ढींगरा आयोग ने सौंपी रिपोर्ट

सस्ते दामों पर जमीन खरीदकर उसे ऊंचे दामों में बेजने के मामले की जांच कर रहे ढींगरा आयोग ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। इसमें कहा गया है कि रॉबर्ट वाड्रा ने 2008 में की एक अवैध लैंड डील के माध्यम से 50.5 करोड़ रुपए का मुनाफा कमाया था। राज्य की खट्टर सरकार द्वारा इस कमिशन को 2015 में गठित किया गया था।
अंग्रेजी अखबार इकॉनोमिक टाइम्स के अनुसार, वाड्रा की कंपनी को फायदा पहुंचाने के लिए सांठगांठ की गई थी। ढींगरा आयोग को गुड़गांव के चार गांवों में लैंड यूज बदलने के लिए लाइसेंस दिए जाने की जांच करने को कहा गया था। इसमें वाड्रा की कंपनी स्काई लाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड को दिए गए लाइसेंस की जांच भी शामिल थी। आयोग ने 31 अगस्त, 2016 को अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी। आयोग की रिपोर्ट को राज्य सरकार ने सीलबंद लिफाफे में पिछले सप्ताह सुप्रीम कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया था।
ईटी के सवालों का एक ई-मेल में जवाब देते हुए वाड्रा और स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी के वकील सुमन खेतान ने कहा कि वाड्रा और स्काईलाइट ने कोई गलत कार्य नहीं किया था और किसी कानून का उल्लंघन नहीं किया था। उन्होंने यह भी कहा कि जमीन की पूरी कीमत बाजार मूल्य के हिसाब से चुकता की गयी है और इसका आयकर भी दिया गया है।
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुडडा ने ढींगरा आयोग के गठन को संवैधानिक चुनौती दी थी। हुड्डा ने हाईकोर्ट में अर्जी दायर कर आरोप लगाया था कि हरियाणा सरकार के कुछ अधिकारियों ने ढींगरा आयोग की रिपोर्ट को लीक कर दिया हैं। पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट ने हरियाणा सरकार ने आश्वासन रिकॉर्ड किया है कि रिपोर्ट प्रकाशित नहीं की जाएगी। मामले की जानकारी देने वालों का कहना है कि हरियाणा सरकार के एक अधिकारी ने आयोग के सामने गवाही दी थी। उन्होंने स्काईलाइट की रियल एस्टेट संबंधी क्षमताओं पर सवालों के संदर्भ में गवाही दी थी। अधिकारी ने कहा था कि वाड्रा एक अतिविशिष्ट व्यक्ति हैं और इस नाते के पास कॉलोनी बनाने की परी क्षमता है।
इकॉनोमिक टाइम्स के मुताबिक, ढींगरा रिपोर्ट में 20 से ज्यादा प्रॉपर्टीज की जानकारी दी गई है, जो वाड्रा और उनकी कंपनियों ने खरीदी थीं। इनमें से एक प्रॉपर्टी वाड्रा की स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी प्राइवेट लिमिटेड ने ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज से खरीदा था। बाद में इसके लैंड यूज में बदलाव कर इसे डीएलएफ को बेच दिया गया और इस तरह 50.5 करोड़ रुपये का प्रॉफिट हासिल किया गया। आयोग ने शंका जाहिर की है कि इस प्रॉफिट से दूसरी जमीन खरीदी गयी। ईटी के मुताबिक कई लैंड डील्स की समीक्षा करने के बाद रिपोर्ट में यह सिफारिश भी की गई है कि तत्कालीन हुड्डा सरकार द्गवारा जारी किए गए लैंड यूज लाइसेंसों का किसी स्वतंत्र एजेंसी से ऑडिट कराया जाए और अवैध तरीके से दिए गए लाइसेंसों को निरस्त किया जाए।
अपने सूत्रों के हवाले से ईटी ने बताया कि ओंकारेश्वर प्रॉपर्टीज की ओर से स्काईलाइट हॉस्पिटैलिटी के पक्ष में डील होने के बाद वाड्रा की कंपनी ने केवल उनके नाम के आधार पर 50.5 करोड़ रुपये बनाए और इस पर कोई पैसा खर्च नहीं हुआ।

