सेमीफाइनल में प्रवेश के लिए समीर का मुकाबला हमवतन कश्यप से होगा

भारतीय शटलर पी कश्यप, समीर वर्मा और एचएस प्रणय ने अपने- अपने मुकाबले जीतकर यूएस ओपन ग्रांप्रि गोल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में प्रवेश कर लिया। सेमीफाइनल में प्रवेश के लिए अब समीर का मुकाबला हमवतन कश्यप से होगा।
कश्यप ने हंगरी के जर्जले क्रास्ज के दूसरे गेम के बीच में रिटायर होने से दूसरे दौर में प्रवेश किया। क्रास्ज जब मैच से हटे उस समय कश्यप ने पहला गेम 21-18 से जीत लिया था और दूसरे में वह 17-6 से आगे थे। कॉमनवेल्थ गेम्स चैंपियन कश्यप ने इसके बाद एक फिर कोर्ट पर उतरकर श्रीलंका के 16वें वरीय निलुका करुणरत्ने को 21-19, 21-10 से मात देकर अंतिम आठ का टिकट कटाया।
पांचवें वरीय समीर ने क्रोएशिया के ज्वोनीमीर दुर्किनजाक और ब्राजील के यगोर कोएल्हो को पराजित किया। कंधे की चोट से वापसी कर रहे समीर ने दुर्किनजाक को पहले मैच में 21-19, 25-27, 21-15 और फिर नौवें वरीय यगोर को 18-21, 21-14, 21-18 से पराजित किया। दूसरे वरीय प्रणय ने आयरलैंड के जोशुआ मैगी को एकतरफा मुकाबले में 21-13, 21-17 से हराने के बाद नीदरलैंड्स के 12वें वरीय मार्क कालजोउ को 21-8,14-21, 21-16 से बाहर का रास्ता दिखाया। अगले दौर में अब प्रणय की भिड़ंत आठवें वरीय जापान के कांता सुनेयामा से होगी।
मनु व सुमित भी आगे बढ़े : पुरुष डबल्स में तीसरी वरीय मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी की जोड़ी ने इंडोनेशिया के हेंद्रा तांदजया और एंडो यूनांतो की जोड़ी को 21-16, 21-9 से पराजित किया। अगले दौर में मनु -सुमित का सामना जापान के हिरोकी ओकामुरा और मासाकी ओनोडेरा की जोड़ी से होगा।
दानी, श्रीकृष्णा व रितुपर्णा हारे : हर्षल दानी, श्रीकृष्णा प्रिया और रितुपर्णा दास का अभियान थम गया। दानी को वियतनाम के टिन मिंह के हाथों 27-25, 21-9 से हार मिली। महिला सिंगल्स में श्रीकृष्णा को कोरिया की जंग मि ली के हाथों 11-21, 10-21 से और रितुपर्णा को डेनमार्क की नेतालिया कोच से 15-21, 20-22 से शिकस्त का सामना करना पड़ा। पुरुष डबल्स में फ्रांसिस अल्विन और तरुण कोना, महिला डबल्स में मेघना व पूर्विशा एस राम और मिक्स्ड डबल्स में मनु और मनीषा की जोड़ी भी हारकर बाहर हो गई।

समुद्र के किनारे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से जो बातचीत लीक

