तस्वीरों को लेते वक्त जूनो बृहस्पति ग्रह के बादलों के ऊपर 33,115 किलोमीटर की दूरी पर था। नासा ने जूनो अंतरिक्ष यान को 5, अगस्त 2011 को लांच किया था।
करीब पांच साल बाद इसने जुलाई 2016 में बृहस्पति की कक्षा में प्रवेश किया था। जूनो का मुख्य काम बृहस्पति ग्रह की उत्पत्ति और विकास का अध्ययन करना है।
घने बादलों से ढके होने के कारण इस ग्रह की उत्पत्ति रहस्य बनी हुई है। जूनो द्वारा जुटाए गए आंकड़ों से अन्य तारों की ग्रह प्रणाली का पता भी लग सकता है।

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक आकाश तलाटी की हत्या

भारतीय मूल के अमेरिकी नागरिक आकाश तलाटी की अज्ञात लोगों ने नॉर्थ कैरोलिना में गोली मार कर हत्या कर दी। 40 वर्षीय आकाश आनंद आर्ट्स कॉलेज के पूर्व प्रिंसिपल रमेश पटेल के इकलौते बेटे थे।
वो मूल रूप से गुजरात के आनंद के रहने वाले थे। उन्होंने सरदार पटेल यूनिवर्सिटी से बैचलर की डिग्री ली और बाद में अमेरिका ही शिफ्ट कर गए।

दिल्ली से तकरीबन 150 किलोमीटर दूर अलीगढ़ में कार के साथ चालक की भी जलने से मौत

दिल्ली से तकरीबन 150 किलोमीटर दूर अलीगढ़ में युवक के साथ दरिंदगी का सनसनीखेज मामला सामने आया है। जिला मुख्यालय से करीब 18 किलोमीटर दूर हरदुआगंज स्थित साधु आश्रम-पनेठी रोड पर शनिवार सुबह एक स्कोडा कार के साथ चालक की भी जलने से मौत हो गई।
आशंका जताई जा रही है कि व्यक्ति को बैठाकर पेट्रोल डालकर कार में आग लगाई गई है, जिससे उसकी जिंदा जलकर मौत हो गई। कार का नंबर यूपी 16 एएन 3402 है। ये गाड़ी नोएडा के मोहम्मद रिजवान के नाम से पंजीकृत है, जिनका परिवार अब दिल्ली के जामिया नगर इलाके के बाटला हाउस में रहता है।
उनकी पत्नी ने शनिवार को रिजवान की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। कार में आग लगने का कारण पुलिस तलाश रही है। जली हुई कार से पास दो-दो लीटर की बोतलें मिलीं, जिनसे पेट्रोल की गंध आ रही थी। पास ही नमकीन के पाउच पड़े थे। कार में रस्सी व शराब की बोतल टूटी बोतल मिली हैं।
आशंका है कि व्यक्ति को बैठाकर पेट्रोल डालकर कार में आग लगाई गई। सुबह छह बजे हुई घटना से इलाके में सनसनी फैल गई। गांव अलहदादपुर के युवक मॉर्निंग वॉक के लिए साधु आश्रम -पनेठी रोड पर आए, जिन्हें कार में आग की लपटें दिखी। ड्राइविंग सीट पर युवक बैठा था।
प्रधान अर्जुन सिंह की सूचना पर पुलिस भी मौके पर पहुंच गई, लेकिन तब तक कार पूरी तरह जल चुकी थी। उसमें बैठा व्यक्ति पूरी तरह जल चुका था। बाद में फोरेंसिक व डॉग स्क्वाड की टीम ने मौके पर पहुंचकर साक्ष्य तलाशे। एसओ डॉ. विनोद सिंह ने बताया कि रास्ते में पड़े टोल प्लाजा में लगे सीसीटीवी फुटेज खंगाले जा रहे हैं।

