आज का इतिहास – चंद्रभान गुप्त

  • चन्द्र भानु गुप्त भारत के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा राजनेता थे।
  • वे 7 दिसम्बर 1960 को पहली बार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने। इसके बाद दो बार और मुख्यमंत्री रहे।

भारत ने चिली को 1-0 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया

प्रीति दुबे के गोल की बदौलत भारत ने बुधवार को एफआईएच महिला हॉकी विश्व लीग सेमीफाइनल्स में चिली को 1-0 से हराकर क्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया।
प्रीति ने 38वें मिनट में यह गोल किया। भारतीय महिला टीम की टूर्नामेंट में यह पहली जीत है। इससे पहले उसने दक्षिण अफ्रीका के साथ गोलरहित ड्रॉ खेला था, जबकि अमेरिका ने उसे 4-1 से हरा दिया था। दोनों टीमों ने पहले क्वार्टर में पेनल्टी कॉर्नर हासिल किए। चिली को चौथे और भारत को 12वें मिनट में पेनल्टी कॉर्नर मिला, लेकिन दोनों ही टीमें उन्हें गोल में तब्दील नहीं कर सकीं। दूसरे क्वार्टर में चिली ने भारत को रोकने का प्रयास किया, लेकिन वह उसे मौकों को अपने पक्ष में मोड़ने से नहीं रोक सका।
19वें मिनट में अनूपा बार्ला ने चिली की खिलाड़ी से बॉल छीनकर गोल करने का प्रयास का प्रयास किया, लेकिन वह इसमें कामयाब नहीं हो पाईं। इस तरह पहले हाफ में दोनों टीमों की ओर से कोई गोल नहीं किया जा सका। दूसरे हाफ में रानी और प्रीति ने एक के पीछे एक आकर विपक्षी सर्किल में चिली की गोलकीपर को चकमा देकर भारत के लिए पहला गोल किया। इसके बाद भारत ने एक के बाद एक हमले किए जिससे चिली दबाव में आ गया। इस बीच रानी के एक प्रयास को चिली की गोलकीपर ने नाकाम कर दिया।
इसके बाद रेणुका यादव को यलो कार्ड दिखाए जाने के चलते भारत को चौथा क्वार्टर दस खिलाड़ियों के साथ खेलना पड़ा। आखिरी 15 मिनट में चिली ने भारत की रक्षापंक्ति को तोड़ने के कई प्रयास किए, लेकिन वह गोल करने में नाकाम रहा। पूल बी में भारत का अंतिम मैच 16 जुलाई को अर्जेंटीना से होगा।

स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने दुनिया का सबसे आलसी देश ढूंढ लिया

अमेरिकी की स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने दुनिया का सबसे आलसी देश ढूंढ लिया है। एक स्टडी के अनुसार हांगकांग जहां विश्व का सबसे एक्टिव देश है वहीं इंडोनेशिया सबसे आलसी। हांगकांग के लोग जहां हर रोज औसतन 6880 कदम चलते हैं वहीं इंडोनेशिया के लोग महज 3513 कदम ही चलते हैं।
शोधकर्ताओं ने 111 देशों में मौजूद 7.17 लाख मोबाइल फोन्स को ट्रैक करते हुए लोगों के चलने-फिरने का डेटा एकत्रित कर यह स्टडी की है। इसके अनुसार दूसरे देशों के मुकाबले ब्रिटेन के लोग जहां काफी एक्टिव नजर आए। यहां लोग रोजाना औसतन 5444 कदम चलते हैं जो की 5 किमी के बराबर है।
टीम ने इसके माध्यम से मोटापे से निपटने के लिए भी मदद उपलब्ध करवाई है क्योंकि इस डेटा से यह पता लगता है कि जिन देशों में लोग ज्यादा चलते हैं वहां मोटापे में कमी दिखी। वैज्ञानिकों ने लोगों के स्मार्टफोन्स की मदद से 68 मिलियन दिनों जितना डेटा प्राप्त किया और पाया कि लोग औसतन 4961 कदम चलते हैं। हालांकि मोटापे और लोगों द्वारा चले जाने वाले कदमों में कोई ठोस लिंक नहीं मिली है।
अगर भारत की बात करें तो डेटा में भारत वाले ज्यादा एक्टिव नजर नहीं आए। इसके अनुसार भारतीय 4297 कदम रोज चलते हैं। भारत के मुकाबले चीन और जापान के लोग ज्यादा एक्टिव नजर आए वहीं ब्राजील और अरब देश के लोग भारत के बराबर ही दिखे।

