1997 से 2008 तक रिसर्च करने के बाद गेहूं की दो ऐसी किस्में ईजाद की जिनमें प्रोटीन और ग्लूकोज भरपूर मात्रा में

कृषि कॉलेज के दो वैज्ञानिकों डॉ. साईं प्रसाद व रिटायर्ड डॉ. एएन मिश्रा ने 1997 से 2008 तक रिसर्च करने के बाद गेहूं की दो ऐसी किस्में ईजाद की हैं, जिनमें प्रोटीन और ग्लूकोज भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ये जल्दी पचने वाली हैं। इन दोनों को निजी कंपनियां भी बेच रही हैं, लेकिन इसका संरक्षण कॉलेज के हाथ में है। प्रदेश के साथ-साथ पूर्वी देशों और दुबई में इनकी खूब मांग है। पूर्णा और पोषण नाम की दोनों किस्में वर्तमान में प्रदेश की 25 फीसदी भूमि पर बोई जा रही हैं। इनकी बड़ी खूबी यह है कि ये कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती हैं।
दलिया, बाटी, बाफला, सूजी, पास्ता में ज्यादा उपयोग
एचआई- 8663 पोषण किस्म को मालवीय वीट, डुर्रम वीट व टटिया वीट के नाम से भी जानते हैं। इसकी खासियत यह है कि इसका दलिया, बाटी, बाफला, सूजी और पास्ता प्रोडक्ट में ज्यादा उपयोग हो रहा है। यह प्रति हेक्टेयर पर 65 क्विंटल उत्पादन देती है। मालवा के इंदौर, धार, देवास और उज्जैन सहित मध्य प्रदेश के अन्य हिस्सों को मिलाकर 15 फीसदी में इसकी बोवनी की जा रही है। इसे दुबई व ईस्टर्न देशों में एक्सपोर्ट किया जा रहा है।
एचआई-1544 पूर्णा किस्म की खासियत यह है कि इसकी रोटी जितनी अच्छी गुणवत्ता की बनती है, उतनी अन्य किस्मों की नहीं है। जल्दी पचने वाला, प्रोटीन व ग्लूकोज युक्त यह गेहूं शरीर के लिए भी कई गुना लाभदायक है। मालवा व निमाड़ में इसकी बोवनी 12 से 15 फीसदी हिस्से में इसकी खेती की जा रही है। यदि बोवनी के दौरान ज्यादा गर्मी भी पड़ जाए, तब भी इसकी फसल खराब नहीं होती है।
दोनों किस्मों की खूबी यह है कि 3 से 4 पानी मिलने के बाद इनकी पैदावार अच्छी होती है। एक हेक्टेयर में 65 क्विंटल तक का उत्पादन हो रहा है। बोवनी होने के बाद जब पौधे थोड़े बड़े हो जाते हैं और ऐसे में तेज गर्मी पड़ जाए तो कई किस्में खराब हो जाती हैं, लेकिन ईजाद की गई ये दोनों किस्में प्रतिकूल मौसम में भी खराब नहीं होती।
एचआई 8663 व एचआई 1544 सबसे ज्यादा उपयोगी होने के कारण इसका उपयोग निजी कंपनियां रोटी व पास्ता बनाने में कर रही हैं। इससे बनने वाले प्रोडक्ट विदेश में भी बेचे जाते हैं। इसका कंपनी को अंश के रूप में भुगतान भी करना पड़ता है। इसकी खरीदी व बिक्री पर अनुबंध के अनुरूप नियंत्रण भी रहता है। कृषि कॉलेज के अधिष्ठाता डॉ. अशोक कृष्णा ने बताया कि दोनों किस्मों का उपयोग एमपी में किया जा रहा है। इनमें प्रोटीन व न्यूट्रिशन सहित अन्य कई ऐसे तत्व हैं जो मानव शरीर के लिए बहुत लाभदायक हैं।

