पीवी सिंधु ने कोरिया ओपन के सेमीफाइनल में प्रवेश किया

रियो ओलिंपिक की रजत पदक विजेता पीवी सिंधु ने जीत का सफर जारी रखते हुए कोरिया ओपन के सेमीफाइनल में प्रवेश किया। भारत के समीर वर्मा हार के साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गए।
भारतीय शटलर सिंधु ने दुनिया की 19वें क्रम की जापान की मिनात्सु मितानी को 21-19, 16-21, 21-10 से हराया। यह मुकाबला मात्र 63 मिनट चला।
सिंधु ने कड़े संघर्ष के बाद पहला गेम 21-19 से अपने नाम किया। दूसरे गेम में मितानी ने शुरुआती बढ़त बनाई लेकिन सिंधु 12-9 से आगे हो गई थी। इसके बाद जापानी खिलाड़ी ने जोरदार प्रदर्श
न कर इस गेम को 21-16 से अपने नाम कर मैच में 1-1 की बराबरी की। सिंधु ने निर्णायक मैच में शुरू से ही दबाव बनाए रखा और इस गेम को आसानी से जीत लिया।
अब उनका मुकाबला तीसरे क्रम के सुंग जी हुआन और चीन के ही बिंगजियाओ के विजेता से होगा। भारत के समीर वर्मा का सफर कोरियाई शीर्षक्रम के खिलाड़ी सोन वान से हार के साथ समाप्त हो गया। सोन ने समीर को 20-22, 21-10, 21-13 से हराया।

पीवी सिंधु ने कोरिया ओपन के सेमीफाइनल में प्रवेश किया

रियो ओलिंपिक की रजत पदक विजेता पीवी सिंधु ने जीत का सफर जारी रखते हुए कोरिया ओपन के सेमीफाइनल में प्रवेश किया। भारत के समीर वर्मा हार के साथ टूर्नामेंट से बाहर हो गए।
भारतीय शटलर सिंधु ने दुनिया की 19वें क्रम की जापान की मिनात्सु मितानी को 21-19, 16-21, 21-10 से हराया। यह मुकाबला मात्र 63 मिनट चला।
सिंधु ने कड़े संघर्ष के बाद पहला गेम 21-19 से अपने नाम किया। दूसरे गेम में मितानी ने शुरुआती बढ़त बनाई लेकिन सिंधु 12-9 से आगे हो गई थी। इसके बाद जापानी खिलाड़ी ने जोरदार प्रदर्श
न कर इस गेम को 21-16 से अपने नाम कर मैच में 1-1 की बराबरी की। सिंधु ने निर्णायक मैच में शुरू से ही दबाव बनाए रखा और इस गेम को आसानी से जीत लिया।
अब उनका मुकाबला तीसरे क्रम के सुंग जी हुआन और चीन के ही बिंगजियाओ के विजेता से होगा। भारत के समीर वर्मा का सफर कोरियाई शीर्षक्रम के खिलाड़ी सोन वान से हार के साथ समाप्त हो गया। सोन ने समीर को 20-22, 21-10, 21-13 से हराया।

बढ़ता जा रहा है रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों का मामला

रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों का मामला बढ़ता जा रहा है। भारत सरकार जहां इन मुस्लिमों को वापस म्यांमार भेजने की कोशिश में लगी है, वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी इनके समर्थन में उतर आई हैं।
ममता का कहना है कि ये शरणार्थी आम इन्सान हैं, कोई आतंकी नहीं जो सरकार इन्हें जबरदस्ती बाहर भेजने ने कोशिश कर रही है। बकौल ममता, केंद्र सरकार को इनका समर्थन करना चाहिए।
ममता ने इस बारे में एक ट्वीट किया- हम रोहिंग्या शरणार्थियों के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र के विचार का समर्थन करते हैं।
इस बीच, रोहिंग्या मुस्लिमों को वापस म्यांमार भेजने की योजना पर केंद्र सरकार सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल करेगी। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने यह जानकारी दी।
देश की सर्वोच्च अदालत ने दो रोहिंग्या मुस्लिमों, मोहम्मद सलीमुल्ला और मोहम्मद शाकिर की याचिका पर केंद्र सरकार को हलफनामा पेश करने के आदेश दिए थे।
मोहम्मद सलीमुल्ला और मोहम्मद शाकिर का दावा है कि समुदाय के खिलाफ व्यापक भेदभाव, हिंसा और रक्तपात की वजह से उन्होंने म्यांमार से भागकर भारत में शरण ली है। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय मानवाधिकार संधियों के उल्लंघन समेत कई आधारों पर उन्हें वापस भेजने के फैसले को चुनौती दी है।

