चेन्नई ओपन में आकर्षण होंगे थॉम्पसन और भांबरी-

ऑस्ट्रेलिया और जर्मनी ने शुक्रवार को विश्व ग्रुप के पहले राउंड के मुकाबलों में एक-एक मैच जीता। निक किर्गियोस ने ऑस्ट्रेलिया और एलेक्जेंडर ज्वेरेव ने जर्मनी के लिए जीत दर्ज की। ऑस्ट्रेलियाई किर्गियोस ने जर्मनी के जान लेनॉर्ड स्ट्रफ को सीधे सेटों में 6-4, 6-4, 6-4 से मात दी।
इससे पहले जर्मनी के ज्वेरेव ने चार घंटे चले मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया के 18 वर्षीय एलेक्स डि मिनौर को 7-5, 4-6, 4-6, 6-3, 7-6 से हराया। स्ट्रफ ने किर्गियोस के खिलाफ कड़ा संघर्ष किया, लेकिन वह उनसे पार नहीं पा सके। दोनों के बीच 97 मिनट तक मुकाबला चला।
इससे पहले ज्वेरेव ने अपने मुकाबले में पहला सेट अपने नाम किया, लेकिन उसके बाद मिनौर ने शानदार डिफेंसिव टेनिस खेलकर विश्व के पांच नंबर के खिलाड़ी को लगातार दो सेटों में हराकर बढ़त बना ली। इसके बाद ज्वेरेव ने वापसी कर चौथा और पांचवां सेट अपने नाम किया। फिर उन्होंने अंतिम सेट जीतकर अपने देश को शुरुआती बढ़त दिलाई। दोनों के बीच चार घंटे लंबा मुकाबला चला।
20 वर्षीय ज्वेरेव का डेविस कप में रिकॉर्ड खास नहीं रहा है। शुक्रवार की जीत से पहले उन्होंने इस टूर्नामेंट में केवल एक जीत दर्ज की है, जबकि चार में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। उभरते खिलाड़ी के तौर पर ग्रैंडस्लैम में भी उनका प्रदर्शन खराब रहा है।
हाल ही में ऑस्ट्रेलियाई ओपन में वह तीसरे राउंड में हारकर बाहर हो गए थे। हालांकि, उन्होंने कहा कि हार के बाद चैंपियन रोजर फेडरर की बात से मैंने सबक लिया। फेडरर ने मेलबर्न में मुझसे कहा कि कड़ी मेहनत करने से ही कामयाबी हासिल होगी।
लिएंडर पेस और जो सालिस्बरी ने तनावपूर्ण सुपर टाईब्रेकर मुकाबला जीतकर डल्लास में आरबीसी टेनिस चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। शीर्ष वरीयता प्राप्त भारत के पेस और अमेरिका के सालिस्बरी की जोड़ी ने एटीपी चैलेंजर स्पर्धा के क्वार्टर फाइनल में रूबेन गोंजालेस और हंटर रीसे को 6-3, 2-6,17-15 से हराया।
पिछले मैच में भी इस जोड़ी ने 18-16 स्कोरलाइन के साथ लंबा सुपर टाईब्रेकर मुकाबला जीता था। शुक्रवार को एक घंटा और 31 मिनट चले मुकाबले में पेस और सालिस्बरी की जोड़ी ने 67, जबकि उनकी प्रतिद्वंद्वी जोड़ी ने 60 अंक जीते। अब उनका सामना अमेरिका के आस्टिन क्राजीसेक और जैकसन विथ्रो की जोड़ी से होगा। पेस ने पिछले हफ्ते जेम्स सेरेटानी के साथ मिलकर न्यूपोर्ट बीच में अपना 25वां एटीपी चैलेंजर खिताब जीता था।
ऑस्ट्रेलिया के जॉर्डन थॉम्पसन और भारत के युकी भांबरी 12 फरवरी से यहां शुरू हो रहे चेन्नई ओपन एटीपी चैंलेजर टेनिस टूर्नामेंट का मुख्य आकर्षण होंगे। एटीपी रैंकिंग में 94वें नंबर पर काबिज थॉम्पसन को टूर्नामेंट में शीर्ष और भांबरी को दूसरी वरीयता दी जाएगी।
मुख्य ड्रॉ में शामिल होने वाले अन्य भारतीय खिलाड़ियों में साकेत मायनेनी, सुमित नागल और प्रजनेश गुन्नेस्वरन के नाम शामिल हैं। मुख्य ड्रॉ के लिए चार अन्य भारतीय खिलाड़ियों को वाइल्ड कार्ड दिए जा सकते हैं।
चेन्नई ओपन में नियमित तौर पर शामिल होने वाले स्पेन के 138वीं रैंक के खिलाड़ी मार्सेल ग्रैनोलर्स को तीसरी और दक्षिण कोरिया के सूनवू क्वोन को क्रमशः तीसरी और चौथी वरीयता दिए जाने की संभावना है। टूर्नामेंट के क्वालीफाइंग राउंड 10 फरवरी से शुरू होंगे और सिंगल्स के फाइनल 17 फरवरी को खेले जाएंगे।

