ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर वनडे बना यादगार

ऑस्ट्रेलियाई सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर के लिए भारत के खिलाफ गुरुवार को बेंगलुरू वनडे यादगार बन गया। वॉर्नर का यह 100वां वनडे मैच हैं और उन्होंने इसमें शानदार शतक जड़ते हुए इसे अविस्मरणीय बना लिया।
वॉर्नर 100वें अंतरराष्ट्रीय वनडे में शतक लगाने वाले पहले ऑस्ट्रेलियाई और दुनिया के आठवें बल्लेबाज बने। उनसे पहले यह करिश्मा गार्डन ग्रीनिज (वेस्टइंडीज), क्रिस कैर्न्स (न्यूजीलैंड), यूसुफ योहाना (पाकिस्तान), कुमार संगकारा (श्रीलंका), क्रिस गेल (वेस्टइंडीज), मार्कस ट्रेस्कोथिक (इंग्लैंड) और रामनरेश सरवन (वेस्टइंडीज) कर चुके हैं।
वॉर्नर के लिए भारत के खिलाफ जारी सीरीज अच्छी साबित नहीं हो रही थी। वे इससे पहले तीन मैचों में एक भी फिफ्टी नहीं लगा पाए थे। वे इससे पहले तीन मैचों में 25, 1 और 42 रन ही बना पाए थे। वॉर्नर ने इससे उबरते हुए बेंगलुरू में शानदार पारी खेली। उन्होंने लय हासिल करने के बाद जमकर स्ट्रोक्स खेले और भारतीय स्पिनरों को पूरी तरह बेअसर साबित किया।
वॉर्नर ने केदार जाधव की गेंद पर चौका लगाते हुए शतक पूरा किया। यह उनका वनडे में 14वां शतक था। उन्होंने इसके लिए 103 गेंदों का सामना कर 10 चौके और 3 छक्के लगाए।

चीन ने वायुसेना में शामिल किया जे-20 जेट

चीन ने गुरुवार को स्टेल्थ जे-20 जेट को वायुसेना में शामिल करने की घोषणा की। ये लड़ाकू विमान रडार में दिखाई नहीं देता है। यही खासियत उसे दूसरे विमानों से अलग करती है। हालांकि ये पता नहीं चल सका है कि वायुसेना में कितने जेट शामिल किए गए हैं।
सूत्रों का कहना है कि जे-20 चीन की चौथी पीढ़ी का लड़ाकू विमान है। ये मध्यम व लंबी दूरी तक मार करने वाला विमान है। 2011 में ये पहली बार आकाश में देखा गया। जुहाई गुआंग्डोंग प्रांत में चीन के 11वें एयर शो के मौके पर लोगों को दिखाया गया। ये शो पिछले साल नवंबर माह में आयोजित किया गया था।
रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि इसके वायुसेना में शामिल होने से चीन व भारत के लड़ाकू बेड़े के बीच संतुलन स्थापित हो सकेगा। दो इंजन वाले जेट को चेंगदू एयरोस्पेस कॉरपोरेशन ने बनाया है। पाकिस्तान इस विमान को हासिल करने के लिए अपनी इच्छा जाहिर कर चुका है।
उल्लेखनीय है कि अमेरिकी सेना एफ-22 राप्टर का इस्तेमाल करती है। ये पांचवी पीढ़ी का स्टेल्थ जेट है। 2014 में अमेरिका-चीन आर्थिक व रक्षा समीक्षा आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि जे-20 एशिया पेसिफिक देश में इस्तेमाल होने वाले विमानों की तुलना में ज्यादा सक्षम है। इसके होने से चीन की सेना की मारक क्षमता में बहुत ज्यादा इजाफा होता है।

