भारत का ओसामा बिन लादेन कहा जाने वाला दिल्ली से गिरफ्तार

भारत का ओसामा बिन लादेन कहा जाने वाला इंडियन मुजाहिदीन का मोस्ट वांटेड आतंकी दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है। गणतंत्र दिवस के ठीक पहले दिल्ली पुलिस को यह बड़ी सफलता मिली है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने देश के मोस्ट वांटेड इंडियन मुजाहिदीन आतंकी अब्दुल सुभान कुरैशी उर्फ तौकीर को गिरफ्तार किया है। यह आतंकी इंडिया मुजाहिदीन का सह-संस्थापक है और सिमी का कमांडर रहा है। इसकी गिरफ्तारी शनिवार रात को हुई एक मुठभेड़ के बाद हुई है।
गिरफ्तारी को लेकर मीडिया से बात करते हुए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के डीसीपी प्रमोद कुशवाह ने बताया कि गिरफ्तारी गाजीपुर से हुई है। तौकीर देश में फिर से इंडियन मुजाहिदीन को जिंदा करने की कोशिश में दिल्ली आया था। यह अभी तक नकली पहचान के दम पर नेपाल में रह रहा था।
उन्होंने आगे बाताया कि तौकीर बम बानाने में माहिर है और अच्छी शिक्षा के चलते वो कई बड़ी आईटी कंपनियों में भी काम कर चुका है। उसने अच्छी नौकरी छोड़कर आतंक का रास्ता अपनाया और आतंकियों को ट्रेनिंग देता था। गुजरात धमाकों के बाद यह मध्यप्रदेश और बिहार भी गया था। यह आतंकी 2007 से 2013 के बीच हुई कई धमाकों में आरोपी था।
बताया जा रहा है कि इंडियन मुजाहिदीन का यह आतंकी गुजरात में 2008 में हुए सीरियल ब्लास्ट का आरोपी है। कुरेशी प्रतिबंधित संगठन सीमी का कमांडर है जिसने बाद में इंडियन मुजाहिदीन लॉन्च किया था। उसके खिलाफ कई राज्यों में आतंकी गतिविधियों के मामले में केस दर्ज हैं।
कुरेशी 2011 से फरार बताया जा रहा है और एनआईए ने 2012 में उसके सिर पर 4 लाख रुपए का इनाम भी रखा था। महाराष्ट्र के रहने वाले तौकीर के खिलाफ इंटरपोल ने रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी कर रखा था।

वडोदरा के केमिकल फैक्ट्री में धमाके से चार लोगों की मौत

वडोदरा के बाहरी इलाके में एक केमिकल फैक्ट्री में धमाके से चार लोगों की मौत हो गई और नौ अन्य घायल हो गए।
वडोदरा की जिलाधिकारी पी भारती ने बताया कि जीएसपी क्रॉप साइंस प्राइवेट लिमिटेड के फिल्टर में शाम लगभग साढ़े पांच बजे आग लग गई।
देखते-ही-देखते आग फैल गई और इसमें चार लोगों की मौत हो गई। मारे गए सभी लोग फैक्ट्री के कर्मचारी थे। पुलिस ने हादसे के चलते मौत का मामला दर्ज कर लिया है।
फॉरेंसिक रिपोर्ट आने के बाद प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। हादसे में घायल लोगों को आसपास के अस्पतालों में भर्ती कराया गया है, जिनमें दो की हालत गंभीर है।
वडोदरा के डीसीपी गौतम परमार ने बताया कि अग्निशमन कर्मचारियों को आग पर काबू पाने में लगभग दो घंटे का समय लगा।
इससे मशीनों और अन्य उपकरणों को काफी नुकसान पहुंचा है। हादसे के समय 13 कर्मचारी फैक्ट्री में काम कर रहे थे।

भगत सिंह को पाकिस्तान का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार “निशान-ए-हैदर” मिलना चाहिए