जब पीएम नरेंद्र मोदी इजराइल यात्रा पर थे, तो उन्होंने समुद्र के किनारे प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू से जो बातचीत की थी, वह लीक हो गई है। इस दौरान नेतन्याहू ने जहां भारत और चीन के साथ मजबूत संबंधों का हवाला दिया था, वहीं यूरोपियन यूनियन को जमकर खरी-खोटी सुनाई थी।
इजराइली प्रधानमंत्री ने कहा था कि यूरोपीय संघ का रवैया इजराइल के प्रति सनक भरा और खुद को नुकसान पहुंचाने वाला है। नेतन्याहू की बुधवार को बंद कमरे में हुई 4 यूरोपीय नेताओं के साथ एक बैठक में हुई यह बातचीत दुर्घटनावश बाहर आ गई। पास के कमरे में बैठे पत्रकारों को ओपन माइक की वजह से सारी बातचीत सुनने को मिल गई।
फिलिस्तीन के पश्चिमी तट पर स्थित रामल्लाह एक महत्वपूर्ण शहर है, जहां भारत सहित तमाम देशों के उच्चायोग स्थित हैं। इजरायल का दौरा करने वाले दुनिया भर के राष्ट्राध्यक्ष परंपरागत रूप से यहां ठहरते हैं। मगर, अपनी इजरायल यात्रा के दौरान मोदी रामल्लाह में नहीं रुके। माना जाता है कि मोदी का ऐसा करना विदेशी संबंधों के मामले में इजराइल और फिलिस्तीन को जोड़ने की प्रवृत्ति को तोड़ना था।
इस बातचीत में वह चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के इजराइल को नई खोज का महारथी करने की बात कहते नजर आए। वहीं, प्रधानमंत्री मोदी की हाल कि इजराइल के दौरान हुई बातचीत का जिक्र करते हुए नेतन्याहू ने कहा कि मुझे ज्यादा पानी और साफ पानी की जरूरत है। मुझे यह कहां से मिलेगा?
इसके बाद इजराइली पीएम ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हालिया इजरायल दौरे के बारे में भी बताया। उन्‍होंने कहा कि भारतीय नेता ने उनसे भारत के हितों का ध्‍यान रखने की बात कही। नेतन्‍याहू ने पूर्व अमेरिकी राष्‍ट्रपति बराक ओबामा के साथ अपने मतभेदों के बारे में भी बात की।
उन्‍होंने कहा कि अमेरिकी नीति को लेकर बड़ी समस्‍या थी लेकिन अब काफी अंतर है। अब ईरान के खिलाफ मजबूत रवैया है और हमारे क्षेत्र अमेरिका की मौजूदगी बदली है। यह काफी सकारात्‍मक है।

राजधानी जयपुर में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन लूट की बड़ी वारदात

राजस्थान की राजधानी जयपुर में शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन लूट की बड़ी वारदात हुई। लुटेरों ने मुथूट फाइनेंस कंपनी के कार्यालय से करोड़ों रुपए का सोना लूटा।
इस कंपनी से कितना सोना लूटा गया इसे लेकर विरोधाभासी खबरें सामने अा रही है। एक रिपोर्ट के मुताबिक 30 किलो सोना व छह लाख रुपये लूट लिये। इसकी कीमत सात करोड़ रुपये बताई जा रही है। जबकि एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक 20 किग्रा सोना और छह लाख रुपए नकट लूट लिए गए।
इससे पहले गुरुवार को लुटेरों ने बैंक से 15 लाख रुपये लूट लिए थे। दोनों वारदात शहर के व्यस्ततम इलाकों में दिनदहाड़े हुई हैं। मानसरोवर स्थित मुथूट फाइनेंस के रजत पथ ऑफिस में शुक्रवार की सुबह को प्रतिदिन की तरह कार्य चल रहा था। कार्यालय में चार कर्मचारी और दो ग्राहक थे। इसी दौरान एक युवक चेन गिरवी रखने के लिए कार्यालय में पहुंचा। उसके साथ तीन और युवक हेलमेट लगाए हुए थे। उन्होंने पिस्तौल के बल पर कर्मचारियों को बंधक बना लिया।
एक बदमाश मैनेजर के कमरे में गया और तिजोरी की चाबी मांगी। चाबी नहीं देने पर मैनेजर से मारपीट की और चाबी छीनकर स्ट्रांगरूम से गहने और नकदी लूट ली। इस दौरान मैनेजर ने बाथरूम में जाकर आपातकालीन अलार्म बजा दिया। अलार्म बजते ही चारों लुटेरे मौके से फरार हो गए। सूचना के बाद पुलिस मौके पर पहुंची। पूरे शहर में नाकाबंदी कर दी गई, लेकिन लुटेरों का कोई सुराग नहीं लगा। पुलिस का कहना है कि पूरी वारदात ऑफिस के सीसीटीवी में कैद हो गई है। रिकॉर्डिंग की जांच की जा रही है। लुटेरों को जल्द ही पकड़ लिया जाएगा।

विधानसभा के मानसून सत्र में चौंका दिया स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह ने डॉक्टरों में इन दिनों गांव में जाकर प्रैक्टिस करने की होड़