दुनिया की सबसे वजनी महिला इलाज के लिए अबूधाबी ले जाया जायेगा

दुनिया की सबसे वजनी महिला रहीं इमान अहमद को अब इलाज के लिए अबूधाबी ले जाया जा सकता है। इमान की बहन शाइमा सलीम और सैफी अस्पताल के डॉ. मुफज्जल लकड़वाला के बीच विवाद के बाद बुधवार को दुबई से डॉक्टरों का दल यहां आया है।
शाइमा ने वीडियो के जरिये कहा था कि डॉक्टरों ने इमान का वजन 500 किलो से 262 किलो होने का जो दावा किया है, वह झूठा है। अस्पताल ने उसके दावे को खारिज किया था।
शाइमा ने कहा, “मुझे किसी भी समय मुंबई छोड़ना पड़ सकता है। मैंने विशेषज्ञों को बुलाया है क्योंकि मैं अपनी बहन को ऐसे ही नहीं छोड़ सकती। मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे ऐसा करना पड़ेगा। एक दिन पहले अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि वे नहीं बताएंगे कि उन्हें कब वापस भेजा जाएगा। इसके बाद मैंने डॉक्टरों को बुलाने का फैसला लिया। अगर जरूरत पड़ी तो मैं इमान को आगे के इलाज के लिए अबूधाबी ले जाऊंगी।”
अबूधाबी के वीपीएस हेल्थकेयर अस्पताल के चार डॉक्टरों और तीन अधिकारियों का दल सैफी अस्पताल आया है। उन्होंने इमान की रिपोर्ट देखी और डॉ. लकड़वाला के साथ बैठक की। इस बीच सैफी अस्पताल ने इमान की जांच के लिए स्वतंत्र टीम बनाई है।
लकड़वाला ने कहा कि 15 दिन पहले तक सब कुछ ठीक था। जब मैंने उससे (शाइमा) कहा कि इमान अब मिस्र के लिए विमान से जा सकती है तो वह भड़क गई। उसने धमकी दी कि अगर उन्हें नहीं रहने दिया जाएगा तो वह अस्पताल की छवि खराब कर देगी।

सचिन के जन्मदिन पर लगातार 16 घंटे 50 मिनट तक 165 गाने गाए

मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंडुलकर के लिए खेड़ी सांवलीगढ़ के एक युवा की ऐसी दीवानगी है कि सचिन के जन्मदिन पर उन्होंने लगातार 16 घंटे 50 मिनट तक 165 गाने गा लिए। उनकी इसी दीवानगी ने उनका नाम लिम्का बुक में शामिल करवा दिया। यह प्रतिभा है छोटे से गांव खेड़ी सांवलीगढ़ के नासेरी परिवार के प्रशांत नासेरी। उनकी इस उपलब्धि से न केवल खेड़ी बल्कि पूरे जिले का गौरव बढ़ा है।
खेड़ी सांवलीगढ़ निवासी और पूर्व विधायक स्वर्गीय गोपाल नासेरी के भतीजे, अनंत नासेरी के पुत्र और किरण नासेरी के बड़े भाई प्रशांत नासेरी की क्रिकेटर सचिन तेडुलकर के प्रति दीवानगी उनके 44 वें जन्मदिन पर नजर आई।
उन्होंने अपने पसंदीदा क्रिकेटर को उनके जन्मदिन का खास तोहफा देने के लिए अपने दूसरे जुनून गायन को चुना। इस मौके पर मुम्बई में आयोजित कार्यक्रम में प्रशांत ने लगातार 16 घंटे 50 मिनट तक मशहूर गायक एवं अभिनेता किशोर कुमार के 165 गाने गाने का कीर्तिमान बनाया।
इसके साथ ही उनका लिम्का बुक में शामिल हो गया। इसके साथ ही उनका नाम एशिया बुक, इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में भी शामिल हो गया। उनकी इस उपलब्धि से नासेरी परिवार सहित पूरे ग्राम में खुशी का माहौल है।
प्रशांत नासेरी की प्रारंभिक पढ़ाई-लिखाई ख़ेडी सांवलीगढ़ में हुई। इसके बाद आगे की पढ़ाई उन्होंने भिलाई में पूरी की और पुणे में इंजीनियर बन गए। जॉब के दौरान ही उनका रुझान संगीत की ओर बढ़ा और संगीत के प्रति उनकी बढ़ती रुचि, लगन और मेहनत ने उन्हें एक के बाद एक कई मुकाम दिए।