बच्ची सुन नहीं सकती अपने दम पर इलाज कराना चाहती है 27 साल की प्रियंका

राजस्थान के झुंझुनूं जिले की 27 साल की प्रियंका ने दसवीं कक्षा में प्रवेश लिया है। उसकी बच्ची चेष्टा सुन नहीं सकती और प्रियंका अपने दम पर उसका इलाज कराना चाहती है। इसीलिए वह पढ़-लिख कर खुद को इस काबिल बनाने में जुट गई है।
झुंझुनूं के बगड़ कस्बे में रहने वाली प्रियंका को गरीबी के कारण दसवीं कक्षा में ही पढ़ाई छोडनी पड़ी। इसके बाद उसकी शादी सुमित सेन से कर दी गई। सुमित आॅटो रिक्शा चलाता हैं। प्रियंका की बेटी चेष्टा के अलावा नौ साल का एक बेटा भी है।
प्रियंका ने जब चेष्टा को जन्म दिया तो पता चला कि वह सुन नहीं सकती। शुरूआत में तो प्रियंका ने बेटी की देखभाल की और जब बच्ची कुछ बड़ी हो गई है तो फिर से दसवीं कक्षा में प्रवेश ले लिया। वह चाहती है पढ़-लिख कर खुद नौकरी करे और अपने दम पर बच्ची का इलाज कराए।
प्रियंका का कहना है कि शिक्षा ग्रहण करने के लिए उम्र कोई पाबंदी नहीं है और मैं अपने परिवार या किसी और से मदद लेने की बजाय अपने दम पर अपनी बेटी का इलाज करवाना चाहती हूं।

पीएम नरेंद्र मोदी प्रोटोकाल तोड़कर मुंबई हमले के पीड़ित 11 वर्षीय मोशे होल्त्जबर्ग से मिले

