जमैका के स्प्रिंटर उसेन बोल्ट ने स्वीकारा यह उनका अंतिम सत्र होगा

जमैका के स्प्रिंटर उसेन बोल्ट ने स्वीकारा कि यह उनका अंतिम सत्र होगा और वे अपने चमकदार करियर को इसके बाद विराम देंगे।
8 ओलिंपिक स्वर्ण और 11 विश्व चैंपियनशिप स्वर्ण पदक जीत चुके बोल्ट की एथलेटिक्स में दुनियाभर में धाक रही। जब बोल्ट से पूछा गया कि क्या वे करियर जारी रखेंगे, उन्होंने इससे इंकार कर दिया। उन्होंने कहा, मेरा जबर्दस्त करियर रहा और मैंने इसके उताार-चढ़ाव का पूरा आनंद उठाया। मैं जो कुछ भी हासिल करना चाहता था, मैंने वो सब कुछ हासिल कर लिया। मेरा करियर अब समाप्ति की तरफ है और मैं इससे खुश हूं।
बोल्ट ने अंतिम सत्र की शुरुआत गृहनगर किंग्सटन से की। इसके बाद अब वो बुधवार को होने वाली आईएएएफ वर्ल्ड चैलेंज मीट के लिए ओस्त्रावा पहुंचे हैं। इसके बाद जुलाई में मोनाको में डायमंड लीग के बाद लंदन में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप होगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिकी यात्रा पर पाकिस्तान को आंतकवाद पर दो टूक बात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिकी यात्रा पर भारत और अमेरिका द्वारा जारी किए गए संयुक्त बयान में पाकिस्तान को आंतकवाद पर दो टूक बात कही है। बयान में कहा गया है कि पाकिस्तान अपनी धरती से होने वाले आतंकी हमलों पर रोक लगाए साथ ही भारत में हुए 26/11 और पठानकोट हमलों के आरोपियों के खिलाफ मुकदमे चलाए।
बयान में आतंक को समर्थन देने वालों को सख्त संदेश देते हुए कट्टर इस्लामी आतंकवाद को मूल रूप से नष्ट करने का संकल्प भी लिया गया है। अपने संयुक्त संबोधन में मोदी और ट्रंप ने कहा कि आतंकवाद का खात्मा हमारी शीर्ष प्राथमिकताओं में है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस दौरान कहा है कि हमने आतंकवाद, तरमपंथ और कट्टरपंथ पर बात करते हुए इसके खिलाफ सहयोग के लिए सहमत भी हुए हैं। आतंकवाद से लड़ना और शरणस्थलियों को नष्ट करना इसका अहम हिस्सा होगा। वहीं ट्रंप ने कहा कि दोनों देश आतंकी संगठनों और उनको चलाने वालों को नष्ट करने के लिए संकल्पित हैं।

राजस्थान पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी

राजस्थान पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। जानकारी के मुताबिक, शनिवार रात प्रदेश के कुख्यात अपराधी आनंदपाल सिंह को मार गिराया गया। पुलिस डेढ़ साल से उसके पीछे लगी थी। आनंदपाल पर पांच लाख रुपए का ईनाम था।
आला पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, चूरू जिले की रतनगढ़ तहसील के मालासर में एनकाउंटर को अंजाम दिया गया। मुठभेड़ के दौरान आनंदपाल ने एके-47 से करीब 100 राउंड फायर किए। जवाबी फायरिंग में पुलिस की 6 गोलियां उसके सीने में धंस गई और इससे मौके पर ही उसकी मौत हो गई।
2006 में रखा था अपराध की दुनिया में कदम
आनंदपाल का शव जयपुर लाया जा रहा है। डीजीपी मनोज भट्ट ने इसकी पुष्टि की है। एनकाउंटर के दौरान आनंदपाल के दो साथियों को गिरफ्तार करने में भी कामयाबी मिली है। इनके नाम देवेंद्र और गट्टू बताए गए हैं।
आनंदपाल के बारे में कहा जाता है कि उसने 2006 में अपराध की दुनिया में कदम रखा था। उस साल उसने डीडवाना में जीवनराम गोदारा की हत्या कर दी थी।
इस हत्याकांड के अलावा आनंदपाल पर डीडवाना में ही 13 मामले दर्ज थे, जहां 8 मामलों में कोर्ट ने आनंदपाल को भगौड़ा घोषित किया हुआ था।
आनंदपाल सितंबर 2015 में नागौर की कोर्ट में पेशी के बाद वापस अजमेर जेल में भारी सुरक्षा बंदोबस्त के बीच लाते समय पुलिस अभिरक्षा से फरार हो गया था।
आनंदपाल के बारे में बताया जाता है कि वह फेसबुक पर सक्रिय रहता था। उसका अपना फेसबुक पेज था, जिस पर उसके फैन्स भी थे। वह समाज से जुड़ी अखबारों में छपने वाली खबरों को भी पोस्ट करता था।