साइना नेहवाल को पहले ही दौर में करना पड़ा हार का सामना

भारत की शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने वुहान में बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप में जीत के साथ शुरुआत की है। लंदन ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल को पहले ही दौर में हार का सामना करना पड़ा।
महिला एकल वर्ग के पहले दौर में बुधवार को सिंधु ने मलेशिया की बैडमिंटन खिलाड़ी सोनिया चेह को सीधे सेटों में 21-8, 21-18 से हराकर दूसरे दौर में प्रवेश किया। जापान की सयाका साटो ने सातवें क्रम की साइना को 19-21, 21-16, 21-18 से हराकर टूर्नामेंट से बाहर का रास्ता दिखाया।
पुरुष वर्ग में भारत के अजय जयराम ने अपने पहले दौर में उलटफेर कर पांचवें क्रम के चीनी खिलाड़ी तियान हुवेई को संघर्षपूर्ण मैच में 21-18, 18-21, 21-19 से हराकर दूसरे दौर में प्रवेश किया।
भारत की मिश्रित युगल जोड़ी प्रणव जैरी चोपड़ा और एन. सिक्की रेड्डी को पहले दौर में चीन की शीर्ष वरीय जोड़ी झेंग सिवेई और चेन किंगचेन के हाथों 21-15, 14-21, 21-16 से हार झेलनी पड़ी।

कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने कर लिया दिनदहाड़े 24 कार्यकर्ताओं का अपहरण

सिंधी राष्ट्रवादी संगठन जीई सिंध मुत्ताहिदा महाज (जेएसएमएम) ने कहा है कि पाकिस्तान के कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने दिनदहाड़े उनके 24 कार्यकर्ताओं का अपहरण कर लिया है। अब तक इन लोगों का कुछ पता नहीं लग पाया है। जानकारी के मुताबिक लापता कार्यकर्ताओं की उम्र 19 से 45 साल तक की है। जेएसएमएम सिंध प्रांत की एक राष्ट्रवादी, लोकतांत्रिक और धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक पार्टी है, जो पाकिस्तान अधिकृत सिंध की आजादी में विश्वास रखती है।
यह संगठन धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र और सिंध की स्वतंत्रता के रूप में सिंधियों की ऐतिहासिक पहचान की मांग कर रहा है। यह पार्टी स्वतंत्रता अभियान भी चलाती है और ‘सिंध विरोधी’ योजनाओं और पाकिस्तानी सेना की योजनाओं के खिलाफ राजनीतिक जुलूस व विरोध प्रदर्शन करती है।
जेएसएमएम पाकिस्तान को एक ‘ईश्वरवादी कट्टरपंथी, साम्राज्यवादी उपनिवेशिक और गैरजिम्मेदार राज्य’ मानता है जो उसके महासंघ में राष्ट्र के लोगों का शोषण करता है। यह वैश्विक अंतरात्मा के साथ मजबूत कूटनीति के माध्यम से सिंध के स्वतंत्रता और अधिकारों के लिए दृढ़ संघर्ष में विश्वास करता है।

