पहला मैच हारने के बाद लगातार चार मैच जीत चुकी मुंबई इंडियंस

मुंबई इंडियंस आमतौर पर आईपीएल में धीमी शुरुआत करती रही है, लेकिन इस बार वह पहला मैच हारने के बाद लगातार चार मैच जीत चुकी है। टीम तो लय में है, लेकिन टीम की जान कप्तान रोहित शर्मा फ्लॉप हो रहे हैं। रोहित पांच मैचों में अभी तक मात्र 49 रन बना पाए है और अब उन पर भी बड़ी पारी खेलने का दबाव बन रहा है। वे इस सत्र में स्पिनरों विशेषकर लेग ब्रेक गेंदबाजों के सामने टिक नहीं पा रहे हैं।
रोहित के लिए स्पिनर इस सत्र में काल साबित हो रहे हैं और वे पांच मैचों में चार बार आउट हुए और चारों बार विदेशी स्पिनरों ने उनका शिकार किया है। इमरान ताहिर, सुनील नरेन, राशिद खान और सैमुअल बद्री उन्हें पैवेलियन लौटा चुके हैं। रोहित सिर्फ गुजरात लॉयंस के खिलाफ मैच विजयी 40 रनों की नाबाद पारी खेल पाए और इसमें भी उनके लिए अच्छी बात यह रही कि गुजरात ने उनके सामने स्पिनरों का ज्यादा उपयोग ही नहीं किया।
‍रोहित को अब किंग्स इलेवन पंजाब का उसके दूसरे होम ग्राउंड इंदौर में सामना करना है। किंग्स इलेवन इस मैदान पर अपने दोनों मैच जीत चुकी है। किंग्स के पास अक्षर पटेल के रूप में दिग्गज स्पिनर मौजूद है, इसके अलावा यह टीम इंदौर में स्वप्निल सिंह भी प्लेइंग इलेवन में मौका दे सकती है। ये दोनों लेग स्पिनर है। इसे देखते हुए रोहित के सामने इंदौर में बड़ा स्कोर बनाना चुनौतीपूर्ण रहेगा, वैसे यदि रोहित का बल्ला चल पड़ा तो वे किसी भी गेंदबाज की धज्जियां उड़ाने का माद्दा तो रखते ही है।
रोहित अभी तक 5 मैचों में 5 पारियों में 12.25 की औसत से मा‍त्र 49 रन बना पाए हैं। इसमें भी उनका सर्वाधिक स्कोर नाबाद 40 रन है जो उन्होंने टीम को गुजरात लॉयंस के खिलाफ जीत दिलाने के दौरान बनाए थे।
इंदौर में खराब रिकॉर्ड : वैसे इंदौर के होलकर स्टेडियम में रोहित शर्मा का रिकॉर्ड अच्छा नहीं रहा है। रोहित ने इस मैदान में 3 अंतरराष्ट्रीय वन-डे खेले, जिनमें वे मात्र 33 रन बना पाए। वैसे उन्होंने पिछले वर्ष न्यूजीलैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में 51 रनों की नाबाद पारी खेली थी।
रोहित की इस आईपीएल में पांच पारियां
– रोहित मात्र 3 रन बनाकर राइजिंग पुणे सुपरजायंट के दक्षिण अफ्रीकी स्पिनर इमरान ताहिर के शिकार बने थे।
– वे केकेआर के खिलाफ मात्र 2 रन बनाकर सुनील नरेन के शिकार बने।
– वे सनराइजर्स के खिलाफ 4 रन बनाकर राशिद की गेंद पर आउट हुए।
– वे आरसीबी के खिलाफ तो खाता भी नहीं खोल पाए और सैमुअल बद्री ने उन्हें बोल्ड कर हैटट्रिक पूरी की थी। – रोहित ने गुजरात लॉयंस के खिलाफ मैच विजयी नाबाद 40 रनों की पारी खेली।