शहीद-ए-आजम भगत सिंह को पाकिस्तान का सर्वोच्च वीरता पुरस्कार “निशान-ए-हैदर” मिलना चाहिए। साथ ही लाहौर के शादमान चौक पर उनकी एक प्रतिमा लगाई जानी चाहिए। यह मांग पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से की गई है। यह संगठन स्वतंत्रता के इस महान सेनानी को कोर्ट में निर्दोष साबित करने के लिए काम कर रहा है।
शहीद भगत सिंह को दो अन्य स्वतंत्रता सेनानियों राजगुरु और सुखदेव के साथ 23 मार्च, 1931 को 23 साल की उम्र में लाहौर में फांसी दी गई थी। इन पर आरोप लगाया गया था कि उन्होंने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ षड्यंत्र रचा और ब्रिटिश पुलिस अधिकारी जॉन पी सांडर्स की हत्या की।
पाकिस्तान की पंजाब प्रांत की सरकार को दी अपनी ताजा अर्जी में भगत सिंह मेमोरियल फाउंडेशन ने कहा है कि भगत सिंह ने उपमहाद्वीप की स्वतंत्रता के लिए अपना बलिदान दिया था।
याचिका के अनुसार, “पाकिस्तान के संस्थापक कायदे आजम मोहम्मद अली जिन्ना ने भगत सिंह को यह कहते हुए श्रद्धांजलि दी थी कि उपमहाद्वीप में उनके जैसा कोई वीर शख्स नहीं हुआ है। भगत सिंह हमारे नायक हैं। वह मेजर अजीज भट्टी की तरह ही सर्वोच्च वीरता पुरस्कार (निशान-ए-हैदर) पाने के हकदार हैं, जिन्होंने भगत सिंह को हमारा नायक तथा आदर्श घोषित किया था।”
फाउंडेशन ने शादमान चौक का नाम भगत सिंह चौक करने की भी मांग की। फाउंडेशन ने कहा, “पंजाब सरकार को इसमें और विलंब नहीं करना चाहिए। जो देश अपने नायकों को भुला देते हैं, वे धरती से गलत शब्दों की तरह मिट गए हैं।”

डब्लूईएफ सम्मेलन से पहले पीएम मोदी ने शुक्रवार को दुनिया पर छोड़ी अपनी छाप

दावोस में होने वाले डब्लूईएफ सम्मेलन से पहले पीएम मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत ने दुनिया पर अपनी छाप छोड़ी है और अब जरूरत उसका लाभ उठाने की है। भारत की अर्थव्यवस्था तेजी से बढ़ रही है और सभी रेटिंग एजेंसियों समेत दुनियाभर ने इसे मान्यता दी है। “दावोस” भारत के लिए बेहतरीन अवसर है क्योंकि देश के पास एक बड़ा बाजार और जनसांख्यिकीय ताकत है।
सम्मेलन के लिए पहली बार दावोस जाने से पहले प्रधानमंत्री ने एक समाचार चैनल को दिए साक्षात्कार में कहा कि भारत की नीतियों और विकास क्षमताओं के बारे में दुनिया सीधे उसके मुखिया से सुनना चाहती है। विश्व आर्थिक मंच (डब्लूईएफ) सम्मेलन में 125 करोड़ भारतीयों की सफलता की कहानी सुनाने में उन्हें बेहद गर्व होगा। प्रधानमंत्री 23 जनवरी को सम्मेलन में उद्घाटन भाषण देंगे। यह पहला मौका होगा जब डब्लूईएफ सम्मेलन की शुरुआत भारतीय प्रधानमंत्री के भाषण से होगी।
प्रधानमंत्री ने कहा कि देश में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआइ) में बड़ा उछाल आया है। यह स्वाभाविक है कि दुनिया भारत से सीधे बात करना चाहती है। दावोस सम्मेलन को वैश्विक अर्थव्यवस्था के सबसे बड़े उद्योगपतियों, वित्तीय संस्थाओं और नीतिनिर्धारकों की सभा करार देते हुए मोदी ने कहा कि वह अब तक वहां नहीं जा सके।
लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उत्सवों की तरह चुनावों की तारीखें भी फिक्स होनी चाहिए ताकि राजनेताओं और नौकरशाहों को पूरे साल चुनाव प्रचार और चुनाव कराने में व्यस्त न रहना पड़े। सभी चुनावों के लिए उन्होंने एक ही मतदाता सूची की भी वकालत की।
प्रधानमंत्री ने कहा कि यह देश का दुर्भाग्य है कि इसका जातिगत राजनीति का इतिहास रहा है। लेकिन उनकी सरकार का मंत्र सिर्फ विकास है।
प्रधानमंत्री ने यह भी कहा
– मैं सामान्य इंसान हूं, सारे प्रोटोकॉल नहीं जानता हूं।
– सवा सौ करोड़ देशवासियों को अपने अंदर जीता हूं।
– देशवासियों की इच्छाशक्ति बहुत अहम।
– आपको दुनिया के सामने अपने वजूद का अहसास कराना होगा।
– विश्व ने देखा कि हम अलग सोच वाली अलग सरकार हैं।
– ग्लोबल वामिर्ग के मुद्दे पर भारत की निर्णायक भूमिका।
– हमने अंतरराष्ट्रीय मुद्दे पर आतंकवाद की बात को उठाया।
– आलोचना को अवसर में बदलना मेरा स्वभाव
– आर्थिक, सामाजिक दृष्टि से गुड गवनेर्स की ओर ठोस कदम।
– हम देश के लोगों को मुख्यधारा में लाने में सफल रहे।
– बैंकों के राष्ट्रीयकरण के बाद भी 30-40 फीसद लोग बैंकिंग में नहीं थे।
– आगामी बजट पर कहा, विकास किया है, विकास करेंगे।

आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता जानी लगभग तय

लाभ के पद मामले में उलझे आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों की सदस्यता जानी लगभग तय है। लंबे इंतजार के बाद चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति से इन विधायकों की सदस्यता खत्म कर देने की अनुशंसा की है। राष्ट्रपति से मंजूरी मिलते ही आयोग उनकी सदस्यता खत्म कर देगा। हालांकि, चुनाव आयोग की ओर से इस मामले में अभी कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। संपर्क किए जाने पर मुख्य चुनाव आयुक्त एके जोति ने कहा कि वह इस मामले में फिलहाल कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।
दूसरी ओर, आप के सभी प्रभावित विधायक दिल्ली हाई कोर्ट पहुंच गए। इस पर कोर्ट ने आयोग के वकील से 22 जनवरी तक यह बताने को कहा कि क्या आयोग ने विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने की सिफारिश राष्ट्रपति के पास भेज दी है? कोर्ट ने उसकी कॉपी भी मांगी। हालांकि, कोर्ट ने विधायकों को कोई फौरी राहत देने से इन्कार कर दिया।
उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक चुनाव आयोग ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेजी सिफारिश में कहा है कि संसदीय सचिव होने के नाते ये विधायक 13 मार्च, 2015 से 8 सितंबर, 2016 तक लाभ के पद पर रहे। इस कारण वे दिल्ली विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित किए जाने के पात्र हैं। संसदीय सचिव मंत्रियों को उनके कामकाज में सहायता करते हैं।
इस मामले में राष्ट्रपति चुनाव आयोग की सिफारिशों से बंधे हैं। नियमानुसार, राष्ट्रपति विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग वाली अर्जी चुनाव आयोग को भेजते हैं। इसके बाद आयोग उन्हें अपनी सिफारिश देता है, जिसे राष्ट्रपति भवन स्वीकार करता है।
70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में दलीय स्थिति को देखते हुए अरविंद केजरीवाल सरकार को फिलहाल कोई खतरा नहीं है। आप के अभी 66 विधायक हैं। 20 के अयोग्य होने के बाद भी उसके 46 विधायक बचेंगे।
लाभ के पद मामले में 21 विधायक घिरे हुए थे। लेकिन, राजौरी गार्डन के विधायक जरनैल सिंह को पार्टी ने गत वर्ष पंजाब चुनाव लड़ने के लिए उतारा था। इसके चलते उन्होंने दिल्ली विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था। चुनाव आयोग ने तभी उनके खिलाफ कार्रवाई बंद कर दी थी। बाकी 20 विधायकों के खिलाफ आयोग में मामला चल रहा था।
-राष्ट्रपति द्वारा आयोग की सिफारिश माने जाने के बाद 20 विधायक अयोग्य घोषित हो जाएंगे।
-अयोग्य घोषित विधायकों के पास कोर्ट जाने का विकल्प होगा। लेकिन, पूर्व के फैसले को देखते हुए राहत की गुंजाइश कम है।
-ऐसे में छह महीने के भीतर इन सीटों पर उपचुनाव होंगे। आप के लिए सभी सीटों पर जीतकर आना आसान नहीं होगा।
संविधान के अनुच्छेद 102-1ए के तहत सांसद या विधायक ऐसे किसी अन्य पद पर नहीं हो सकते, जिसके लिए वेतन, भत्ते या अन्य दूसरे तरह के लाभ मिलते हों।
-संविधान के अनुच्छेद 191-1ए और जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 9ए के तहत भी सांसदों और विधायकों को अन्य पद लेने से रोकने का प्रावधान है।
-सांसदों या विधायकों की अयोग्यता के लिए लाभ के पद पर होना ही काफी है। भले ही वेतन, भत्ते या अन्य सुविधा नहीं लिया गया हो।
मेरे और केजरीवाल के रास्ते उसी समय अलग हो गए थे, जब उन्होंने राजनीतिक पार्टी बनाई थी। अगर पार्टियों से देश चलता, तो आजादी के 70 साल बाद भी ऐसे हालात नहीं होते।
एके जोति गुजरात में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव रहे और बाद राज्य के मुख्य सचिव भी बने। वह सोमवार को रिटायर हो रहे हैं। इसलिए मोदीजी का कर्ज चुकाना चाहते हैं।
आप के 20 विधायकों को अयोग्य घोषित किए जाने के आयोग के फैसले का हम स्वागत करते हैं। अरविंद केजरीवाल को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए।
केजरीवाल सरकार के आधे मंत्री भ्रष्टाचार के आरोप में हटाए गए। 20 विधायक अयोग्य होंगे। मंत्री और विधायक विदेश दौरा कर रहे हैं। कहां है लोकपाल? कहां है शुचिता?

