पीवी सिंधु, साइना नेहवाल और किदांबी श्रीकांत विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक के प्रबल दावेदार

दो बार की कांस्य पदक विजेता पीवी सिंधु, साइना नेहवाल और शानदार फॉर्म में चल रहे किदांबी श्रीकांत सोमवार से शुरु हो रही विश्व बैडमिंटन चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक के प्रबल दावेदार होंगे। चैंपियनशिप में 21 सदस्यीय भारतीय टीम हिस्सा ले रही हैं।
ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु 2016 चाइना ओपन और 2017 इंडिया ओपन जीत चुकी हैं। इसके अलावा 2013 और 2014 में उन्होंने कांस्य पदक जीता था और अब उनकी निगाहें स्वर्ण पदक पर हैं। 2015 विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता साइना नेहवाल भी स्वर्ण के प्रबल दावेदारों में शामिल हैं।
दिलचस्प बात है कि साइना और सिंधु को शुरुआती दौर में बाय मिला है। सिंधु दूसरे दौर में कोरिया की किम हयो मिन और मिस्र की हादिया होस्नी के विजेता के खिलाफ मुकाबले से अपने अभियान की शुरुआत करेंगी। क्वार्टर फाइनल में उनकी भिड़ंत चीन की सुन यु से हो सकती है। वहीं साइना का सामना स्विट्जरलैंड की सबरीना जाकेट और यूक्रेन की नताल्या वोयेतसेख के बीच होने वाले मैच की विजेता से होगा।
पुरुष वर्ग में देश की उम्मीदें किदाम्बी श्रीकांत से है। इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया में लगातार खिताब जीतने के बाद श्रीकांत शानदार फॉर्म में हैं और वे अपनी लय बरकरार रखना चाहेंगे। श्रीकांत पहले दौर में रूस के सर्गेई सीरेंट से खेलेंगे।
थाइलैंड ग्रां प्रि गोल्ड विजेता बी. साई प्रणीत पहले दौर में हांगकांग के वेई नान और अजय जयराम पहले राउंड में ऑस्ट्रिया के लुका रैबर से भिड़ेंगे। धार मध्यप्रदेश के समीर वर्मा पहली बार विश्व चैंपियनशिप में खेलेंगे। पहले दौर में उनका मुकाबला स्पेन के पाब्लो अबियान से होगा।
इसके अलावा राष्ट्रीय चैंपियन रितुपर्णा दास, तन्वी लाड, मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी भी नजर आएंगे।
युगल वर्ग में अश्विनी पोनप्पा व सिक्की रेड्डी, जे. मेघना व पूर्विशा एस.राम, संजना संतोष व अराथी सारा सुनील, चिराग सेन व सत्विक साईराज रैंकीरेड्डी, अर्जुन एमआर व रामचंद्रन श्लोक, सुमित व अश्विनी पोनप्पा, प्रणव जेरी चोपड़ा व एन सिक्की रेड्डी और सत्विक और मनीषा की जोड़ी भी नजर आएंगी।
यह शायद सबसे मजबूत टीम है। पुरुष खिलाड़ी अभी काफी अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं और पदक दावेदारों में शामिल चार भारतीय काफी अच्छे हैं। उनमें सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों को मात देने की काबिलियत है। इन दिनों कोई भी प्रबल दावेदार नहीं है और हम अपने खिलाड़ियों से मजबूत प्रदर्शन की उम्मीद कर सकते हैं

मालेगांव ब्लास्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दी कर्नल श्रीकांत पुरोहित को जमानत

