स्पेशनल फुटबॉल क्लब स्टार स्ट्राइकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो को लगातार दूसरे साल ग्लोब सॉकर बेस्ट फुटबॉलर का अवॉर्ड

स्पेशनल फुटबॉल क्लब रीयल मैड्रिड के स्टार स्ट्राइकर क्रिस्टियानो रोनाल्डो को लगातार दूसरे साल ग्लोब सॉकर बेस्ट फुटबॉलर का अवॉर्ड दिया गया है।
ये रोनाल्डो का चौथा खिताब था। रोनाल्डो के दमदार खेल की बदौलत रीयल मैड्रिड क्लब इस साल चैंपियंस लीग का टाइटल बरकरार रखने में कामयाब रहा है।
32 साल के इस खिलाड़ी को इस साल पांचवीं बार बैलोन डेओर, यूएफा बेस्ट प्लेयर के अलावा फीफा का सर्वश्रेष्ठ फुटबॉलर का भी अवॉर्ड मिला है। ग्लोब अवॉर्ड्स जीतने पर रोनाल्डो ने कहा- ‘ये मेरे लिए वाकई खास लम्हा है। और ये अवॉर्ड पाकर मैं काफी खुश हूं।’मेरी इस कामयाबी में टीम के अलावा कोच का भी बहुत बड़ा हाथ है। ऐसे में मैं सबको धन्यवाद देना चाहता हूं। ताकि अगले साल भी इसी जोश से मैदान में उतरूं। रोनाल्डो ने इस साल 42 गोल किए हैं।
पुर्तगाली खिलाड़ी ने इससे पहले 2011, 2014 और 2016 में यह खिताब जीता था। रोनाल्डो ने इटली से ट्रॉफी प्राप्त करने का वीडियो जारी किया। वीडियो में रोनाल्डो ने मजाक में कहा कि उनकी अलमारी में अभी भी ट्रॉफी रखने की काफी जगह मौजूद है।

पाकिस्तान में दोहरा बम धमाका

नए साल पर पाकिस्तान में दोहरा बम धमाका हुआ है जिसमें 8 लोग घायल हो गए हैं। यह धमाका बलूचिस्तान के चमन शहर में हुआ है। घायलों में सुरक्षाबल के लोग भी शामिल हैं। स्थानीय लोगों के अनुसार धमाके शहर के माल रोड पर हुए हैं जो पाकिस्तान-अफगानिस्तान सीमा पर स्थित है।
जानकारी के अनुसार बम सड़क किनारे रखा हुआ था जिसमें धमाका हो गया। जैसे ही लोग उस जगह पहुंचे एक और धमाका हो गया। इसके बाद सुरक्षाबलों ने इलाके को घेर लिया है और घायलों को इलाज के लिए अस्पतालों में भर्ती करवाया गया है।

नए साल में ये बदलाव पैदा करेंगे परेशानी

इस नए साल में कई चीजें बदलने वाली हैं। कुछ बदलाव आपके लिए फायदेमंद साबित होंगे, तो वहीं कुछ का असर आपके जीवन पर भी पड़ेगा। जानते हैं इनके बारे में…
एक जनवरी से वरिष्ठ नागरिकों, दिव्यांगों और नेत्रहीन व्यक्तियों को घर पर ही बैंक पैसे निकालने, चेकबुक जारी करने, केवाईसी जमा कराने की सुविधा देंगे। घर से बैठे-बैठे ही मोबाइल नंबर को आधार से लिंक किया जा सकेगा। इसके लिए वन टाइम पासवर्ड भेजा जाएगा।
नए साल में ऑल इंडिया इलेक्ट्रॉनिक-वे बिल भी लागू हो जाएगा। जीएसटी काउंसिल इसे लागू करने की तैयारी कर चुकी है। इसके लागू होने के बाद एक राज्य से दूसरे राज्य में सामान पहुंचाना ज्यादा आसान हो जाएगा।
एक जनवरी से सभी डेबिट कार्ड, भीम, यूपीआई से होने वाले डिजिटल लेन-देन पर मर्चेंट डिस्काउंट रेट कम हो गया है। इसके तहत दो हजार रुपए तक के ट्रांजेक्शन पर कोई चार्ज नहीं लगेगा।
नए साल से जापान शॉर्ट टर्म स्टे के लिए मल्टीपल एंट्री वीजा जारी करेगा, जो पांच साल के लिए मान्य होगा। इसके लिए महज तीन दस्तावेज ही देने होंगे। यानी जापान जाना आसान होगा।
अमेरिका में रहने वाले H-1B वीजा होल्डर्स के पति और पत्नि को H-4 वीजा के तहत दिया जाने वाला वर्किंग परमिट जो छीन लिया जाएगा। इससे अमेरिका में नौकरी कर रहे कई भारतीयों की नौकरी जा सकती है।
छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज 0.2 फीसद कम हो जाएगा। किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.3 फीसद और सुकन्या समृद्धि पर दर 8.1 फीसद ब्याज मिलेगा। वहीं, वरिष्ठ नागरिकों को बजत योजनाओं पर मिलने वाला 8.3 फीसद ब्याज दर बरकरार रहेगी।
भीम की तरह खाना खाता है यह बच्चा, भूख मिटाने में कर्जदार हो गए पिता
जनवरी से कई कारों की कीमतें बढ़ जाएंगी। कई कंपनियों ने इसकी घोषणा भी कर दी है। स्कॉडा ने कारों की कीमत में तीन फीसद तक की बढ़ोतरी की बात कही है।

