वैश्विक प्रतिबंधों के बाद भी नॉर्थ कोरिया अपनी हरकतों पर अड़ा हुआ

लगातार अमेरिकी द्वारा मिल रही चेतावनियों और वैश्विक प्रतिबंधों के बाद भी नॉर्थ कोरिया अपनी हरकतों पर अड़ा हुआ है। दक्षिण कोरिया द्वारा जारी सूचना के अनुसार इस बार फिर से उत्तर कोरिया ने मिसाइल छोड़ी है जो जापान के ऊपर से होकर गुजरी और फिर समुद्र में जा गिरी। नॉर्थ कोरिया के इस कदम से जापान की चिंता बढ़ गई है।
विशेषज्ञों का मानना है कि उत्तर कोरिया ने अपने आक्रामक रवैये से अमेरिका और उसके सहयोगी देशों को स्पष्ट कर दिया है कि वॉर गेम में वह पीछे नहीं हटेगा। उधर, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे ने अमेरिका से उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने को कहा है। उन्‍होंने कहा कि जापानी लोगों की सुरक्षा के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे।
सियोल के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने कहा कि उत्‍तर कोरिया की इस मिसाइल ने 2,700 किलोमीटर की दूरी तय की और 550 किलोमीटर की अधिकतम ऊंचाई तक गई। मिसाइल को उत्तरी जापान के होकाइदो आइलैंड के ऊपर से दागा गया। माना जा रहा है कि 2009 के बाद यह पहली बार है, जब उत्‍तर कोरिया की मिसाइल ने जापान को पार किया है।
आपको बता दें कि इस साल उत्‍तर कोरिया ने लगातार मिसाइल परीक्षण किए हैं। कुछ विश्लेषकों का मानना है कि उत्तरी कोरिया अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल खत्म होने से पहले ऐसा हथियार हासिल कर सकता है। जिसके जरिए वह अमेरिका को अपनी ज़द में लाएगा।
दक्षिण कोरिया ने कहा है कि वह अमेरिका के साथ स्थिति का विश्लेषण कर रहा है, ताकि उत्‍तर कोरिया के अगले कदम से पहले तैयारी की जा सके। विश्लेषकों का अनुमान है कि उत्तर कोरिया ने मध्यम दूरी की नई मिसाइल का परीक्षण किया होगा।

केंद्र सरकार शुरू करने जा रही 50 लाख कर्मचारियों के लिए ईमेल सेवा

केंद्र सरकार अपने 50 लाख कर्मचारियों के लिए ईमेल सेवा शुरू करने जा रही है। अंग्रेजी और हिंदी में यह सेवा ईमेल नीति के अनुरूप होगी। ईमेल नीति के तहत सुरक्षा कारणों से सरकारी कर्मचारी प्राइवेट ईमेल सेवा का इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं।
इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने सोमवार को जारी बयान में कहा है, “डिजीटल इंडिया कार्यक्रम के तहत सरकार अपने सभी कर्मचारियों को सुरक्षित ईमेल सेवा मुहैया कराएगी। यह सेवा सुरक्षित संपर्क के लिए मुहैया कराई जाएगी। अब 50 लाख लोगों को यह सेवा प्रदान की जाएगी।
वर्तमान में 16 लाख लोगों को ईमेल सेवा उपलब्ध है।” अंग्रेजी ईमेल आईडी के लिए प्राइमरी डोमैन (एट) जीओवी (डाट) इन और हिंदी ईमेल आईडी के लिए सरकार (डाट) भारत इन रहेगा।
केंद्रीय मंत्रालय की सोमवार की घोषणा से 10 दिनों पहले राजस्थान सरकार ने राज्य के निवासियों के लिए अपनी पहली ईमेल सेवा शुरूकी थी। यह ईमेल सेवा जयपुर स्थित डाटा इंफोसिस ने विकसित किया है। सुरक्षा कारणों से राज्य सरकार पूरी परियोजना का संचालन और देखरेख करेगी।

राजस्थान में स्वाइन फ्लू के कारण भाजपा विधायक कीर्ति कुमारी की मौत

राजस्थान में स्वाइन फ्लू के कारण सोमवार सुबह भीलवाड़ा जिले के माण्डलगढ विधानसभा क्षेत्र की भाजपा विधायक कीर्ति कुमारी की मौत हो गई। उनकी मौत के बाद राजस्थान में स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं, क्योंकि प्रदेश के सबसे बड़े सवाई मानसिंह अस्पताल में भी उनके उपचार के लिए जरूरी सुविधा नहीं मिल पाई और उन्हें निजी अस्पताल में शिफ्ट करना पड़ा।
कीर्ति कुमारी बिजौलिया राजघराने से जुड़ीं थीं। वे चार-पांच दिन से सर्दी-जुकाम से पीड़ित थीं। बिजौलिया में उनका उपचार चल रहा था। रविवार को तबीयत ज्यादा बिगड़ने पर उन्हें कोटा राजकीय अस्पताल ले जाया गया, वहां से उन्हे जयपुर रेफर किया गया। रविवार शाम उन्हें जयपुर के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया। सोमवार सुबह उनकी मौत हो गई।
गौरतलब है कि राजस्थान में स्वाइन फ्लू का प्रकोप तेजी से फैल रहा है।