अंदाजा लगाना मुश्किल यह कोई खिलाड़ी है या मॉडलिंग गर्ल

कॉमनवेल्थ मेडल विजेता पहलवान गीता फोगाट सोमवार को इंदौर में थी। गीता एक निजी स्कूल में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने पहुंची थी। इस दौरान मल्टीकलर प्रिंटेड पलाजो, व्हाइट टॉप और गॉगल लगाए गीता को देखकर यह अंदाजा लगाना मुश्किल हो रहा था कि यह कोई खिलाड़ी है या मॉडलिंग गर्ल।
‘बापू सेहत के लिए” गीत पर स्कूली विद्यार्थियों के साथ गीता डांस भी किया और विद्यालय की छात्रा नमामी जोशी के साथ कुश्ती के दांव-पेंच भी आजमाऐ। विद्यार्थियों के सवालों पर गीता फोगाट ने बेबाकी से अपनी बात रखते हुए कहा कि बचपन से आज तक के सफर में सफल खिलाड़ी बनने के लिए इतने डंडे खाए कि आज हम पहलवान बन गए।
कुश्ती के शुरुआती दिनों के बारे में बताते हुए गीता ने बताया कि जब वो और बबीता छोटे थे और उनके पापा ने कुश्ती के लिए कहा तो पहले एक माह में तो बड़ा मजा आया। लेकिन धीरे-धीरे यह सजा लगने लगा और फिर उसके 6-7 साल तक यह जी का जंजाल बन गया। लगता था कि न जाने क्यों हम पर इतना सितम हो रहा है। पर अब जब मैं पीछे मुड़कर देखती हूं तो लगता है कि जो तकलीफ हमने उठाई वह बहुत ही कम थी। मैडल और देश का नाम रौशन करने के लिए तो यह मेहनत भी कुछ नहीं।
मां से ज्यादा पिता का संघर्ष
मैंने महसूस किया कि मां से ज्यादा पिता का संघर्ष होता है। घर में एक पहलवान को तैयार करना ही मुश्किल होता है तो हमारे घर में पांच पहलवान तैयार हुए है। जहां तक सवाल हमारे सपने देखने का है तो इसका मौका तो हमें मिला ही नहीं और जब सपना देखने का मौका मिला तो बस गोल्ड मैडल पाने का ही सपना देखा।
कमजोर देश के काम का नहीं
फिल्म दंगल के बाद मुझे एक अलग पहचान मिली लेकिन इससे भी ज्यादा खुशी इस बात की है कि मेरे पिता को ज्यादा पहचान मिली। फिल्म आने के बाद अब पापा का सपना देश का सपना बन गया है। जहां तक बात सुंदरता की है तो मैं हाल ही में फेमिना मिस इंडिया में निर्णायक भी थी। वहां मैंने लड़कियों की खूबसूरती से ज्यादा उनकी ताकत को जोर दिया क्योंकि मेरा मानना है कि कमजोर लड़की देश के किसी काम की नहीं।
बच्चों के लिए सक्सेस मंत्र
बच्चों को यह नहीं पता होता है कि उनके लिए क्या सही है और क्या गलत। इसलिए वे अभिभावकों की बात मानें। अभिभावकों की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को अनुशासन में रहना सिखाएं और उनका साथ दें । इसके लिए बच्चों को भी अभिभावकों का साथ देना चाहिए।

