के कामराज

कुमारास्वामी खामराज।१९६० के दोरान भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता थे। वे १९६४ से १९६७ के बीच कांग्रेस के अध्येक्श रह चुके थे और लाल बहादुर शास्त्री को भारत के प्रधान मंत्रि बनने में उनका मुखय योगदान रहा है

कुमार गन्धर्व

कुमार गंधर्व के नाम से प्रसिद्ध शिवपुत्र सिद्धराम कोमकाली को सन १९७७ में भारत सरकार द्वारा कला के क्षेत्र में पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था। वह मध्य प्रदेश से हैं

भारत के एचएस प्रणय ने कनाडा ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में पुरुष सिंगल्स के प्रीक्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया

दूसरी वरीय भारत के एचएस प्रणय ने कैलगरी में खेले जा रहे कनाडा ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में बुधवार को पुरुष सिंगल्स के प्रीक्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया, लेकिन 16वीं वरीय पारूपल्ली कश्यप कड़े संघर्ष के बाद दूसरे दौर में हारकर टूर्नामेंट से बाहर हो गए।
राष्ट्रमंडल खेलों के चैंपियन कश्यप को दूसरे दौर में कोरिया के युवा खिलाड़ी जियोन हियोक जिन ने 50 मिनट तक चले तीन गेमों के संघर्ष में 21-10 10-21 21-15 से हराकर बाहर कर दिया। एक अन्य मैच में दूसरी वरीय प्रणय ने स्कॉटलैंड के कीरेन मैरीलीस को एक घंटे, आठ मिनट में 21-17, 16-21, 21-15 से हराकर अंतिम सोलह दौर में जगह पक्की कर ली। उनका अगला मुकाबला नौवीं सीड जियोन हियोक जिन से होगा।
इसके अलावा अभिषेक येलेगर ने अमेरिका के हॉवर्ड शू को 21-10 19-21 21-17 से हराया और तीसरे दौर में जगह बना ली। करन राजन राजाराजन ने इंग्लैंड के सैम पार्संस को 21-16, 21-14 से हराकर तीसरे दौर में जगह बना ली, जहां उनका मुकाबला जापान के कोकी वाताबे से होगा।

एटीएम से बाहर निकला आदमी

अमेरिका के टेक्सास प्रांत में बैंक ऑफ अमेरिका के एक एटीएम का ताला कुछ दिनों से खराब था। बैंक के बुलावे पर एक ठेकेदार उसे ठीक करने पहुंचा।
उसने एटीएम खोला और मशीन के अंदर बैठकर उसे ठीक करने लगा। अचानक दरवाजा बंद हो गया और वह उसी में फंस गया। उसके पास सिर्फ कागज और पेन ही थे। उसने अंदर से मदद को आवाज लगाई लेकिन किसी ने उसे सुना नहीं। फिर उसने कागज में मदद का संदेश लिखा और रसीद निकालने वाले सुराख से बाहर उसे किया। वह कई घंटों तक वहां फंसा रहा। उसकी मदद के लिए डाली गई प‍र्ची को देखकर कई लोगों को मजाक लगा।
हालांकि अंदर बंद ठेकेदार ने हिम्मत नहीं हारी, और पर्ची से मदद की गुहार लगाता रहा। अंततः पर्ची देख एक व्यक्ति ने पुलिस बुलाई। पुलिस ने दरवाजा तोड़कर उसे छह घंटे बाद बाहर निकाला।
कॉर्प्स क्रिस्टी पुलिस के सीनियर अधिकारी ने रिचर्ड ओल्डेन ने कहा, यह अपने तरह का पहला मामला था जब कोई कर्मचारी एटीएम रूम में फंसा। वह अपना मोबाइल ट्रक में छोड़ गया था, इसलिए मदद के लिए उसके पास कोई और चारा नहीं बचा था। शुरू में लोगों को लगा कि कोई उनसे मजाक कर रहा है।

