इटली के टस्कनी रिसॉर्ट में होगी विराट और अनुष्का की शादी

भारतीय क्रिकेटर विराट कोहली और बॉलीवुड अभिनेत्री अनुष्का शर्मा की शादी की खबर की पुष्टि हो गई है। लेकिन उनकी शादी मिलान नहीं बल्कि टस्कन रिसॉर्ट में होगी।
रिपोर्ट्‍स के अनुसार विराट और अनुष्का ने डेस्टिनेशन वेडिंग के लिए इटली के टस्कनी में स्थित इस रिसॉर्ट को चुना है। आमतौर पर सर्दियों में यह रिसॉर्ट बंद रहता है, लेकिन इस महत्वपूर्ण शादी के लिए इसे खोला गया है। 100 से ज्यादा साल पुराने किले को विला में तब्दील किया गया है। ‍प्रोफेशनल भांगड़ा डांसर्स को शादी के लिए बुलाया गया है और रिसॉर्ट से ढोल-नगाड़ों की आवाजें सुनाई आ रही है।
रिपोर्ट्‍स के अनुसार इस पंजाबी वेडिंग के लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। विराट और अनुष्का के परिजनों तथा आमंत्रितों के अलावा किसी व्यक्ति को इस रिसॉर्ट के नजदीक भी नहीं फटकने दिया जा रहा है। इस शादी में विराट और अनुष्का के परिजनों के अलावा दो क्रिकेटर और चुनिंदा बॉलीवुड सितारें शामिल होंगे।
26 दिसंबर को होगा रिसेप्शन: रिपोर्ट्‍स के अनुसार मुंबई में एक फाइव स्टार होटल में 26 दिसंबर को विराट और अनुष्का की शादी का रिसेप्शन होगा। इसमें टीम इंडिया के क्रिकेेटर, बीसीसीआई के अधिकारी और बॉलीवुड के सितारें शामिल होंगे। इस समारोह के बाद टीम इंडिया द. अफ्रीका दौरे पर रवाना होगी।

सीरिया में चल रहे गृहयुद्ध में चार लाख 65 हजार से ज्यादा नागरिक मारे गए

सीरिया में पिछले छह सालो से चल रहे गृहयुद्ध में चार लाख 65 हजार से ज्यादा नागरिक मारे गए हैं। शनिवार को शरणार्थी के अधिकार समूह ने ये दावा किया है। तुर्की के अंकारा में स्थित अनादोलु एजेंसी के अनुसार, अंतर्राष्ट्रीय शरणार्थी अधिकार संगठन के उपाध्यक्ष अबदुल्ला रसूल देमिर ने कहा है कि इन नागरिकों की हत्या लड़ाई के दौरान या जेल में हुई है।
उन्होंने कहा कि सीरिया में शताब्दी के सबसे गंभीर मानव अधिकारों का हनन चल रहा है और विश्व के सभी देश ऐसी स्थिति में अपनी आंखों को बंद किए बैठे हैं। देमिर के अनुसार, यह आंकड़ा मार्च 2011 और नवंबर 2017 के बीच स्वतंत्र समीक्षकों से मिले प्रमाणों पर आधारित है।
मौत के आंकड़ों पर बात करते हुए उन्होंने कहा ‘मरने वालों में 26 हजार 466 बच्चे शामिल हैं, जबकि 1.3 करोड़ लोग अपने घर छोड़कर चले गए और शरणार्थी बन गए। 35 लाख बच्चों को उनके मूलभूत अधिकारों, शिक्षा जैसी चीजों से वंचित कर दिया गया।’
बता दें कि इसी हफ्ते के शुरुआत में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएस) के कब्जे वाले पूर्वी सीरिया में रूसी आर्मी द्वारा किए गए हवाई हमले में कम से कम 21 नागरिकों की मौत हो गई। नागरिक सुरक्षा की एक रिपोर्ट का दावा है कि 14 से 17 नवंबर के बीच सीरियाई प्रशासन द्वारा पूर्वी घाउटा पर किए गए हमले में कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई।

देश की सबसे अधिक उम्र वाली मतदाता अजीबेन 126 साल की होने के बाद भी कभी भी अस्पताल नहीं गई

गुजरात में जारी पहले चरण के मतदान में लोगों बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया है। राजकोट के उपलेटा में देश की सबसे अधिक उम्र वाली मतदाता अजीबेन सीदाभाई चंद्रवाडिया ने वोट किया है।
जिला कलेक्टर ने उनके वोट डालने की विशेष व्यवस्था की थी। उन्हें घर से वोटिंग बुथ तक विशेष गाड़ी में लाया गया।
वोट डालने के बाद अजीबेन को इसी गाड़ी में घर तक पहुंचाया गया। अजीबेन 126 साल की हैं। वे अपने परिवार के साथ उपलेटा में रहती हैं।
खास बात यह है कि अजीबेन 126 साल की होने के बाद भी कभी भी अस्पताल नहीं गई हैं। उनके मतदान करने से युवाओं को प्रेरणा मिली है।
जानकारी के मुताबिक, 1 अप्रैल 2007 में अजीबेन का चुनाव कार्ड बना था, जिसमें उनकी उम्र 116 साल दर्शाई गई है और इसके मुताबिक उनकी उम्र अब 126 साल हो चुकी है।

व्यवहार का पाठ भी पढ़ाया जाएगा भावी डॉक्टरों को

भावी डॉक्टरों को इलाज के गुर सिखाने के साथ ही मरीजों से अच्छे व्यवहार का पाठ भी पढ़ाया जाएगा। उन्हें बताया जाएगा कि डॉक्टरी ‘मानवता की सेवा” है। लिहाजा कमीशनबाजी से बच कर रहना। जो जांच व दवाएं जरूरी हैं सिर्फ वही लिखना।
अच्छे आचरण और नैतिकता का यह पाठ एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में शामिल किया जा रहा है। सैलेबस में बदलाव संबंधी मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया के प्रस्ताव को भारत सरकार की जल्द ही मंजूरी मिलने वाली है। 2018-19 के सत्र से नया सैलेबस लागू हो सकता है।
एमसीआई के अधिकारियों ने बताया कि एमबीबीएस के सैलेबस में कई साल बाद बदलाव किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि साढ़े चार साल के कोर्स में करीब 180 घंटे का समय निकाल कर इस अवधि में आचार संहिता का पाठ पूरे चार साल पढ़ाया जाएगा।
एमबीबीएस के पाठ्यक्रम में कई साल बाद इतना बड़ा बदलाव किया जा रहा है। सैलबेस में आचार संहिता को भी जोड़ा जा रहा है। एमसीआई ने यह प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा है। जल्द ही मंजूरी मिलने की उम्मीद है। आगामी सत्र से इसे कोर्स में शामिल किया जा सकता है।