पीएम नरेंद्र मोदी प्रोटोकाल तोड़कर मुंबई हमले के पीड़ित 11 वर्षीय मोशे होल्त्जबर्ग से मिले तो दोनों भावुक हो गए। मोशे ने हिदी में मोदी से कहा, “आपका हमारे देश में स्वागत है, फिर बोला, आइ लव यू मोदी जी”।
किशोर ने कहा, वह भारत में आना चाहता है। उसकी ख्वाहिश है कि बड़ा होकर वह मुंबई में बस जाए। पीएम ने दो कदम आगे बढ़ते हुए मोशे को सपरिवार भारत आमंत्रित किया।
पीएम बोले, भारत सरकार आपको लंबी अवधि का वीजा उपलब्ध कराएगी। मोशे ने मोदी से यह भी कहा कि “हमेशा मुझे प्यार करते रहना और मेरे माता-पिता को कभी मत भुलाना”।
उसने मोदी को एक चित्र भेंट किया तो वह बोले “बेहतरीन तोहफे के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद”। उल्लेखनीय है कि मोशे वह किशोर है जिसने महज दो साल की आयु में मुंबई बम धमाकों में अपने माता-पिता को खो दिया था। 2008 में नरीमन हाउस में आतंकी हमला हुआ था।
26 नवंबर 2008 की काली रात को मोशे रब्बी गवेरियल और रिवका होल्टजबर्ग के साथ मुंबई के छाबड़ हाउस में मौजूद था। इस छाबड़ हाउस को नरीमन हाउस भी कहते हैं।
पाक परस्त लश्कर के आतंकियों ने इस बिल्डिंग पर हमला कर कई लोगों की हत्या कर दी। इसमें मोशे के माता-पिता भी शामिल थे। मासूम मोशे उनके शवों के पास खड़ा रो रहा था।
उसकी आया सैन्ड्रा ने रोने की आवाज सुनी और उसे लेकर सुरक्षित स्थान पर चली गई। हमले में मोशे तो बच गया लेकिन वो अनाथ हो चुका था, लेकिन भारत से इस बच्चे को भरपूर प्यार मिला और ये बच्चा आतंक के खिलाफ भारत की जंग में एक जाना-पहचाना चेहरा बना।
सैन्ड्रा को इजरायल सरकार ने 2010 में मानद नागरिकता प्रदान की थी। वह यरुशलम में बच्चों की देखभाल करती है और सप्ताहांत में मोशे से मिलती है।
मोशे इजरायल के अफूला शहर में अपने दादा रब्बी शिमोन रोसेनबर्ग और दादी येहूदित रोसेनबर्ग के साथ रहता है। पीएम मोदी से मुलाकात के लिए ये सभी यरुशलम आए हुए थे।
मोशे के दादा रब्बी शिमोन ने कहा कि ये एक अच्छा एहसास है कि भारत के लोग हमें भूले नहीं है। मुंबई हमले के नौ साल बाद भी हमारा दर्द साझा करते हैं।
उन्होंने कहा कि दो साल बाद वह मोशे की “बार मित्जवाह” की रसम में पीएम मोदी को बुलाना चाहते हैं।
इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि अगर मोशे चाहे तो उनके साथ भारत जा सकता है। उन्होंने उसके दादा से यह पेशकश की।
उसके दादा रब्बी शिमोन ने बताया कि इजरायल के प्रधानमंत्री ने उनसे कहा कि जब वह भारत जाएंगे तो मोशे उनके दल में शामिल हो सकता है।
पीएम नरेंद्र मोदी प्रोटोकाल तोड़कर मुंबई हमले के पीड़ित 11 वर्षीय मोशे होल्त्जबर्ग से मिले तो दोनों भावुक हो गए। मोशे ने हिदी में मोदी से कहा, “आपका हमारे देश में स्वागत है, फिर बोला, आइ लव यू मोदी जी”। किशोर ने कहा, वह भारत में आना चाहता है। उसकी ख्वाहिश है कि बड़ा होकर वह मुंबई में बस जाए। पीएम ने दो कदम आगे बढ़ते हुए मोशे को सपरिवार भारत आमंत्रित किया। पीएम बोले, भारत सरकार आपको लंबी अवधि का वीजा उपलब्ध कराएगी। मोशे ने मोदी से यह भी कहा कि “हमेशा मुझे प्यार करते रहना और मेरे माता-पिता को कभी मत भुलाना”। उसने मोदी को एक चित्र भेंट किया तो वह बोले “बेहतरीन तोहफे के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद”। उल्लेखनीय है कि मोशे वह किशोर है जिसने महज दो साल की आयु में मुंबई बम धमाकों में अपने माता-पिता को खो दिया था। 2008 में नरीमन हाउस में आतंकी हमला हुआ था। 26 नवंबर 2008 की काली रात को मोशे रब्बी गवेरियल और रिवका होल्टजबर्ग के साथ मुंबई के छाबड़ हाउस में मौजूद था। इस छाबड़ हाउस को नरीमन हाउस भी कहते हैं। पाक परस्त लश्कर के आतंकियों ने इस बिल्डिंग पर हमला कर कई लोगों की हत्या कर दी। इसमें मोशे के माता-पिता भी शामिल थे। मासूम मोशे उनके शवों के पास खड़ा रो रहा था। उसकी आया सैन्ड्रा ने रोने की आवाज सुनी और उसे लेकर सुरक्षित स्थान पर चली गई। हमले में मोशे तो बच गया लेकिन वो अनाथ हो चुका था, लेकिन भारत से इस बच्चे को भरपूर प्यार मिला और ये बच्चा आतंक के खिलाफ भारत की जंग में एक जाना-पहचाना चेहरा बना। सैन्ड्रा को इजरायल सरकार ने 2010 में मानद नागरिकता प्रदान की थी। वह यरुशलम में बच्चों की देखभाल करती है और सप्ताहांत में मोशे से मिलती है। मोशे इजरायल के अफूला शहर में अपने दादा रब्बी शिमोन रोसेनबर्ग और दादी येहूदित रोसेनबर्ग के साथ रहता है। पीएम मोदी से मुलाकात के लिए ये सभी यरुशलम आए हुए थे। मोशे के दादा रब्बी शिमोन ने कहा कि ये एक अच्छा एहसास है कि भारत के लोग हमें भूले नहीं है। मुंबई हमले के नौ साल बाद भी हमारा दर्द साझा करते हैं। उन्होंने कहा कि दो साल बाद वह मोशे की “बार मित्जवाह” की रसम में पीएम मोदी को बुलाना चाहते हैं। नेतन्याहू के साथ आएगा मोशे इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा है कि अगर मोशे चाहे तो उनके साथ भारत जा सकता है। उन्होंने उसके दादा से यह पेशकश की। उसके दादा रब्बी शिमोन ने बताया कि इजरायल के प्रधानमंत्री ने उनसे कहा कि जब वह भारत जाएंगे तो मोशे उनके दल में शामिल हो सकता है।