बोफोर्स घोटाले का जिन्न फिर से बाहर आ सकता है बोफोर्स घोटाले का जिन्न

कांग्रेस सरकार के दामन पर दाग माने जाना वाला बोफोर्स घोटाले का जिन्न फिर से बाहर आ सकता है। संसद की पब्लिक अकाउंट कमेटी के ज्यादातर सदस्यों ने सीबीआई से कहा है कि वो दिल्ली हाईकोर्ट के उस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे जिसमें बोफोर्स मामले की कार्रवाई निरस्त कर दी गई थी।
पीएसी की उप समिति के अध्यक्ष और बीजेडी नेता भतृहरि माहताब ने सीबीआई से कहा है कि वो बोफोर्स सौदे से सिस्टेमेटिक फल्योर और घूल लेने जैसे आरोपो की फिर से जांच करे। इसके बाद खबर है कि सीबीआई केंद्र सरकार से इसकी अनुमति ले सकती है।
लोक लेखा समिति से संबद्ध रक्षा मामलों की उपसमिति के सदस्यों ने सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा से पूछा कि सीबीआई ने 2005 में तब सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा क्यो नहीं खटखटाया जब हाईकोर्ट ने इसे निरस्त कर दिया था।
बैठक के दौरान माहताब और भाजपा सांसद निशिकांत दुबे समेत कई सदस्यों ने कहा कि सीबीआई इस केस को फिर से खोले और सुप्रीम कोर्ट में नई दलील पेश करे।

सेना ने चलाया है ऑपरेशन ‘शिवा’

अनंतनाग में अमरनाथ यात्रियों की बस पर हुए हमले के दौरान साहस और सूझबूझ से कई लोगों की जान बचाने वाले ड्रायवर सलीम गफुर भाई शेख की देशभर में तारीफ हो रही है। सलीम भाई गुजरात के वलसाड के रहने वाले हैं और उनका यह शहर भी अपने हीरो के प्रति बहुत कुछ कर रहा है।
अब वलसाड ऑटो एसोसिएशन ने ऐलान किया है कि सलीम और उनका परिवार एक साल तक किसी भी ऑटो में पूरी तरह मुफ्त सफर कर सकेगा। वलसाड ऑटो एसोसिएशन के अध्यक्ष विमल ठाकुर ने इसकी घोषणा करते हुए कहा, हमें और पूरे गुजरात को सलीम पर फक्र है। इस मौके पर स्थानीय विवेकानंद चौक में सलीम का सम्मान किया गया।
विमल ठाकुर ने यह भी कहा कि हम न तो हिंदू हैं, न मुस्लिम, हम भारतीय हैं। और जिन लोगों की जान सलीम भाई ने बचाई है, वे उनके अपने लोग हैं। इस मौके पर सलीम ने कहा कि उन्हें पहली बार ऐसा सम्मान मिल रहा है। वे आतंकियों की फायरिंग का वह दौर भूल नहीं पाएंगे, जब उन्होंने बगैर होश गंवाए, बस चलाना जारी रखा, जिससे और लोगों की जान सकी।
सलीम ने यह भी कहा कि मेरी पत्नी संजीदा ने अब तक मुझे शुभकामनाएं नहीं दी हैं। लगता है वह अंदर से बहुत हिल गई है। उसने अब तक वह यही कहा है कि मैं अपनी परवाह नहीं करता।
इस बीच, अमरनाथ श्रद्धालुओं पर हमले में लिप्त आतंकियों को जिंदा अथवा मुर्दा पकड़ने और यात्रा को पूरी तरह सुरक्षित बनाने के लिए सुरक्षाबलों का ऑपरेशन शिवा शुरू हो गया है। आतंकियों के संभावित ठिकानों पर लगातार दबिश देने, उनके ओवरग्राउंड नेटवर्क को नेस्तनाबूद करने व आतंकियों कोयात्रा मार्ग से पूरी तरह दूर रखने पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।
सूत्रों ने बताया कि सुरक्षाबल आतंकियों के ठिकानों पर दबिश दे रहे हैं। श्रीनगर से सटे विभिन्न हिस्सों में भी सुरक्षाबलों ने तलाशी ली। यात्रा मार्ग के पहाड़ों और जंगली इलाकों में सेना के जवानों द्वारा खोजी कुत्तों की सहायता से भी तलाशी ली जा रही है। अभियान की रूपरेखा राज्य पुलिस, सेना और सीआरपीएफ के वरिष्ठ अधिकारियों ने खुफिया तंत्र के इनपुट के आधार पर तय की है।

