एक नजर देश की उन प्रमुख घटनाओ पर जिनकी तरफ आपका ध्यान दिलाना जरुरी है

नोट बंदी का असर


पिछले साल हुई नोट बंदी का असर क्या पड़ा .. ? वित्त मंत्री अरुण जेटली जी ने बताया की यह समय राजनैतिक निधि और उसके श्रोतो को स्पष्ट करने का है

विवादों का असर


संदीप रॉय जो की भाजपा आईटी सेल के प्रमुख है तथ्य अमित मालवीय जी के भ्रमित खबरों द्वारा लेते है और सदा विवादस्पद टिप्पड़ियो में शामिल है क्या उन्हें विरोधी सत्तारूढ़ दल के लिए उत्तरदायित्व दिया जाना उचित होगा

मुंबई में बारिश का असर


इस बार मुंबई में जो बारिश के दुष्परिणाम देखने को मिले उससे भले ही हमें अचम्भा हो लेकिन वह के नागरिको ने एक दूसरे को बचने और वह फेज लोगो की सहायता में जो किया वह हर दृस्टि से तारीफ के काबिल ही कहा जा सकता है प्रभावी लोगो के लिए उन्हों अपने खुद के घर के दरवाजे खोल दिए

चीन में तीन स्कूलों में विषाक्त भोजन से 120 बच्चे बीमार

पूर्वी चीन में जियांग्सी प्रांत के छोटे बच्चों के तीन स्कूलों में विषाक्त भोजन से करीब 120 बच्चे बीमार पड़ गए हैं। अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी। नानचांग शैक्षणिक विभाग ने घटना की पुष्टि करते हुए बताया कि बच्चों के प्रांतीय सरकारी अस्पताल में कम से 120 बच्चों की चिकित्सकीय जांच की गई है।
स्थानीय मीडिया के मुताबिक, इसमें से 36 बच्चों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि 62 बच्चों को चिकित्सकीय देखरेख में रखा गया है। इनमें से 22 बच्चों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। बताया गया कि सोमवार दोपहर स्कूल से घर लौटने के बाद बच्चों में उल्टी और पेट दर्द के लक्षण दिखाई दिए थे।
रिपोर्ट में कहा गया है कि नगरपालिका का स्वास्थ्य विभाग और शिक्षा विभाग स्थानीय खाद्य एवं दवा प्रशासन और पुलिस के साथ मिलकर इस घटना की जांच कर रहे हैं।

भारतीय मूल के लोगों से मिलकर मुझे अपनापन महसूस होता है

म्यांमार दौरे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीयों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि भारत-म्यांमार की सीमाएं ही नहीं, भावनाएं भी जुड़ी हैं। पीएम मोदी ने कहा कि यह वही पवित्र धरती है जहां सुभाष चंद्र बोस ने गरजकर कहा था, ‘तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।’
थुवुन्ना स्टेडियम में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मैं आपसे मिलना चाहता था। म्यांमार में भारतीयों ने दोनों देशों को दिल में आपस में समेटा हुआ है। पिछले दिनों मैं जाफना गया। ऐसा पहली बार हुआ है जब कोई पीएम जाफना गया है। यहीं जेल में तिलक ने गीता रहस्य लिखा था। भारतीय मूल के लोगों से मिलकर मुझे अपनापन महसूस होता है। आप सब हमारे राजदूत है। आप जहां रहते हैं वहां विकास में योगदान देता है।
1857 की क्रांति से पहले बहादुर शाह जफर को भी दो गज जमीन इसी धरती पर मिली। यह आपका भारत है। सिर्फ भावनात्मक नहीं है। आप भारत के विकास से भी ठोस रूप से जुड़े हुए हैं। यहां आने से पहले मैंने नरेंद्र मोदी ऐप के जरिये सुझाव मांगे थे। आपकी तरफ से कई सुझाव मिले, जिसके लिए हम आपके आभारी है।
विदेश में फंसे और बसे लोगों के लिए सुषमा स्वराज बेहद सक्रिय हैं। बिना हिचक लोग अपनी बात शेयर कर रहे हैं और वे उनकी मदद कर रही हैं।
हमने संकल्प किया है। हम गरीबी मुक्त, सांप्रदायिकता मुक्त, जातिवाद मुक्त ड्रीम इंडिया बनाएंगे और बनाकर ही रहेंगे। आपसे भी यही कहूंगा कि न्यू इंडिया के महामिशन में आप भी शामिल हों। 19वीं शताब्दी के डिजाइन पर 21वीं सदी का इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं चल सकता। सोलर एनर्जी का सबसे बड़ा कार्यक्रम भारत में चल रहा है। इन पर जितना निवेश किया जा रहा है, ऐसा पहले कभी नहीं किया गया है।
तटीय नगरों को जोड़ने के लिए सागर माला परियोजना तेजी से आगे बढ़ रही है। हम केबल फाइबर बिछाकर गांवों तक इंटरनेट की सुविधा दे रहे हैं। कृषि पर हम फोकस कर रहे हैं। स्वीट रेवोल्यूशन यानी मधुमक्खी पालन से भी काफी फायदा हो सकता है। ब्लू रेवोल्यूशन के जरिये मत्स्य पालन उद्योग को बढ़ावा दे रहे हैं।
देश के हित में हम कड़े और बड़े फैसले लेने से नहीं डरते। फिर चाहे सर्जिकल स्ट्राइक हो, नोटबंदी या फिर जीएसटी। हम बिना किसी डर से बड़े फैसले लेते हैं। मुट्ठी भर लोगों के भ्रष्टाचार की कीमत सवा करोड़ लोग उठा रहे थे। यह हमें मंजूर नहीं था।