एयर इंडिया की फ्लाइट में भिंड सांसद भागीरथ प्रसाद ने किया हंगामा

एयर इंडिया की फ्लाइट में बिजनेस क्लास की सीट नहीं मिलने पर भिंड सांसद भागीरथ प्रसाद ने हंगामा कर दिया। इसकी वजह से विमान 15 मिनट देरी से उड़ा। यह बात भी सामने आई है कि विमान में मप्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह भी सवार थे, उनकी सीट के पास ही सांसद की सीट थी। इसके बाद एयर इंडिया स्टाफ ने इकोनॉमी सीट को बिजनेस क्लास में चेंज किया।
विमान में 80 यात्री सवार थे और इसे सुबह 8:15 पर उड़ान भरना थी, लेकिन हंगामे की वजह से वह 8:30 पर उड़ सका। सांसद भागीरथ प्रसाद ने एयर इंडिया प्रबंधन पर जमकर गुस्सा उतारा, इसके बाद उनकी सीट बदलकर बिजनेस क्लास में की गई।

अमेरिका के मुक्केबाज फ्लॉयड मेवेदर ने 10वें राउंड में कोनोर मॅक्ग्रेगोर को पराजित किया

अमेरिका के मुक्केबाज फ्लॉयड मेवेदर ने शनिवार रात इतिहास रचते हुए सबसे महंगी फाइट में कोनोर मॅक्ग्रेगोर को 10वें राउंड में पराजित किया। मेवेदर ने इसी के साथ अपने प्रोफेशनल बॉक्सिंग करियर का अंत 50वीं जीत के साथ अपराजेय रहते हुए किया। उन्होंने 10वें राउंड में टेक्नीकल नॉकआउट आधार पर 29 वर्षीय मिक्स्ड मार्शल आर्ट स्टार मॅक्ग्रेगोर को हराया।
मुकाबला बेहद संघर्षपूर्ण रहा और आयरिश मुक्केबाज ने मेवेदर को कड़ी चुनौती दी। 40 वर्षीय मेवेदर इसी के साथ महान मुक्केबाज रॉकी मार्सियानो को पीछे छोड़कर सबसे सफल मुक्केबाज बन गए। मार्सियानो के नाम 49 जीत का रिकॉर्ड था, जिसे मेवेदर ने 50वीं जीत के साथ तोड़ दिया। मेवेदर ने इनमें से 27 जीत नॉकआउट के जरिए हासिल की।
इस शानदार जीत पर मेवेदर को 100 मिलियन डॉलर से ज्यादा रकम मिलेगी, जबकि मॅक्ग्रेगोर को करीब 75 मिलियन डॉलर राशि मिलेगी। एक अनुमान के मुताबिक 600 मिलियन डॉलर (करीब 4000 करोड़ रुपए) दांव पर थे। इसे मुक्केबाजी इतिहास की सबसे महंगी फाइट माना जा रहा था। इस मुकाबले को 220 देशों में करीब 1 अरब लोगों ने देखा। अमेरिका में तो कई सिनेमाघरों में इसका सीधा प्रसारण किया गया।
जीत के बाद मेवेदर ने कहा, मैंने जितना सोचा था, मॅक्ग्रेगोर उससे ज्यादा चुनौतीपूर्ण प्रतिद्वंद्वी ‍लगे। उन्होंने मेरी उम्मीद से ज्यादा संघर्षपूर्ण प्रदर्शन किया, लेकिन मैं उनसे श्रेष्ठ था। यह मेरे करियर की अंतिम फाइट थी।