ब्रिटेन में सांसद का चुनाव जीतने वाले तनमनजीत सिंह ढेसी की जीत

ब्रिटेन में स्लो हलके से सांसद का चुनाव जीतने वाले तनमनजीत सिंह ढेसी की जीत की खबर से उनके पैतृक गांव रायपुर फराला पहुंची पूरे गांव में जश्न शुरू हो गया। 17 अगस्त 1978 को जन्मे तनमनजीत की उपलब्धि पर पूरा गांव गर्व कर रहा है।
दादा सरवण सिंह ने अपने परिवार और गांववालों के साथ मिलकर भंगड़ा कर खुशी का इजहार किया। बधाई देने और मुंह मीठा करने वाले लगातार आ रहे हैं। चाचा ने बताया कि तनमनजीत सिंह की कॉल आई कि चाचा जी मैं एमपी दा चुनाव जित्त गया हां। तनमनजीत की खासियत यह है कि वह जब भी किसी चुनाव सभा या आमसभा में भाषण देते हैं, शुद्ध पंजाबी बोलते हैं, अंग्रेजी का प्रयोग नहीं करते।
95 वर्षीय दादा सरवण सिंह कहते हैं कि यह मेरे व परिवार के लिए सबसे बड़ी खुशी का दिन है कि उनका पोता ब्रिटेन का ऐसा पहला सांसद बना है, जो पगड़ीधारी सिख है व शाकाहारी है।
जन्म इंग्लैंड में, शुरुआती शिक्षा पंजाब में : तनमनजीत का जन्म इंग्लैंड में हुआ, लेकिन पंजाबी संस्कार और पंजाबियत उन्हें मातृभूमि से ही मिली, क्योंकि उनकी शुरुआती शिक्षा पंजाब में हुई। तनमनजीत ने प्राइमरी तक की शिक्षा शिवालिक पब्लिक स्कूल मोहाली से प्राप्त की। मिडिल शिक्षा दशमेश एकेडमी आनंदपुर साहिब से पूरी करने के बाद इंग्लैंड चले गए।

सत्ता में अपने तीन साल पूरे होने का जश्न मना रही केंद्र सरकार, कांग्रेस नेता कमलनाथ ने दिया झूठ का जश्न करार

मोदी सरकार केंद्र की सत्ता में अपने तीन साल पूरे होने का जश्न मना रही है वहीं कांग्रेस ने इस पर हमला बोलते हुए इसे झूठ का जश्न करार दिया है। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने शुक्रवार के एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि आज यह तीन साल का जश्न मना रहे हैं लेकिन हम पूछते है कि इनके आलाव कौन इस जश्न को मना रहा है। पिछले तीन साल में हमने देखा कि भाषण और आश्वासन ही दिए गए हैं।
उन्होंने आगे कहा कि आज बेरोजगारी की सीमा नहीं है, आज के और 20 साल पहले के नौजवान में फर्क है। घरेलू निवेश देश के इतिहास में कभी इतना कम नहीं हुआ। पिछले 50 साल में बेरोजगारी सबसे ज्यादा हो चुकी है। उन्होंने आगे कहा कि मोदी सरकार ने केवल कलाकारी की राजनीति करते हुए भाषण और आश्वासन का शासन किया है। किसान कर्ज के जाल में है, खुदकुशी कर रहे हैं और हर मोर्चे पर सरकार फेल हुई है।
कमलनाथ आगे बोले की कांग्रेस की योजनाओं को अपना बता रहे हैं, देश में दलितों पर अत्याचार हो रहे हैं।