शिमला एयरपोर्ट से देश की सबसे सस्ती हवाई सेवा उड़ान की शुरुआत

पीएम मोदी ने गुरुवार को शिमला एयरपोर्ट से देश की सबसे सस्ती हवाई सेवा उड़ान की शुरुआत की। इसके साथ ही महज ढाई हजार रुपए में आम आदमी हवाई सफर कर सकेगा। पीएम मोदी ने सुबह 11 बजे शिमला के जुब्बड़हट्टी हवाई अड्डे पर पहुचे और यहां उड़ान सेवा का शुभारंभ किया। प्रधानमंत्री ने कडप्पा-हैदराबाद तथा नांदेड़-हैदराबाद के बीच होने वाली इसी स्कीम की दो अन्य उड़ानों को भी हरी झंडी दिखाई।
पीएम ने इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हवाई सेवा के लिए भारत में सबसे ज्यादा अवसर हैं। पहले हवाई यात्रा धनी लोग किया करते थे लेकिन अब हवाई चप्पल पहनने वाले भी हवाई यात्रा कर सकेंगे। उड़ान योजना के तहत एक घंटे से कम की उड़ान के लिए 2500 रुपए ही देने होंगे।
पीएम बनने के बाद यह मोदी की पहली शिमला यात्रा है। मोदी शिमला के से सस्ती हवाई सेवा के लिए उड़ान स्कीम शुरू करेंगे।
शिमला यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री रिज रोड पर एक रैली को भी संबोधित करेंगे। इससे पहले उन्होंने 2003 में उस वक्त शिमला का दौरा किया था जब वे गुजरात के मुख्यमंत्री थे।
वैसे राज्य के हिसाब से यह हिमाचल प्रदेश का उनका दूसरा दौरा होगा। पिछले साल उन्होंने मंडी में एक रैली को संबोधित किया था। भाजपा में मोदी आठ वर्ष तक हिमाचल मामलों के संगठनात्मक प्रभारी थे और उन्होंने 2002 तक यह भूमिका निभाई थी।
उड़ान (उड़े देश का आम नागरिक) देश के छोटे व मझोले कस्बों को बड़े नगरों तथा परस्पर किफायती हवाई यातायात सुविधा से जोड़ने की स्कीम है।
इसके तहत 500 किमी की विमान यात्रा के लिए 2500 रुपए का किराया वसूला जाएगा। इसके तहत फिक्स विंग विमानों के मामले में यात्रा की अवधि अधिकतम एक घंटे तथा हेलीकॉप्टर के मामले में आधा घंटे मानी गई है।
“उड़ान” की उड़ानें देश के 70 हवाई अड्डों से होंगी।
इनमें 27 व्यस्त, 12 कम उपयोग में आने वाले तथा 31 अप्रयुक्त हवाई अड्डे शामिल हैं। इसके लिए विभिन्न नई, पुरानी एयरलाइनों की तरफ से कुल 27 प्रस्ताव सरकार को प्राप्त हुए हैं।
इनमें 17 एयरपोर्ट उत्तर, 24 पश्चिम, 11 दक्षिण, 12 पूर्व, 6 पूर्वोत्तर भारत तथा 2 केंद्र शासित प्रदेशों में हैं। इससे 22 राज्य व दो केंद्रशासित प्रदेश सस्ती उड़ानों से जुड़ जाएंगे।
16 प्रस्ताव एक-एक रूट पर उड़ान भरने से संबंधित हैं। जबकि 11 प्रस्तावों में एक से अधिक शहरों को जोड़ने की इच्छा जताई गई है। छह प्रस्ताव ऐसे हैं जिनमें किसी तरह की सब्सिडी (वीजीएफ) की मांग नहीं की गई है।
स्कीम के तहत एयरलाइनों को नुकसान की स्थिति में वायबिलटी गैप फंडिंग (वीजीएफ) के तहत सब्सिडी देने की व्यवस्था है। सरकार का अनुमान है कि स्कीम पर सालाना 6.5 लाख सीटों के लिए करीब 200 करोड़ रुपए की सब्सिडी की जरूरत पड़ेगी।

