सिंधु और साइना के अलावा श्रीकांत भी सात दिवसीय सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप में आकर्षण का केंद्र होंगे

किदांबी श्रीकांत, पीवी सिंधु और साइना नेहवाल सहित देश के लगभग सभी शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी गुरुवार से यहां शुरू हो रही सात दिवसीय सीनियर राष्ट्रीय बैडमिंटन चैंपियनशिप में चुनौती पेश करेंगे। सिंधु और साइना के अलावा शानदार फार्म में चल रहे श्रीकांत भी चैंपियनशिप में आकर्षण का केंद्र होंगे।
श्रीकांत पुरुष वर्ग में खिताब के प्रबल दावेदार होंगे। महिला एकल में साइना और सिंधु टूर्नामेंट के दौरान आमने-सामने हो सकती हैं जो दर्शकों के लिए बेहतरीन नजारा होगा। अन्य शीर्ष भारतीयों में एचएस प्रणय, अजय जयराम, साई प्रणीत बी, समीर वर्मा, सौरभ वर्मा, पारूपल्ली कश्यप और डेनियल फरीद, रितुपर्णा दास और अनुरा प्रभुदेसाई चुनौती पेश करेंगी।
चैंपियनशिप में 29 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के 400 से अधिक खिलाड़ी चुनौती पेश करेंगे। श्रीकांत, प्रणय, जयराम, साई प्रणीत, समीर, सौरभ, कश्यप और डेनियल फरीद को प्री-क्वार्टर फाइनल में सीधे प्रवेश मिला है। इसी तरह सिंधू, साइना, रितुपर्णा अंतिम 16 से टूर्नामेंट की शुरुआत करेंगी।
पुरुष युगल में सात्विकसाईराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी, मनु अत्री और रेड्डी बी, अर्जुन एमआर और रामचंद्रन श्लोक और बीएआई रैंकिंग की शीर्ष जोड़ी को क्वार्टर फाइनल में सीधे प्रवेश दिया गया है। इसी तरह महिला युगल और मिश्रित युगल में भी शीर्ष जोड़ियां क्वार्टर फाइनल से टूर्नामेंट की शुरुआत करेंगी।
टूर्नामेंट का 82वां सत्र 8 नवंबर तक चलेगा। टूर्नामेंट की इनामी राशि 60 लाख रुपए है जो प्रतियोगिता के इतिहास की सर्वाधिक राशि है। पुरुष और महिला एकल विजेताओं और युगल जोड़ियों को दो-दो लाख रुपए, जबकि उपविजेताओं को डेढ़ -डेढ़ लाख रुपए दिए जाएंगे।

बड़ी कंपनियों के लिए सौगात 10 करोड़ रुपए से अधिक कीमत की बस बेशकीमती कार भी हो जाएगी पार्क

लग्जरी मोटरहोम बनाने वाली कंपनी वॉकनर मोबिल ने ऐसी बस बनाई है, जिसमें रहने-खाने की पूरी व्यवस्था के साथ ही आपकी बेशकीमती कार भी पार्क हो जाएगी और किसी को नजर नहीं आएगी। यह मोटरहोम ऐसे लोगों के लिए सौगात है, जो वीकेंड मनाने के लिए शहर से दूर जाना पसंद करते हैं और साथ ही वहां से छोटी-मोटी यात्रा पर जाते हैं।
इस बस की कीमत 10 करोड़ रुपए (12 लाख पौंड) से अधिक है। इस बस में न केवल सोने की पर्याप्त जगह है, बल्कि आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित किचन और बाथरूम भी है। 40 फीट लंबी इस बस में कार को पार्क करने के लिए एक विशेष इलेक्ट्रोहाइड्रोलिक लिफ्ट लगी है, जो कार को बस के नीचे की तरफ पार्क कर लेती है।
इस जर्मन कंपनी के निदेशक स्टीफैन वॉकनर के मुताबिक, अधिकांश मोटरहोम में लग्जरी सुविधाओं वाला किचन नहीं मिलता, लेकिन इस बस में यह कमी भी पूरी कर ली गई है। इसे चलित घर कहा जाए तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।

हो चुकी महाभारत में पांडवों के लाक्षागृह ढूंढने की तैयारियां पुरातत्व विभाग ने खुदाई की अनुमति दी

महाभारत में पांडवों के जिस लाक्षागृह का जिक्र है अब उसे ढूंढने की तैयारियां हो चुकी हैं। सालों के अनुरोध के बाद पुरातत्व विभाग ने उस जगह खुदाई की अनुमति दे दी है जहां पांडवों का लाक्षागृह होने का दावा किया गया है।
यह जगह यूपी के बागपत जिले के बरनावा में स्थित है। यह वर्णाव्रत का परिववर्तित नाम है जो उन पांच गांवों में शामिल है जिनकी मांग पांडवों ने कोरवों से की थी।
एक अंग्रेजी अखबार के ने अधिकारियो के हवाले से दी खबर के अनुसार महाभारत में कौरवों द्वारा लाख से बनाए लाक्षागृह का जिक्र मिलता है। यह लाक्षागृह कौरवों में पांडवों को जिंदा जलाने के लिए बनाया था लेकिन षडयंत्र की भनक लगने पर पांडवों ने लाक्षागृह के नीचे सुरंग बनाकर ऐन वक्त पर अपनी जान बचाई थी।
पुरातत्व विभाग के निदेशक ने बताया कि काफी विचार विमर्श के बाद हमने अनुमति दी है। अधिकारियों के अनुसार यह खुदाई 3 महीने तक चलेगी।

