अमेरिका अपने सभी विवाद बातचीत के जरिये हल करने को तैयार

दक्षिण कोरिया से उत्तर कोरिया की वार्ता शुरू होने के बाद अमेरिका भी प्रतिबंधित देश से बात करना चाहता है। लेकिन इसके लिए वह उचित समय और सही हालात बनने का इंतजार करेगा। इस बीच उत्तर कोरिया ने कहा है कि वह दक्षिण कोरिया के साथ अपने सभी विवाद बातचीत के जरिये हल करने को तैयार है लेकिन परमाणु हथियारों के मसले पर किसी से कोई वार्ता नहीं करेगा। उसने अमेरिका से बातचीत के बारे में कुछ नहीं कहा है।
उत्तर कोरिया के साथ वार्ता शुरू होने के बाद दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जेई-इन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के साथ लगातार संपर्क में बनाए हुए हैं। उन्होंने दोनों देशों की वार्ता शुरू होने का बड़ा श्रेय ट्रंप को दिया है। कहा है कि ट्रंप ने आश्वासन दिया है कि दक्षिण और उत्तर कोरिया की बातचीत आगे बढ़ती है तो अमेरिका क्षेत्र में सैन्य कार्रवाई की संभावना टाले रहेगा।
राष्ट्रपति ट्रंप ने भी व्हाइट हाउस में पत्रकारों के सवाल के जवाब में कहा, कौन जाने भविष्य में क्या हो जाए? बताया कि राष्ट्रपति मून ने उन्हें उत्तर कोरिया के साथ हुई बातचीत की जानकारी दी है। आशा है कि यह सफलता की ओर बढ़ेगी। यह सफलता केवल हमारे लिए नहीं होगी बल्कि पूरी दुनिया के लिए होगी। देखना होगा आने वाले हफ्तों और महीनों में इसमें क्या प्रगति होती है।
ट्रंप ने साफ कहा कि अमेरिका को उत्तर कोरिया को लेकर समस्या है। लेकिन हाल के दिनों में सही दिशा में कई बातें हुई हैं। रचनात्मक ऊर्जा पैदा हुई है। इससे भविष्य को लेकर आशा पैदा हुई है। शांति की संभावना को ताकत मिली है।
उत्तर कोरिया ने कहा है कि वह फरवरी में दक्षिण कोरिया में होने वाले विंटर ओलंपिक में भाग लेगा। दक्षिण कोरिया के साथ हर तरह का विवाद बातचीत से निपटाना चाहता है। लेकिन परमाणु हथियारों के मसले पर वह कोई वार्ता नहीं करेगा। उसका वह मसला अमेरिका के साथ है।