कभी-कभी ऐसा होता है, जब साथी साथ छोड़कर चले जाते हैं

राष्ट्रपति चुनाव में 17 विपक्षी राजनीतिक दलों की प्रत्याशी और लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार ने कहा कि राजनीति और जीवन में कभी-कभी ऐसा होता है, जब साथी साथ छोड़कर चले जाते हैं। वे बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरोध को लेकर बोल रही थीं।
पत्रकारों से चर्चा में उन्होंने कहा कि यह चुनाव दलित बनाम दलित नहीं है। हमारी तरफ से दलित का खेल शुरू नहीं हुआ, बल्कि उन्होंने (एनडीए) इसकी शुरूआत की।
उन्होंने कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी के विधायकों व सांसदों को बंद दरवाजों के बीच संबोधित करते हुए मार्मिक अपील की कि आज देश की व्यवस्था को धर्मों के नाम पर बिगाड़ा जा रहा है। भाजपा द्वारा ऐसी विचारधारा को थोपा जा रहा है, जिससे हम कमजोर होंगे और पीछे चले जाएंगे।
सूत्रों ने बताया कि मीरा कुमार ने कहा हमारा देश बहुधर्मी है, जिसमें सभी धर्मों को साथ लेकर चलने की जरूरत है। भाजपा साम्प्रदायिकता की विचारधारा लेकर चलती है। जब तक हम धर्मनिरपेक्ष नहीं होंगे तो भारत, भारत नहीं रहेगा।
उन्होंने कहा कि यह चुनाव विचारधारा की लड़ाई है, जिसमें संख्या बल का महत्व नहीं है। राष्ट्रपति चुनाव की प्रत्याशी मीरा कुमार ने करीब एक घंटे तक कांग्रेस और बसपा के विधायकों को संबोधित किया। सांसद कांतिलाल भूरिया भी बैठक में मौजूद थे। बैठक में महेंद्र सिंह कालूखेड़ा, बाला बच्चन, उमंग सिंघार, निशंक जैन, शंकुलता खटीक सूचना देकर अनुपस्थित रहे।
मीरा कुमार ने कहा कि मैंने चुनाव में मतदान करने वाले सभी लोगों को पत्र लिखकर अंतरआत्मा की आवाज पर वोट डालने की अपील की है। उनसे कहा कि देश ऐसे चौराहे पर खड़ा है, जिसमें हमें देश की पहचान की विचारधारा को जीवित रखना होगा।
राष्ट्रपति पद की प्रत्याशी ने एक सवाल के जवाब में कहा कि यह पद रबर स्टाम्प नहीं है। राष्ट्रपति संवैधानिक पद है और ऐसा कहने से पद की गरिमा को आहत पहुंचती है। राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मंत्रिमंडल को सलाह देता है।
प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में मीरा कुमार के आगमन के लिए काफी तैयारियां की गई थीं और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम थे। मगर जैसे ही दोपहर करीब सवा चार बजे वे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव, नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, प्रदेश प्रभारी मोहन प्रकाश व महिला कांग्रेस अध्यक्ष मांडवी चौहान के साथ पीसीसी पहुंची तो धक्का-मुक्की से उन्हें किसी तरह सीढ़ियों तक लाया गया। मेटल डिटेक्टर डोर लोगों ने गिरा दिया। उनकी सुरक्षा में लगाए गए सुरक्षाकर्मी भी खुद को बचाते हुए बाहर आ गए।
मीरा कुमार के साथ उनके पुत्र अंशुल अभिजीत, पूर्व केंद्रीय मंत्री शैलजा व अटेंडेंट कन्हैया भी आए थे। भीड़ की धक्का-मुक्की देखकर प्रदेश कांग्रेस नेता शैलजा को तो किसी तरह भीतर ले गए, लेकिन अंशुल लोगों में फंस गए। अजय सिंह ने सीढ़ी के दरवाजे पर खड़े होकर पहले भीड़ को रोका और फिर वहां से जो लोग हॉल तक पहुंच गए थे, उन्हें बाहर निकाला। उन्होंने अंशुल को आवाज देकर मीरा कुमार तक पहुंचाया।