किम जोंग से फोन पर बात करना चाहते हैं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच जारी तनातनी के बीच एक अच्छी खबर है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने यह बयान देकर सबको हैरान कर दिया है कि वह किम जोंग से फोन पर बात करना चाहते हैं। इसे विश्व शांति के लिहाज से एक शुभ संकेत माना जा सकता है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को कहा कि उत्तर कोरिया के लीडर किम जोंग उन से वह फोन से बात करने को ‘बिल्कुल’ तैयार हैं। उन्होंने उम्मीद जताई कि नॉर्थ कोरिया और साउथ कोरिया के बीच होने जा रही बातचीत का कुछ सकारात्मक नतीजा निकलेगा।
ट्रंप ने कहा कि निश्चित रूप से मैं हमेशा बातचीत में विश्वास रखता हूं। बिल्कुल मैं वह करूंगा, इससे मुझे कोई समस्या नहीं होगी। हालांकि, उन्होंने इतनी ही तेजी से यह भी कहा कि हर बातचीत एक शर्त के साथ होती है।उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि इस बातचीत के लिये क्या शर्तें होंगी।
दो सालों से भी ज्यादा समय में यह पहला मौका होगा जब मंगलवार को एक सीमावर्ती शहर में उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच कोई औपचारिक वार्ता होगी। इस दौरान दोनों विरोधी पक्ष दक्षिण कोरिया में होने वाले शीतकालीन ओलंपिक खेलों में सहयोग के तरीकों को तलाशनें और आपसी रिश्तों को सुधारने की दिशा में बातचीत करेंगे।
उत्तर कोरिया के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों को लेकर दोनों देशों के बीच खासा तनाव है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के नरम रुख के लिए लोग दक्षिण कोरिया की भूमिका को अहम मान रहे हैं। जिस समय उत्तर और दक्षिण कोरिया रिश्तों को ओलिंपिक खेलों के जरिए सुधारने की कोशिश कर रहे हैं, अमेरिका ने दक्षिण कोरिया की तरफ से की गई संयुक्त युद्ध अभ्यासों को रोकने की गुजारिश मान ली है।
इससे पहले इसी हफ्ते उत्तर कोरिया ने अपनी सीमा पर टेलीफोन हॉटलाइन को फिर से शुरू कर दिया था ताकि दोनों के बीच संपर्क हो सके। हालांकि, बहुत से लोग इस बात को लेकर संदेह जता रहे हैं कि अगले हफ्ते होने वाली वार्ता और उत्तर कोरिया के खेलों में शामिल होने का कोई महत्व है।

ऑस्ट्रेलिया ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच पर मजबूत कर ली अपनी पकड़

ऑस्ट्रेलिया ने रविवार को इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और अंतिम टेस्ट मैच पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली। पहली पारी के आधार पर 303 रनों से पिछड़ने के बाद इंग्लैंड ने चौथे दिन दूसरी पारी में 93 रनों पर 4 विकेट गंवा दिए। कप्तान जो रूट 42 और जॉनी बेयरस्टो 17 रन बनाकर क्रीज पर हैं।
इंग्लैंड अभी भी पहली पारी की बढ़त से 210 रन पीछे है जबकि उसके 6 विकेट बचे हैं। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने मार्श बंधुओं (शॉन और मिचेल) के शतकों से पहली पारी 7 विकेट पर 649 रन बनाकर घोषित की।
इंग्लैंड की दूसरी पारी में शुरुआत बेहद खराब रही जब मिचेल स्टार्क ने मार्क स्टोनमैन (0) को एलबीडब्ल्यू किया। एलिस्टेयर कुक 10 रन बनाकर नाथन लियोन के शिकार बने। जेम्स विंस के पास काबिलियत दिखाने का मौका था, लेकिन वे 18 रन बनाकर कमिंस के शिकार बने। लियोन ने डेविड मलान (5) को पैवेलियन लौटाया। अब मेहमान टीम की उम्मीदें कप्तान रूट पर टिक गई है जो 124 गेंदों का सामना कर 42 रन बनाकर क्रीज पर हैं।
इससे पहले सुबह ऑस्ट्रेलिया ने 479/4 से आगे खेलना शुरू किया। शॉन मार्श ने 212 गेंदों में 11 चौकों की मदद से शतक पूरा किया। इसके बाद मिचेल ने 140 गेंदों में 15 चौकों और 2 छक्कों की मदद से शतक पूरा किया।
मिचेल मार्श 101 रन बनाकर कुरैन के शिकार बने। उन्होंने भाई शॉन के साथ पांचवें विकेट के लिए 169 रनों की भागीदारी की। शॉन मार्श 291 गेंदों का सामना कर 18 चौकों की मदद से 156 रन बनाने के बाद रन आउट हुए। स्टार्क ने 11 रन बनाए। जब टिम पैन 38 और पैट कमिंस 24 रन बनाकर क्रीज पर थे तब ऑस्ट्रेलिया ने पारी घोषित कर दी।