नहीं बढ़ाई जा रही अगले साल बिजली की दरें

चुनावी साल में राज्य सरकार प्रदेश के तकरीबन सवा करोड़ बिजली उपभोक्ताओं को लुभाने में जुट गई है। जहां ग्रामीण उपभोक्ता और किसानों को फ्लेट रेट (तय दर) पर बिजली देने की तैयारी है। वहीं अगले साल बिजली की दरें भी नहीं बढ़ाई जा रही हैं।
इसे लेकर सरकार स्तर पर विचार-विमर्श शुरू हो गया है। जल्द ही अंतिम निर्णय होना है। उधर, तीनों विद्युत वितरण कंपनियों ने घाटा बताते हुए बिजली की दरों में चार फीसदी का इजाफा करने का प्रस्ताव दे दिया है। ऐसी स्थिति में कंपनियों के घाटे की भरपाई सरकार सबसिडी देकर करेगी।
बिजली बिलों में गड़बड़ी सरकार के लिए समस्या बनी हुई है। इस मामले में प्रदेशभर में एक जैसे हालात हैं। इस गड़बड़ी की शिकायतें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी की गई हैं।
इसके बाद भी समस्या का समाधान न होने से बिजली उपभोक्ता नाराज हैं। इसे देखते हुए सरकार चुनावी साल में बिजली की दरें बढ़ाकर कोई जोखिम नहीं लेना चाहती है। उल्लेखनीय है कि वर्तमान में प्रदेश के घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 3.65 से 6.10 रुपए प्रति यूनिट की दर से बिजली दी जा रही है।
प्रदेश की तीनों बिजली कंपनियों ने विद्युत नियामक आयोग को बिजली की दरों में चार फीसदी वृद्धि का प्रस्ताव दिया है। कंपनियों ने बताया है कि अगले साल वर्तमान दर पर बिजली दी तो 2924 करोड़ रुपए का घाटा संभावित है।
सूत्र बताते हैं कि तीनों कंपनियां विभिन्न् मदों में वित्तीय वर्ष 2017-18 में 36 हजार 324 करोड़ रुपए खर्च करेंगी, जबकि समस्त स्रोत (कंपनियों द्वारा इकठ्ठा किए जाने वाले राजस्व, सरकार की ओर से मिलने वाली टैरिफ सबसिडी, मुफ्त में दी जा रही बिजली राशि प्रतिपूर्ति, बिजली खरीदी और पीएफसी से अल्पावधि कर्ज) को मिलाकर 33 हजार 400 करोड़ रुपए मिलेंगे। यानी शुद्ध रूप से 2924 करोड़ रुपए का घाटा है।
सूत्र बताते हैं कि बिजली कंपनियों के प्रस्ताव पर विद्युत नियामक आयोग को फैसला लेना है, लेकिन ये फैसला सरकार के तय करने के बाद ही होगा। फिलहाल आयोग कंपनियों के प्रस्ताव का परीक्षण कर रहा है।