रूस ने अपने नागरिकों को जारी की चेतावनी दुनियाभर में रूस के लोगों को गिरफ्तार करने के लिए अमेरिका कर रहा उनकी घेरेबंदी

रूस ने अपने नागरिकों को यात्रा चेतावनी जारी की है कि वे विदेश जाने से पहले दो बारे सोचें। इसमें कहा गया है कि दुनियाभर में रूस के लोगों को गिरफ्तार करने के लिए अमेरिका उनकी घेरेबंदी कर रहा है।
विदेश मंत्रालय की ओर से जारी बयान में रूसी नागरिकों को चेताया गया है कि वाशिंगटन के अनुरोध पर विदेश में उन्हें गिरफ्तार किए जाने का गंभीर खतरा है।
गिरफ्तार करने के बाद उन्हें अमेरिका प्रत्यर्पित किया जा सकता है। बयान के अनुसार, “अमेरिका और रूसी प्रशासन के बीच सहयोग को बेहतर बनाने के हमारे अनुरोध के बावजूद… अमेरिका की स्पेशल सर्विसेज ने दुनियाभर में रूसी नागरिकों की घेरेबंदी करना जारी रखा है।”
रूसी विदेश मंत्रालय ने कहा है, “इन परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, हम रूसी नागरिकों से बार-बार आग्रह करते हैं कि विदेश जाने की योजना बनाने से पहले वे संभावित जोखिमों पर अच्छी तरह से विचार करें।” इसमें कहा गया है कि 2017 की शुरुआत के बाद से अमेरिका के हस्तक्षेप के कारण बाहर के देशों में अब तक 10 से अधिक रूसी नागरिकों को हिरासत में लिया जा चुका है।
उदाहरण के तौर पर स्पेन, लातविया और ग्रीस में अमेरिकी साइबर अपराध के आरोप में कम से कम रूस के चार नागरिकों को गिरफ्तार किया गया है। पिछले साल संदिग्ध रूसी साइबर अपराधियों के खिलाफ अमेरिका की कार्रवाई रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गई थी।
अमेरिका और विदेश में 2017 में रूस के सात नागरिकों को गिरफ्तार या उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया था, जो पिछले छह वर्षों की तुलना में दोगुना है।

चुनाव से पहले कांग्र्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी छत्तीसगढ़ का दौर करेंगे