कांग्रेस के महासचिव गुरुदास कामत ने दिया त्यागपत्र

कांग्रेस के दिग्गज नेता व राष्ट्रीय महासचिव गुरुदास कामत ने सभी पदों से त्यागपत्र दे दिया है। एक बयान में उन्होंने बताया कि पिछले सप्ताह वह कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी से मिले थे और सारी जिम्मेदारियों से मुक्त होने की इच्छा जताई थी।
उनके वक्तव्य से साफ है कि वह अब सक्रिय राजनीति से किनारा कर रहे हैं। कामत ने बताया कि उन्होंने 3 फरवरी को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से आग्रह किया था कि उन्हें जिम्मेदारियों से मुक्त करें।
यह वह तिथि है जब मुंबई में नगर निकाय चुनाव के लिए कांग्रेस के प्रत्याशियों की घोषणा की गई थी। 21 फरवरी को जब परिणाम आया तब भी उन्होंने इस तरह की अपील नेतृत्व से की। उन्होंने पार्टी में अहम जिम्मेदारियां देने के लिए सोनिया व राहुल का आभार जताया है।

108 एंबुलेंस हड़ताल पर एक गर्भवती महिला की मौत

मरीजों को अस्पताल पहुंचाने वाली 108 एंबुलेंस के कर्मचारी गुरुवार को दूसरे दिन भी हड़ताल पर है। उधर बालाघाट में देर रात 108 एंबुलेंस नहीं आने से एक गर्भवती महिला की मौत हो गई। जानकारी के मुताबिक गर्भवती की तबीयत बिगड़ने के बाद 108 नंबर पर परिजनों ने फोन लगाया, इस पर वहां से जवाब मिला कि कुछ ही देर में एंबुलेंस भेज दी जाएगी। लेकिन लंबे समय तक इंतजार करने के बाद भी जब एंबुलेंस नहीं पहुंची तो परिजन महिला को दूसरे साधन से अस्पताल ले जाने लगे, लेकिन रास्ते में ही महिला को डिलेवरी हो गई और जच्चा-बच्चा दोनों ने दम तोड़ दिया।
हड़ताल पर बैठे करीब 3 हजार कर्मचारियों में ड्रावइर व इमरजेंसी मैनेजमेंट टेक्नीशियन (ईएमटी) स्टॉफ शामिल है। 108 एंबुलेंस कर्मचारियों का कहना है कि 8 घंटे की जगह 12 घंटे की ड्यूटी कराई जा रही है। उन्हें 9 हजार से 11 हजार तक वेतन दिया जा रहा है, जबकि दूसरे राज्यों में एंबुलेंस ड्राइवर का वेतन 16 हजार व ईएमटी का 19 हजार है। उन्होंने कहा कि एंबुलेंस का संचालन कर रही जिकित्जा हेल्थ केयर कंपनी ने मांगें नहीं मानी तो हड़ताल जारी रहेगी।

स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता पर जोर देने और खुले में शौच को बंद करने के लिए बिल गेट्स ने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ

माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के तहत स्वच्छता पर जोर देने और खुले में शौच को बंद करने के लिए काफी तारीफ की। बिल गेट्स ने एक ब्लॉग में लिखा है कि पीएम मोदी ने एक ऐसी समस्या को उठाया है जिसके बारे में हम सोचना तक पसंद नहीं करते। उन्होंने लिखा है, ‘तकरीबन 3 साल पहले भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन स्वास्थ्य पर एक साहसिक टिप्पणी की थी, जिसके बारे में आजतक हमने किसी निर्वाचित सदस्य के मुंह से नहीं सुनी थी। उस बयान का बड़ा असर पड़ता दिख रहा है। मोदी ने जो कहा, उस पर अमल किया।’
पीएम मोदी के भारत के स्वतंत्रता दिवस पर दिए गए भाषण का जिक्र करते हुए गेट्स ने लिखा है, ‘हम 21वीं सदी में रह रहे हैं। क्या हमें कभी इस बात को लेकर तकलीफ महसूस हुई कि हमारी माताएं और बहनें खुले में शौच करने को मजबूर हैं? गांव की गरीब महिलाएं रात के अंधेरे का इंतजार करती हैं ताकि वे शौच के लिए जा सकें। इसका उनके शरीर पर क्या असर पड़ेगा, कितनी बीमारियों का उनको खतरा है। क्या हम अपनी मां और बहनों की मर्यादा को ध्यान में रखकर उनके लिए शौचालय नहीं बना सकते हैं।’
ब्लॉग में बिल गेट्स ने लिखा है, ‘मेरे ख्याल से अन्य किसी राष्ट्रीय नेता ने इस तरह के संवेदनशील विषय पर इतने खुलेपन और सार्वजनिक रूप से टिप्पणी नहीं की है। मोदी ने सिर्फ भाषण ही नहीं दिया, बल्कि इस दिशा में काम भी किए हैं। भाषण के दो महीनों के बाद ही उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान का शुभारंभ किया, जिसके तहत देशभर में करीब 7.5 करोड़ शौचालय बनाकर 2019 तक देश को खुले में शौच से मुक्त करना है। उन्होंने यह सुनिश्चित किया है कि अनोपचारित कचरा खुले माहौल में न फेंका जाए।’
उन्होंने लिखा है कि स्वच्छता की समस्या को हल करके हर साल हजारों जिंदगी को बचाया जा सकता है। इससे लड़कियां स्कूलों की ओर आकर्षित होंगी और देश की अर्थव्यवस्था मजबूत होगी। सफाई की स्थिति को बेहतर बनाने पर हमारे फाउंडेशन का खास जोर है और हम भारत सरकार के साथ मिलकर इसके लक्ष्यों को हासिल करने के लिए काम कर रहे हैं।
उन्होंने लिखा है कि पीएम मोदी के इन प्रयासों के अच्छे परिणाम भी सामने आ रहे हैं। उन्होंने लिखा है, ‘2014 में जब स्वच्छ भारत अभियान शुरू हुआ था, उस समय सिर्फ 42 फीसद भारतीय लोगों को ही उचित स्वच्छता उपलब्ध थी। आज 63 फीसद लोगों को इसका फायदा मिल रहा है। और 2 अक्टूबर, 2019 महात्मा गांधी की 150वीं जयंती तक इस काम को खत्म करने के लिए सरकार के पास विस्तृत योजना है। अधिकारियों को पता है कि कौन-से राज्य सही ट्रैक पर हैं और कौन पीछे है। इसका श्रेय भारत के मजबूत रिपोर्टिंग सिस्टम को जाता है।’