वेनेजुएला की सेना ने शुरू किया आम लोगों को हथियार चलाने का प्रशिक्षण

वेनेजुएला की सेना ने अमेरिकी प्रतिबंधों व सैन्य कार्रवाई की धमकियों को देखते हुए आम लोगों को भी हथियार चलाने का प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है।
राष्ट्रपति निकोलस मादुरो ने शनिवार को दो दिनी सैन्य अभ्यास की शुरुआत की। इसमें युद्धक जहाजों, टैंकों व दो लाख सैनिकों के साथ सात लाख रिजर्व फोर्स के जवानों व देश के नागरिकों ने भाग लिया। कराकस सैन्य अकादमी में सैनिक नागरिकों को रायफल से लेकर एंटी एयरक्राफ्ट गन चलाने तक की ट्रेनिंग दी गई।
60 वर्षीय महिला हाथ में रायफल आते ही जोश से भर गई और चिल्लाते हुए कहा, ‘अमेरिकियों बाहर जाओ।’ उन्होंने कहा, ‘वैसे आशा है कि कुछ नहीं होगा लेकिन हम किसी भी स्थिति के लिए तैयार हैं।’ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस महीने की शुरुआत में कहा था कि अमेरिका वेनेजुएला के खिलाफ कार्रवाई को कई विकल्पों पर विचार कर रहा है। इनमें सैन्य कार्रवाई भी शामिल है। हालांकि बाद में ट्रंप प्रशासन के अधिकारियों ने यह कहते हुए मामले को ठंडा किया था कि निकट भविष्य में सैन्य कार्रवाई का कोई इरादा नहीं है।
ज्ञात हो कि वेनेजुएला में गत दिनों नए संविधान के लिए हुए चुनाव के बाद राष्ट्रपति को असीमित शक्तियां प्राप्त हो गई हैं। अमेरिका समेत दुनिया के कई देश इसका विरोध कर रहे हैं।

राम रहीम के कुख्यात आतंकी दुरजंट सिंह राजस्थानी से रिश्ते

अशोक ढिकावराम रहीम के रिश्ते कुख्यात आतंकी दुरजंट सिंह राजस्थानी से रहे हैं। ऑपरेशन दूरजंट सिंह में शामिल रहे पुलिस अधिकारी राजपाल सिंह के मुताबिक दूरजंट सिंह राम रहीम का साला है। आईजी रह चुके राजपाल सिंह अब सेवानिवृत्त हो चुके हैं।
उन्होंने बताया कि 1990 के दशक में दूरजंट सिंह कुख्यात था। 50 हजार के इनामी दूरजंट के सहयोग के कारण ही राम रहीम वर्ष 1990 में डेरे की गद्दी हथियाने में सफल हुआ। बाद में राजस्थान पुलिस के साथ मुठभेड़ में दूरजंट सिंह मारा गया। रणजीत की बहन से किया दुष्कर्मराजपाल सिंह ने बताया कि डेरे से जुड़े पहले विवाद के जांच अधिकारी वही थे।
वर्ष 2002 में डेरे के प्रबंधन समिति का सदस्य कुरुक्षेत्र के खानपुर (पिपली) गांव निवासी रणजीत डेरे को छोड़ अपने परिवार को लेकर गांव चला गया। रणजीत सिंह को उसकी बहन ने राम रहीम के अपने साथ दुष्कर्म करने की व्यथा सुनाई। इसके बाद उसने कुरुक्षेत्र तर्कशील सोसायटी के साथ मिलकर तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस व भारत सरकार को पत्र लिखकर डेरे के अंदर चल रहे घिनौने कृत्यों की जानकारी गुमनाम पत्र से दी।
उसके कुछ दिन बाद ही वह अपने खेतों में काम कर रहा था तो गाड़ी में सवार होकर आए कुछ लोगों ने उसकी गोली मारकर हत्या कर दी। गोली मारने वाला डेरा कमेटी का सदस्य था। प्रभावशाली व्यक्ति होने के कारण गुरमीत राम रहीम ने जांच में सहयोग नही किया। यहां तक कि उसके अनुयायी नोटिस देने के बाद भी तफ्तीश में शामिल नहीं हुए।
रणजीत के पिता गुरुनाम सिंह ने उक्त पत्र सिरसा के पत्रकार रामचंद्र छत्रपति को सौंप दी। छत्रपति ने छाप दिया। इसके बाद 24 अक्टूबर 2002 को छत्रपति की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई। छत्रपति हत्याकांड में पंजाब पुलिस का सिपाही सबदिल सिंह गिरफ्तार किया गया, जो राम रहीम का अनुयायी था। उसने पूछताछ में डेरे से जुड़े कई राज उगले थे।