देश में भी जल्द दिखाई दे सकती हैं सोलर रोड

फ्रांस एवं नीदरलैंड की तर्ज पर देश में भी जल्द ही सोलर रोड दिखाई दे सकती हैं। यानी ऐसी सड़कें, जिसकी सतह के नीचे सोलर पैनल लगे होंगे और ऊपर वाहन दौड़ेंगे।
इसके लिए जल्द ही राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान में शोध शुरू किया जाएगा। शोध के लिए तैयारी शुरू कर दी गई है। नीदरलैंड के साथ एमओयू भी किया गया है ताकि कम से कम समय में शोध पूरा हो सके।
शोध पूरा होते ही सोलर पैनल बनाने वाली भारतीय कंपनियों को सोलर टाइल्स बनाने के लिए प्रेरित किया जाएगा। जलवायु परिवर्तन को देखते हुए दुनिया के अधिकतर देशों में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में तेजी से काम शुरू हो चुका है।
सोलर पैनलों का निर्माण तेज करने के साथ ही अब सोलर रोड बनाने की दिशा में कई देश कदम बढ़ा चुके हैं। इनमें फ्रांस एवं नीदरलैंड के नाम भी शामिल हैं।
सोलर रोड बनाने वाले देशों की श्रेणी में शामिल होने के लिए भारत ने भी प्रयास शुरू कर दिया है। पहले गुरुग्राम-फरीदाबाद रोड स्थित राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान में शोध किया जाएगा, फिर रोड का निर्माण शुरू किया जाएगा।
वैसे बहुत अधिक शोध करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि दुनिया के कई देशों में रोड का निर्माण हो चुका है। वाहन दौड़ेंगे, बिजली भी पैदा होगी सोलर रोड बनाए जाने से कई फायदे होंगे।
इसके ऊपर वाहन भी दौड़ेंगे और बिजली भी पैदा होगी। सोलर रोड न टूटे, इसके लिए सोलर टाइल्स बनाने पर जोर दिया जाएगा। छोटे-छोटे टाइल्स को आपस में जोड़ देने से टूटने की संभावना न के बराबर रह जाएगी।
एक तरीका और भी है कि नीचे सोलर पैनल बिछाकर ऊपर रोड इस तरह से बनाया जाता है कि सूर्य की किरणें छिद्रों के माध्यम से पैनल पर पहुंच सकें।
वैसे दुनिया के जिन देशों ने सोलर रोड बनाया है, उनमें से अधिकतर ने सोलर टाइल्स से ही बनाया है। इसे बनाने में अधिक समय नहीं लगता है। साथ ही टूटने पर टाइल्स को बदलना आसान होता है।
राष्ट्रीय सौर ऊर्जा संस्थान के उप महानिदेशक संजय कुमार का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से जलवायु परिवर्तन के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन अस्तित्व में आया है।
इसका मुख्यालय भी अपने देश में ही है। ऐसी स्थिति में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में बेहतर से बेहतर करने की सबसे अधिक जिम्मेदारी भी अपने देश की है।
इसे देखते हुए सोलर रोड बनाने की दिशा में जल्द ही शोध शुरू किया जाएगा। आने वाला समय सोलर क्रांति का है। जलवायु परिवर्तन को देखते हुए आने वाले समय में अधिकतर चीजें सोलर आधारित होंगीं।