प्याज भीगने के कारण सिर्फ 12 सौ टन ही हुई खरीदी

समर्थन मूल्य पर खरीदी गई हजारों टन प्याज भीगने के कारण सड़ने की आशंका बढ़ गई है। दो लाख टन से ज्यादा प्याज खुले में रखी हुई है। जबकि कई खरीदी केंद्रों पर प्याज बेचने के लिए ट्रेक्टर ट्राली की लाइन लगी हुई है।
अभी तक 2 लाख 60 हजार टन प्याज का ही परिवहन खरीदी केंद्रों से हुआ है। लगभग दो लाख टन प्याज मंडियों के शेड और गोदाम में रखी हुई है। उधर, 30 जून तक की खरीदीके टोकन मार्कफेड ने किसानों को बांट दिए हैं।
सूत्रों के मुताबिक मंडियों के शेड में प्याज को सुरक्षित रखने के पुख्ता इंतजाम नहीं है। प्याज की बोरियों की जो छल्ली लगाई गई है, उसमें भी बाहरी ओर की प्याज भीग चुकी है। इसके सड़ने की संभावना ज्यादा है, क्योंकि प्याज के लिए नमी सबसे नुकसानदेह होती है।
गीली प्याज को इतने बड़े स्तर पर हटवाना भी संभव नहीं है, इसलिए तय किया गया है कि नीलामी के जरिए जल्द बिक्री कर प्याज को परिवहन कराया जाए। सहकारिता विभाग के अधिकारियों ने बताया कि गोदाम में भी ज्यादा समय तक प्याज नहीं रखने की रणनीति अपनाई गई है। जहां खरीदी हो रही है वहां से प्याज प्रदेश के बाहर भेजने के इंतजाम किए जा रहे हैं। परिवहन में तेजी लाने के लिए ट्रकों को इसी काम में लगाया गया है।
मार्कफेड के प्रबंध संचालक ज्ञानेश्वर पाटिल ने बताया कि सोमवार को सिर्फ 14 सौ टन प्याज की खरीदी हुई। संभवत: ईद के कारण मंडियों में कम खरीदी हुई। 30 जून तक खरीदी के लिए किसानों को टोकन बांटे जा चुके हैं। अभी तक 4 लाख 60 हजार टन प्याज समर्थन मूल्य पर खरीदी जा चुकी है।

पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट लौटने के प्रयासों को मिला बल

पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट लौटने के प्रयासों को शुक्रवार को बल मिला जब आईसीसी ने स्पष्ट किया कि वह इस वर्ष वहां वर्ल्ड इलेवन को खेलने के लिए भेजना चाहता है।
2009 में लाहौर में श्रीलंकाई टीम की बस पर हुए हमले के बाद करीब दो साल पहले जिम्बाब्वे ने पाकिस्तान का दौरा किया था। इसके अलावा पाकिस्तान को अपने सभी घरेलू मुकाबले बाहर खेलने पड़े हैं।
अब आईसीसी ने अपनी वार्षिक बैठक में यह कह दिया कि उसकी इस वर्ष पाकिस्तान में एक वर्ल्ड इलेवन खेलने के लिए भेजने का प्लान है। आईसीसी ने यह कदम पाकिस्तान में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट लौटाने के प्रयासों के तहत उठाया है। वर्ल्ड इलेवन लाहौर में पाकिस्तान के खिलाफ तीन टी20 मैचों की सीरीज खेलेगी। इन मैचों को अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों का दर्जा हासिल होगा। अभी इसकी तारीखों की घोषणा नहीं की गई है।
आईसीसी ने शुक्रवार को पाक में वर्ल्ड इलेवन सीरीज को मंजूरी प्रदान की, लेकिन इसी दिन पाकिस्तान में तीन जगह बम धमाकों में 64 लोग मारे गए जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हुए। अब देखना होगा कि ऐसी आतंकी कार्रवाई के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की किस तरह वापसी होगी।
पाकिस्तान ने पिछले दिनों ओवल में भारत को 180 रनों से हराकर पहली बार चैंपियंस ट्रॉफी खिताब हासिल किया था। इसके बाद टीम के कोच मिकी आर्थर ने कहा था कि उन्हें अब पाकिस्तान में वर्ल्ड इलेवन की सीरीज की उम्मीद है। यह सीरीज संभवत: सिंतबर में होनी है।
पाक कप्तान सरफराज अहमद ने कहा था कि उन्हें उम्मीद है कि इस जीत से पाकिस्तानी क्रिकेट को बढ़ावा मिलेगा और कई देश अंतरराष्ट्रीय मुकाबले खेलने पाकिस्तान आएंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात से पहले भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए सर्जिकल स्‍ट्राइक का जिक्र किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका में हैं और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात से पहले उन्होंने पाकिस्तान को बेनकाब करने का मौका नहीं छोड़ा। भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने सर्जिकल स्‍ट्राइक का जिक्र किया और कहा, यह ऐसी घटना थी कि यदि दुनिया चाहती तो हमारे बाल नोंच लेती। हमें सवालों के दायरे में ला खड़ा करती लेकिन सर्जिकल स्‍ट्राइक करने पर पूरी दुनिया में किसी ने सवाल नहीं उठाया लेकिन जिनको तकलीफ हुई उन्‍होंने सवाल उठाया। हम वैश्विक कानून का पालन करते हैं और यही हमारे संस्‍कार हैं।
अमेरिका दौरे के पहले दिन भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि तीन साल में हमारी सरकार पर कोई दाग नहीं लगा है।
मोदी ने कहा कि यहां अमेरिका में रहने वाले सभी भारतीय मेरे अपने परिजनों की तरह हैं। जब भी आपसे मिलना होता है, मुझे खुशी मिलती है। जितना प्‍यार मुझे मिलता है शायद ही किसी लीडर को मिलता होगा।
सरकार चलाने में भी ऐसे कदम उठाए जा रहे हैं कि व्यवस्था ऐसी बने कि ईमानदारी पैदा हो। टेक्नोलॉजी इसमें बहुत बड़ा योगदान बढ़ रहा है।
तीन साल में अभी तक विदेश मंत्रालय के काम करने का तरीका बदला है। विदेश मंत्रालय ने नई ऊंचाइयों को छुआ है। सरकार ने विदेश में रह रहे जरूरतमंद भारतीयों की मदद का पूरा प्रयास किया है।
पीएम ने दुनिया में रह रहे भारतीयों से देश में निवेश करने की अपील की और कहा कि देश में निवेश करने का अभी अच्‍छा समय है।

रूबिडेयम एटॉमिक घड़ियों के साथ समस्या जीपीएस डाटा की जरूरतों को पूरा करने में प्रॉबलम