हमवतन किदाम्बी श्रीकांत को हराकर भारत के बी. साई प्रणीत ने की जबर्दस्त वापसी

भारत के बी. साई प्रणीत ने जबर्दस्त वापसी कर हमवतन किदाम्बी श्रीकांत को हराकर सिंगापुर सुपर सीरीज बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब हासिल किया। प्रणीत ने यह मुकाबला 17-21, 21-17, 21-12 से जीता। यह पहला मौका था जब दो भारतीय खिलाडि़यों के बीच सुपर सीरीज टूर्नामेंट का खिताबी मुकाबला खेला गया था। प्रणीत का यह पहला सुपर सीरीज खिताब है।
पहले गेम में 5-5 के स्कोर तक दोनों खिलाड़ी बराबरी पर चल रहे थे, इसके बाद श्रीकांत ने बढ़त बनाई और देखते ही देखते स्कोर 14-8 कर लिया। प्रणीत ने वापसी का प्रयास किया और कुछ अंक हासिल करते हुए स्कोर को 11-15 तक पहुंचाया। श्रीकांत एक समय 19-14 से आगे थे। प्रणीत ने वापसी का प्रयास किया, लेकिन श्रीकांत ने यह गेम 21-17 से अपने नाम किया।
श्रीकांत ने दूसरे गेम में भी धमाकेदार शुरुआत करते हुए 6-1 की बढ़त बना ली थी, लेकिन प्रणीत ने जबर्दस्त वापसी कर 7-7 के स्कोर पर बराबरी की। इसके बाद 13-13 के स्कोर पर दोनों बराबर रहे, जिसके बाद प्रणीत ने अपने विपक्षी खिलाड़ी को कोई मौका नहीं दिया और यह गेम 21-17 से जीतकर मैच में 1-1 की बराबरी कर ली।
निर्णायक गेम में प्रणीत ने शुरू से ही अपना दबदबा बनाए रखा और एक समय वे 11-5 से आगे थे। इसके बाद श्रीकांत ने वापसी का प्रयास किया, लेकिन उनकी कोशिश कामयाब नहीं हो पाई।
खुशी शब्दों में बयां नहीं कर सकता: जीत के बाद प्रणीत ने कहा कि वे इस जीत की खुशी को शब्दों में बयां नहीं कर सकते हैं। वे बहुत खुश है कि उनकी मेहनत रंग लाई।

दिल्ली नगर निगम चुनाव से पहले संकल्प पत्र जारी

राजधानी दिल्ली में नगर निगम चुनाव करीब हैं और इससे पहले भाजपा ने अपना संकल्प पत्र जारी कर दिया है। रविवार को जारी किए गए इस संकल्प पत्र में 10 रुपए में खाने के अलावा और भी कई अन्य वादे किए गए हैं। भजपा ने संकल्प पत्र में कुड़े को लेकर भी कुछ कदम उठाने का वादा किया है ताकि राजधानी को आए दिन गंदगी का सामना ना करने पड़े।
यह वादे किए
दिल्ली को विश्वस्तरीय बनाने का वादा।
निगम के कामकाज में पारदर्शिता लाने मॉनिटरिंग की व्यवस्था की जाएगी।
भाजपा निगम में वापस आई तो कोई नया टैक्स नहीं लगाया जाएगा।
निगम को फंड तुरंत मिले इसके लिए जरूरी कदम उठाएंगे।
दीनदयाल अंत्योदय योजना के तहत 10 रुपये में भोजन।
महीने में पार्षद वार्ड के सभी आरडब्लूए के पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगे।
प्रत्येक संपति को अलग विशेष नंबर दिया जाएगा।
लाइसेंस जारी करने के सिंगल विंडो।
ढलाव घर खत्म होंगे, लैंडफिल साइट के कूड़े का हाइवे निर्माण में प्रयोग।
निगम के स्कूलों को निजी स्कूल गोद लेंगे।
लघु उद्योग को लाइसेंस से मुक्त करेंगे, ऑटो रिक्शा के लिए स्टैंड बनाने का वादा।
स्टैंड पर पानी और शौचालय की व्यवस्था।
अनाधिकृत कालोनियों को नियमित करने के लिए राज्य सरकार पर दबाव बनाएंगे।
500 वर्गमीटर के प्लाट पर नक्शा पास कराने की अनिवार्यता खत्म की जाएगी।
छठ घाटों की संख्या बढ़ाने के साथ ही सफाई की व्यवस्था की जाएगी।
रेहड़ी पटरी वालों का पक्का रजिस्ट्रेशन, बुजुर्गों, विधवा और दिव्यांग पेंशन में बढ़ोतरी के लिए नियमित समीक्षा।
सफाई कर्मचारियों को निशुल्क जीवन बीमा और कैशलेस स्वास्थ्य बीमा।
अस्थायी सफाई कर्मचारियों को नियमित करने का वादा।