जब आप अंत में सोचते हैं कि आपके पास समय है, तो आपको लगता है कि आप उस काम के लिए बूढ़े हो चुके एक जोड़ी ने दिखा दिया उम्र कोई बाधा नहीं

अचानक लंबी सड़क यात्रा के बारे में हम में से कई लोग सोचते हैं। मगर, कभी भी पर्याप्त समय नहीं होता या कभी पर्याप्त संसाधन नहीं होते। और जब आप अंत में सोचते हैं कि आपके पास समय है, तो आपको लगता है कि आप उस काम के लिए बूढ़े हो चुके हैं।
हालांकि, मुंबई की एक जोड़ी ने दुनिया को दिखा दिया है कि सपनों को पूरा करने में उम्र कोई बाधा नहीं है। 73 वर्षीय बद्री बलदावा और उनकी 63 वर्षीय पत्नी ने 10 साल की पोती के साथ मुंबई से लंदन का सफर सड़क से पूरा किया। बद्री बाल्दावा ने अपने फेसबुक अकाउंट पर सभी तस्वीरें डाली हैं। जहां से आप यात्रा के बारे में और भी जानकारी हासिल कर सकते हैं।
वे मार्च 23 को अपने बीएमडब्लू एक्स 5 पर रवाना हुए और 19 देशों को पार करते हुए 72 दिनों में 22,200 किलोमीटर की दूरी कवर करके लंदन पहुंचे। उन्होंने इंफाल से यात्रा को शुरू किया और फिर म्यांमार, थाईलैंड, लाओस, चीन और रूस होते हुए लंदन पहुंचे।
द हिंदू को दिए एक इंटरव्यू में बद्री बलदावा ने कहा कि मुंबई से लंदन में जाने के लिए कोई अन्य वैकल्पिक मार्ग नहीं था। अगर मैं पाकिस्तान और अफगानिस्तान होते हुए जाता, तो इस बात की कोई गारंटी नहीं थी कि मैं जिंदा बचता। हम तिब्बत रास्ते उत्तर की ओर नहीं जा सकते थे क्योंकि चीन इसकी इजाजत नहीं देता।

