रजत पदक विजेता पीवी सिंधु की अगुआई में भारतीय महिला टीम ने हांगकांग को 3-2 से हरा दिया

एजेंसी ओलिंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधु की अगुआई में भारतीय महिला टीम ने एशियाई बैडमिंटन चैंपियनशिप में सकारात्मक शुरुआत करते हुए हांगकांग को 3-2 से हरा दिया।
गुरुवार को भारत की भिड़ंत जापान की मजबूत टीम से होगी, जिसमें दुनिया की दूसरे नंबर की खिलाड़ी अकाने यामागुची और गत विश्व चैंपियन नोजोमी ओकुहारा शामिल हैं। मांसपेशियों की चोट के कारण लंदन ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल के हटने के बाद सिंधु ने अपनी उपयोगिता साबित करते हुए पहले एकल मैच जीता और फिर एन. सिक्की रेड्डी के साथ मिलकर युगल में भी जीत हासिल की।
सिंधु ने एकल मैच में हांगकांग की यिप पुई यिन को 21-12, 21-18 से हरा दिया। अश्विनी पोनप्पा व प्राजक्ता सावंत को महिला युगल में कड़ी चुनौती पेश करने के बावजूद एनज विंग युंग व युंग एनगा टिंग के खिलाफ 52 मिनट में 22-20, 20-22, 10-21 से पराजय मिली। दूसरे एकल मैच में युवा श्री कृष्णा प्रिया कुदारावली को युंग यिंग मेई को कड़ी चुनाती देने के बावजूद 19-21, 21-18, 20-22 से हार का सामना करना पड़ा, जिससे भारत पांच मैचों में 1-2 से पिछड़ गया।
सिंधु ने इसके बाद सिक्की के साथ मिलकर एनजी टीज याऊ व युन यिन यिंग को 21-15, 15-21, 21-14 से हराकर भारत को बराबरी दिलाई। अब भारत की जीत का दारोमदार रुत्विका शिवानी गाडे पर था जिन्होंने तीसरे एकल मैच में पहला गेम गंवाने के बाद जोरदार वापसी करते हुए युंग सम यी को 16-21, 21-16, 21-13 से हराकर भारत को जीत दिलाई।
उबेर कप फाइनल का क्वालीफायर : यह चैंपियनशिप उबेर कप फाइनल का क्वालीफायर भी है और यहां सेमीफाइनल में जगह बनाने वाली टीमों को मई में बैंकॉक में खेलने का अधिकारी मिलेगा। एशियाई टीम चैंपियनशिप उबेर कप फाइनल का क्वालीफायर भी है और यहां सेमीफाइनल में जगह बनाने वाली टीमों को मई में बैंकाक में खेलने का अधिकार मिलेगा।

ताइवान के पूर्वी तट के समीप शक्तिशाली भूकंप के झटके

ताइवान के पूर्वी तट के समीप देर शाम शक्तिशाली भूकंप के झटके महसूस किए गए। ताजा जानकारी के अनुसार इस भूकंप से कई बड़ी बिल्डिंग्स को नुकसान पहुंचा है। इस भूकंप को रिएक्टर स्केल पर 6 मापा गया है
जानकारी के अनुसार यह पिछले 48 घंटों में दूसरा बड़ा भूकंप था जिससे कुछ इमारतों को नुकसान पहुंचने की खबर है। सेंटर वेदर ब्यूरों ने इस भूकंप के केन्द्र को 18 किलोमीटर उत्तर-पुर्व में जमीन के 10 किलोमीटर नीचे था। इस भूकंप से पूर्वी तट के पास स्थित एक होलट की इमारत को भारी नुकसान पहुंचने की भी सूचना है।
घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय प्रशासन ने आपातकालीन सेवाओं को सक्रिय कर दिया है। इस संबंध में ताइवान के मंत्रिमंडल की आपात बैठक भी हुई है।