पद्मावती के खिलाफ भाजपा ने चुनाव आयोग से इसके प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग की

राजस्थान की रानी की पृष्ठभूमि पर बनी फिल्म पद्मावती के खिलाफ भाजपा ने राजपूत समाज के साथ अपना सुर मिला लिया है। पार्टी ने फिल्म को ऐतिहासिक तथ्यों से परे बताते हुए बुधवार को सौंपी गई अर्जी में चुनाव आयोग से इसके प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग की है।
गुजरात में राजपूत समाज के अग्रणी लोगों में गिने जाने वाले और भाजपा के प्रवक्ता आई के जाडेजा ने बताया कि राज्य के क्षत्रिय राजपूत समाज के प्रतिनिधियों ने सरकार के आला मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्मा, प्रदीप सिंह जाडेजा, किरीट सिंह राणा आदि से मुलाकात कर राज्य में पद्मावती के प्रदर्शन पर रोक लगाने की मांग की है।
उनका दावा है कि फिल्म में राजस्थान की गौरवशाली परंपरा के साथ खिलवाड़ किया गया है। फिल्म में अलाउद्दीन खिलजी व पद्मावती की मुलाकात का दृश्य है जबकि दोनों के बीच कभी मुलाकात हुई ही नहीं थी। इससे राजपूत और क्षत्रिय समाज की भावनाओं को ठेस पहुंचा है।

मप्र विकास यात्रा की शुरुआत भ्रष्ट अधिकारी-कर्मचारियों को बताने वाले को 1 लाख का पुरस्कार

भानपुरा (मंदसौर)। अगले साल विधानसभा चुनावों की तैयारियों में मप्र विकास यात्रा की शुरुआत करते हुए मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने भानपुरा में कहा कि अब मध्यप्रदेश में भ्रष्टाचार सहन नहीं किया जाएगा। भ्रष्ट अधिकारी-कर्मचारियों को बर्खास्त किया जाएगा। साथ ही इन्हें बताने वाले को 1 लाख का पुरस्कार भी दूंगा।
इसी तरह ईमानदारी से अच्छे कार्य करने वाले अधिकारी-कर्मचारियों को गले लगाकर सम्मानित भी करूंगा। मप्र सरकार शीतकालीन सत्र में विधेयक लाएगी, जिसमें बधिायों, लड़कियों व महिलाओं के साथ व्यभिचार और अश्लीलता करने वाले अपराधियों को फांसी की सजा का प्रावधान रहेगा।
वे बुधवार को यहां लगभग 6 अरब रुपए की योजनाओं के लोकार्पण व भूमिपूजन पर बोल रहे थे। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर चंबल नदी से नहर द्वारा रेवा नदी में पानी डाले जाने की भानपुरा नहर परियोजना का लोकार्पण किया। साथ ही गरोठ-भानपुरा क्षेत्र के लिए सूक्ष्म सिंचाई योजना का भूमिपूजन किया।
इसके अलावा शामगढ़-सुवासरा तहसील के लिए 800 करोड़ की सिंचाई योजना को स्वीकृत करने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को विकास दिखाई नहीं देता है। मैं आज भी अपनी बात पर कायम हूं कि मप्र की कई सड़कें अमेरिका से अच्छी हैं। और हमारा प्रदेश कई क्षेत्रों में अमेरिका से आगे हैं। इसे कांग्रेस स्वीकार नहीं कर रही है, जिनकी आंखों में गुलामी का चश्मा लगा हो उन्हें मप्र का विकास दिखाई नहीं देता है।
शामगढ़-सुवासरा तहसील के लिए 800 करोड़ रुपए की सिंचाई योजना से गरोठ, शामगढ़ व सुवासरा तहसील के 189 गांव लाभान्वित होंगे और इस क्षेत्र की 40 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। शिवराजसिंह के शब्दकोश में असंभव शब्द नहीं है।
मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि दुनिया और पूरे भारत में भानपुरा पहला ऐसा क्षेत्र है जहां एक नदी का पानी दूसरी नदी में मिलाकर सिंचाई योजना प्रारंभ की गई है। चंबल का पानी आज से रेवा नदी में मिल गया है, यह ऐतिहासिक क्षण है। इन सिंचाई योजनाओं से 126 गांव की 37 हजार हेक्टेयर भूमि सिंचित होगी। 57 वर्षों पहले गांधीसागर बांध के लिए इस क्षेत्र ने बहुत बड़ा बलिदान दिया था। पहली बार मंदसौर जिले को इसका लाभ मिलेगा। पूरा क्षेत्र चंबल के पानी से सिंचित होगा और पेयजल भी उपलब्ध होगा।
भानपुरा में कार्यक्रम के दौरान जब सीएम शिवराजसिंह चौहान मंच से लोगों का अभिवादन करने दूसरे कोने जा रहे थे, तभी एक स्पीकर के यहां केबल में उनका पैर अटका और हल्की-सी ठोकर लगने के साथ वे लड़खड़ाए। इस दौरान साथ चल रहे मंदसौर विधायक यशपालसिंह सिसौदिया ने उन्हें पकड़कर सहारा दिया। हालांकि सीएम तत्काल संभल गए।