सरकार न तो देश के अंदर मौजूद अलगाववादियों के सामने झुकेगी और न ही चीन से डरेगी

राष्ट्रीय सुरक्षा और संप्रभुता के मुद्दे पर देश में एक राय बनाने के लिए सरकार ने विपक्षी दलों को साथ लेकर चलने की कोशिश की है। गृह मंत्री राजनाथ सिंह, रक्षा व वित्त मंत्री अरुण जेटली और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज की मौजूदगी में विपक्षी दलों को यह स्पष्ट कर दिया गया कि सरकार न तो देश के अंदर मौजूद अलगाववादियों के सामने झुकेगी और न ही चीन से डरेगी।
शुक्रवार को सरकार ने विपक्ष के नेताओं को चीन से गतिरोध व कश्मीर के हालात की जानकारी देने के लिए बैठक बुलाई थी। इसमें राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल व विदेश सचिव एस. जयशंकर ने सिक्किम-भूटान सीमा (डोकलाम) पर चीन के साथ जारी विवाद पर प्रेजेंटेशन दिया। संसद के मानसून सत्र से ठीक पहले बुलाई गई बैठक में विपक्षी दलों ने चीन के मुद्दे पर तो सरकार को साथ देने का भरोसा दिया, लेकिन कश्मीर की स्थिति को लेकर चिंता जताई।
कश्मीर को लेकर गृह सचिव राजीव गौबा ने ब्योरा दिया।कूटनीतिक विकल्प तलाशें : कांग्रेसबैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद और आनंद शर्मा ने कहा कि चीन और जम्मू-कश्मीर के मुद्दे पर उन्होंने अपनी शंकाएं सरकार के प्रतिनिधियों के सामने रखीं। सरकार को तनाव कम करने के लिए कूटनीतिक विकल्प तलाशने की सलाह दी गई है।
आनंद शर्मा ने कहाकि उनकी पार्टी के लिए राष्ट्रहित सर्वोपरि है, लेकिन विपक्ष के रूप में सरकार की नीति की खामियों को संसद में उजाग र करने से भी नहीं चूकेंगे। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी के अनुसार सरकार ने सिक्किम विवाद को सुलझाने का भरोसा दिया है। तृणमूल कांग्रेस के नेता डेरेक ओ”ब्रॉयन ने कहा कि उनकी पार्टी ने कुछ गंभीर सवाल उठाए। सरकार के पास उन घटनाओं से निपटने को लेकर कोई जवाब नहीं था।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले के मुताबिक बैठक में यह आम सहमति थी कि भारत और चीन विवाद को अस्ताना में हुई बातचीत के मुताबिक सुलझाया जाए। कुछ विपक्षी नेताओं ने कश्मीर की स्थिति को लेकर सवाल उठाया। गृह मंत्रालय का कहना था कि जमीनी हालात अब भी बेकाबू नहीं हैं। 19 प्रमुख नेता मौजूद थेराजनाथ सिंह और सुषमा स्वराज ने विपक्षी नेताओं का आशंकाओं को दूर करने की कोशिश की।
रक्षा मंत्री अरुण जेटली और एनएसए डोभाल भी बैठक में मौजूद थे। विपक्षी नेताओं में दो पूर्व रक्षामंत्रियों शरद पवार और मुलायम सिंह यादव को भी बुलाया गया था। बैठक में विभिन्न दलों के कुल 19 सांसद मौजूद थे। डोभाल जाएंगे चीनशीर्ष मंत्रियों ने विपक्ष के नेताओं को बताया कि एनएसए डोभाल 26-27 जुलाई को चीन जाएंगे और चीन के वार्ताकारों के समक्ष भारत का पक्ष रखेंगे।

आईटी सेक्टर में छटनी से परेशान आंधप्रदेश के 25 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने कर ली आत्महत्या

आंधप्रदेश के रहने वाले 25 वर्षीय सॉफ्टवेयर इंजीनियर ने आत्महत्या कर ली। उसकी पहचान गोपीकृष्ण दुर्गाप्रसाद के रूप में हुई है। वह तीन दिन से पुणे की एक कंपनी में काम कर रहा था। मगर, इन दिनों जिस तरह से आई सेक्टर में छटनी हो रही हैं, उससे वह परेशान हो गया था।
उसने इंग्लिश में लिखा और हस्ताक्षर किया हुआ एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है, जिसमें उसने लिखा है- आईटी फील्ड में कोई जॉब सिक्योरिटी नहीं है। उसने आगे लिखा है कि उसे अपने परिवार की काफी चिंता है। यह नोट फॉर्च्यून होटल में उसके कमरे से बरामद हुआ है, जिसकी चौथी मंजिल से कूदकर उसने जान दे दी।
पुणे की पिटनी बोवज सॉफ्टवेयर कंपनी में तीन दिन पहले ही उसकी जॉब लगी थी। जॉब के तीसरे दिन ही उसने कंपनी के होटल में जॉब की टेंशन की वजह से आत्महत्या कर ली। युवक इसी महीने ही 9 तारीख को पुणे आया था और कंपनी ज्वाइन की थी। मरने से पहले उसने सुसाइड नोट में साफ लिखा कि उसे आईटी में कोई खास करियर नजर नहीं आता है, जिसकी वजह से वो काफी परेशान है इसलिए वो आत्महत्या कर रहा है।
इससे पहले वह दिल्ली और हैदराबाद में भी काम कर चुका था। पुलिस ने बताया कि कूदने से पहले उसने अपने बाएं हाथ की कलाई को चाकू से 25 बार काटने की कोशिश की थी। मगर, जब वह इसमें सफल नहीं हुआ, तो उसने होटल की चार मंजिल से कूद कर आत्महत्या कर ली।
मृतक के एक रिश्तेदार वेंकटराव मूर्ति ने बताया कि वह अच्छा लड़का था। उसमें कोई बुरी आदत नहीं थी। वह अपना काम खत्म करने के बाद शांति से रहता था। मुझे पता नहीं कि उसके साथ क्या हुआ। इस घटना के सामने आने के बाद आईटी कर्मचारी एक यूनियन बनाने की तैयारी में हैं। इसके जरिये वे आईटी कंपनियों की मनमर्जी के खिलाफ खड़े हो सकते हैं।