क्रिकेट इतिहास के पन्नों से ३३ साल पहले बिना फाइनल खेले कैसे जीता भारत एशिया कप

क्रिकेट जगत में आईपीएल 2017 की धूम है। इस बीच क्रिकेट इतिहास के पन्नों से एक रोचक जानकारी निकल कर आई है।
33 साल पहले यानी 13 अप्रैल 1984 को भारतीय टीम ने पहला एशिया कप जीता था। शारजाह में खेले गए इस मैच में सुनील गावस्कर की कप्तानी में भारतीय टीम ने पाकिस्तान को हराया था। खास बात यह है कि उस टूर्नामेंट में फाइनल नहीं हुआ थी। एक नजर इसी से जुड़ी अहम बातों पर — टूर्नामेंट में भारत और पाकिस्तान के अलावा श्रीलंका ने हिस्सा लिया था। कुल तीन मैच हुए थे और अंक तालिका में शीर्ष पर रहने वाले टीम को चैंपियन घोषित कर दिया गया। पहला मैच भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया था, जिसमें टीम इंडिया ने आसान जीत दर्ज की थी।
– दूसरा मुकाबला पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच हुआ। पाकिस्तान को यहां भी मात खाना पड़ी। अब तीसरा और सीरीज का आखिरी मैच भारत और पाकिस्तान के बीच होना था। भारत यह मैच जीतकर चैंपियन बना।
– तीन मैचों के बाद भारत के 8 अंक रहे, जबकि श्रीलंका के 4 अंक। पाकिस्तान कोई भी मैच नहीं जीत सका था।
– इस टूर्नामेंट से ठीक पहले भारत ने कपिल देव की कप्तानी में विश्वकप जीता था, लेकिन इन सीरीज में चोंट के कारण कपिल नहीं खेल पाए थे।
पाकिस्तान ने यूं टेंक दिए थे घुटने
आखिरी मैच में सुनील गावस्कर ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। निर्धारित 46 ओवर में भारत ने चार विकेट खोकर महज 188 रन बनाए। सलामी बल्लेबाजों, सुरिंदर खन्ना और गुलाम पार्कर ने 54 रन जोड़े। खासतौर पर खन्ना ने 72 गेंदों में 56 रन बनाए थे। संदीप पाटिल ने 43 और गावसकर ने 36 रन बनाए थे।
189 रन के छोटे से लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान टीम 134 रन पर सिमट गई। टीम इंडिया की ओर से रवि शास्त्री और रोजर बिन्नी ने तीन-तीन विकेट लिए।

भारत की ओर से सबसे ज्यादा चार आईपीएल शतक विराट कोहली के

दिल्ली डेयरडेविल्स के बल्लेबाज संजू सैमसन आईपीएल-10 के पहले शतकवीर बन गए हैं। पुणे सुपरजायंट के खिलाफ मंगलवार को संजू सैमसन ने 63 गेंदों पर 8 चौके और 5 छक्को की मदद से नाबाद 102 रन बनाए।
आईपीएल के दस साल के इतिहास में अब तक 43 शतक लगे हैं। इनमें से 17 शतक भारतीयों के नाम हैं। अब तक 12 भारतीय बल्लेबाज आईपीएल में शतक लगाने में कामयाब रहे हैं। भारत की ओर से सबसे ज्यादा चार आईपीएल शतक विराट कोहली ने लगाए हैं।
कुल मिलाकर जो 43 शतक लगे हैं, उनमें पांच शतक क्रिस गेल के हैं। उनके बाद चार शतकों के साथ विराट कोहली हैं। एबी डिलियर्स तीन शतक लगाने पर एकमात्र बल्लेबाज हैं। ब्रेंडम मैक्कुलम, एडम गिलक्रिस्ट, डेविड वॉर्नर, वीरेंद्र सहवाग, शेन वॉट्सन और मुरली विजय ने दो-दो सेंचुरी ठोंकी हैं।
एक नजर भारत के शतकवीरों पर –
एम. पाण्डे
यूसुफ पठान
मुरली विजय (दो शतक)
पॉल वालथेटी
सचिन तेंडुलकर
वीरेंद्र सहवाग (दो शतक)
अजिंक्य रहाणे
रोहित शर्मा
सुरेश रैना
रिद्धिमान साहा
विराट कोहली (चार शतक)
संजू सैमसन

