वैज्ञानिकों ने किए ऐसे नैनो रोबोट विकसित जो ट्यूमर को नष्ट कर कैंसर का इलाज करने में सक्ष्म

वैज्ञानिकों ने ऐसे नैनो रोबोट विकसित किए हैं जो ट्यूमर को नष्ट कर कैंसर का इलाज करने में सक्ष्म हैं। बाल से हजार गुना छोटे आकार के ये रोबोट शरीर में प्रवेश कर ट्यूमर में रक्त के प्रवाह को रोक देते हैं। इससे ट्यूमर कुछ ही समय में पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं। शोधकर्ताओं ने इस तकनीक का चूहों पर सफल और सुरक्षित परीक्षण किया है। आगे इसका प्रयोग मनुष्य को होने वाले विभिन्न प्रकार के कैंसर के इलाज में किया जा सकेगा।
अमेरिका स्थित एरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी (एएसयू) के वैज्ञानिकों ने नैनौ रोबोट को डीएनए ऑरिगैमी विधि के तहत डीएनए शीट से विकसित किया है। आकार में हर रोबोट 90 नैनोमीटर लंबा और 60 नैनोमीटर चौड़ा है। इसकी सतह से रक्त प्रवाह को रोकने वाले एंजाइम थ्रॉम्बिन को जोड़ा गया। थ्रॉम्बिन ट्यूमर में रक्त प्रवाह को रोक देता है। इससे ट्यूमर पूरी तरह नष्ट हो जाते हैं।
रेडिएशन या कीमोथेरेपी से कैंसर के उपचार में कई बार स्वस्थ ऊतक भी नष्ट हो जाते हैं। इसलिए चाइनीज अकादमी ऑफ साइंसेज और एएसयू के शोधकर्ताओं की प्राथमिकता एक ऐसी तकनीक को विकसित करने की थी जिससे स्वस्थ टिश्यू को नुकसान ना पहुंचे। ऐसा करने में ये रोबोट सक्षम हैं। वैज्ञानिक डॉ. हाओ यान का कहना है कि इस रोबोट को संचालित करने के लिए किसी व्यक्ति की भी जरूरत नहीं है। इससे सभी प्रकार के कैंसर के इलाज किया जा सकेगा क्योंकि ट्यूमर को रक्त पहुंचाने वालीं वाहिनियां शुरुआत में एक जैसी ही रहती हैं।

बड़ोदरा में गाजर का हलवा खाने से 30 लोग बीमार

बड़ोदरा के वल्लभनगर में बरसी के भजन के बाद गाजर का हलवा खाने से 30 लोग बीमार हो गये। अचानक दस्त उल्टी होने से इन सभी निकट सायजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
दरसअल सोमवार रात को यहां रहते महेशभाई सोलंकी के पिता बाबुभी सोंलकी के निधन के एक साल पूर्ण होने पर पूजा और भजन रखा गया था। सुबह पूजा होने के बाद शाम के भजन का आयोजन किया गया था। भजन करने के बाद लोगों के लिए गाजर का हलवा परोसा गया।
गाजर का हलवा खाने के बाद लोगों को पेट में दर्द होने लगा। देखते ही देखते कई लोगों ने पेट में दर्द होने की शिकायत की, जिसके बाद 108 एम्बुलेंस के जरिये सभी को सयाजी अस्पताल में भर्ती कराया गया।
सायजी अस्पताल के प्रबंधकों के मुताबिक 30 लोगों को दस्त-उल्टी होने के बाद यहां लाया गया है। उपचार करने के बाद सभी की हालत स्थिर है। उधर, सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग की टीम भी आ पहुंची। स्वास्थ्य विभाग ने भजन के दौरान बनाए गए गाजर के हलवे सैंपल लेकर जांच के लिए लैंब में भेज दिया है।

भगवान महाकाल मंदिर में उल्लास छाया रहा

महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान महाकाल को बुधवार सुबह सवा मन फूलों के सेहरा बांधा गया। इसके साथ ही सोने के कुंडल, छत्र व मोरपंख, सोने के त्रिपुंड से सजाया गया। दूल्हे के रूप में सजे भगवान महाकाल के आकर्षक श्रृंगार को देख श्रद्धालु मोहित हो रहे हैं। दोपहर 12 बजे मंदिर में भस्मारती हुई।
भगवान महाकाल के सिर पर सजा सेहरा मोगरा, कुंद, चमेली और आंकड़े के फूलों से से सजाया गया। इसके साथ ही सेहरे में अंगूर और बेर के फलों का भी उपयोग किया गया है। सेहरे को आकर्षक स्वरूप देने के लिए पूना से विशेष तौर पर जरवेरा फूल मंगवाए गए थे। सेहरा बनाने में 100 किलो से ज्यादा फूलों का इस्तेमाल किया गया है।
इसके पहले मंगलवार को महाकाल मंदिर में महाशिवरात्रि पर्व का उल्लास छाया रहा। हालांकि बीते वर्षों के मुकाबले दर्शनार्थियों की संख्या कम रही। मंदिर समिति को बीते साल की तरह 2 लाख भक्तों के आने की उम्मीद थी, मगर आंकड़ा 50 हजार पर भी नहीं पहुंच पाया। अधिकारियों के अनुसार मंगलवार को 42 हजार श्रद्धालुओं ने दूल्हा बने महाकाल के दर्शन किए।
महाकाल मंदिर में नैवेध द्वार से अरविंद सिंह मेनन को प्रशासन के लोगों ने ही 5 लोगों के साथ प्रवेश दिया। इसी के साथ वीआईपी और पुजारियों के परिवार और यजमानो के प्रवेश से दर्शन व्यवस्था बिगड़ गई। विधायक फिरोजिया इस पर नाराज हो गए और कहा कि श्रद्धालुओं को दर्शन नहीं हो पा रहे। इसके बाद विद्यायक बिना भस्मारती किए बाहर हो गए।