विधानसभा के मानसून सत्र में शुक्रवार को स्वास्थ्य मंत्री रुस्तम सिंह ने यह कहकर पूरे सदन को चौंका दिया कि डॉक्टरों में इन दिनों गांव में जाकर प्रैक्टिस करने की होड़ लगी है। एमबीबीएस में टॉप करने वाले डॉक्टर्स इंटर्नशिप के लिए बड़ी संख्या में आदिवासी बहुल इलाके चुन रहे हैं। यह बात तब सामने आई जब हाल ही में भर्ती के लिए परीक्षाएं आयोजित हुईं।
उन्होंने बताया कि गांव में प्रैक्टिस करने वाले डॉक्टर्स को पीजी की प्रवेश परीक्षा में अतिरिक्त अंक मिलते हैं। आमतौर पर यह धारणा है कि डॉक्टर्स ग्रामीण अंचलों में जाकर प्रैक्टिस नहीं करना चाहते। यही वजह है कि अभी तक तक प्रदेश में 1700 से ज्यादा पद खाली पड़े हुए हैं। इनमें से 1400 पदों के लिए परीक्षा आयोजित की गई थी। इनमें से 500 डॉक्टर्स का चयन हो चुका है। एक-दो दिन में पोस्टिंग दे दी जाएगी।
कम्प्यूटर देखों और चुन लो: स्वास्थ्य मंत्री ने बताया विभाग ने ऐसा सॉफ्टवेयर विकसित कर लिया है जिससे अब डॉक्टर्स खुद ही अपना पसंदीदा शहर या गांव चुन सकते हैं। इससे भ्रष्टाचार भी कम होगा और डॉक्टर्स मनपसंद जाकर स्वेच्छा से काम कर पाएंगे।

अब बाजार में ऐसा उपकरण आ गया है जिससे मोबाइल नम्बर बदल उपयोग विभिन्न अपराधों मे किया जा सकता है

अब तक यह माना जाता रहा है कि मोबाइल का आईएमईआई नंबर याद है तो खोया या चोरी गया मोबाइल भी वापस मिल सकता है, लेकिन अब बाजार में ऐसा उपकरण आ गया है जिससे मोबाइल का आईएमईआई नंबर बदला जा सकता है।
राजस्थान की अलवर पुलिस ने अलवर शहर में महंगे मोबाइल फोन की आईएमईआई बदलने वाले गैंग का भंडाफोड़ किया है। यह गैंग एक उपकरण से यह नम्बर बदल देता था। इसके बाद इन मोाबइल फोनों का उपयोग विभिन्न अपराधों मे किया जाता था।
अलवर शहर में 7 मोबाइल की दुकान पर चोरी लूट और अपराध में उपयोग में लिए गए मोबाइलों की आईएमईआई बदल कर उसे उपभोक्ता को वापस बेचा जा रहा था। इससे पुलिस को चोरी के मोबाइल को ट्रेस करना नामुमकिन हो जाता है। पुलिस ने 7 दुकानों से ऐसे चार उपकरण और 200 से अधिक मोबाइल फोन बरामद किए हैं और आधा दर्जन से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है। पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली थी, जिसके बाद एसपी राहुल प्रकाश में एक टीम बनाकर गुप्त तरीके से जांच करवाई और उनकी निगरानी की गई।
पुलिस अधीक्षक राहुल प्रकाश के निर्देश पर अलवर के चार थानों की पुलिस ने संयुक्त कार्रवाई की। जांच में सामने आया कि इस उपकरण के जरिए 1000 से 1500 रुपए लेकर आईएमईआई नम्बर बदल दिया जाता है। इसके बाद पुलिस को उस मोबाइल को ट्रेस करना असंभव हो जाता है।
पुलिस फिलहाल इन मोबाइलों की जांच करने में जुटी हुई है कि इनमें से कितने मोबाइल की आईएमईआई बदली गई है और अपराधियों से भी पूछताछ की जा रही है कि उन्होंने अब तक कितने मोबाइलों की आईएमईआई बदली है और इस नेटवर्क के साथ कहां कहां जुड़े हुए हैं।

1997 से 2008 तक रिसर्च करने के बाद गेहूं की दो ऐसी किस्में ईजाद की जिनमें प्रोटीन और ग्लूकोज भरपूर मात्रा में