सन् 2008 मालेगांव ब्लास्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को ले. कर्नल श्रीकांत पुरोहित को जमानत दे दी। इससे पहले साध्वी प्रज्ञा सिंह और असीमानंद को भी बेल मिल चुकी है। इसके साथ ही देश में भगवा आतंकवाद का आरोप झेलने वाले सभी बड़े नाम अब जेल से बाहर आ चुके हैं।
मक्का मस्जिद धमाके में आरोपी थे स्वामी असीमानंद: स्वामी असीमानंद मक्का मस्जिद धमाके में आरोपी बनाए गए थे। इसी साल मार्च में उन्हें जमानत मिली थी। उन्होंने सात साल कैद में बिताए। 2007 के अजमेर बम धमाके के मामले से जयपुर अदालत के असीमानंद को बरी करने के बाद उन्हें मक्का मस्जिद मामले में हैदराबाद में गिरफ्तार कर लिया गया था। फिलहाल असीमानंद को हैदराबाद से बाहर जाने की अनुमति नहीं है।
मालेगांव ब्लास्ट केस में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को मिल चुकी है बेल: मालेगांव ब्लास्ट केस में बाॅम्बे हाईकोर्ट से साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को जमानत मिल चुकी है। इसके बाद से साध्वी कांग्रेस पर आरोप लगा रहा हैं और कह रही हैं कि भगवा आतंकवाद कांग्रेस की देन है। सबसे पहले पी. चिदंबरम ने भगवा आतंकवाद शब्द का उपयोग किया था। सुनील जोशी हत्याकांड में भी प्रज्ञा ठाकुर को जमानत मिल चुकी है।
9 साल पहले गिरफ्तार हुए थे कर्नल पुरोहित, अब रिहा: ले. कर्नल श्रीकांत पुरोहित को नौ साल बाद जमानत मिल गई। मालेगांव ब्लास्ट मामले कर्नल पुरोहित पर आऱोप था कि उन्होंने धमाके के लिए जरूरी विस्फोटक मुहैया करवाया। पुरोहित ने अभिनव भारत नामक संगठन का गठन किया था। इससे पहले वे सेना में थे।

चौकीदार के बेटे ने पेश की ईमानदारी की मिसाल

चौकीदार के बेटे ने ईमानदारी की मिसाल पेश करते हुए 45 लाख रुपए के हीरे उसके मालिक को लौटा दिया। सूरत डायमंड एसोसिएशन (एसडीए) ने इसके लिए 15 वर्षीय विशाल उपाध्याय और उसके पिता फूलचंद को शनिवार को सम्मानित किया।
एसोसिएशन ने ईमानदारी के इनाम के तौर पर विशाल के एक साल की पढ़ाई का खर्च उठाने की जिम्मेदारी ली। हीरा व्यापारी मनसुखभाई सवालिया का हीरों से भरा पाउच रविवार को खो गया था। एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष दिनेश नवाडिया ने कहा कि पिछले रविवार को नवाडिया सेफ डिपॉजिट वॉल्ट से हीरे के पैकेट लेकर आ रहे थे तभी रास्ते में एक पाउच गिर गया। पास में ही क्रिकेट खेल रहे विशाल को वह पाउच मिला। वह उसे लेकर घर आया और उसने पिता को दिखाया।
नवाडिया ने बताया कि सोमवार और मंगलवार की छुट्टी के बाद बुधवार को एसोसिएशन का दफ्तर खुलने पर फुलचंद ने हीरों वाला पाउच लौटा दिया। एसोसिएशन ने सीसीटीवी फुटेज देखने के बाद हीरे के मालिक का पता लगाकर उसे पाउच सौंप दिया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सौंपी अमित शाह को मप्र के मंत्रियों की परफॉरमेंस रिपोर्ट

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने अमित शाह को मप्र के मंत्रियों की परफॉरमेंस रिपोर्ट भी सौंपी है। सूत्रों के मुताबिक शनिवार देर रात तक अमित शाह, उनकी टीम और शिवराज के बीच बैठक चली थी। जिसमें शिवराज ने यह रिपोर्ट सौंपी है। प्रदेश के बारे में शाह की टीम से मिला फीडबैक भी शिवराज से साझा किया गया है। सूत्रों के मुताबिक जल्द ही खराब प्रदर्शन करने वाले मंत्रियों पर गाज गिर सकती है।
शाह के दौरे में जो बात और कमजोरियां सामने आई हैं, उनके मुताबिक पार्टी में बदलाव भी जल्द दिखाई देंगे। सरकार और संगठन के कामकाज पर नजर रखने के लिए उन्होंने कोरग्रुप को न सिर्फ मजबूत किया, बल्कि अधिकार सम्पन्न बना दिया है। अब सत्ता और संगठन के फैसले लेने से पहले कोरग्रुप से हरी-झंडी लेना पड़ेगी। पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष नंदकुमार सिंह चौहान ने भी कहा कि शाह ने जो उम्मीद जताई है उसके मुताबिक बदलाव किए जाएंगे।