सबसे ज्यादा धान बोनस रायपुर संभाग के पांच जिलों में

किसानों के लिए अच्छी खबर है। सरकार जल्द ही धान बोनस देने जा रही है। इसे बांटने की योजना लगभग अंतिम चरण में है। किस संभाग में कितना बोनस बंटेगा, ये तय हो चुका है। सरकारी आंकड़ों पर यकीन करें तो सबसे ज्यादा करीब 677 करोड़ रुपए रायपुर संभाग के पांच जिलों में दिया जाएगा। लगभग सवा चार लाख किसान लाभान्वित होंगे।
बता दें कि छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक (अपेक्स) ने वर्ष 2016-17 में प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों के उपार्जन केंद्रों में धान बेचने वाले लगभग 13 लाख 28 हजार किसानों को करीब 2100 करोड़ स्र्पए का बोनस देने के लिए तैयारी पूरी कर ली है। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में प्रदेश भर में बोनस तिहार मनाया जाएगा। यहां किसानों को बोनस की राशि दी जाएगी। इन किसानों ने समितियों में 69 लाख 59 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा धान बेचा था।
– बस्तर संभाग के 7 जिलों-बस्तर, बीजापुर, दंतेवाड़ा, कांकेर, कोण्डागांव, नारायणपुर और सुकमा के कुल 94 हजार किसानों को 130 करोड़ 09 लाख स्र्पए का बोनस मिलेगा।
– बिलासपुर संभाग के 5 जिलों-बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, कोरबा, रायगढ़ और मुंगेली के तीन लाख 34 हजार 594 किसानों को 560 करोड़ 15 लाख स्र्पए का बोनस दिया जाएगा।
– दुर्ग संभाग के अंतर्गत बालोद, बेमेतरा, दुर्ग, कर्वा और राजनांदगांव के कुल तीन लाख 98 हजार किसानों को कुल 570 करोड़ 25 लाख स्र्पए का बोनस दिया जाएगा।
– रायपुर संभाग के अंतर्गत बलौदाबाजार, मतरी, गरियाबंद, महासमुन्द और रायपुर जिलों के चार लाख 24 हजार 380 किसानों को बोनस के रूप में 677 करोड़ 76 लाख स्र्पए दिए जाएंगे।
– सरगुजा संभाग के अंतर्गत बलरामपुर, कोरिया, सूरजपुर, जशपुर और सरगुजा के 76 हजार 320 किसानों को 139 करोड़ 48 लाख स्र्पए का बोनस मिलेगा।

शिशुओं की मौत के मामले में मध्यप्रदेश की सबसे खराब स्थिति

शिशुओं की मौत के मामले में मध्यप्रदेश के एक बार फिर देश में सबसे खराब स्थिति में रहा। जनगणना निदेशालय की एसआरएस-2017 की गुरुवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक मप्र की शिशु मृत्यु दर (आईएमआर) 47 हैं। यानी यहां जन्म से एक साल के बीच प्रति हजार बच्चों में 47 की मौत हो जाती है। इसमें ग्रामीण क्षेत्र की आईएमआर 50 और शहरी क्षेत्र की 33 प्रति हजार है।
एसआरएस-2016 की रिपोर्ट में आईएमआर 50 प्रति हजार थी। इस तरह सिर्फ तीन अंको गिरावट आई है। बता दें कि मप्र सरकार ने 2015 तक आईएमआर 30 प्रति हजार लाने का लक्ष्य तय किया था। शिशुओं और माताओं की मौत कम करने के लिए नेशनल हेल्थ मिशन के तहत कई योजनाएं चल रही हैं। केन्द्र व राज्य सरकार इन योजनाओं पर 1800 करोड़ रुपए हर साल खर्च कर रही है।