कृषि कॉलेज के दो वैज्ञानिकों डॉ. साईं प्रसाद व रिटायर्ड डॉ. एएन मिश्रा ने 1997 से 2008 तक रिसर्च करने के बाद गेहूं की दो ऐसी किस्में ईजाद की हैं, जिनमें प्रोटीन और ग्लूकोज भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ये जल्दी पचने वाली हैं। इन दोनों को निजी कंपनियां भी बेच रही हैं, लेकिन इसका संरक्षण कॉलेज के हाथ में है। प्रदेश के साथ-साथ पूर्वी देशों और दुबई में इनकी खूब मांग है। पूर्णा और पोषण नाम की दोनों किस्में वर्तमान में प्रदेश की 25 फीसदी भूमि पर बोई जा रही हैं। इनकी बड़ी खूबी यह है कि ये कम पानी में भी अधिक उत्पादन देती हैं।
दलिया, बाटी, बाफला, सूजी, पास्ता में ज्यादा उपयोग
एचआई- 8663 पोषण किस्म को मालवीय वीट, डुर्रम वीट व टटिया वीट के नाम से भी जानते हैं। इसकी खासियत यह है कि इसका दलिया, बाटी, बाफला, सूजी और पास्ता प्रोडक्ट में ज्यादा उपयोग हो रहा है। यह प्रति हेक्टेयर पर 65 क्विंटल उत्पादन देती है। मालवा के इंदौर, धार, देवास और उज्जैन सहित मध्य प्रदेश के अन्य हिस्सों को मिलाकर 15 फीसदी में इसकी बोवनी की जा रही है। इसे दुबई व ईस्टर्न देशों में एक्सपोर्ट किया जा रहा है।
एचआई-1544 पूर्णा किस्म की खासियत यह है कि इसकी रोटी जितनी अच्छी गुणवत्ता की बनती है, उतनी अन्य किस्मों की नहीं है। जल्दी पचने वाला, प्रोटीन व ग्लूकोज युक्त यह गेहूं शरीर के लिए भी कई गुना लाभदायक है। मालवा व निमाड़ में इसकी बोवनी 12 से 15 फीसदी हिस्से में इसकी खेती की जा रही है। यदि बोवनी के दौरान ज्यादा गर्मी भी पड़ जाए, तब भी इसकी फसल खराब नहीं होती है।
दोनों किस्मों की खूबी यह है कि 3 से 4 पानी मिलने के बाद इनकी पैदावार अच्छी होती है। एक हेक्टेयर में 65 क्विंटल तक का उत्पादन हो रहा है। बोवनी होने के बाद जब पौधे थोड़े बड़े हो जाते हैं और ऐसे में तेज गर्मी पड़ जाए तो कई किस्में खराब हो जाती हैं, लेकिन ईजाद की गई ये दोनों किस्में प्रतिकूल मौसम में भी खराब नहीं होती।
एचआई 8663 व एचआई 1544 सबसे ज्यादा उपयोगी होने के कारण इसका उपयोग निजी कंपनियां रोटी व पास्ता बनाने में कर रही हैं। इससे बनने वाले प्रोडक्ट विदेश में भी बेचे जाते हैं। इसका कंपनी को अंश के रूप में भुगतान भी करना पड़ता है। इसकी खरीदी व बिक्री पर अनुबंध के अनुरूप नियंत्रण भी रहता है। कृषि कॉलेज के अधिष्ठाता डॉ. अशोक कृष्णा ने बताया कि दोनों किस्मों का उपयोग एमपी में किया जा रहा है। इनमें प्रोटीन व न्यूट्रिशन सहित अन्य कई ऐसे तत्व हैं जो मानव शरीर के लिए बहुत लाभदायक हैं।

गुजरात आधारित एक कंपनी ने चीन के विरोध में प्रदर्शन का एक यूनिक तरीका निकाला

चीन और भारत के बीच बढ़ते तनाव को लेकर काफी लोगों ने विरोधस्वरुप अपनी आवाज उठाई है। गुजरात आधारित एक कंपनी ने चीन के विरोध में प्रदर्शन का एक यूनिक तरीका निकाला है। कंपनी ने अपने 400 डीलर और असोशियेट्स को चीनी मोबाईल फोन का बहिष्कार कर भारतीय मोबाईल फोन का इस्तेमाल करने का आदेश दिया है।
फेसबुक पेज पर कंपनी के द्वारा पोस्ट बयान में कहा गया कि चीन को रोकने का एक ही रास्ता है कि उनके मोबाईल फोन का बहिष्कार किया जाए। कंपनी ने अपने डीलरों को ‘मेड इन चाइना’ फोन को न खरीदने की सलाह दी है। कंपनी ने चाईनीज फोन Intex S1 और Karbonn K95 का बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। पोस्ट में ये भी कहा गया है कि देश के सभी नागरिकों का भारतीय सेना के प्रति दायित्व होना चाहिए।
रुद्रा टीएमएक्स के प्रबंध निदेशक निखिल गुप्ता ने दिव्य भास्कर से कहा, चीन काफी समय से भारत को उकसाता रहा है। अगर हमें उनसे लड़ना है तो सबसे पहले हमें उनके अर्थव्यवस्था पर चोट पहुंचाना होगा। इसलिए हमने चीन की जगह भारतीय फोन का इस्तेमाल करने की सलाह दी है। सभी नागरिकों को आगे बढ़कर चाईनीज फोन का बहिष्कार करना चाहिए।