मुंबई इंडियन्स ने कोलकाता नाइट राइडर्स को हरा दिया जीत के बाद भी खुश नहीं कप्तान रोहित शर्मा और कोच

मुंबई में रविवार को खेले गए आईपीएल 2017 के मैच में मुंबई इंडियन्स ने कोलकाता नाइट राइडर्स को हरा दिया। हालांकि जीत के बाद भी मुंबई टीम के कप्तान रोहित शर्मा और कोच माहेल जयवर्द्धने खुश नहीं हैं। दोनों ने अम्पायरिंग को लेकर सवाल उठाया है।
वानखेड़े स्टेडियम में हुए इस मैच में कप्तान रोहित शर्मा को एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया गया था। रोहित का मानना है कि उन्हें गलत आउट दिया गया। अंपायर के इस फैसले पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की थी और जिस कारण उन्हें मैच रेफरी की फटकार भी मिली थी।
मैच के बाद अंपायरों पर निशाना साधते हुए जयवर्द्धने ने कहा कि आशा है कि प्रतिद्वंदी टीम विकेट लेने में अधिक मेहनत करेगी न कि अम्पायर।
बकौल जयवर्द्धने, ऐसा होता है। यह हमारे नियंत्रण में नहीं है। मुझे नहीं लगता कि और कोई ऐसी गलतियां कर सकता है। हमें बदलाव की आशा है कि आगे से प्रतिद्वंदी टीम हमारे विकेट लें न कि अंपायर।
मालूम हो, आईपीएल के 10वें संस्करण में अधिकतर भारतीय अंपायर हैं। इसमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर के अंपायरों की संख्या कम है। पिछले सीजन में एक मैच में एक स्थानीय अंपायर के साथ अंतर्राष्ट्रीय अंपायर भी शामिल होता था।

आईपीएल 2017 के मैच में मुंबई इंडियन्स ने कोलकाता नाइट राइडर्स को हरा दिया

मुंबई में रविवार को खेले गए आईपीएल 2017 के मैच में मुंबई इंडियन्स ने कोलकाता नाइट राइडर्स को हरा दिया। हालांकि जीत के बाद भी मुंबई टीम के कप्तान रोहित शर्मा और कोच माहेल जयवर्द्धने खुश नहीं हैं। दोनों ने अम्पायरिंग को लेकर सवाल उठाया है।
वानखेड़े स्टेडियम में हुए इस मैच में कप्तान रोहित शर्मा को एलबीडब्ल्यू आउट करार दिया गया था। रोहित का मानना है कि उन्हें गलत आउट दिया गया। अंपायर के इस फैसले पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की थी और जिस कारण उन्हें मैच रेफरी की फटकार भी मिली थी।
मैच के बाद अंपायरों पर निशाना साधते हुए जयवर्द्धने ने कहा कि आशा है कि प्रतिद्वंदी टीम विकेट लेने में अधिक मेहनत करेगी न कि अम्पायर।
बकौल जयवर्द्धने, ऐसा होता है। यह हमारे नियंत्रण में नहीं है। मुझे नहीं लगता कि और कोई ऐसी गलतियां कर सकता है। हमें बदलाव की आशा है कि आगे से प्रतिद्वंदी टीम हमारे विकेट लें न कि अंपायर।
मालूम हो, आईपीएल के 10वें संस्करण में अधिकतर भारतीय अंपायर हैं। इसमें अंतर्राष्ट्रीय स्तर के अंपायरों की संख्या कम है। पिछले सीजन में एक मैच में एक स्थानीय अंपायर के साथ अंतर्राष्ट्रीय अंपायर भी शामिल होता था।