बीती देर रात भौंरा रेलवे स्टेशन को फूंक डाला

तीन नकाबपोशों ने बीती देर रात कोटा मंडल के भौंरा रेलवे स्टेशन को फूंक डाला और यहां मौजूद कर्मचारियों के साथ मारपीट की। इस घटना के पीछे डेरा समर्थको का हाथ बताया जा रहा है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।
जानकारी के अनुसार तीन-चार अज्ञात युवक स्टेशन मास्टर के कक्ष में जबरन घुस गए और वहां लगे पैनलों में आग लगा दी। आग के कारण तीन स्टेशनों को सिग्नल सिस्टम फेल हो गया।
रेलवे कर्मचारियों के अनुसार इस सिग्नल सिस्टम के माध्यम से रेल के ड्राइवर को जानकारी दी जाती है। कर्मचारियों ने बताया कि आरोपी युवक अपने साथ पेट्रोल लेकर आए थे। उन्होंने पूरे कक्ष को फूंक दिया। घटना की जानकारी मिलते ही कोटा मंडल व जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। देर रात रेलवे के अधिकारी व स्थानीय प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे। माना जा रहा है कि इस घटना के पीछे डेरा अनुयायियों का हाथ हो सकता है।
गौरतलब है कि राजस्थान के भी कई जिलों में अच्छी खासी तादाद है। इन्होंने श्रीगंगानगर में तीन सरकारी कार्यालयों में भी आग लगा दी थी।

चिठ्ठी लिखकर की शिकायत मंत्रियों के बीच चल रही खींचतान

भाजपा में विधायकों और मंत्रियों के बीच चल रही खींचतान रविवार को खुलकर सामने आ गई। मुरैना जिले के सुमावली से विधायक सत्यपाल सिंह सिकरवार ने मुख्यमंत्री को चिठ्ठी लिखकर शिकायत की है कि उनके विधानसभा क्षेत्र में प्रभारी मंत्री की मौजूदगी में उनका अपमान किया जाता है। सिकरवार ने इस मामले को विधायक दल की बैठक में भी उठाने की बात कही है।
दरअसल, मुरैना में ज्ञानोदय विद्यालय भवन के लोकार्पण समारोह के लिए विधायक को अधिकारियों द्वारा देरी से सूचना दी गई थी। इसके साथ ही आमंत्रण पत्र में विधायक का नाम सबसे आखिर में लिखा गया था। इससे विधायक नाराज हो गए और कार्यक्रम में नहीं गए।
इस कार्यक्रम में मुरैना की प्रभारी मंत्री माया सिंह के अलावा आदिम जाति कल्याण मंत्री लाल सिंह आर्य और स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह पहुंचे थे। अपनी उपेक्षा से नाराज विधायक ने अधिकारियों और मंत्री की शिकायत मुख्यमंत्री से की है। उन्होंने साफ कर दिया कि यदि ऐसे ही अपमान होता रहा तो सरकार के किसी कार्यक्रम में नहीं जाऊंगा।
विधायक सिकरवार ने मुरैना में उसी दिन हुई जिला योजना समिति (जियोस) की बैठक का भी बहिष्कार किया था। सिकरवार के मुताबिक जियोस की बैठक सिर्फ औपचारिकता रह गई है।
क्षेत्र में अधिकारी मनमर्जी से काम कर रहे हैं। प्रभारी मंत्री औपचारिकता के लिए जिलों में आते हैं। मेरी माया सिंह से कोई अनबन नहीं है, बस व्यवस्था की लड़ाई है। इस बात को विधायक दल की बैठक में रखूंगा।

ग्रीको रोमन और महिला पहलवानों के खराब प्रदर्शन के बाद पांचवें दिन भारत की झोली खाली

विश्व कुश्ती चैंपियनशिप में भारत का निराशाजनक प्रदर्शन जारी है। ग्रीको रोमन और महिला पहलवानों के खराब प्रदर्शन के बाद शुक्रवार को फ्रीस्टाइल मुकाबलों में भी भारत के चारों पहलवान हार गए और पांचवें दिन भारत की झोली खाली रही।
फ्रीस्टाइल वर्ग में ओलिंपियन संदीप तोमर 57 किग्रा के रेपचेज में पहुंचने में जरुर कामयाब हुए। लेकिन दूसरे राउंड में हारकर बाहर हो गए।
संदीप ने रुस के जैवूर यूगेव को 8-2 से हराया, लेकिन अगले दौर में जापान के यूकी ताकाहाशी से 3-14 से हार गए। ताकाहाशी के फाइनल में पहुंचने से संदीप को रेपचेज में उतरने का मौका मिला। उन्होंने पहले राउंड में कनाडा के एसो पलानी को 10-0 से हराया, लेकिन दूसरे राउंड में मंगोलिया के एर्डेन बेखबयार ने उन्हें 10-0 से हरा दिया। इस हार के साथ ही संदीप की कांस्य पदक के प्लेऑफ में जाने की उम्मीदें समाप्त हो गईं।
भारत के तीन अन्य पहलवानों हरफूल गुलिया (61 किग्रा), दीपक पूनिया (86 किग्रा) और सुमित (125 किग्रा) को भी हार का सामना करना पड़ा।
अंतिम दिन एशियाई चैंपियन बजरंग, अमित धनखड़, प्रवीण राणा, और सत्यव्रत अपना दावा पेश करेंगे।