चालान बनाकर 14 करोड़ रुपए से ज्यादा वसूले

प्रदेश में चालान की कार्रवाई करने का अधिकार अब एएसआई (सहायक उप पुलिस निरीक्षक) को होगा। इस पर शुक्रवार को मंत्रालय में हुई राज्य सड़क सुरक्षा समिति की बैठक में सहमति बनी। बैठक में यह भी तय किया गया कि जिला स्तरीय सुरक्षा समिति के उपाध्यक्ष पुलिस अधीक्षक होंगे। गौरतलब है कि अभी तक थानेदार स्तर के अधिकारी को ही चालानी कार्रवाई का अधिकार था।
अपर मुख्य सचिव गृह केके सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में बताया गया कि सड़क दुर्घटनाओं में घायलों के इलाज के लिए 32 ट्रॉमा सेंटर काम कर रहे हैं। 43 की बिल्डिंग तैयार की जा चुकी है।
अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि ट्रॉमा सेंटर के जरिए कितने लोगों को बचाया गया, इसकी जानकारी दी जाए। इंदौर में ड्राइविंग लायसेंस ट्रैक सेंटर बन चुका है।
37 जिलों के ऑफिस में ट्रैक बनकर तैयार हैं। बैठक में जिला स्तरीय समिति में पुलिस अधीक्षक को उपाध्यक्ष बनाने का फैसला करते हुए निर्देश दिए गए कि संभाग और जिला मुख्यालय में नियमित बैठकें बुलाई जाएं।
अधिकारियों ने बताया कि संचालक लोक शिक्षण ने राज्य शिक्षा केंद्र को सड़क सुरक्षा पर जागरूकता विषय स्कूली शिक्षा के कोर्स में शामिल करने पत्र लिखा है। इसके अलावा यह भी बताया गया कि देवास बायपास छह लेन बनाया जाएगा।
पुलिस अधिकारियों ने बताया कि 11 मार्च से 11 जून तक बिना हेलमेट वाहन चलाने वाले 2 लाख 34 हजार 521 लोगों के खिलाफ चालान बनाकर 6 करोड़ 38 लाख 24 हजार 800 रुपए वसूले गए। इसी दौरान 277 नाबालिग वाहन चालाकों को पकड़ा गया। 3 लाख 86 हजार 300 रुपए का चालान काटा गया। 15 अप्रैल से 30 जून तक जो विशेष अभियान चलाया था, उसमें 1 लाख 96 हजार 561 चालान बनाकर 4 करोड़ 91 लाख 85 हजार रुपए शुल्क वसूला गया।
शराब पीकर वाहन चलाने वाले चालकों के खिलाफ जून से जुलाई के बीच चलाए गए अभियान में 4 हजार 726 चालान बनाकर कोर्ट में प्रस्तुत किया गया और 556 मामले ड्राइविंग लायसेंस निलंबित करने परिवहन अधिकारी को भेजे गए। बैठक में पुलिस महानिदेशक ऋषि कुमार शुक्ला, प्रमुख सचिव परिवहन एसएन मिश्रा, परिवहन आयुक्त शैलेन्द्र श्रीवास्तव, स्वास्थ्य सचिव कवीन्द्र कियावत, अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विजय कटारिया मौजूद थे।