गंदगी, डॉक्टरों की लेटलतीफी सहित कई समस्याओं से मरीज परेशान

इंदौर के सरकारी अस्पतालों में जहां गंदगी, डॉक्टरों की लेटलतीफी सहित कई समस्याओं से मरीज परेशान हैं, वहीं शहर से 30 किलोमीटर दूर कंपेल के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को बेहतर प्रबंधन के लिए 2017 में कायाकल्प पुरस्कार से नवाजा गया। यही नहीं, इसे स्वास्थ्य विभाग मॉडल बनाने की तैयारी में है। 10 बिस्तरों वाले कंपेल प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में सरकार की गाइड लाइन के अनुसार सारी व्यवस्था है।
सरकार ने जो कमियां बताई थीं, उन्हें यहां दूर कर उसे उत्कृष्ट बना दिया गया। प्रभारी आयुष चिकित्सक जाकिया सैयद, दो स्टाफ नर्स, 1 फोकल पॉइंट इंचार्ज, 1 ड्रेसर, 2 अस्थायी सफाईकर्मी ने बेहतर तालमेल से काम कर उसे प्रथम स्थान दिलाया। वहीं इसी माह यूनिसेफ की रैंकिंग में भी केंद्र को 5 स्टार रेटिंग दी गई है। स्वास्थ्य विभाग कंपेल केंद्र को मॉडल बनाकर अन्य केंद्रों को तैयार करने की योजना बना रहा है। सबसे पहले सिमरोल व हातौद प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को नया स्वरूप दिए जाने की तैयारी है।
यहां बनाए वैक्सीन वितरण केंद्र में तापमान नियंत्रण, मांग के अनुसार आपूर्ति, ऑनलाइन इंट्री व अन्य सुविधाएं हैं। केंद्र इंचार्ज ने ही एक सिस्टम डेवलप किया है। इसमें पूरे क्षेत्र में किस कार्यकर्ता की ड्यूटी लगाई है, कब वैक्सीन लिया, कब वापस लाया गया, इसकी जानकारी रहती है। दिसंबर-2017 इसे राज्य में बेस्ट वैक्सीन वितरण केंद्र का अवार्ड दिया गया है।
लेबर रूम व ऑपरेशन थिएटर का तीन माह में कल्चर होता है। सभी उपकरण मेडिकल कॉलेज लेबोरेटरी भेजे जाते हैं। वहां कल्चर ट्यूब के बैक्टीरिया की जांच होती है। अभी तक यहां कोई बैक्टीरिया नहीं निकला, क्योंकि हर डिलिवरी के बाद क्लोरिन सॉल्यूशन से सफाई की जाती है। मेडिकल वेस्ट डिस्पोज के लिए ऑपरेशन थिएटर, लेबर रूम, जनरल वार्ड व लैब के पास चार कलर के डस्टबिन रखे हैं।
पांच बिस्तरों के प्रसूति वार्ड को एसी सहित सभी सुविधाओं से पूर्ण किया गया है। यहां एक स्क्रीन लगाई गई है। इसमें नवजात बच्चों के रखरखाव से लेकर माताओं को खाने-पीने की सावधानी, टीकाकरण, सहित अन्य जानकारी दी जाती है। वार्ड में एक बेड कंगारू मदर केयर के लिए भी रखा गया है। लेबर रूम में गाइडलाइन के अनुसार 18 बिंदुओं पर काम किया गया हैं। इसमें फ्रिज, पीपी कॉर्नर, बायो मेडिकल वेस्ट डस्टबिन, एक्टिव मैनेजमेंट ऑफ थर्ड स्टेज, इमरजेंसी ट्रे किट, 24 घंटे बिजली बेकअप, न्यू बोर्न बेबी कॉर्नर, नेबोलाइजर, अंबु बैग की सुविधा है।