रीयल मैड्रिड ने दी बोरुसिया डॉर्टमंड को 3-1 से शिकस्त

स्टार फुटबॉलर क्रिस्टियानो रानोल्डो के दो गोल (डबल) के दम पर रीयल मैड्रिड ने चैंपियंस लीग फुटबॉल में बोरुसिया डॉर्टमंड को 3-1 से शिकस्त दी। इस जीत के साथ रीयल मैड्रिड छह अंकों के साथ गुप ‘एच’ में दूसरे स्थान पर है, जबकि डॉर्टमंड बिना खाता खोले तीसरे नंबर पर है।
150वां यूरोपियन मैच खेलने उतरे रोनाल्डो इस सत्र में चैंपियंस लीग के दो मैचों में चार गोल दाग चुके हैं। डॉर्टमंड की सात यूरोपियन मैचों में रीयल के खिलाफ अपने घर में यह पहली हार है। गेरेथ बेल ने दानी के पास पर 18वें मिनट में शानदार गोल कर रीयल मैड्रिड का खाता खोला।
पहले हाफ तक रीयल मैड्रिड 1-0 से आगे रहा। दूसरे हाफ की शुरुआत में 50वें मिनट में रोनाल्डो ने बेल की मदद से गोल करके टीम को 2-0 से आगे कर दिया। हालांकि चार मिनट बाद ही पियरे-एमेरिक आउबामेयांग ने कास्ट्रो के पास पर गोल करके डॉर्टमंड का स्कोर 1-2 कर दिया। रोनाल्डो ने मोड्रिक के पास पर 79वें मिनट में गोल कर रीयल मैड्रिड को 3-1 से जीत दिला दी।
‘मैं एक बार फिर रोनाल्डो से खुश हूं। साथ ही गेरेथ बेल ने भी प्रभावित किया। यहां खेलना थोड़ा मुश्किल था, लेकिन यह जीत हमारे लिए महत्वपूर्ण है। डॉर्टमंड ने भी काफी अच्छा खेला, लेकिन हमारे खिलाड़ी उन पर भारी पड़े। हमने अच्छा स्कोर किया। हर किसी ने अपना योगदान दिया।’ – जिनेदिन जिदान, कोच, रीयल मैड्रिड
सिटी जीता, लीवरपूल ने खेला ड्रॉ
अन्य मैचों में मैनचेस्टर सिटी ने यूक्रेन के क्लब शखतर डोनेटस्क को 2-0 से हरा दिया। दोनों टीमों के बीच खेला गया पहला हाफ गोल रहित रहा और दोनों टीमें एक-दूसरे की ताकत का अंदाजा लगाती रही। दूसरे हाफ में मैनचेस्टर की टीम दो गोल दागने में सफल हुई।
केविन डि ब्रूयन ने 48वें मिनट में गोल करके मैनचेस्टर का स्कोर 1-0 कर दिया। इसके बाद रहीम स्ट्रलिंग ने मैच के आखिरी मिनट में गोल करके मैनचेस्टर को 2-0 से जीत दिलाई। मैनचेस्टर सिटी गुप ‘एफ’ में छह अंक लेकर शीर्ष पर है, जबकि डोनेटस्क तीन अंकों के साथ दूसरे स्थान पर है।
लीवरपूल ने स्पार्टक मास्को के साथ 1-1 से ड्रॉ खेला। फर्नांडो ने 23वें मिनट में गोल करके मास्को का खाता खोला लेकिन लीवरपूल के फिलिप कूटिंहो ने 31वें मिनट में गोल करके स्कोर 1-1 कर दिया। इसके बाद दूसरे हाफ में कोई गोल नहीं हुआ।

युगांडा की राजधानी स्थित ससंद में हाथापाई

युगांडा की राजधानी स्थित ससंद में बुधवार को विपक्षी दल के सदस्यों और सुरक्षाकर्मियों में जमकर हाथापाई हो गई। करीब 25 विपक्षी सदस्य राष्ट्रपति योवेरी मुसेवेनी का 75 वर्ष की उम्र के बाद भी कार्यकाल बढ़ाए जाने के लिए प्रस्तावित संविधान संशोधन विधेयक का विरोध कर रहे थे।
यह विरोध इतना बढ़ गया कि सांसद आपस में भिड़ गए। कई सांसदों ने कुर्सियों से सदस्यों पर हमला किया। हाथापाई से दो महिला सांसद बेहोश हो गईं। इसके बाद कार्रवाई करते हुए सदन के स्पीकर ने 25 सासंदों को सस्पेंड कर दिया है।
मालूम हो, वर्तमान संविधान के नियम के मुताबिक, पूर्वी अफ्रीकी देशों में राष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार की आयु सीमा 75 साल है। युगांडा में मुसेवेनी 1986 से पद पर हैं और वर्तमान में उनकी उम्र 73 साल है।