इंदौर मध्यप्रदेश के यात्रियों से भरी बस गंगोत्री हाईवे पर गहरी खाई में गिरी

गंगोत्री धाम से दर्शन कर लौट रही इंदौर मध्यप्रदेश के यात्रियों से भरी बस गंगोत्री हाईवे पर नालूपानी के पास गहरी खाई में गिरी। जिसमें 21 यात्रियों की मौके पर ही मौत हुई। तीन यात्रियों का अभी तक कोई पता नहीं चल पाया है, जबकि 6 घायल यात्रियों को रेस्क्यू कर निकाला गया है।
भागीरथ निवासी बेटमा (इंदौर), अंजू देवी दौलतपुर बेटमा (इंदौर), बलीराम चौहान बेटमा (इंदौर), जीतेंद्र चौधरी, बेटमा (इंदौर), भावना, बेटमा (इंदौर) नामक सभी 6 घायलों को करीब के ही अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रेस्क्यू किए गए अन्य 3 यात्रियों की भी शिनाख्त की जा रही है।
मंगलवार सुबह को गंगोत्री धाम के दर्शन करने के बाद इंदौर मध्यप्रदेश के 57 यात्रियों का दल दो बसों में सवार होकर वापस लौटा। चालक परिचालक समेत 31 यात्री एक बस में थे तथा 30 यात्री दूसरी बस में सवार थे। दोनों बसे आगे पीछे चल रही थी। शाम करीब छह बजे 30 यात्रियों से भरी बस उत्तरकाशी से 25 किलोमीटर दूर ऋषिकेश की ओर गंगोत्री हाईवे पर नालूपानी में बस अनियंत्रित होकर 300 मीटर गहरी खाई में गिरी।