विधानसभा चुनाव से पहले कांग्र्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी छत्तीसगढ़ का दौर करेंगे। उनके दौरे से पहले जनता के बीच जाकर रोडमैप तैयार करने एवं बूथ लेबल मानिटरिंग के लिए अब पार्टी ने प्रयास शुरू कर दिए हैं। शुक्रवार को दौरे पर आए कांग्रेस के राष्ट्रीय सहसचिव एवं प्रदेश प्रभारी डॉ. अरूण उरांव ने मीडिया से बातचीत कर पार्टी की नीतियों के बारे में चर्चा की है।
कांग्रेस की जन अधिकार यात्रा के बाद अब पार्टी के राष्ट्रीय सहसचिव एवं प्रदेश प्रभारी डा. अरूण उरांव ने भी जिले का दौरा शुरू किया है। पूर्व आइपीएस अधिकारी एवं पार्टी के राष्ट्रीय पदाधिकारी डा. उरांव ने शुक्रवार को औपचारिक रूप से मीडिया से मुलाकात की और बताया कि पार्टी पूरी 90 सीटों के लिए अभी से मेहनत कर रही है।
बूथ लेबल ट्रेनिंग से लेकर कार्यकर्ताओं से मिलने एवं लोकल मुद्दों को समझने के लिए अभी काम कर रहे हैं। इसके बाद राहुल गांधी भी छत्तीसगढ़ में रैली निकाल सकते हैं। हालाकि अभी कार्यक्रम पूरा तैयार नहीं हुआ है।
जोगी की जाति पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि इस मामले में शुरू से सीएम एवं जोगी की अप्रत्यक्ष रूप से मिलीभगत रही है। वहीं गुजरात विधानसभा चुनाव के परिणाम एवं गुरुवार को आए लोकसभा उपचुनाव के नतीजों को कांग्रेस के लिए अच्छा बताया है।\

मध्यप्रदेश में एक लाख की आबादी पर 5 शराब दुकान

सुनने में आश्चर्य होगा, लेकिन यह सही है कि मप्र के ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोग शहरियों की अपेक्षा शराब पर ज्यादा खर्च करते हैं। गांव में शराब पीने वाला व्यक्ति हर महीने 2 हजार रुपए, तो शहरी व्यक्ति लगभग 1400 रुपए की शराब महीने भर में पीता है।
यह आंकड़े पिछले दिनों मप्र की कैबिनेट बैठक में पेश की गई आबकारी नीति में सामने आए हैं। पिछले 13 सालों में शराब पीने वाले नागरिकों का शराब पर खर्च दोगुना हो गया है। 2003 में ग्रामीण हर महीने एक हजार रुपए शराब पर खर्च करते थे, वहीं 2016 में बढ़कर यह 2 हजार रु. प्रति महीना हो गया।
शहरी क्षेत्रों में 2003 में शहरी व्यक्ति करीब 450 रुपए हर महीने शराब पर खर्च करता था, यह बढ़कर 1400 रु. पर पहुंच गया। हालांकि आंध्रप्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, महाराष्ट्र और उप्र जैसे राज्यों में शराब पर मप्र से ज्यादा खर्च किया जाता है
राजस्व कमाने में आगे मध्य प्रदेश शराब दुकानों से राजस्व कमाने में इन राज्यों से आगे है। राजस्थान हर शराब दुकान से साल में 50 लाख रुपए कमाता है। उत्तर प्रदेश 80 लाख, महाराष्ट्र 1 करोड़ 20 लाख रुपए हर साल कमाता है, जबकि मध्य प्रदेश को 2 करोड़ 8 लाख रुपए एक शराब दुकान से आय होती है। हालांकि मध्य प्रदेश से ज्यादा राजस्व कमाने वाले भी कई राज्य हैं।
मप्र में हर एक लाख की आबादी पर 5 शराब दुकानें हैं। हरियाणा, राजस्थान, महाराष्ट्र, उप्र जैसे राज्यों से तुलना की जाए तो मप्र में शराब दुकानों की संख्या कम है। राजस्थान में हर एक लाख की आबादी पर 19, हरियाणा में 14, महाराष्ट्र में 13 और उत्तर प्रदेश में 9 शराब की दुकानें हैं।