पति के शहीद होने के बाद अब पत्नी बनने वाली है सैन्य अफसर

इसी जज्बे से सरहदें सलामत हैं। फौजी पति के देश के लिए शहीद होने के बाद अब पत्नी सैन्य अफसर बनने वाली है। दून निवासी नीता देशवाल ने आराम की नौकरी ठुकराकर पति की ही तरह फौजी वर्दी को चुना।
अप्रैल 2016 को मणिपुर में उग्रवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहीद हुए हरियाणा के झज्जर के मेजर अमित देशवाल की पत्नी नीता देशवाल शॉर्ट सर्विस कमीशन में सेलेक्ट हुई और अब ऑफिसर ट्रेनिंग ऐकेडमी चेन्नई में प्रशिक्षण प्राप्त कर रही हैं। उनके पति को उनके अदम्य साहस के लिए मरणोपरांत सेना मेडल से अलंकृत किया गया है।
क्लेमेनटाउन में बुधवार को गोल्डन-की डिवीजन के तत्वावधान में पश्चिमी कमान का अलंकरण समारोह में लेडी कैडेट नीता ने यह सम्मान ग्रहण किया। पति की शहादत के बाद हरियाणा सरकार ने उन्हें सरकारी नौकरी ऑफर की थी, लेकिन वे अपने पति के नक्शेकदम पर चलना चाहती थी, इसलिए यह ऑफर ठुकरा दिया।
पति की मौत के दो माह बाद वह झज्जर से दिल्ली शिफ्ट हो गई। उन्होंने वहां सर्विस सेलेक्शन बोर्ड की तैयारी शुरू की। नवंबर 2016 में आर्मी सेलेक्शन सेंटर भोपाल ने उन्हें सेना के शॉर्ट सर्विस कमीशन के लिए चुना। उन्हें यह पोस्ट सैन्य विधवाओं के लिए आरक्षित कोटे के तहत मिली।
वह बेटे अर्जुन को भी सेना में अफसर बनाना चाहती हैं। उनका कहना है कि मेरे पति मेरे हीरो थे। उनके लिए सेना ही सब कुछ थी। सेना के साथ जुड़कर उन्हें हर पल अपने पति के साथ होने का अहसास होगा। वह कहती हैं कि मैं आर्मी से दूर होने के बारे में सोच भी नहीं सकती।

कैलादेवी दर्शन जा रहे सात लोगों की दर्दनाक सड़क हादसे में मौत

राजस्थान के धौलपुर जिले में बुधवार तड़के एक दर्दनाक सड़क हादसे में सात लोगों की मौत हो गई, जबकि 12 लोग घायल हो गए। ये सभी लोग पैदल कैलादेवी के दर्शन के लिए जा रहे थे।
धौलपुर के पास सरमथुरा में करौली रोड के खरेह नदी के पास तड़के करीब चार बजे हुए इस हादसे में 4 की मौत घटनास्थल पर ही हो गई और 3 ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। सभी लोग धनोरा रोड बैरा बाग बाड़ी के निवासी है।
सभी मंदिर में झंडा चढ़ाने के लिए जा रहे थे। इसी दौरान तेज बोलेरो कार ने पहले एक व्यक्ति को कुचला। यह व्यक्ति ध्वज लेकर चल रहा था। ध्वज का डंडा बोलेरे में फंसा और बोलेरे अनियंत्रित हो गई। इसने आगे चल रहे अन्य यात्रियों को भी कुचल दिया।
पुलिस ने कहा कि चार लोगों के शव सरमथुरा सीएचसी में रखे हैं। जबकि तीन की मौत करौली में उपचार के दौरान हो गया। बोलेरो चालक पर मामला दर्ज कर लिया गया और जांच जारी है। पुलिस ने कहा कि आरोपी बोलेरो चालक को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने सौंपी रिपोर्ट भांग अर्पित करने से कोई नुकसान नहीं

विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में भगवान महाकाल को विजया यानी भांग अर्पित करने से कोई नुकसान नहीं हो रहा है। भांग में ऐसे तत्व मौजूद हैं, जिनसे ज्योतिर्लिंग को क्षरण का कोई खतरा नहीं है।
यह बात आर्केलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया की टीम ने सुप्रीम कोर्ट में प्रस्तुत करने के लिए भारत सरकार के अतिरिक्त महाअधिवक्ता को सौंपी रिपोर्ट में कही है। इससे भगवान महाकाल को भांग का भोग लगाने और अवंतिकानाथ का भांग से श्रृंगार करने का रास्ता साफ हो गया है।
12 ज्योतिर्लिंगों में सिर्फ विश्व प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में भगवान का भांग से श्रृंगार करने की परंपरा है। पुजारी तड़के भस्म आरती में, श्रावण-भादौ मास में संध्या आरती और त्योहारों पर भगवान का भांग से श्रृंगार करते हैं। इसको लेकर बीते दिनों उज्जयिनी विद्वत परिषद ने सवाल उठाए थे।
परिषद में शामिल विद्वानों का कहना था कि भगवान शिव को भांग चढ़ाने का शास्रोक्त विध्ाान नहीं है। भगवान का भांग से श्रृंगार करने से ज्योतिर्लिंग को नुकसान पहुंच रहा है। परिषद के इस मत का शंकराचार्य और अन्य विद्वानों ने विरोध किया था।
इनका कहना था कि भगवान शिव को भांग अर्पित करने का उल्लेख वेद में भी है। भांग से शिवलिंग को कभी नुकसान नहीं हो सकता है। अब एक्सपर्ट ने अपनी रिपोर्ट में भी इस बात की पुष्टि की है।

कैबिनेट में विस्तार को लेकर गर्मा गई प्रदेश की सियासत

कैबिनेट में विस्तार को लेकर प्रदेश की सियासत गर्मा गई है। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद शिवराज सिंह चौहान जल्द ही मंत्रिमंडल में फेरबदल कर सकते हैं। संभावना जताई जा रही है कि कमजोर परफॉर्मेंस और अस्वस्थता के चलते कम से कम चार-पांच मंत्रियों की छुट्टी भी की जा सकती है।
वहीं आठ-नौ नए चेहरे भी कैबिनेट में शामिल किए जा सकते हैं। विस्तार की तारीख तय होने में सबसे बड़ी दिक्कत यही आ रही है कि दिल्ली की तर्ज पर कमजोर मंत्रियों की यहां से छुट्टी कैसे की जाए। नए मंत्रियों को शामिल करने के लिए भौगोलिक, जातिगत और सामाजिक आधार होने के साथ ही स्वच्छ छवि, ईमानदार और उम्र का भी आकलन किया जा रहा है।
सूत्रों के मुताबिक शिवराज कैबिनेट में नवरात्रि के बाद फेरबदल किए जाने की संभावना बताई जा रही है। इसकी वजह उपचुनाव हैं। उच्च पदस्थ सूत्रों का कहना है कि जल्द विस्तार नहीं हुआ तो फिर नवंबर तक मामला टल सकता है।
इसमें कुछ उम्रदराज और अस्वस्थ मंत्रियों से इस्तीफा लिए जाने की संभावना है तो कुछ कमजोर परफॉर्मेंस वाले मंत्रियों की भी छुट्टी की जा सकती है। जिन मंत्रियों पर तलवार लटक रही है उनमें कुसुम सिंह महदेले, सूर्यप्रकाश मीणा, शरद जैन शामिल हैं। हर्ष सिंह फिलहाल बिना विभाग के मंत्री हैं, पिछले कुछ दिनों से वे स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं।
कैबिनेट विस्तार की सियासत गर्माते ही दावेदारों ने भी लॉबिंग तेज कर दी है। आदिवासी वर्ग से रंजना बघेल, रामलाल रौतेल, रामप्यारे कुलस्ते, निर्मला भूरिया, मीना सिंह को प्रबल दावेदार माना जा रहा है। अनुसूचित जाति वर्ग से प्रदीप लारिया, रणजीत सिंह गुणवान, गोपीलाल जाटव तो सामान्य वर्ग और ओबीसी से महेंद्र हार्डिया, रमेश दुबे, हेमंत खंडेलवाल, केदार शुक्ला, यशपालसिंह सिसौदिया, लोकेंद्र सिंह तोमर, जसवंत सिंह हाड़ा, मुरलीधर पाटीदार, रामलल्लू वैश्य और मुकेश चतुर्वेदी भी दावेदारों की सूची में शामिल हैं।