डोनाल्ड ट्रंप दौरे के दूसरे चरण में पहुंचे दक्षिण कोरिया

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पांच एशियाई देशों के दौरे के दूसरे चरण में मंगलवार को दक्षिण कोरिया की दो दिवसीय यात्रा पर पहुंचे। उन्होंने उत्तर कोरिया को चेतावनी दी कि किसी भी तरह के हमले रोकने के लिए अमेरिका अपनी पूरी सैनिक ताकत का इस्तेमाल करने को तैयार है। साथ ही मेलमिलाप का रुख दिखाते हुए उत्तर कोरिया से परमाणु कार्यक्रम बंद करने के लिए समझौता करने की अपील भी की।
दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन के साथ बातचीत के बाद ट्रंप ने कहा कि उम्मीद है, अमेरिका को पूरी सैन्य ताकत का इस्तेमाल न करना पड़े। वह उत्तर कोरिया के तानाशाह के खतरे से लाखों लोगों की जान बचाने के लिए जो भी जरूरी है, उसके लिए तैयार हैं।
मून उत्तर कोरिया के साथ राजनयिक वार्ता के पक्षधर हैं। उनका मानना है कि युद्ध से दक्षिण कोरिया को काफी नुकसान उठाना पड़ेगा। मून के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया सही कदम उठाए। उन्होंने कहा कि कुछ गतिविधि देखी है। अंततः इसका हल निकलेगा, हमेशा हल निकला है और हल निकालना ही है।
ट्रंप ने कहा कि उत्तर कोरिया से खतरे को देखते हुए दक्षिण कोरिया अमेरिका से अरबों डॉलर के हथियार खरीदेगा। इसमें विमान और मिसाइल भी शामिल होंगे। मून ने भी दक्षिण कोरिया की रक्षा क्षमताओं को बढ़ाने के लिए इसे जरूरी बताया। खबर है कि दक्षिण कोरिया अमेरिका से परमाणु पनडुब्बी खरीदने की बातचीत कर रहा है। ट्रंप ने कहा कि सियोल की बैलिस्टिक मिसाइल के वारहेड का वजन 500 किलोग्राम तक रखने की सीमा हटाने पर सहमति बन गई है।
सियोल के ओसान एयरबेस पर पहुंचने पर ट्रंप और उनकी पत्नी मेलेनिया ट्रंप का जोरदार स्वागत किया गया। इसके बाद वह हेलीकॉप्टर से कैंप हम्फ्रीज गए और अमेरिकी और दक्षिण कोरियाई सैनिकों से मिले। उन्होंने सैनिकों से साथ मेस हॉल में लंच किया। इस दौरान मून भी मौजूद थे। दक्षिण कोरिया के कैंप हम्फ्रीज में अमेरिका का सबसे बड़ा सैनिक अड्डा है। यह उत्तर कोरिया की सीमा से करीब 100 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप इस बार नरम रुख अपनाते उत्‍तर कोरिया से बातचीत करने को तैयार

परमाणु कार्यक्रम को लेकर उत्‍तर कोरिया पर लगातार हमला करने वाले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप इस बार नरम रुख अपनाते नजर आए हैं।
रविवार को अपने एशिया दौरे के पहले दिन ही उन्‍होंने जापान से उत्‍तर कोरिया पर निशाना साधते हुए चेताया था कि किसी भी ‘तानाशाह′ को अमेरिका को कम नहीं आंकना चाहिए। हालांकि अब अमेरिका टीवी चैनल पर प्रसारित एक साक्षात्‍कार में ट्रंप ने कहा है कि वह उत्‍तर कोरिया से बातचीत करने को तैयार हैं।
गौरतलब है कि उत्‍तर कोरिया के लगातार परमाणु परीक्षण को लेकर अमेरिका के साथ उसके संबंध काफी तनावपूर्ण हो गए हैं। कई मौके पर दोनों देश एक दूसरे को हमले की धमकी भी दे चुके हैं।
ट्रंप ने साक्षात्‍कार में कहा कि वह निश्चित रूप से उत्‍तर कोरिया के किम जोंग उन से बातचीत कर सकते हैं। उन्‍होंने कहा, मैं किसी के साथ भी बैठ सकता हूं। मैं नहीं सोचता कि यह ताकत है या कमजोरी, मेरे ख्‍याल से लोगों के साथ बैठना बुरी बात नहीं है।
इसलिए निश्चित तौर पर मैं इसके लिए तैयार हूं, लेकिन हमें देखना होगा कि इसका नतीजा क्या होगा, मुझे लगता है कि अभी हम उस स्थिति से काफी दूर हैं।’ राष्ट्रपति ट्रंप ने ‘फुल मेजर’ शो में यह बात कही।