देश का बंटवारा कर देश में रहने की जरूरत ही क्या

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी द्वारा की गई मांग का जवाब देते हुए भाजपा नेता विनय कटियार ने कहा है कि मुसलमानों को इस देश में नहीं रहना चाहिए। कटियार ने कहा कि अगर जनसंख्या के आधार पर देश का बंटवारा कर दें को इस देश में रहने की जरूरत ही क्या है। बांग्लादेश या पाकिस्तान जाएं यहां क्या काम है।
कटियार ने कहा कि एक ऐसा विधेयक होना चाहिए जिसमें वंदे मातरम का अपमान करने वाले के लिए सजा का प्रावधान हो। जो लोग पाकिस्तान का झंडा फहराएं उनके लिए भी सजा होनी चाहिए।
बता दें कि ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को लोकसभा में भारतीय मुसलमानों के हक में एक विशेष प्रकार के कानून की मांग की थी। एआईएमआईएम के अध्यक्ष ओवैसी ने लोकसभा में मांग की कि केंद्र एक ऐसा कानून लेकर आए, जिसके जरिए जो लोग एक भारतीय मुस्लिम को एक पाकिस्तानी कहते हैं उन व्यक्तियों पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जाए। यही नहीं, ऐसा करने वाले लोगों को दंडित करने के लिए तीन साल की सजा का प्रावधान हो।
बता दें कि पिछले दिनों असदुद्दीन ओवैसी ने हरियाणा के महेंद्रगढ़ में कश्मीरी छात्रों के साथ हुई मारपीट के मामले में कहा था कि खट्टर राज में प्रशासन संवैधानिक जिम्मेदारियां निभाने में बुरी तरह फेल हुआ है। वह लोगों को सुरक्षा भी नहीं दे पा रहा है। 2 कश्मीरी छात्रों को मस्जिद से बाहर आने पर पीटा गया है, मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा रहेगा। हम क्या संदेश दे रहे हैं? उन्होंने क्या अपराध कर दिया है? उनपर हमला करने वाले लोग कौन हैं? सरकार लोगों को सुरक्षा देने के बजाय विचारधारा पर काम कर रही है।’
गौरतलब है कि इससे पहले भाजपा सांसद विनय कटियार ने ताजमहल को लेकर हमला बोला था। उन्होंने कहा था कि ताजमहल जल्दी ही तेज मंदिर में तब्दील होगा। आगरा में ताज महोत्सव की बाबत सवाल पूछने पर कटियार ने कहा था कि इसे ताज महोत्सव कहें या फिर तेज महोत्सव, दोनों ही बातें एक हैं। ताज और तेज में बहुत ज्यादा फर्क नहीं है। हमारे तेज मंदिर को औरंगजेब ने कब्रिस्तान में तब्दील कर दिया था। ताजमहल जल्दी ही तेज मंदिर में तब्दील होगा।
उन्होंने यह भी कहा था कि यह अच्छी चीज है कि फेस्टिवल का आयोजन किया जा रहा है। लेकिन यह ताजमहल औरंगजेब के दौर में मौजूद नहीं था। तब यह हमारा मंदिर हुआ करता था। इससे पहले भी विनय कटियार ने विवादित बयान देते हुए कहा था कि ताजमहल पहले शिवमंदिर था।

जयपुर का रेलवे स्टेशन होगा राजस्थान का पहला आल वूमन रेलवे स्टेशन

जयपुर का गांधी नगर रेलवे स्टेशन राजस्थान का पहला आल वूमन रेलवे स्टेशन होगा। यहां 40 महिला कर्मचारियों की नियुक्ति होगी जो यहां पूरे स्टेशन का काम संभालेगी।
इस स्टेशन पर सुपरिडेंट से लेकर खलासी तक और आरपीएफ इंस्पेक्टर से लेकर टिकट चेकिंग कर्मचारी तक सभी महिलाएं होंगी। ये आठ-आठ घंटे की पारी में काम करेंगी।
नीलम जाटव को यहां स्टेशन सुपरिटेंडेंट नियुक्त किया गया है। अन्य महिला कर्मचारियों की नियुक्ति की जा रही है।
इनमें से 4 स्टेशन आॅपरेशन, 8 बुकिंग, 6 रिजर्वेशन, 6 टिकट चैकिंग व घोषणाएं, 10 आरपीएफ और 6 महिला कर्मचारी अन्य काम सम्भालेंगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान करेंगे 12 फरवरी को किसानों का बड़ा सम्मेलन