मानवाधिकार की उड़ी धज्जियां

पाकिस्तान की जेल में बंद कुलभूषण जाधव पर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) गुरुवार को भारतीय समय के अनुसार दोपहर 3.30 बजे फैसला सुनाएगा। अदालत ने सोमवार को पाकिस्तान और भारत की दलीलें सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। कोर्ट की तरफ से कहा गया कि वह जल्द से जल्द जाधव केस में अपना फैसला सुना देगा।
पाकिस्तान ने कहा- जाधव के पास अपील के हैं 50 दिन
पाकिस्तान ने आईसीजे में सुनवाई के दौरान अपनी दलीलें रखते हुए कहा कि कुलभूषण जाधव को ब्लूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया है और वह इस लायक नहीं है कि उसका कांसुलर एक्सेस दिया जाए। पाकिस्तान ने आगे कहा कि जाधव मामला अंतरराष्ट्रीय अदालत के दायरे में नहीं आता है क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है।
भारत ने कहा- पाक कब जाधव को मार देगा, पता नहीं
जबकि, भारत ने सबसे पहले जिरह करते हुए केस में अपनी तरफ से तथ्यों को सामने रखते हुए कुलभूषण जाधव केस को विएना संधि का सरासर उल्लंघन करार दिया। अब पाकिस्तान जाधव मामले में अपनी दलीलें पेश करेगा। दोनों पक्षों को 90 मिनट का समय दिया गया है।
ICJ में भारत ने कहा- जाधव पर आरोप ‘मनगढ़ंत’ और ट्रायल ‘हास्यास्पद’
इंटरनेशनल कोर्ट के सामने भारत की तरफ से केस का प्रतिनिधित्व कर रहे दीपक मित्तल ने जाधव पर लगे आरोपों को ‘मनगढ़ंत’ और पूरी ट्रायल को ‘हास्यास्पद’ करार दिया। उन्होंने कहा कि मानवाधिकार सबसे आधारभूत चीज है लेकिन पाकिस्तान ने जाधव केस में इसकी धज्जियां उड़ा कर रख दी है और जितनी भी बार उससे कांसुलर एक्सेस की मांग की गई उसने अनसुना कर दिया।
उन्होंने कहा कि वियना संधि के तहत कहा गया है कि अगर किसी व्यक्ति को पकड़ा जाता है, तो दोनों देशों में उसे राजनियक नियमों के तहत मदद मिलेगी, इसका उल्लेख आर्टिकल 36 में भी हुआ है। भारत किसी अन्य देश की न्यायिक व्यवस्था में हस्तेक्षेप नहीं कर रहा है, हम सिर्फ अंतरराष्ट्रीय नियमों की बात कर रहे हैं। पाकिस्तान को नियमों का पालन करना ही होगा।
हरीश साल्वे ने कहा- जाधव को पाक ने किया किडनैप
भारत की तरफ से नीदरलैंड स्थित हेग कोर्ट में जाधव केस की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने कहा कि ऐसा कोई संकेत नहीं मिलता है कि कहां पर जाधव के लिए दया याचिका लगाई जा सके। उन्होंने कहा कि पूर्व भारतीय नेवी ऑफिसर कुलभूषण जाधव को इरान से किडनैप किया गया और उसके बाद जो उसका कबूलनामा सामने आया वह संदेहास्पद है क्योंकि ये सब पाकिस्तानी सेना की हिरासत में हुआ है।
हरीश साल्वे ने कहा कि किसी भी केस में मानवाधिकार उसकी बुनियाद होता है। लेकिन, जाधव मामले में मानवाधिकार की पाकिस्तान ने धज्जियां उड़ा दी। हालत ये रही कि मिलिट्री कोर्ट द्वारा ट्रायल के दौरान कुलभूषण को अपने बचाव में वकील देने से मना कर दिया गया।
साल्वे ने कहा कि वर्तमान स्थिति बड़ी चिंताजनक हो चुकी है जिसके चलते भारत ने अंतरराष्ट्रीय अदालत के सामने इस मामले को लेकर इंसाफ की गुहार लगाई है। आईसीजे में उन्होंने आगे कहा कि भारत ने पाकिस्तान के सामने जाधव के लिए कई बार कांसुलर एक्सेस की मांग की लेकिन पाकिस्तान ने लगातार भारत की इन मांगों को मानने से इनकार कर दिया।
जाधव के पैरेंट्स के वीजा एप्लीकेशन का नहीं मिला जवाब
हरीश साल्वे ने आगे कहा कि जाधव को अपने बचाव के अधिकार से वंचित किया गया। जाधव के माता-पिता ने जब पाकिस्तान से वीजा के लिए आवेदन लगाय उस पर भी कोई जवाब नहीं दिया गया।
इससे पहले भारत और पाकिस्तान दोनों ही देश आज से करीब 18 साल पहले संयुक्त राष्ट्र की इस न्यायिक अदालत के आमने-सामने आए थ।
वह घटना 1999 की थी जब जब पाकिस्तान ने उसके नौसैनिक विमान को मार गिराए जाने के मामले में हस्तक्षेप का अंतरराष्ट्रीय अदालत से आग्रह किया था। मामले की सुनवाई नीदरलैंड (हॉलैंड) के शहर हेग में स्थित पीस पैलेस के ग्रेट हॉल ऑफ जस्टिस में हुई।
गौरतलब है कि अंतरराष्ट्रीय अदालत में 11 सदस्यी जजों की बेंच जाधव केस की सुनवाई की थी। भारत की तरफ से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने अपना पक्ष रखा जबकि पाकिस्तान की तरफ से विदेश सचिव तहमीना जांजुआ पक्ष रखने के लिए वहां पहुंची हैं।
2016 में हुई जाधव की गिरफ्तारी
पाकिस्तान के मिलिट्री कोर्ट ने ने कुलभूषण जाधव को जासूसी और विध्वंसकारी साजिश रचने के आरोप में दोषी पाते हुए मौत की सजा सुनाई है।
पाकिस्तान ने जासूसी के आरोप में उन्हें एक साल से भी अधिक समय से हिरासत में रखा है। कुलभूषण जाधव को 10 अप्रैल को फांसी की सजा सुनाई गई थी। पाकिस्तान ने जाधव को 3 मार्च, 2016 को बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया गया था।