टोक्यो में वर्चुअल पात्र को नागरिक का दर्जा

जापान के मध्य टोक्यो में शनिवार को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंट’ लड़के को नागरिक का दर्जा दे दिया गया। यह एक वर्चुअल पात्र है, जो किसी सात साल के लड़के की तरह लगता है।
‘शिबुया मिरई’ नामक इस लड़के का वैसे तो शारीरिक तौर पर वजूद नहीं है, लेकिन वह मैसेजिंग ऐप ‘लाइन’ के जरिए लोगों से बातचीत कर सकता है। यहां तक कि वह संदेशों का जवाब भी दे सकता है।
इसके साथ शिबुया मिरई जापान और दुनिया का पहला आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस वाला रोबोट लड़का बन गया है, जिसका नाम असल जिंदगी की स्थानीय रजिस्ट्री में दर्ज किया गया है। इससे पहले सऊदी अरब ने रोबोट सोफिया को नागरिकता दी थी।
बताते चलें कि मशीनों द्वारा दिखाई जाने वाली बुद्घिमता को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस कहा जाता है। टोक्यो में फैशन के प्रति रूचि रखने वाले युवाओं के लिए मशहूर उपनगरीय क्षेत्र शिबुया ने इस पात्र को विशेष निवासी का सर्टिफिकेट दिया हैं। जापानी भाषषा में मिरई का मतलब भविष्य होता है।
शिबुया ने कहा कि इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य प्रांत की स्थानीय सरकार को निवासियों और अधिकारियों को उनकी राय सुनने के प्रति ज्यादा अनुकूल बनाना है। इस पात्र को संयुक्त रूप से विकसित करने वाले माइक्रोसॉफ्ट के साथ एक बयान में शिबुया ने बताया कि उसे तस्वीरें लेने और लोगों को देखने का शौक है। उसे लोगों से बात करना पसंद है।

ब्लैक मनी को लेकर बड़ा खुलासा मनोरंजन और खेल से जुड़ी शख्सियतों के नाम इस लिस्ट में शामिल