घायल बच्चों से मिले मुख्यमंत्री

सीएम साहब जिनके कलेजे के टुकड़े गए हैं, उन्हें पता है बच्चों के जाने का गम क्या होता है। आपके अधिकारी हंस रहे हैं। वे कहते हैं यह हादसा है। किसी बड़े व्यक्ति के बच्चे के साथ अनहोनी हो जाए तो पूरा इंदौर हिल जाएगा। हमारे बच्चों की मौत हुई है, इसलिए अफसर हादसा बता रहे हैं।
डीपीएस बस हादसे में मृत बच्चों के परिजन से रविवार को मिलने पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान पर हरमीत (खुशी) की मां जसप्रीत कौर (पम्मी) का गुस्सा कुछ इस तरह फूटा। मुख्यमंत्री जैसे ही ट्रेवल्स संचालक गुरजीतसिंह कुमार के घर (आर सेक्टर) पहुंचे, जसप्रीत फूट-फूटकर रोने लगीं। कुर्सी पर रखी हरमीत की तस्वीर को सीने से लगा लिया। उन्होंने कहा वह स्कूल जाते-जाते दादा के हाथ से एक चम्मच चावल खाकर गई थी। अब कौन दादा-दादा बुलाएगा। यहां के टीचर जरा भी जिम्मेदार नहीं हैं। वे बच्चों के मारते थे। एक बार तो मैं खुद स्कूल गई। उस वक्त टीचर ने बच्ची को चांटा मार दिया था। मैं खुद बच्ची का स्कूल बदलने की कोशिश कर रही थी। अब जांच के नाम पर तमाशा चल रहा है। इससे मेरी खुशी वापस नहीं आ सकती। सिस्टम की लापरवाही सुनाते-सुनाते पम्मी सीएम को खरी-खोटी सुनाने लगीं। वह स्कूल-प्रशासन को कोस रही थी। सीएम असहाय होकर सुनते रहे।
मुख्यमंत्री एम सेक्टर में माइनिंग कंपनी के मैनेजर भोलेनाथ पांडे के घर पहुंचे। हादसे में मृत स्वस्तिक पंड्या को श्रद्धांजलि अर्पित कर मां मंजुला और बहन श्रेया को सांत्वना दी। वहां मौजूद विधायक उषा ठाकुर ने कहा यह बहादुर मां है। निजी स्कूल में टीचर है। रोजाना दूसरों के बच्चों को संभालती है। हाथ पकड़कर बस में बैठाती है। किसी का हाथ खिड़की में दिखाई दे जाए तो बस रुकवा देती है। हादसे में उसका ही बेटा चला गया। मंजुला के पति भुवनेश्वर (ओडिशा) में मैनेजर हैं। उन्होंने पति से फोन पर बात की और बेटे के अंग दान कर दिए। मासूम श्रेया ने मां को संभाला और कहा स्वस्तिक दूसरे बच्चे में जिंदा है। बड़ी होकर उसके नाम से एनजीओ चलाऊंगी।
मंजुला ने कहा मेरा बेटा तो चला गया। दूसरों के बच्चों को बचा लो। वहां मौजूद महिला शिक्षकों ने भी स्कूल और शिक्षा विभाग में फैली लापरवाही उजागर की। एक महिला ने कहा वह शिक्षक है। कई बातें करीब से देखती है, लेकिन उचित प्लेटफॉर्म न होने से शिकायत नहीं कर सकती। सरकार को हेल्पलाइन व ऐप बनाना चाहिए।
मुख्यमंत्री आईसीयू में बच्चों व परिजन से मिलने बॉम्बे अस्पताल पहुंचे। दस मिनट तक वे अस्पताल में रहे। उन्होंने डॉक्टर को अच्छे से इलाज करन के निर्देश दिए। वे परिजन से भी मिले। परिजन को उन्होंने ढांढस बंधाया और कहा कि संयम रखें।