नई पॉलिसी पर वाहनों से किलोमीटर के हिसाब से टोल टैक्स वसूला जाएगा

मोदी सरकार एक नई पॉलिसी पर काम कर रही है, जिसके तहत वाहनों से किलोमीटर के हिसाब से टोल टैक्स वसूला जाएगा। यानी उस टोल रोड़ पर वाहन जितने किमी चला है, यात्री को उतनी ही दूरी का टैक्स देना होगा।
मौजूदा व्यवस्था में वाहनों से पूरे टोल रोड का टैक्स वसूला जाता है। अलग-अलग श्रेणियों के वाहनों के लिए रकम पूर्व निर्धारित है। इस बात का कोई फर्क नहीं है कि किसी वाहन ने पूरी टोल रोड़ का उपयोग किया है या उसके एक हिस्से का।
‘ओपन टोल पॉलिसी’ Vs ‘क्लोस्ड टोल पॉलिसी’
– वर्तमान में लागू टोल पॉलिसी को ‘ओपन टोल पॉलिसी’ कहा जाता है। इसमें औसतन 60 किमी के सफर पर एक निश्चित राशि का शुल्क वसूला जाता है।
– अब सरकार ‘क्लोस्ड टोल पॉलिसी’ लाने पर विचार कर रही है। इसके तहत यात्री प्रति किमी के हिसाब से शुल्क चुका सकेंगे।
– कैबिनेट से मंजूरी मिलने के बाद यह व्यवस्था देश के सभी हाईवे और एक्सप्रेस वे पर लागू होगी।
– योजना को ऐसे समय मूर्त रूप देने की कोशिश की जा रही है, जब देश के नेशनल हाईवे पर टोल टैक्स में लगातार बढ़ोतरी की शिकायतें आ रही हैं। इससे लोगों का यात्रा खर्च बढ़ रहा है। मालूम हो हाईवे पर टोल टैक्स हर साल तय किया जाता है।
– सड़क तथा परिवहन मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार, योजना सबसे पहले 135 किमी के नए ईस्टर्न एक्सप्रेसवे पर लागू की जाएगी, जो दिल्ली होते हुए हरियाणा और उत्तरप्रदेश को जोड़ता है।
– पिछले हफ्ते इंडिया इंटेग्रेटेड ट्रांसपोर्ट एंड लॉजिस्टिक्स समिट में सड़क तथा परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस योजना के संकेत दिए थे।

सुप्रीम कोर्ट ने अवमानना का दोषी माना विजय माल्या को

सुप्रीम कोर्ट ने विजय माल्या को बड़ा झटका देते हुए उन्हें अवमानना का दोषी माना है। साथ ही उन्हें समन जारी कर 10 जुलाई को पेश होने का आदेश भी दिया है। अदालत ने उन्हें दोषी मानते हुए कहा कि उन्होंने अपनी संपत्ति का ब्योरा नहीं दिया है।
इससे पहले 9 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने विजय माल्या के खिलाफ अदालत की अवमानना और डिएगो डील से उन्हें मिले 40 मिलियन यूएस डॉलर पर अपना आदेश सुरक्षित रखा था। बैंकों ने कोर्ट से मांग की है कि माल्या को डिएगो डील से मिले 40 मिलियन यूएस डॉलर को सुप्रीम कोर्ट की रजिस्ट्री में जमा कराया जाए।
आपको बता दें कि भारतीय बैंकों से 9000 करोड़ से अधिक का कर्ज लेकर लंदन फरार विजय माल्या को ब्रिटेन की स्काटलैंड यार्ड पुलिस ने भी गिरफ्तार किया था और फिर बाद में उन्हें 6,50,000 पौंड के बांड पर छोड़ दिया गया। फार्मूला वन टीम को मालिक, किंगफिशर एयरलाइंस और शराब कंपनी के 61 वर्षीय मालिक विजय माल्या को 17 मई को वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में भी पेश होना है।