भारत ने किया घातक मिसाइल अग्नि 5 का सफल परीक्षण

भारत ने गुरुवार को ओडिशा के तट से अपनी घातक मिसाइल अग्नि 5 का सफल परीक्षण किया है। इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल 5000 किमी की दूर पर मौजूद अपने शिकार को निशाना बनाने में सक्षम है।
खबरों के अनुसार गुरुवार सुबह 9.53 बजे ओडिशा के व्हीलर द्वीप पर सुबह इसे लॉन्च किया गया जो सफल रहा। परमाणु हथियारों को ले जाने में सक्षम अग्नि 5 की सफल टेस्टिंग को लेकर रक्षा मंत्री ने कहा है कि हमने अग्नि 5 का सफल परीक्षण किया है। बेहद घातक मानी जाने वाली इस मिसाइल को डीआरडीओ ने विकसित किया है और इसकी जद में चीन के कई शहर आते हैं।
बता दें कि 6 दिसंबर 2016 को भी इसका परीक्षण किया गया था जिसे इसका अंतिम परीक्षण कहा गया था। 17 मीटर लंबी इस मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद भारत दुनिया के उन देशों की लिस्ट में शामिल हो गया है जिनके पास 5000-5500 किमी की दूरी तक मार करने वाली बैलिस्टिक मिसाइल्स हैं। इन दोशों में अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस और यूके शामिल हैं।

विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने उठाए पुलिस व सरकार की कार्यशैली पर सवाल

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने पुलिस व सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि भाजपा नेतृत्व के इशारे पर गुजरात पुलिस उन्हें प्रताड़ित कर रही है
दो दिन पहले 11 घंटे तक लापता रहने के बाद तोगड़िया बेहोशी की हालत में मिले थे। बाद में विहिप व गुजरात पुलिस ने एक-दूसरे पर जमकर आरोप प्रत्यारोप लगाए।
बुधवार को अस्पताल से छुट्टी मिलते ही तोगड़िया ने कहा, फर्जी सीडी बनाने वालों को जानता हूं। उन्हें बेनकाब करूंगा। आरोप लगाया कि क्राइम ब्रांच की टीम पिछली रात दो बजे उनसे पूछताछ करने आई थी। क्या किसी मरीज को रात में इस तरह परेशान किया जाना सही है?
उन्होंने क्राइम ब्रांच के पुलिस उपायुक्त जेके भट्ट की फोन काल डिटेल सार्वजनिक करने की मांग की। तोगड़िया ने कहा कि क्राइम ब्रांच ने उनका फर्जी वीडियो बनाकर टीवी चैनलों को दे दिया। इसी तरह 2005 में संजय जोशी की भी फर्जी सीडी बनाकर उन्हें बदनाम किया गया था।