कोलारस और मुंगावली उपचुनाव के मतदान से पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 12 फरवरी सोमवार को भोपाल में किसानों का बड़ा सम्मेलन करेंगे। इसमें बहुप्रतीक्षित कृषक समाधान योजना (ब्याज माफी) की घोषणा हो सकती है। किसानों के बकाया बिजली बिलों को फ्रीज कर नियमित बिल चुकाने की योजना लागू किए जाने का ऐलान भी हो सकता है। इसके अलावा कुछ अन्य घोषणाएं भी हो सकती हैं।
सूत्रों के मुताबिक राजधानी के जंबूरी मैदान पर आयोजित होने वाले किसान सम्मेलन में मुख्यमंत्री भावांतर भुगतान की शेष राशि किसानों के खाते में डालेंगे।
बताया जा रहा है कि करीब पांच सौ करोड़ रुपए छह लाख किसानों के खातों में जमा कराए जाएंगे। इसके साथ ही रबी फसलों में भावांतर भुगतान फसल योजना लागू रखने का अधिकारिक ऐलान भी सम्मेलन में होगा। सरकार ने तय किया है कि चना, मसूर, सरसों और प्याज में भी भावांतर दिया जाएगा। यह सुविधा सिर्फ पंजीकृत किसानों को मिलेगी।
इसके लिए पंजीयन 12 फरवरी से ही शुरू किया जाएगा। उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्याज में भावांतर देने के साथ जो किसान अभी फसल नहीं बेचना चाहते हैं उन्हें बिक्री अवधि में उपज गोदाम में रखने पर प्रति क्विंटल 8 से 10 रुपए का अनुदान भी दिया जा सकता है। यही व्यवस्था खरीफ फसलों में भी लागू की गई थी। इससे किसानों को अपने मुताबिक बाजार भाव होने पर उपज बेचने में मदद मिलेगी।
सूत्रों के अनुसार सहकारिता विभाग ने बताया कि कृषक समाधान योजना का मसौदा बनाकर मुख्यमंत्री सचिवालय को भेज दिया है। इसके दायरे में पांच से छह लाख किसान आ सकते हैं। सहकारी संस्थाओं से कर्ज लेकर उसे न चुका पाने वाले किसानों का ब्याज माफ कर मूलधन चुकाने पर जीरो परसेंट ब्याज पर कर्ज मिलना शुरू हो जाएगा।
मूलधन एक से लेकर तीन किस्तों में चुकाने पर यह सुविधा मिलेगी। पहले साल किसानों को बिना ब्याज के कर्ज में राशि नहीं, बल्कि सामग्री दी जाएगी। ताकि योजना का दुरुपयोग न हो। हालांकि वित्त विभाग से योजना को अभी हरी-झंडी मिलना बाकी है, क्योंकि सहकारी बैंकों को ब्याज का नुकसान होगा।
यह नुकसान कौन और कितना उठाएगा, यह फार्मूला अभी तय होना बाकी है क्योंकि सरकार सहकारी बैंकों को ब्याज अनुदान देकर जीरो परसेंट पर कर्ज देने में होने वाले नुकसान की भरपाई करती है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री कई आम सभाओं में कृषक समाधान योजना लागू किए जाने की घोषणा कर चुके हैं।
सूत्रों का कहना है कि किसानों के बकाया बिजली बिलों को फ्रीज करते हुए नियमित बिल अदायगी की सुविधा देने की योजना भी लागू करने की तैयारी है। इसमें किसानों से फिलहाल पुराने बिजली बिल नहीं वसूले जाएंगे। दरअसल, बकाया बिल चढ़ते-चढ़ते इतनी राशि हो चुकी है कि किसान अदा ही नहीं कर सकता है।
इसके चलते कंपनियों ने न सिर्फ बिजली कनेक्शन काट दिए हैं, बल्कि वसूली के लिए प्रकरण बनाने और नीलामी जैसी कार्रवाई भी हो रही हैं, जिसका बड़े पैमाने पर विरोध हो रहा है। इसके मद्देनजर मुख्यमंत्री के निर्देश पर ऊर्जा विभाग ने योजना का खाका तैयार किया है।