दो डॉक्टरों पर १.४ करोड़ का दंड लगाया सुप्रीम कोर्ट ने

बीमारी के नाम पर अभियुक्तों को शरण देने वाले अस्पतालों के लिए नसीहत है। सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा में गुरुग्राम के ऐसे ही एक प्राइवेट अस्पताल के प्रति सख्त रुख अपनाया है।
कोर्ट ने इस अस्पताल के दो डॉक्टरों को हत्या आरोपी पूर्व विधायक बलबीर उर्फ बाली को गिरफ्तारी से बचाने के लिए अस्पताल में शरण देने पर न्यायालय की अवमानना का दोषी माना है और उन पर 70 -70 लाख रुपये जुर्माना लगाया है। अस्पताल के मालिक डॉक्टर केएस सचदेवा और मेडिकल डायरेक्टर डॉक्टर मुनीश प्रभाकर जून के अंत तक सुप्रीम कोर्ट रजिस्ट्री में कुल 1.4 करोड़ रुपये जमा कराएंगे।
न्यायमूर्ति दीपक मिश्र की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने दोनों डॉक्टरों को रकम जमा कराने का आदेश देते हुए कहा कि इस रकम को गरीबों की चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने में कैसे खर्च किया जाए इस पर कोर्ट छह जुलाई को सुनवाई करेगा। कोर्ट ने रजिस्ट्री को आदेश दिया है कि जमा कराई गई रकम फिक्स डिपॉजिट की जाएगी।
दरअसल, सुप्रीम कोर्ट ने 24 अक्टूबर, 2013 को हत्या आरोपी पूर्व विधायक बलबीर उर्फ बाली की जमानत रद कर उसे समर्पण करने का आदेश दिया था। बाली ने समर्पण नहीं किया और न ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया।
शिकायतकर्ता ने अवमानना याचिका दायर की। कोर्ट के सख्त रुख के बाद एक मई, 2015 को बाली गिरफ्तार हुआ। फिलहाल वह जेल में है। कोर्ट ने 15 दिसंबर, 2016 को बाली और उसे शरण देने वाले दोनों डॉक्टरों को न्यायालय की अवमानना का दोषी ठहराया था। मंगलवार को सजा के मुद्दे पर सुनवाई की।
डॉक्टरों ने बिना शर्त माफी मांगते हुए दया की गुहार लगाई गई। कहा कि वे अस्पताल के 10 फीसद बिस्तर गरीबों के लिए लिए आरक्षित रखेंगे, साथ ही एक साल तक गरीबों को क्लिीनिक सुविधा भी देंगे। दूसरी ओर याचिकाकर्ता के वकील ऋषि मल्होत्रा ने कहा कि अस्पताल का लाइसेंस रद होना चाहिए।
डॉक्टरों पर इतना जुर्माना लगाया जाए कि समाज में संदेश जाए। उन्होंने कहा कि जब कभी नेताओं की जमानत रद होती है तो वे अस्पताल में भर्ती हो जाते हैं। चाहे हरियाणा-पंजाब हो या बिहार सब जगह यही है। कोर्ट ने दोनों पक्षों को सुनकर कहा कि वह डॉक्टरों को जेल भेजने के इच्छुक नहीं हैं।
उनकी माफी स्वीकार करते हैं, लेकिन उन्हें रकम देनी पड़ेगी जिसका उपयोग गरीबों को चिकित्सा सुविधाएं देने में किया जाएगा। कोर्ट ने शुरुआत में दोनों डॉक्टरों को एक-एक करोड़ रुपये जमा कराने को कहा था, लेकिन बाद में वकील के बार-बार अनुरोध करते पर कोर्ट ने राशि घटाकर 70-70 लाख यानी कुल 1.4 करोड़ कर दी।
बाली को डेढ़ साल तक गिरफ्तार न किए जाने और उसके अस्पताल में भर्ती रहने की कोर्ट ने सीबीआइ जांच कराई थी। जांच में पता चला कि बाली 527 दिन अस्पताल में भर्ती रहा। अदालत ने कहा था कि बिना उचित कारण इतने लंबे समय तक भर्ती रखना और कुछ नहीं बल्कि सुप्रीम कोर्ट के जमानत रद करने और ट्रायल कोर्ट के लगातार जारी किए जा रहे गैर जमानती वारंटों को निष्फल करना था।
क्या है मामला
मामला 2011 का है। प्राथमिकी के मुताबिक शिकायतकर्ता सीताराम लाइसेंसी कमीशन एजेंट है और रोहतक कलनौर अनाज मंडी में उसकी दुकान है। 6 मई, 2011 को चंदा मांगने के मामले में हुए झगड़े पर बाली अन्य साथियों के साथ शिकायतकर्ता की दुकान पर पहुंचा और वहां मौजूद विष्णु नामक व्यक्ति को गोली मार दी बाकी लोगों को धमकी देता हुआ भाग गया।