राजस्थान में दो नाबालिग बच्चियां गलत हरकतों की शिकार हुई

राजस्थान में दो नाबालिग बच्चियां गलत हरकतों की शिकार हुई। एक बाड़मेर के केन्द्रीय विद्यालय में तो दूसरी जयपुर में अपने ही घर में अपने ट्यूटर से। बाड़मेर में पुलिस ने संदिग्धों को गिरफ्तार किया है, जबकि जयपुर में आरोपी ट्यूटर पुलिस की गिरफ्त में आ गया है।
बाड़मेर के जालीपा केंद्रीय विद्यालय में पढ़ने वाली छह वर्ष की मासूम के यौन उत्पीड़न का मामला सामने आया हैं। जिसके बाद प्रशासन के होश उड़ गए हैं। प्रशासन ने पूरी रात स्कूल में अधिकारियों से पूछताछ की। पुलिस ने बच्ची को जिला अस्पताल में भर्ती करवाया है और अस्पताल के बाहर सुरक्षा कड़े कर दिए हैं।
एसपी बाड़मेर गगनदीप सिंगला ने बताया कि केंद्रीय विद्यालय जालीपा कैंट में दूसरी कक्षा में पढ़ने वाली एक मासूम को शुक्रवार शाम पेट दर्द की शिकायत हुई जिसके बाद उसे एक निजी अस्पताल लाया गया। जहां बच्ची के निजी अंगों में दर्द होने पर डॉक्टर ने मामले को संदिग्ध मानते हुए परिजन को बच्ची के साथ गलत हरकत होने का अंदेशा जताया, जिसके बाद पुलिस को मामले की जानकारी दी गई। घटना की गंभीरता को देखते हुए जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक भी स्कूल पहुंचे। उन्होंने बच्ची के साथ स्कूल में ही यौन उत्पीड़न होने के मामले में पुलिस ने स्कूल पहुंच प्राचार्य और अन्य स्टाफ से जानकारी ली।
एसपी ने बताया कि पुलिस मामले की गहनता से जांच कर रही है। पुलिस ने स्कूल परिसर में लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज भी देखे हैं। पुलिस ने कई संदिग्धों को पकड़ा भी है, जिसमें एक टीचर भी शामिल है।
उधर जयपुर में एक 12 साल की एक बच्ची घर में पढ़ाने आने वाले ट्यूटर की गलत हरकतों का शिकार हो गई। आदर्श नगर थाना पुलिस ने इस 35 वर्षीय ट्यूटर को गिरफ्तार किया है। थानाप्रभारी बृजभूषण अग्रवाल ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी के खिलाफ आदर्श नगर में रहने वाली एक महिला ने 13 सितंबर को रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। जिसमें बताया कि उनकी 12 साल की बेटी निजी स्कूल में 7वीं कक्षा की छात्रा है। करीब 15 दिन पहले ही उन्होंने बेटी को पढ़ाने के लिए आरोपी ट्यूटर को रखा था। वह बच्ची को पढ़ाने के लिए घर पर ही आता था।
गत 9 सितंबर को बच्ची ट्यूशन कर बैडमिंटन खेलने के लिए नीचे गई थी। तभी आरोपी ट्यूटर बहला फुसलाकर नाबालिग बच्ची को दूसरे ब्लॉक की छत पर ले गया। जहां उसने बच्ची से अश्लील हरकतें की। तब बच्ची चिल्लाई तो आरोपी ट्यूटर भाग निकला। मामले की जानकारी बच्ची के परिजनों को हुई तब उसकी मम्मी ने आदर्श नगर थाने में पोक्सो एक्ट, छेड़छाड़ व दुष्कर्म के प्रयास का मुकदमा दर्ज करवाया। इसके बाद आज आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

