जॉन अब्राहम के लिए नहीं खुलेंगे ‘बिग बॉस’ के दरवाजे, सलमान खान ने कर दी नो एंट्री!

बॉलीवुड एक्टर जॉन अब्राहम ‘फोर्स 2’ के लिए सलमान खान के रियलिटी शो ‘बिग बॉस’ पर फिल्म का प्रमोशन करने के लिए जाना चहते थे, लेकिन खबर है कि सलमान नहीं चाहते थे कि जॉन उनके रियलिटी शो पर आएं. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार टीवी चैनल कलर्स पर प्रसारित होने वाली कृष्णा और भारती की कॉमेडी रोस्ट शो में जॉन अब्राहम प्रमोशन के लिए गए थे, लेकिन शूटिंग के बीच में ही वह उठकर चले गए थे.

खबरों की माने तो कृष्णा ने जॉन की फ्लॉप फिल्मों पर कॉमेडी पंच मारे थे, जो जॉन को पसंद नहीं आया और उन्होंने शूट किया गया ऐपिसोड देखने के बाद उसमें से कई बातें एडिट करने को कहा. जॉन की इस बात से चैनल राजी नहीं हुआ, उसके बाद जॉन ने ऐपिसोड को होल्ड पर रखने को कहा. सूत्र की माने तो, ‘जॉन का सलमान के शो में जाना तय था, लेकिन इसके पहले ही चैनल के कुछ अधिकारियों और कॉमेडी शो से जुड़े लोगों ने सलमान को यह घटनाक्रम घुमा-फिरा कर बताया. इसके बाद सलमान ने फैसला किया कि जॉन उनके रियलिटी शो में नहीं आएंगे.’

‘निजी भ्रष्टाचार’ के आरोप लगाने के बाद पी एम मोदी से मिले राहुल गांधी, कल कहा था आडवाणी को ‘शुक्रिया’

खास बातें
राहुल गांधी ने किसानों की समस्याओं से जुड़ा ज्ञापन पीएम को सौंपा
पीएम पर निजी भ्रष्टाचार से जुड़ा आरोप लगा चुके हैं राहुल
राहुल ने पीएम से किसानों का कर्ज माफ करने की बात की
नई दिल्ली: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी और कांग्रेस के शीर्ष नेताओं ने प्रधानमंत्री से मुलाकात की और उन्हें कर्ज माफी सहित किसानों की मांग और नोटबंदी के कारण हो रही समस्याओं को लेकर एक ज्ञापन सौंपा. दरअसल पिछले काफी समय से राहुल गांधी नोटबंदी को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साध रहे हैं. हाल में उन्होंने पीएम मोदी पर निजी भ्रष्टाचार का आरोप लगाया था.

नोटबंदी के फैसले का गुब्बारा फूट जाएगा
राहुल गांधी ने बुधवार को दावा किया था कि उनके पास पीएम नरेंद्र मोदी से जुड़ी ऐसी जानकारी है जिससे उनके ‘नोटबंदी के फैसले का गुब्‍बारा’ फूट जाएगा, लेकिन उन्‍हें संसद में बोलने नहीं दिया जा रहा. इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान राहुल ने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के अंदाज़ में पत्रकारों से ‘उनके होंठों की भाषा पढ़ने’ के लिए कहा, और घोषणा की कि उनके पास ऐसी जानकारी है, जिससे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘निजी भ्रष्टाचार’ की पोल खुल जाएगी…

गुरुवार को लालकृष्ण आडवाणी को कहा, शुक्रिया
संसद की कार्यवाही बार-बार बाधित होने पर भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी की ओर से लोकसभा में जाहिर की गई नाराजगीके बाद कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि पूर्व उप-प्रधानमंत्री अपनी पार्टी के भीतर ‘लोकतांत्रिक मूल्यों’ के लिए लड़ रहे हैं.
आडवाणी ने गुरुवार को कहा था- मन कर रहा है इस्तीफा दे दूं
लोकसभा में पिछले करीब तीन सप्ताह से जारी गतिरोध पर वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी का आक्रोश फिर से फूट पड़ा और उन्होंने कहा कि नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा किए बिना यदि शुक्रवार को लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित हो गई तो ‘‘संसद हार जाएगी और हम सब की बहुत बदनामी होगी. आडवाणी ने हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित होने के बाद आक्रोश जताते हुए कुछ अन्य दलों के सदस्यों के साथ बातचीत में कहा, मेरा तो मन कर रहा है कि इस्तीफा दे दूं. उन्होंने कहा, सदन में नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा जरूर होनी चाहिए.

विपक्षी दलों के बीच नोटबंदी ने राहुल गांधी को बनाया ‘स्वीकार्य नेता’
गौरतलब है कि कांग्रेस के ही कुछ नेताओं का मानना है कि लगातार कई राज्य विधानसभा चुनावों में हार का सामना करने के बाद केंद्र सरकार द्वारा अचानक लागू की गई नोटबंदी, जिससे देशभर में नकदी संकट पैदा हो गया है, की वजह से राहुल गांधी को मजबूती दिखाने का मौका हासिल हुआ…कई पार्टियों के नेता इन दिनों राहुल गांधी की तारीफ करते दिख रहे हैं.