भारतीय हॉकी टीम महिला हॉकी विश्व लीग राउंड-2के फाइनल में

भारतीय हॉकी टीम सेमीफाइनल में बेलारूस को 4-0 से हराकर महिला हॉकी विश्व लीग राउंड-2के फाइनल में पहुंच गई है। फाइनल में उसका मुकाबला चिली से होगा, जिसने एक अन्य सेमीफाइनल में उरुग्वे को 2-1 से हराया। इस जीत के साथ भारत ने जुलाई में होने वाले महिला हॉकी विश्व लीग के सेमीफाइनल में अपना टिकट पक्का कर लिया है, जो 2018 में होने वाले इंटरनेशनल हॉकी फेडरेशन (एफआईएच) महिला हॉकी विश्व कप का क्वालीफायर होगा।
भारत को पहला पेनल्टी कॉर्नर 13वें मिनट में मिला, जिसे गुरजीत कौर ने अपने बेहतरीन शॉट से गोल में तब्दील करने में कोई गलती नहीं की। इस तरह भारत को पहले क्वार्टर में 1-0 की बढ़त हासिल हुई। कप्तान रानी ने 20वें मिनट में पेनल्टी स्ट्रोक को गोल में तब्दील कर भारत की बढ़त 2-0 कर दी। 40वें मिनट में कप्तान रानी ने अकेले प्रयास से बेहतरीन फील्ड गोल कर भारत की बढ़त 3-0 कर दी। 58वें मिनट में गुरजीत कौर ने शानदार पेनल्टी स्ट्रोक से गोल कर भारत की बढ़त 4-0 कर दी।
‘हम इस जीत से काफी रोमांचित और खुश हैं। हम बेहतर रक्षापंक्ति के साथ एकजुट होकर खेले और मुझे इस बात की खुशी है कि हमने पेनल्टी कार्नर को गोल में बदलने के मौके नही गंवाए। हमारा लक्ष्य फाइनल में पहुंचने का था और अब हम चिली को कड़ी चुनौती देने जा रहे हैं।

वेस्टइंडीज ने दी पहले वनडे मैच में पाकिस्तान को चार विकेट से शिकस्त

जेसन मोहम्मद (नाबाद 91) की तूफानी पारी के दम पर वेस्टइंडीज ने पहले वनडे मैच में पाकिस्तान को चार विकेट से शिकस्त दी।
पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में पांच विकेट पर 308 रन बनाए। उसकी ओर से मुहम्मद हफीज (88) ने शानदार पारी खेली। जवाब में वेस्टइंडीज ने 49 ओवर में छह विकेट पर 309 रन बनाकर जीत हासिल की।
यह वेस्टइंडीज के 44 साल पुराने वनडे इतिहास में पहला मौका है जब उसने 300 या ज्यादा रन का लक्ष्य सफलता पूर्वक हासिल किया। हालांकि इस दौरान वह 31 बार 300 या ज्यादा रन का पीछा करने उतरी, लेकिन उसे एक बार भी जीत नसीब नहीं हुई। इस जीत के साथ वेस्टइंडीज ने तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली। दोनों टीमों के बीच दूसरा वनडे रविवार को प्रोविडेंस में खेला जाएगा।
लक्ष्य का पीछा करते हुए वेस्टइंडीज की शुरुआत खराब रही। चाडविक वाल्टन (07) तेज गेंदबाज मुहम्मद आमिर (2/59) की गेंद पर पवेलियन लौट गए। इसके बाद एविन लुइस (47) और कीरोन पावेल (61) ने टीम को खराब स्थिति से बाहर निकाला।
लुइस और पावेल के आउट होने के बाद जेसन 33वें ओवर में बल्लेबाजी करने आए। उन्होंने एक छोर संभाले रखा और तूफानी अंदाज में बल्लेबाजी की। 58 गेंदों की अपनी पारी में उन्होंने 11 चौके व तीन छक्के जड़े।
निचले क्रम में उन्हें एश्ले नर्स का बेहतरीन साथ मिला। नर्स ने 15 गेंदों पर पांच चौकों और एक छक्के के साथ नाबाद 34 रन बनाए।
दोनों ने सातवें विकेट के लिए 27 गेंदों में नाबाद 50 रनों की मैच विजयी साझेदारी निभाई।
इससे पहले एश्ले नर्स (4/62) ने गेंदबाजी में भी अपने हाथ दिखाए, जबकि पाकिस्तान के लिए हफीज के अलावा सलामी बल्लेबाज अहमद शहजाद (67) और शोएब मलिक (53) ने अर्धशतक जड़े।