डोकलाम में चीनी सेना की गतिविधियां खत्म नहीं हुई आ रही हैलीपैड, टॉवर व अन्य निर्माण की खबरें

डोकलाम में भारत और चीन के बीच 72 दिन चले तनाव को खत्म हुए वक्त गुजर चुका है लेकिन वहां चीनी सेना की गतिविधियां खत्म नहीं हुई हैं। ताजा मामले में इस इलाके में चीनी सेना द्वारा हैलीपैड, टॉवर व अन्य निर्माण की खबरें आ रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सेटेलाइट तस्वीरों में खुलासा हुआ है कि चीनी सैना ने उत्तरी डोकलाम इलाके में सात हेलीपैड्स के अलावा कॉन्क्रीट की चौकियां व टॉवर भी बनाए हैं। वहीं सैन्य वाहन भी तैनात कर रखे हैं।
बताया जा रहा है कि हेलीपैड इतने बड़े हैं कि चीनी सेना में शामिल सबसे बड़े हेलीकॉप्टर भी यहां उतारे जा सकते हैं। ये तस्वीरें दिसंबर और जनवरी माह की बताई जा रही हैं।
इन तस्वीरों के सामने आने के बाद भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत का बयान भी आया है जिसमें उन्होंने इन निर्माणों को अस्थाई करार दिया है। आर्मी चीफ ने रायसीना डायलॉग में कहा कि डोकलाम में स्थिति सामान्य है लेकिन हमारी सेना ने वहां नजर बना रखी है। चीनी सेना ने वहां कुछ समय पहले निर्माण कार्य किए हैं जो सभी अस्थाई हैं। उन्होंने कहा कि संभव है कि सर्दियों की वजह से वो अपने उपकरणों को वापिस नहीं ले जा सके हों।
बता दें कि इससे पहले डोकलाम इलाके में चीनी सैनिकों के सड़क निर्माण को 16 जून 2017 भारतीय सैनिकों ने रोक दिया था. उस समय भारतीय जवान और चीन की पीएलए के जवान 72 दिनों तक एक दूसरे आमने-सामने तैनात थे।

अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल का नया बयान जजों के बीच विवाद फिलहाल नहीं सुलझा

सुप्रीम कोर्ट जजों के बीच विवाद सुलझने की बात कहने वाले अटॉर्नी जनरल वेणुगोपाल का नया बयान आया है। इस बार उन्होंने अपने पूर्व के बयान से यू-टर्न लेते हुए कहा है कि यह विवाद फिलहाल नहीं सुलझा है और इसे सुलझने में दो-तीन दिन और लग सकते हैं। एक न्यूज चैनल से सुप्रीम कोर्ट के जजों के बीच हुए विवाद पर बात करते हुए वेणुगोपाल ने कहा कि मतभेद अभी बना हुआ है।
इससे पहले सोमवार को अटॉर्नी जनरल और बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन मिश्रा ने भी मीडिया से बात करते हुए कहा था कि यह एक आतंरिक विवाद था जो अब सुलझ गया है। जैसे की आप देख सकते हैं मुद्दे को खत्म कर दिया गया है और सभी कोर्ट रूम में सामान्य कामकाज हो रहा है।
सोमवार को चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा ने चारों जजों के साथ लाउंज में बैठकर कॉफी पी और अनौपचारिक चर्चा की। इस दौरान कोर्ट के पूरे स्टाफ को बाहर कर दिया गया था। इसके बाद अटॉर्नी जनरल ने कहा था कि मामला सुलझ गया है।