रक्षा बलों के जीपीएस डाटा की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (isro) द्वारा विकसित किए गए सात-उपग्रह, स्वदेशी भारतीय क्षेत्रीय नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम में प्रॉबलम देखने को मिल रही है। बताया जा रहा है कि रूबिडेयम एटॉमिक घड़ियों के साथ कुछ समस्या चल रही है, जो डेटा को मुहैया कराने के लिए अहम है।
इसरो ने पिछले साल जुलाई में घोषणा की थी कि IRNSS-1A पर लगी तीनों परमाणु घड़ियां, खराब हो गई हैं, जिससे उपग्रह अप्रभावी हो गया। इसे 1 जुलाई 2013 को भेजा गया था, जो सात उपग्रहों में से पहला था। अब इसरो के सैटेलाइट नेविगेशन कार्यक्रम से जुड़े सूत्रों ने बताया कि अन्य छह उपग्रहों पर लगी चार अन्य परमाणु घड़ियां भी जरूरत के अनुसार काम नहीं कर रही हैं।
टाइमकीपिंग जीपीएस के लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि यह स्पेस में सैटेलाइट और धरती के स्थान की बीच रेडियो सिग्नल के ट्रैवल टाइम को मापकर पृथ्वी पर एक स्थान को पिनप्वाइंट करता है। रेडियो सिग्नल प्रकाश की गति से तीन लाख किमी/ सेकेंड की रफ्तार से यात्रा करते हैं। एक मिलिसेकंड की गलती से पृथ्वी पर 300 किमी की दूरी की नेविगेशन की जानकारी बेकार हो सकती है।
इसरो आईआरएनएसएस-1 ए के नुकसान की भरपाई के लिए आईआरएनएसएस-1 एच नामक एक रिप्लेसमेंट सैटेलाइट को जुलाई-अगस्त तक लॉन्च करने की योजना बना रहा है। हालांकि, अभी तक अन्य परमाणु घड़ियों की विफलता की घोषणा नहीं हुई है, जिसने अन्य छह उपग्रहों पर घड़ी प्रणालियों को अक्षम नहीं किया है।
कॉन्सटेलेशन की 21 घड़ियों में से सात के बेकार हो जाने से चिंता तो खड़ी हुई है। मगर, कार्यक्रम के साथ जुड़े एक वरिष्ठ इसरो अधिकारी ने कहा कि सात उपग्रहों में से छह अभी भी काम कर रहे हैं। हालांकि, इनमें से कुछ में रुबिडियम परमाणु घड़ियों में हार्डवेयर से जुड़ी समस्याएं हैं। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा गैलीलियो उपग्रह प्रणाली में इस्तेमाल किए जाने पर भी इन घड़ियों ने इसी तरह की समस्या पैदा की थी।

बातचीत में सहमति बनने के बाद जाट आरक्षण आंदोलन समाप्त

राजस्थान के भरतपुर और धौलपुर का जाट आरक्षण आंदोलन शनिवार को समाप्त हो गया। सरकारी प्रतिनिधियों और जाट नेताओं से बातचीत में सहमति बनने के बाद आंदोलन समाप्त कर दिया गया।
सरकार की ओर से दोनों जिलों के जाटों को आरक्षण दिए जाने का वादा किया गया। इसके लिए राज्य के समाज कल्याण विभाग के सचिव की ओर से जाट नेताओं को एक पत्र भी सौंपा गया है। वार्ता सफल होने के बाद जाट आरक्षण संघर्ष समिति के संरक्षक एवं कांग्रेस विधायक विश्वेंद्र सिंह ने तीन दिन से रेलवे ट्रैक पर कब्जा करके बैठक जाट समाज के लोगों से रेलवे ट्रैक व हाईवे से हटने की अपील की। इसके बाद शनिवार दोपहर से ट्रेनों का संचालन शुरू हो गया। वहीं दो दिन से बंद राजस्थान रोडवेज के भरतपुर और धौलपुर डिपो से बसों का संचालन भी शुरू कर दिया गया।
समाज कल्याण विभाग द्वारा जारी पत्र में लिखा गया है कि राज्य अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग की रिपोर्ट का अध्ययन कर मंत्रिमंडल की बैठक में आरक्षण दिए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी जाएगी और विधानसभा सत्र में आरक्षण के लिए विधेयक पारित कराया जाएगा। जाट नेताओं को बताया है कि ओबीसी आयोग की रिपोर्ट में दोनों जिलों के जाटों को आरक्षण दिए जाने की सिफारिश की गई है।
इससे पहले शुक्रवार को उग्र हुए जाट आरक्षण आंदोलन को खत्म कराने के लिए सरकार की ओर से जाट नेताओं को वार्ता के लिए आमंत्रित किया गया था। सरकार और जाट नेताओं के बीच वार्ता भी हुई, लेकिन असफल रही। शनिवार को सुबह फिर दोनों पक्षों में वार्ता हुई और सरकारी प्रतिनिधियों ने जाट नेताओं को आंदोलन समाप्त करने के लिए मना लिया।
राज्य के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सचिव बीएल जाटावाट ने विश्वेंद्र सिंह के साथ पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सौहार्दपूर्ण माहौल में वार्ता हुई और सफल भी रही। उल्लेखनीय है कि आंदोलनकारियों ने अलवर-मथुरा ट्रैक पर दो स्थानों पर कब्जा कर रखा था। वहीं भरतपुर के सिमको फाटक पर ताला लगाकर पटरियों से छेड़छाड़ की गई थी। यहां रेलवे सिग्नल भी तोड़ दिए गए थे।
आंदोलन को देखते हुए रेलवे ने मथुरा-जयपुर, जयपुर-इलाहबाद, अजमेर-आगरा फोर्ट, अलवर-मथुरा, बांदीकुई-बरेली, बांदीकुई-ईदगाह, आगरा फोर्ट-जयपुर, निजामुद्दीन-उदयपुर ट्रेन रद करने के साथ ही कुछ को डायवर्ट किया था। अब रेल यातायात शुरू हो गया है।
राजस्थान के धौलपुर एवं भरतपुर के जाटों को छोड़कर सभी जिलों के जाटों को आरक्षण मिला हुआ है। इन्हें इस आधार पर नहीं मिला था कि जिलों में रियासतकाल के दौरान जाट ही राजा रहे हैं। इसलिए इन दोनों जिलों के जाटों को आर्थिक रूप से संपन्न माना गया था। वर्ष 2002 में आरक्षण आंदोलन होने पर तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने दोनों जिलों के जाटों को आरक्षण दिया था, लेकिन 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी थी।