जब पाक सेना ने भारत के सामने टेके घुटने…एक नया देश नक्‍शे पर आया

आज का दिन भारतीय सेना के शौर्य और पराक्रम की विजय का दिवस माना जाता है. आखिर हो भी क्‍यों न क्‍योंकि आज ही के दिन 45 साल पहले 16 दिसंबर 1971 को भारत-पाकिस्‍तान युद्ध की परिणति के रूप में भारतीय सेना के रणबांकुरों के पराक्रम के सामने पाकिस्‍तानी सेना ने नतमस्‍तक होते हुए बिना शर्त घुटने टेक दिए.

सिर्फ इतना ही नहीं उस युद्ध का एक नतीजा यह भी निकला कि पाकिस्‍तान का एक हिस्‍सा उससे हमेशा के लिए अलग हो गया. दरअसल बांग्‍लादेश की मांग कर रहा पाकिस्‍तान का पूर्वी हिस्‍सा उससे अलग हो गया और दक्षिण एशिया में बांग्‍लादेश के नाम से एक नया मुल्‍क अस्तित्‍व में आया.

सरेंडर

आज ही के दिन पूर्वी मोर्चे पर पाकिस्‍तानी सेना के चीफ जनरल आमिर अब्‍दुल्‍ला खान नियाज़ी ने पराजय स्‍वीकार करते हुए 93 हजार पाक सैनिकों के साथ भारतीय सेना के समक्ष ढाका में सरेंडर किया. भारतीय सेना की अगुआई जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा कर रहे थे. इसीलिए आज के दिन को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है.

पंजाब के बाद अब मध्य प्रदेश पर केजरीवाल की नजर, 20 दिसंबर को भोपाल में रैली

दिल्ली से बाहर पंजाब, गोवा और गुजरात के बाद अब अरविंद केजरीवाल की नज़रे हिंदुस्तान के दिल यानी मध्य प्रदेश पर है. अरविंद केजरीवाल 20 दिसंबर को भोपाल जा सकते हैं. आम आदमी पार्टी की एमपी यूनिट के मुताबिक, केजरीवाल 20 दिसंबर को भोपाल में रैली को संबोधित करेंगे.

दरअसल, दिल्ली में आम आदमी पार्टी का जनाधार भले ही बड़ा है, लेकिन पार्टी अब देश के दूसरे हिस्सों में भी दायरा बड़ा रही है. इसी कड़ी में केजरीवाल 20 दिसंबर को परिवर्तन रैली को संबोधित कर सकते हैं.

आम आदमी पार्टी के मध्य प्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल के मुताबिक, 20 दिसंबर को भोपाल के छोला मैदान में आम आदमी पार्टी परिवर्तन रैली करने जा रही है, जिसे अरविंद केजरीवाल संबोधित करेंगे. इस दौरान केजरीवाल मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के खिलाफ हल्ला बोल सकते हैं. बताया जा रहा है कि केजरीवाल व्यापम घोटाले और सिमी आतंकियों के एनकाउंटर पर शिवराज सिंह चौहान को घेरेंगे.

भिंड : हाथी हुआ बेकाबू, ट्रैक्टर को बनाया खिलौना

जैन समुदाय के पंचकल्याणक महोत्सव के लिए हमीरपुर से भिंड लाया गया एक हाथी बेकाबू हो गया. हाथी ने वेटनरी अस्पताल के परिसर में खड़े एक ट्रैक्टर को उछाल-उछाल कर ऐसे फेंका जैसे कि वो ट्रैक्टर ना हो बल्कि फुटबॉल हो.

हाथी को कुत्ते ने काटा

बताया गया है कि महोत्सव के लिए तीन हाथी हमीरपुर से भिंड लाए गए थे. इनमें से एक हाथी को कुत्ते ने काट लिया. हाथी को इलाज के लिए वेटनरी अस्पताल लाया गया. वहां उसे एंटी रेबीज का इंजेक्शन भी लगाया गया. लेकिन हाथी जब वेटनरी अस्पताल के मैदान में खड़ा था तो उस पर कुत्ते के काटने का असर दिखने लगा. फिर क्या था हाथी ने मैदान में खड़े एक ट्रैक्टर को खिलौने की तरह उलटना-पलटना शुरू कर दिया. गनीमत ये रही कि हाथी ने सिर्फ ट्रैक्टर पर ही अपना गुस्सा निकाला.

हाथी के महावत को उस पर काबू पाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी. महावत ने हाथी पर बल्लम से कई प्रहार किए. इससे हाथी की सूंड जख्मी हो गई. बाद में हाथी के पैरों में जंजीर डाल कर बांध दिया गया. महावत ने बताया कि हाथी को सही होने में 15 दिन का वक्त लगेगा. अब इस हाथी को पंच कल्याणक शोभायात्रा से अलग रखा जाएगा.