मध्यप्रदेश के 60 हजार अभ्यर्थी आरक्षक भर्ती परीक्षा में नहीं हो पाए शामिल

मध्यप्रदेश के करीब 60 हजार अभ्यर्थी व्यावसायिक परीक्षा मंडल (व्यापमं) द्वारा आयोजित की जा रही आरक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए। विभिन्न् तकनीकी कारणों के चलते उन्हें यह खामियाजा भुगताना पड़ा। अब व्यापमं इन्हें फिर से प्रवेश पत्र जारी कर परीक्षा में शामिल करेगा। इधर, व्यापमं की दलील है कि यह सर्वर की दिक्कत की वजह से हुआ।
आरक्षक भर्ती परीक्षा को शुरू हुए एक महीना पूरा होने वाला है। यह परीक्षा 18 सितंबर तक होना है। इस तरह से रोज करीब दो हजार अभ्यर्थियों को परीक्षा में शामिल होने से वंचित होना पड़ा। अभी परीक्षा समाप्त होने में तीन दिन शेष हैं, इसलिए यह संख्या बढ़ भी सकती है।
परीक्षा देने से वंचित रहे अभ्यर्थियों में कई ऐसे भी हैं जो दूसरे शहरों से परीक्षा देने आए थे। अब उन्हें दोबारा परीक्षा देने आना पड़ेगा। व्यापमं की लापरवाही और उचित व्यवस्था न होने से ऐसी स्थिति बनी। अभ्यर्थी अमित शर्मा ने बताया कि गलती व्यापमं ने की और खामियाजा परीक्षार्थी भुगत रहे हैं। आने-जाने का खर्चा जेब से लगाओ और पूरा दिन भी खराब करो।
जो परीक्षार्थी तकनीकी दिक्कतों की वजह से परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए उनके लिए व्यापमं 27-28 सितंबर को फिर से परीक्षा आयोजित करेगा। इन परीक्षार्थियों को जल्द ही प्रवेश पत्र जारी किए जाएंगे। व्यापमं ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। आरक्षक भर्ती परीक्षा 19 अगस्त से शुरू हुई थी जो 18 सितंबर तक चलेगी। इसके बाद व्यापमं सभी परीक्षा केंद्रों से आई रिपोर्ट के आधार पर परीक्षा से वंचित रहे अभ्यर्थियों की परीक्षा करेगा।
आधार सत्यापन में आ रही दिक्कतों के चलते व्यापमं ने बायोमीट्रिक सत्यापन भी मान्य किया है। इसके माध्यम से भी अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल हो जाएंगे। गौरतलब है कि आधार सत्यापन न होने की वजह से हजारों अभ्यर्थी परीक्षा में शामिल नहीं हो पाए थे। इधर, व्यापमं के अधिकारियों की दलील है कि इसमें व्यापमं की कोई त्रुटि नहीं है बल्कि सर्वर धीमा होने की वजह से ऐसी स्थिति बनी। इसलिए अभ्यर्थी बायोमीट्रिक सत्यापन भी करवा सकता है।
कई बार सर्वर पर लोड ज्यादा होने की वजह से यह धीमा हो जाता है। यह ठीक वैसी ही स्थिति है जैसी आयकर रिटर्न भरने के दौरान होती है जब लोड बढ़ने से रिटर्न फाइल नहीं हो पाता। हालांकि अब अभ्यर्थी बायोमीट्रिक सत्यापन भी करवा सकता है। जो अभ्यर्थी परीक्षा नहीं दे पाए थे उनके लिए 27-28 सितंबर को फिर परीक्षा करवा रहे हैं। ऐसे अभ्यर्थियों को फिर से प्रवेश पत्र जारी किए जाएंगे। इसकी तैयारी चल रही है।