गले लगकर दी एक दूसरे को ईद की मुबारकबाद

देश की सबसे बड़ी मस्जिदों में से ताज-उल-मस्जिद में सोमवार सुबह ईद की नमाज अता हुई इसके बाद सभी ने गले लगकर एक दूसरे को मुबारकबाद दी। सभी ने देश में शांति और अमन, चैन की दुआ मांगी। मोती मस्जिद सहित शहर की अन्य मस्जिदों में भी ईद की नमाज अता की गई। ईद का सबसे ज्यादा उत्साह बच्चों में देखने को मिल रहा है।
इंदौर में सदर बाजार स्थित ईदगाह, खजराना सहित अन्य मस्जिदों में ईद की नमाज के बाद मुस्लिम समाजजनों ने एक-दूसरे को गले लगकर बधाई दी। सुरक्षा व्यवस्था के लिए प्रदेश के सभी शहरों में पुलिस ने विशेष इंतजाम किया है। प्रदेश के कई शहरों में इस दौरान मेले भी लगाए गए हैं।

किदांबी श्रीकांत ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए बैडमिंटन चैंपियनशिप में सेमीफाइनल का टिकट कटा लिया

इंडोनेशिया ओपन चैंपियन किदांबी श्रीकांत ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखते हुए शुक्रवार को ऑस्ट्रेलियन ओपन सुपर सीरीज बैडमिंटन चैंपियनशिप में सेमीफाइनल का टिकट कटा लिया। पीवी सिंधु और साइना नेहवाल का अभियान क्वार्टर फाइनल में ही थम गया।
अब टूर्नामेंट में श्रीकांत के रूप में एकमात्र भारतीय चुनौती बची है। ऑल इंडियन क्वार्टर फाइनल में श्रीकांत ने बी साई प्रणीत को 25-23, 21-17 से हराया। श्रीकांत ने यह मुकाबला 43 मिनट में जीता। यह दूसरा मौका था जब दोनों भारतीय किसी सुपर सीरीज में आमने-सामने थे। इससे पहले श्रीकांत और प्रणीत सिंगापुर ओपन के फाइनल में भिड़े थे, जहां श्रीकांत को हार मिली थी।
प्री-क्वार्टर फाइनल में दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी कोरिया के सोन वान हो को बाहर करने वाले श्रीकांत का सामना अब चौथी वरीय और ऑल इंग्लैंड के उपविजेता चीनी खिलाड़ी युकी शी से होगी।
दुनिया के चौथे नंबर की खिलाड़ी सिंधु को नंबर एक चीनी ताइपे की ताई जु यिंग के हाथों 21-10, 20-22, 16-21 से शिकस्त मिली। शीर्ष वरीय यिंग ने यह मुकाबला एक घंटे में अपने नाम किया। हैदराबादी खिलाड़ी सिंधु की यह यिंग के खिलाफ सात मैचों में सातवीं हार है। गत चैंपियन साइना को सुन यू के हाथों 17-21, 21-10, 17-21 से हार झेलनी पड़ी। यह मुकाबला एक घंटे 19 मिनट तक चला।