नवरात्र में खाली पैट भी गजब ऊर्जा से काम कर रहे हमारे पी एम्

नई दिल्‍ली, जेएनएन। देश के लाखों लोग चैत्र नवरात्र के मौके पर उपवास पर हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी नवरात्र के दौरान नौ दिन का उपवास रखते हैं। वह इन दिनों उपवास पर जरूर हैं, लेकिन इसके बावजूद उनके चेहरे पर ध्‍यान या ऊर्जा में कमी नजर नहीं आ रही है। पीएम मोदी उपवास के दौरान भी पहले की नजर काम कर रहे हैं और अप्रैल का पहला सप्‍ताह तो उनका बेहद व्‍यस्‍त जाने वाला है।
पीएम मोदी उपवास के दौरान नौ दिनों तक सिर्फ गर्म पानी, दूध और फलों का रस लेते हैं। इस दौरान उनकी दिनचर्या में ज्‍यादा बदलाव नहीं आता है। वह पहले की तरह ही काम में जुटे रहते हैं। अप्रैल के पहले हफ्ते में भी वह इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर, न्याय, प्रौद्योगिकी और आध्यात्मिकता से संबंधित मुद्दों पर काम करते नजर आएंगे।
रविवार को पीएम मोदी भारत की सबसे लंबी सड़क सुरंग ‘चनैनी-नाशरी टनल’ को देश को समर्पित करेंगे, जो जम्‍मू और श्रीनगर के बीच बनाई गई है। यह सुरंग हमारी सेना का सामान पहुंचाने की दृष्टि से भी काफी महत्‍वपूर्ण है। राज्य की अत्याधुनिक सुरंग की यात्रा के बाद पीएम मोदी उधमपुर में एक सार्वजनिक बैठक को भी संबोधित करेंगे।
सुरंग परियोजना का अनावरण करने के लिए पहाड़ी राज्य तक पहुंचने से पहले, पीएम मोदी इलाहाबाद उच्च न्यायालय की 150वीं वर्षगांठ के समापन समारोह में भाग लेने के इलाहाबाद में होंगे। शनिवार को प्रधानमंत्री दिल्ली के हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय वार्ता के लिए मलेशियाई प्रधान मंत्री नजीब रजाक की मेजबानी करेंगे। मलेशियाई प्रधानमंत्री भारत की यात्रा पर हैं।
पीएम मोदी चैत्र नवरात्र और शारदीय नवरात्र में नौ-नौ दिनों का उपवास रखते हैं। एक सूत्र ने बताया, ‘पीएम मोदी नवरात्र के दौरान केवल पानी, दूध और जूस ही पीते हैं। हालांकि, कठोर संयम का अभ्यास करते समय भी वह अपने कर्तव्यों को उसी भावना से पालन करते हैं, जैसे सामान्‍य दिनों में करते हैं।’
उपवास और व्यस्त कार्यक्रम के बावजूद प्रधानमंत्री भारत के कुछ सबसे तेज युवा ‘तकनीकी’ दिमागों को संबोधित करने के लिए समय निकालेंगे, जो स्मार्ट इंडिया हैकथॉन के अंतिम दौर में भाग ले रहे हैं। हैकथॉन शनिवार 8 बजे से रविवार शाम 8 बजे तक चलेगा। यह केंद्र सरकार के 29 मंत्रालयों और विभागों द्वारा पहचाने जाने वाले सामाजिक मुद्दों और समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करेगा।