आईबीबो के संस्थापक आशीष कश्यप ने दिया मेकमायट्रिप के अध्यक्ष पद से इस्तीफा

आईबीबो के संस्थापक आशीष कश्यप ने मेकमायट्रिप के अध्यक्ष पद से इस्तीफे से दे दिया है। साल 2017 के शुरुआत में ही उन्होंने ये पद संभाला था। हालांकि वह सितंबर के अंत तक पोर्टल के साथ जुड़े रहेंगे।
मेकमायट्रिप की ओर से जारी बयान के अनुसार बोर्ड ने कश्यप के इस्तीफे को स्वीकार कर लिया है। इसके अलावा, दोनों कंपनियों के साथ कश्यप का अलग-अलग समझौता था, जो 30 सितंबर, 2019 तक जारी रहेगा।
मेकमायट्रिप ने आशीष कश्यप के इस्तीफे के कारणों का खुलासा नहीं किया है। अनुमान के अनुसार एकीकरण और अलग वर्किंग कल्चर उनके इस्तीफे के संभावित कारण बताए जा रहे हैं। अपने इस बड़े निर्णय के बारे में बात करते हुए खुद आशीष कहते हैं कि इस साल मेकमायट्रिप के साथ आईबीबो का विलय गर्वित क्षणों में से एक है और मैं उनकी निरंतर सफलता देखने के लिए उत्सुक हूं।
यहां यह बताना भी जरूरी हो जाता है कि देश के दो बड़े ऑनलाइन पोर्टल आईबीबो और मेकमायट्रिप का 10 महीने पहले ही विलय हुआ था। पिछले अक्टूबर में मेकमायट्रिप ने आईबीबो को अधिग्रहित कर लिया था, जिससे यह भारत में सबसे बड़ी ऑनलाइन ट्रेवल कंपनी बनी थी।

कुकर में आने वाली सीटी को गिनने की चिंता स्मार्ट गैस नॉब कंट्रोलर ऐप से दूर

खाना पकाते वक्त कुकर में आने वाली सीटी को गिनने की चिंता महिलाओं को पल-पल सताती रहती है। महिलाओं की इस चिंता को ग्रेटर नोएडा के कक्षा आठ के छात्र गौरव सनवाल ने स्मार्ट गैस नॉब कंट्रोलर ऐप से दूर करने का प्रयास किया है।
गौरव बताते हैं-“गैस पर कुकर चढ़ाकर मम्मी अक्सर मुझसे कह देती थीं कि तीन सीटी आने के बाद गैस बंद कर देना, नहीं तो दाल जल जाएगी। पढ़ाई में व्यस्त होने के कारण मैं अकसर सीटी गिनना भूल जाता। इस कारण खाना जल जाता था और मुझे हर बार डांट सुननी पड़ती थी। मैं इसका कुछ हल निकालना चाहता था।”
गौरव ने बताया कि वह अपना आइडिया लेकर यहां स्थित एक्सप्लो रेटो सेंटर गए। सेंटर पर छात्रों के आइडिया को मूर्त रूप देने का प्रशिक्षण दिया जाता है। केंद्र पर मेंटर (प्रशिक्षक) आस्था शर्मा ने प्रोजेक्ट को तैयार करने में उनकी मदद की।
गौरव और उनकी मेंटर का कहना है कि हमने गैस चूल्हे की नॉब में छोटी-सी मोटर फिट की है। जिसके पास ही एक साउंड सेंसर लगाया गया है। यह सिस्टम गैस चूल्हे में लगाए गए एक बोर्ड से नियंत्रित होता है। जिसे संचालित करने के लिए मोबाइल ऐप बनाया गया है।
ऐप को मोबाइल में डाउनलोड करना होता है। इसमें गैस धीमा करने, दो, तीन या चार सीटी के बाद गैस बंद हो जाने के विकल्प हैं।ऐप को ऑन करने के बाद उसमें विकल्प फीड कर दिया जाता है। इसके बाद चुने गए विकल्प के आधार पर ऐप काम करती है। इस प्रोजेक्ट को बनाने में कुल 1200 रुपए की लागत आई है।
गौरव की मेंटर का कहना है कि यह प्रोजेक्ट आम महिलाओं की रोजमर्रा की इस समस्या को दूर कर सकता है। बड़े स्तर पर इसे तैयार करने में लागत और कम हो जाएगी। इसके व्यावसायिक उत्पादन के लिए कुछ नामी कंपनियों से बात चल रही है। हमें उम्मीद है कि जल्द ही यह सिस्टम घर-घर पहुंच जाएगा।

पांच सिपाहियों पर एनकाउंटर करने की कोशिश कर आरोप

क्राइम ब्रांच जबलपुर के पांच सिपाहियों पर एक घायल युवक ने फर्जी एनकाउंटर करने की कोशिश कर आरोप लगाया है। घायल आकाश गांवकर का कहना है कि सिपाहियों ने उसे गले के पास गोली मारी और डेढ लाख रुपए लूट लिए। गोली उसके गले को चीरकर कंधे से निकल गई है।
उधर पुलिस आकाश को गोराबाजार का रहने वाला हिस्ट्रीशीटर बता रही है। घटना देर रात चेरीताल इलाके की है, आकाश को सिटी अस्पताल में भर्ती किया गया है।
मामले की गंभीरता को देखते हुए एसपी ने आरोपी पांच पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है। घटना की जांच का जिम्मा डीएसपी मनजीत चावला को दिया गया है। डीएसपी जब अस्पताल में घायल से मिलने पहुंचे तो उनके साथ खड़े सिपाही को देखकर आकाश बोला ये भी गोली मारने वालों के साथ शामिल था, आरक्षक का नाम सादिक है।