पिछले साल 8 नवंबर 2016 को मोदी सरकार ने कालेधन पर कड़ा प्रहार करने लिए पुराने 500 और 1000 रुपए के नोट बंद कर दिए थे। इसके बाद उम्मीद से काफी कम मात्रा में काला धन बाहर आया और इसके बड़े हिस्से की हेरा-फेरी होने की बात सामने आई। सरकार नोटबंदी की सालगिरह को ऐंटी ब्लैक मनी डे के तौर पर मनाने की तैयारी कर रही है। मगर, इससे पहले ही ब्लैक मनी को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।
दुनिया के सबसे बड़े व्यावसायिक घरानों, देशों के राष्ट्राध्यक्षों, राजनीति में वैश्विक पकड़ रखने वाले लोगों, मनोरंजन और खेल से जुड़ी शख्सियतों के नाम इस लिस्ट में शामिल हैं, जिन्होंने टैक्स हैवन कंट्रीज में अपना पैसा छिपाया है। यह जानकारी 1.34 करोड़ दस्तावेज के लीक होने के बाद सामने आई है, जिसे पैराडाइज पेपर्स के नाम से जाना जा रहा है।
कर चोरी का यह मामला काफी जटिल है और यह उन आर्टिफिशियल तरीकों को दिखाता है, जिनके जरिये अरबपति कानूनी रूप से अपना धन बचा रहे हैं। यह खुलासा जर्मनी के जीटॉयचे साइटुंग नामक अखबार ने किया है। बताते चलें कि इसी मीडिया हाउस ने 18 महीने पहले पनामा पेपर्स का खुलासा किया था। करीब 96 मीडिया ऑर्गेनाइजेशन के साथ मिलकर इंटरनेशनल कॉन्सोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (ICIJ) ने ‘पैराडाइज पेपर्स’ नामक दस्तावेजों की छानबीन की है।
इस खुलासे के जरिये उन फर्मों और फर्जी कंपनियों के बारे में बताया गया है जो दुनिया भर में अमीर और ताकतवर लोगों का पैसा विदेशों में भेजने में उनकी मदद करते हैं। पैराडाइज पेपर्स लीक में भी पनामा की तरह ही कई भारतीय राजनेताओं, अभिनेताओं और कारोबारियों के नाम सामने आए हैं।
प्राप्त किए गए दस्तावेज दो विदेशी सर्विस प्रोवाइडर्स और 19 टैक्स हैवन देशों में रजिस्टर्ड कंपनियों से मिले हैं। आईसीआईजे के भारतीय सहयोगी मीडिया संस्थान इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, इस लिस्ट में कुल 714 भारतीयों के नाम शामिल हैं। वहीं, दुनिया भर की बात करें तो इस लिस्ट में कुल 180 देशों के नाम हैं। इस लिस्ट में भारत 19वें नंबर पर है।
इस खुलासे से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और ब्रिटिश प्रधानमंत्री थेरेसा मे सहित विश्व के कई बड़े नेताओं पर दबाव पड़ेगा, जो आक्रामक कर चोरी की योजनाओं को रोकने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इस जांच के प्रकाशन के लिए 380 से अधिक पत्रकारों ने एक साल तक जांच की। वे 70 साल पहले तक के आंकड़ों की जांच करते हुए इस नतीजे पर पहुंचे हैं।
यह मामला ऐसे समय में सामने आया है, जब वैश्विक आर्थिक असमानता बढ़ रही है। प्रमुख अर्थशास्त्री गैब्रियल जुकमैन ने कहा कि वैश्विक असमानता बढ़ने के लिए जो सबसे बड़ा कारण है, वह है टैक्स हैवन देश। जैसे-जैसे असमानता बढ़ती जा रही है, ऑफशोर टैक्स इवेजन (कर चोरी) एक विशिष्ट खेल बनती जा रही है।
इस लीक के केंद्र में बरमूडा की लॉ फर्म ऐपलबाय है। यह कंपनी वकीलों, अकाउंटेंट्स, बैंकर्स और अन्य लोगों के नेटवर्क की एक सदस्य है। इस नेटवर्क में वे लोग भी शामिल हैं जो अपने क्लाइंट्स के लिए विदेशों में कंपनियां सेट अप करते हैं और उनके बैंक अकाउंट्स को मैनेज करते हैं। यह ऑफशोर इस्टैबलिशमेंट के लिए काम करती है, जो क्लाइंट्स को ऐसे स्ट्रक्चर मुहैया कराती है, जो कानूनी रूप से अपने टैक्स बिल को कम करने में मदद करें।
इन आरोपों पर कंपनी ने सफाई देते हुए कहा कि उसने सभी आरोपों की जांच की है और पाया है कि इस बात के कोई सबूत नहीं हैं कि उन्होंने या उनके क्लाइंट्ल ने कोई गलत काम किया है। इस कंपनी ने कहा कि हम एक लॉ फर्म हैं, जो क्लाइंट्स को उनका बिजनेस चलाने के लिए कानूनी रास्तों के बारे में बताते हैं। हम गैरकानूनी व्यवहार को बर्दाश्त नहीं करते हैं।