एयर इंडिया की उड़ान के पायलट की सतर्कता से बच गई 120 यात्रियों की जान

शहर के देवी अहिल्या बाई होलकर विमानतल से बुधवार को दिल्ली के लिए रवाना हुई एयर इंडिया की उड़ान के पायलट की सतर्कता से 120 यात्रियों की जान बच गई। विमान के टेकऑफ के तीन मिनट बाद ही इंजन से आवाज आने लगी। खतरा भांपकर पायलट ने एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) से विमान लैंड करने की अनुमति मांगी और 15 मिनट बाद ही विमान सुरक्षित लैंड करवा दिया गया।
सुबह 9.25 बजे विमान तय समय पर दिल्ली के लिए रवाना हुआ। तीन मिनट बाद ही पायलट ने एटीएसी से संपर्क कर विमान की अनुमति मांगते हुए कहा कि विमान के लेफ्ट इंजन से आवाज आ रही है। ऐसे में आगे उड़ान जारी रखना खतरनाक हो सकता है। इसके बाद विमान दोबारा रनवे पर आ गया।
अधिकृत सूत्रों के मुताबिक रनवे पर विमान के आने के बाद जांच की तो पता चला खराबी को तत्काल सुधारना मुमकिन नहीं है, इसलिए यात्रियों को उतार लिया गया। सूत्रों ने बताया कि विमान के लेफ्ट इंजन से पक्षी टकरा गया था। इससे उसकी ब्लेड तिरछी हो गई थी और प्लेन में वाइब्रेशन होने लगा था।
यात्रियों के मुताबिक पक्षी टकराने की आवाज तो नहीं आई, लेकिन टेकऑफ करने के करीब दो मिनट बाद जैसे ही प्लेन सीधा हुआ अजीब सा वाइब्रेशन होने लगा। इसके बाद कुछ लोगों ने केबिन क्रू से भी इसकी शिकायत की। हालांकि तब तक पायलट ने ही समस्या समझ ली थी।
यात्रियों के लिए मुंबई से दूसरा विमान आने में करीब 6 घंटे लग गए। यात्री शाम 4 बजे दिल्ली के लिए रवाना हो पाए । उधर, देरी से उन यात्रियों की मुसीबत हो गई जिन्हें सुबह 11 बजे तक दिल्ली पहुंचना था। वे बार-बार एयरलाइंस अफसरों से शिकायत करते रहे। देरी से परेशान यात्रियों ने एयरपोर्ट पर हंगामा भी किया।
विमान के लेफ्ट इंजन में खराबी आ गई थी, प्लेन सकुशल उतर गया था। इससे कोई दिक्कत नहीं आई। तकनीकी टीम कारणों की जांच कर रही है।

चोट से उबरने के बाद वापसी करने वाले समीर वर्मा प्रतिबद्ध हैं अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने

चोट से उबरने के बाद वापसी करने वाले समीर वर्मा बुधवार से शुरू होने वाले यूएस ओपन ग्रांप्रि गोल्ड बैडमिंटन टूर्नामेंट में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। समीर के अलावा एचएस प्रणय और पारूपल्ली कश्यप भी इस टूर्नामेंट में उतरेंगे।
इस साल सैयद मोदी ग्रांप्रि का खिताब जीतने वाले समीर कंधे की चोट के कारण पिछले महीने इंडोनेशिया और ऑस्ट्रेलिया सुपर सीरीज में नहीं खेल पाए थे। इसके बाद वीजा समय पर नहीं मिलने के कारण वह कनाडा ओपन में भी भाग नहीं ले पाए थे। यह 22 वर्षीय खिलाड़ी अब यूएस ओपन में इसकी भरपाई करना चाहेगा जिसमें उनका पहला मुकाबला वियतनाम के हुआंग नाम नगुएन से होगा।
एचएस प्रणय और पारूपल्ली कश्यप भी कनाडा ओपन से जल्दी बाहर होने के बाद यहां अच्छे परिणाम की उम्मीद कर रहे होंगे। कश्यप को शुरू में ही शीर्ष वरीयता प्राप्त कोरियाई ली ह्यून इल से भिड़ना होगा, जबकि दूसरी वरीयता प्राप्त एचएस प्रणय ऑस्ट्रिया के लुका रैबर का सामना करेंगे। पुरुष सिंगल्स में भाग लेने वाले अन्य भारतीयों में अभिषेक येलेगर पहले दौर में फ्रांस के तीसरे वरीय ब्राइस लेवरडेज से, लखानी सारंग जापान के केंटा निशिमोतो से और हर्षिल दानी मेक्सिको के अर्तुरो हर्नांडिस से भिड़ेंगे।
महिला सिंगल्स में ओलिंपिक पदक विजेता स्टार शटलर साइना नेहवाल के हटने के बाद राष्ट्रीय चैंपियन रितुपर्णा दास और रूतविका शिवानी गाडे भारतीय चुनौती की अगुआई करेंगी। शिवानी का सामना जापान की आया ओहोरी से, जबकि रितुपर्णा का राचेल होंड्रिच से होगा। अन्य भारतीयों में श्रीकृष्णा प्रिया कुदरावल्ली अमेरिका की माया चेन से, साई उत्तेजिता राव चुक्का नीदरलैंड्स की गेल माहुलेटी से और रेशमा कार्तिक डेनमार्क की सोफी होल्मबो डहल से भिड़ेंगी।
प्रणय जेरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की मिक्स्ड डबल्स जोड़ी का सामना इंग्लिश जोड़ी बेन लेन और जेसिका पुग से होगा। कोना तरुण व मेघना जक्कमपुड्डी और मनु अत्री व मनीशा के की अन्य भारतीय जोड़ियां भी मिक्स्ड डबल्स में खेलने उतरेंगी। पुरुष डबल्स में, तीसरे वरीय मनु अत्री और बी सुमित रेड्डी की भारतीय जोड़ी की भिड़ंत कनाडा की जेसन एंथनी हो-श्यू और नील याकुरा की जोड़ी से होगी।

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने माना ईरान कर रहा परमाणु करार का पालन

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फिर माना कि ईरान परमाणु करार का पालन कर रहा है। इसके बावजूद ट्रंप गैर-परमाणु गतिविधियों के कारण उस पर कड़े प्रतिबंध लगाना चाहते हैं।
अमेरिका इस मसले पर यूरोपीय देशों के साथ विचार-विमर्श कर ईरान पर दबाव बढ़ाने के लिए विस्तृत रणनीति भी बनाना चाहता है। ट्रंप सरकार ने सोमवार को अमेरिकी संसद को यह जानकारी दी।
इससे पहले अप्रैल में भी ईरान द्वारा परमाणु करार के प्रावधानों का पालन करने की रिपोर्ट सौंपी गई थी। ट्रंप शुरुआत से ही ईरान के विवादस्पद परमाणु कार्यक्रम पर हुए समझौते की आलोचना करते रहे हैं।
वह समय-समय पर इसके लिए पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा को खरी-खोटी भी सुनाते रहे हैं। करार के बाद ईरान ने परमाणु कार्यक्रम को तो नियंत्रित कर दिया है, लेकिन बैलिस्टिक मिसाइल परीक्षण का दौर लगातार जारी रखे हुए है।
अधिकारियों ने बताया कि गैर-परमाणु क्षेत्रों (मिसाइल परीक्षण और कथित तौर पर आतंकियों को समर्थन) में ईरान की गतिविधियों से क्षुब्ध ट्रंप ईरान पर नए प्रतिबंध लगाना चाहते हैं।
व्हाइट हाउस के प्रेस सेक्रेटरी सीन स्पाइसर ने कहा, ‘राष्ट्रपति ने स्पष्ट कर दिया है कि यह समझौता (ईरान के साथ करार) अमेरिका के लिए बुरा है।’
अधिकारियों ने बताया कि अमेरिका करार के क्रियान्वयन को और सख्त करना चाहता है। आतंकवाद का समर्थन करने और मिसाइल कार्यक्रम के चलते तेहरान पर नए प्रतिबंध लगाने पर भी विचार किया जा रहा है।
अमेरिका ने ईरान की ताजा गतिविधियों को अंतरराष्ट्रीय स्थायित्व के लिए खतरा बताया है। परमाणु करार में मिसाइल कार्यक्रम शामिल नहीं है।
ईरान के विदेश मंत्री मुहम्मद जवाद जरीफ ने ट्रंप सरकार की ओर से विरोधाभासी संकेत मिलने की बात कही है। साथ ही बताया कि उनका अमेरिकी समकक्ष के साथ कोई संपर्क नहीं हुआ है।